home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Sprain : मोच क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय|लक्षण|कारण|निदान|रोकथाम और नियंत्रण|उपचार
Sprain : मोच क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय

मोच (Sprain) क्या है?

कभी भागते, चलते या कोई और काम करते हुए आपके पैर में मोच (स्प्रेन) तो आई ही होगी और उसके बाद कुछ समय के लिए पैर को सीधा न कर पाना और वो दर्द व तकलीफ को सहना… उफ्फ काफी कठिन समय होता है। लेकिन आखिर मोच आती कैसे है और क्या यह सिर्फ पैर में ही आती है? आइए, इन्ही सभी बातों के बारे में जानते हैं।

मोच आने पर हमारी लिगामेंट्स में खिंचाव, मरोड़ या चोट आना होता है, जो कि अत्यधिक दबाव या तनाव आने पर होता है। लिगामेंट्स (Ligaments) फाइब्रस टिश्यू के मजबूत बैंड होते हैं, जो हमारे शरीर के किसी जोड़ पर दो हड्डियों को जोड़ने का कार्य करते हैं। यह लिगामेंट्स हड्डियों को अलाइन करने, स्थिर रखने और एक सामान्य मोशन में कार्य करने में मदद करते हैं। जब हमारे किसी जोड़ में मोच आ जाती है, तो उसकी सामान्य रूप से कार्य या घुमने की क्षमता प्रभावित हो जाती है। कभी-कभी गंभीर मोच आने पर हड्डियां अस्थिर हो सकती हैं और यह स्थिति काफी तकलीफ का कारण बन सकती है।

और पढ़ें- Anal Fistula : भगंदर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

स्ट्रेन और स्प्रेन में अंतर क्या है?

मोच को अंग्रेजी में स्प्रेन भी कहा जाता है और स्प्रेन व स्ट्रेन को अधिकतर बार एक ही चीज समझ ली जाती है। हालांकि, दोनों के लक्षणों और समस्या में अमूमन समानता होती है, लेकिन इन दोनों में एक मूलभूत अंतर है, जो कि दोनों को थोड़ा अलग करता है। जैसे- जहां स्प्रेन में दो हड्डियों को जोड़ने वाले लिगामेंट्स को चोट पहुंचती है, तो स्ट्रेन में हड्डियों को सपोर्ट करने वाली मसल्स या उन्हें हड्डियों से जोड़ने वाले टेंडन्स (Tendons) को चोट पहुंचती है। इसके अलावा आपको बता दें कि, मोच सिर्फ पैर या एड़ी में ही नहीं आती, कई बार आगे की तरफ गिरने या जल्दबाजी में कार्य करने पर कलाई और अंगूठे में भी मोच आ सकती है और स्ट्रेन आमतौर पर कमर और घुटनों के पीछे होता है।

मोच (Sprain) की गंभीरता कैसे पता चलती है?

मोच की गंभीरता उसकी डिग्री पर निर्भर करती हैं। जैसे-

ग्रेड 1- कुछ फाइबर्स में खींचाव, मरोड़ या चोट, जिसके कारण सामान्य दर्द और सूजन। लेकिन, कार्यक्षमता अप्रभावित रहती है।

ग्रेड 2- कई फाइबर्स में खींचाव, मरोड़ या चोट, जिसके कारण दर्द और सूजन और कार्यक्षमता में कमी।

ग्रेड 3- सॉफ्ट टिश्यू का पूरी तरह चोटिल हो जाना और कार्यक्षमता में पूरी कमी। इसमें सर्जिकल रिपेयर की जरूरत पड़ सकती है।

और पढ़ें- Chest Pain : सीने में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

मोच आने पर कौन-से लक्षण दिखाई देते हैं? (Cause of Sprain)

किसी व्यक्ति के शरीर में मोच आने पर निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं। जैसे-

  • दर्द होना
  • सूजन
  • नील पड़ना
  • जोड़ों का सामान्य रूप से काम न करना
  • चोट लगने के दौरान जोड़ों में से चटकने की आवाज आना
  • अकड़न, आदि

ध्यान रखें कि, मोच की वजह से अलग-अलग व्यक्तियों में दिखने वाले लक्षणों में भी अंतर हो सकता है। किसी व्यक्ति में उपर्युक्त बताए गए लक्षणों में से एक या दो दिखाई दे सकते हैं, तो दूसरे में उससे अलग। इसके अलावा, इन लक्षणों के अलावा समस्याओं का भी आपको सामना करना पड़ सकता है।

कारण

मोच के कारण क्या होते हैं? (Cause of Sprain)

मोच आने के पीछे अत्यधिक दबाव, ताकत या तेजी वाले कार्य होते हैं, जिनसे हमारे लिगामेंट्स या मसल्स पर अचानक प्रभाव पड़ता है और उनमें तनाव आ जाता है। जैसे-

  1. जॉगिंग या रनिंग जैसी एक्सरसाइज करना
  2. भारी सामान उठाना
  3. गिरना या फिसलना
  4. असामान्य पोजीशन में बैठना या खड़े होना
  5. लंबे समय तक एक ही मोशन को करते रहना

और पढ़ें- G6PD Deficiency : जी6पीडी डिफिसिएंसी या ग्लूकोस-6-फॉस्फेट डीहाड्रोजिनेस क्या है?

निदान

मोच (Sprain) का पता कैसे चलता है?

