home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

स्ट्रेस कहीं सेक्स लाइफ खराब न करे दे, जानें किस वजह से 89 प्रतिशत भारतीय जूझ रहे हैं तनाव से

स्ट्रेस कहीं सेक्स लाइफ खराब न करे दे, जानें किस वजह से 89 प्रतिशत भारतीय जूझ रहे हैं तनाव से

‘टेंशन मत ले यार’, ‘लोड मत ले दोस्त’, ‘तुम इतना स्ट्रेस क्यों लेते हों’, ‘टेंशन लेने का नहीं देने का’ जैसे कई वाक्य आए दिन सुने जा सकते हैं। हमारे बड़े-बुजुर्ग भी कहते हैं ‘चिंता, चिता के सामान है’। फिर भी 2017 में हुई एक स्टडी के अनुसार भारत में लगभग 89 प्रतिशत लोग स्ट्रेस की समस्या से जूझ रहे हैं। जिसका सबसे बड़ा कारण उनकी आर्थिक स्थिति और काम का प्रेशर है। वहीं, तनाव के मामले में विश्व में दिल्ली 142वें, बेंगलुरु 130वें और कोलकाता 131वें स्थान पर है। “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में स्ट्रेस के बारे में ऐसे ही फैक्ट्स (Facts about stress) बताए गए हैं, जो आपको आश्चर्यचकित कर देंगे।

स्ट्रेस से जुड़े फैक्ट्स (Facts about stress)

  • यौन हिंसा के बाद पोस्ट ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD) की उच्च दर प्रभावित लोगों में देखने को मिलती है और इसमें ज्यादातर महिलाएं शामिल हैं।
  • आप मानेंगे नहीं लेकिन, स्ट्रेस आपके पेट की सेहत को खराब कर सकता है। इससे दस्त, कब्ज, पेट-दर्द की समस्या हो सकती है। इसके अलावा पाचन-क्रिया भी प्रभावित हो सकती है किसी किसी में बार-बार यूरिन लगने की समस्या भी देखी जाती है।
  • महिलाओं को मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं (mental health problems) होने की अधिक संभावना होती है जो तनाव (stress), अवसाद, चिंता से बदतर हो सकती हैं।
  • स्ट्रेस के कारण आपके हाथ कांप सकते हैं, आपका संतुलन बिगड़ सकता है और चक्कर भी आ सकते हैं। इस परेशानी हॉर्मोनल प्रॉब्लम्स की वजह से होती हैं।
  • इसके अलावा स्ट्रेस के कारण आपको ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है। जब आप बहुत घबराएं हुए होते हैं तो आपकी बॉडी गर्म हो जाती है। खासतौर पर प्रेजेंटेशन देने या इंटरव्यू के दौरान।
  • तनाव के कारण आप चिड़चिड़े होने के साथ ही हमेशा गुस्से में रहने वाले इंसान बन सकते हैं। तनाव आपकी नींद को प्रभावित कर सकता है। रात को नींद न आना और दिन में दिन आना तनाव के कारण हो सकता है। इसकी वजह से आप दुखी रहने वाले इंसान भी बन सकते हैं।
  • स्ट्रेस के कारण आपको हमेशा सिर दर्द रह सकता है। इसे टेंशन हैडेक कहते हैं। यह सिर दर्द तब होता है जब आप स्ट्रेस में होते हैं। लंबे समय तक तनाव में रहने पर यह हमेशा भी बना रह सकता है।
  • स्ट्रेस की वजह से शॉर्टनेस ऑफ ब्रीद की परेशानी होना आम है। स्ट्रेस में होने से चेस्ट की मसल्स टाइट हो जाती हैं। कई बार यह पैनिक अटैक का कारण भी बन सकता है।तनाव
  • स्ट्रेस की वजह से आपकी स्किन सेंसटिव हो सकती है। इससे मुंहासे की समस्या, ईचिंग रैशेज भी हो सकते हैं। यह दोनों इंफ्लामेटरी रिस्पॉन्स होते हैं। 
  • शायद आपको इस बारे में जानकारी ना हो कि स्ट्रेस टाइप 2 डायबिटीज के रिस्क को बढ़ा सकता है। तनाव में होने पर रिलीज होने वाला हॉर्मोन कॉर्टिसोल ब्लड ग्लूकोज के प्रोडक्शन को बढ़ा सकता है। 
  • स्ट्रेस से अल्सर का सीधा कोई संबंध नहीं है, लेकिन अगर आपको अल्सर है और आप लगातार तनाव में हैं तो यह आपकी स्थिति को बिगाड़ सकता है। 
  • स्ट्रेस का जीन्स से संबंध है। अगर आपके परिवार में किसी को ज्यादा स्ट्रेस लेने की आदत है तो आपको भी इसका अनुभव हो सकता है।

तनाव

और पढ़ें : डायरी लिखने से स्ट्रेस कम होने के साथ बढ़ती है क्रिएटिविटी

स्ट्रेस (Stress) पर क्या कहती है रिसर्च?