मोच का पता लगाने के लिए डॉक्टर आमतौर पर शारीरिक जांच की मदद लेता है, जिसमें वह आपके प्रभावित अंग के मोशन और लचीलेपन को जांचता है। इसके बाद वह फ्रैक्चर आदि के खतरे की आशंका को खत्म करने के लिए एक टूल (छोटा हथौड़ा) की मदद से हड्डियों पर टैप करके देख सकता है, कि उन्हें तो कोई क्षति नहीं पहुंची। इसके अलावा, वह निम्नलिखित टेस्ट की मदद ले सकता है। जैसे-

एक्स-रे व एमआरआई (X-ray or MRI)

आपके जोड़ और हड्डियों की वास्तविक स्थिति को जांचने के लिए डॉक्टर एक्स-रे या एमआरआई करवा सकता है, जिससे वह आंतरिक स्थिति की एक तस्वीरनुमा स्थिति देख सके।

और पढ़ें- Pityriasis rosea: पिटिरियेसिस रोजिया क्या है?

रोकथाम और नियंत्रण

मोच (Sprain) को नियंत्रित रखने के लिए क्या करें?

मोच (Sprain) को नियंत्रित रखने के लिए निम्नलिखित तरीके अपना सकते हैं, जिसमें बचाव से लेकर घरेलू उपाय तक शामिल हैं। जैसे-

  1. अपने शरीर, मसल्स और लिगामेंट्स को लचीला बनाने के लिए स्ट्रेचिंग और वार्मअप करें।
  2. एक्सरसाइज से पहले वार्मअप करना न भूलें, इससे चोटिल होने का खतरा कम हो जाता है।
  3. अपनी मसल्स और जोड़ों को ताकतवर बनाने के लिए एक्सरसाइज करें।
  4. एक्सरसाइज या कोई अन्य शारीरिक क्षमता वाले काम में एकदम तेजी या ताकत न लगाएं।
  5. आरामदायक जूते पहनें और एक्सरसाइज के दौरान सावधानी बरतें।
  6. मोच आने पर अपने अंग या जोड़ पर दबाव या तनाव न डालें, इससे स्थिति बिगड़ सकती है।
  7. शरीर को पूरा आराम दें और धीरे-धीरे कार्य करें।
  8. अपने उठने, बैठने, चलने या सोने की पोजीशन ठीक रखें।

और पढ़ें : Marfan syndrome : मार्फन सिंड्रोम क्या है?

उपचार

मोच का उपचार कैसे किया जाता है? (Treatment for Sprain)

मोच का उपचार निम्नलिखित तरीकों से किया जाता है। जैसे-

घरेलू उपाय (Home remedies)

आमतौर पर, मोच (Sprain) का उपचार या इलाज घरेलू उपायों की मदद से ही कर लिया जाता है। जिसमें आराम करना, सूजन को कम करने के लिए प्रभावित जगह पर बर्फ से सिकाई करना, प्रभावित जोड़ को सपोर्ट देना या थोड़ा ऊंचाई पर रखना, कंप्रेशन करना आदि शामिल होता है। लेकिन ध्यान रखें कि घरेलू उपाय अपने डॉक्टर से पूरी जानकारी प्राप्त कर लेने पर ही इस्तेमाल करें। क्योंकि, यह कई मरीजों या स्थितियों में समस्या को बढ़ा सकता है।

पेनकिलर दवाओं का सेवन

अगर मोच के कारण (Cause of Sprain) ज्यादा दर्द होता है, तो डॉक्टर पेनकिलर यानी दर्दनिवारक दवाओं का सेवन करने की सलाह देते हैं। जिससे दर्द सहने की क्षमता में इजाफा होता है और आराम मिलता है।

और पढ़ें- Tachycardia : टायकिकार्डिया क्या है?

आर्थ्रोस्कॉपी (Orthoscopic)

कई बार ट्रीटमेंट व जांच के तौर पर डॉक्टर मोच और आंतरिक स्थिति को जांचने के लिए आर्थ्रोस्कॉपी की मदद भी ले सकते हैं, जिसमें आपके शरीर के अंदर देखने के लिए एक छोटा-सा ऑपरेशन किया जाता है। हालांकि, यह गंभीर मामलों या दर्द व सूजन के कारण की स्थिति साफ न होने पर किया जात है।

रिकंस्ट्रक्शन (Reconstruction)

अगर मोच के कारण आपके जोड़ों या हड्डियों (Bone) की अलाइनमेंट बिगड़ गई है, तो सर्जन इस सर्जरी की मदद से लिगामेंट को रिपेयर करता है। जिसमें वह डैमेज लिगामेंट को सपोर्ट करने के लिए अन्य लिगामेंट या टेंडन्स का इस्तेमाल भी कर सकता है।

अगर आपको किसी भी कारण से मोच (Sprain) की समस्या हुई है, तो इसे इग्नोर ना करें। घरेलू उपायों के अलावा डॉक्टर से जल्द से कंसल्ट करें। डॉक्टर से कंसल्ट कर यह जानकारी मिल जाती है कि चोट या तकलीफ कितनी गहरी है और किस तरह के ट्रीटमेंट की आश्यकता है। कई बार सिर्फ कुछ दवाओं और रेस्ट करने से ही मोच (Sprain) की तकलीफ दूर हो जाती है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 17/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x