  • शोध से पता चला है कि डार्क चॉकलेट स्ट्रेस हॉर्मोन (stress hormone) जैसे कोर्टिसोल और दूसरे फाइट-फ्लाइट हॉर्मोन को कम करती है। इसके अतिरिक्त, कोकोआ में एंटीऑक्सिडेंट भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जिनको फ्लेवोनोइड्स (flavonoids) के नाम से जाना जाता है।
  • तनाव मानव शरीर में हॉर्मोनल परिवर्तन करता है जो सेक्स के प्रति इच्छा और सेक्स रिस्पॉन्स को कम कर सकता है। हालांकि, बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार पेनेट्रेटिव सेक्स (penetrative sex) से तनाव हार्मोन (stress hormone) में कमी आती है।

और पढ़ें : भावनात्मक असंतुलन क्या है और क्यों होता है?

यह भी जान लें

  • स्ट्रेस के बारे में एक और भ्रांति है। अक्सर स्मोकिंग करने वाले लोग सोचते है कि स्मोकिंग से तनाव कम हो जाता है, इसके उलट सिगरेट पीने से एंग्जायटी (anxiety) और तनाव बढ़ जाता है। रिसर्च की मानें तो निकोटीन (nicotine) से तुंरत रिलैक्स मिल तो जाता है जिसकी वजह से लोग तनाव को कम करने के लिए सिगरेट पीते हैं । लेकिन यह सिर्फ कुछ देर के लिए रहता है और इसका असर खत्म होते ही यह और बढ़ जाता है।
  • अगर स्ट्रेस फील कर रहे हैं तो किसी पालतू जानवर के साथ खेलने या पेटिंग बनाना आपके लिए अच्छा रहेगा। इससे तनाव कम करने वाले हॉर्मोन ऑक्सीटोसिन (Oxytocin) का स्तर बढ़ सकता है और स्ट्रेस हॉर्मोन कोर्टिसोल का स्तर कम हो सकता है।

तनाव

  • अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) की एक नई रिपोर्ट के अनुसार कार्यस्थलों पर ज्यादा तनाव और लंबे वर्किंग आवर्स की वजह से हर साल 28 लाख लोगों की मौत होती है।
  • काम से संबंधित तनाव कई देशों में सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों में से एक है। स्ट्रेस पेट संबंधी रोगों के साथ-साथ शारीरिक और मानसिक समस्याएं पैदा कर सकता है।
  • तनाव से कोर्टिसोल रिलीज ज्यादा होता है जिससे ब्लड शुगर का उत्पादन बढ़ सकता है। इससे टाइप 2 डायबिटीज की संभावना बढ़ जाती है।

और पढ़ें : आखिर क्यों कुछ लोगों को अकेले रहने में मजा आता है?

  • स्ट्रेस (Stress) के बारे में सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात है कि अगर टेंशन लंबे समय तक बनी रहे तो यह इम्यून सिस्टम (immune system) और हार्ट को नुकसान पहुंचा सकती है।
  • आधा घंटा पौधों की देखभाल करने से या बगीचे में लगे हरे-भरे पेड़-पौधों को देखते हैं तो मेंटल स्ट्रेस से छुटकारा मिलता है। अध्ययन के मुताबिक, प्रकृति के करीब रहने से चिंता, तनाव और डिप्रेशन दूर होता है।

स्ट्रेस से जुड़े फैक्ट्स

  • योग (Yoga) करने से आपका तनाव कम हो सकता है। दरअसल, योगासन शरीर में आपके हीलिंग हॉर्मोन को बढ़ाते हैं और साथ ही कोर्टिसोल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं।
  • तनाव में रहने से व्यक्ति अपना 65% समय केवल चिंता में गुजार देता है।

और पढ़ें: चिंता और निराशा दूर करने का अचूक तरीका है गार्डनिंग

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और स्ट्रेस से जुड़े फैक्ट्स से जुड़ी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Smoking and mental health/https://www.mentalhealth.org.uk/a-to-z/s/smoking-and-mental-health/ accessed/21/November/2019

Gender and women’s mental health/https://www.who.int/teams/mental-health-and-substance-use/gender-and-women-s-mental-health/accessed/21/November/2019

Stress Prevention at Work Checkpoints. Practical improvements for stress prevention in the workplace/https://www.ilo.org/global/publications/ilo-bookstore/order-online/books/WCMS_168053/lang–en/index.htm/accessed/21/November/2019

How Can Your Garden Reduce Your Stress Levels?/https://www.stress.org/garden-reduce-stress /accessed/21/November/2019

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shikha Patel द्वारा लिखित
अपडेटेड 25/11/2019
x