अपने 45 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट August 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और स्वभाव

मेरे 45 सप्ताह के शिशु का विकास कैसा होना चाहिए?

शब्दों के द्वारा आपके बच्चों के मुंह से अर्थ पूर्ण वाक्य निकल रहे हैं, उनका दिमाग विकसित हो रहा है इसलिए वह बोलना सीख रहे हैं।

11 महीने के पहले हफ्ते में मेरा बच्चा क्या-क्या करने में सक्षम हो सकता है:-

  • पेट के बल लेटने से बैठने की स्थिति में आना,
  • अपनी उंगलियों और अँगूठे की मदद से छोटी चीजों को उठाना ( बच्चे की बहुत से खतरनाक चीजों को दूर रखें),
  • “नहीं” का अर्थ समझना, किंतु उसे मानना नहीं।

मुझे 45 सप्ताह के शिशु के विकास के लिए क्या करना चाहिए?

45 सप्ताह के शिशु में शब्दों की नकल कर सकता है और वे छोटे-छोटे निर्देशों का पालन कर सकता है। इसके अलावा, आप उन्हें कोई काम करने को कहेंगे जैसे कि बॉल ले आओ या टेबल से चम्मच ले आओ आदि, तो बच्चा उसका पालन करेगा। आप उसके दिमाग को तेज करने के लिए कोई काम आप उसे साधारण भाषा में एक्शन के साथ समझा सकते हैं।

और पढ़ें: 41 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

स्वास्थ्य और सुरक्षा

मुझे डॉक्टर से क्या बात करनी चाहिए?

45 सप्ताह के शिशु के लिए अधिकांश डॉक्टर नियमित चेकअप का समय निर्धारित नहीं करते हैं। यहां तक कि बच्चे भी डॉक्टर के यहां जाना पसंद नहीं करते हैं, चाहें डॉक्टर बच्चों से कितना ही फ्रेंडली व्यवहार न करें। अगर आपको लगता है कि बच्चे को डॉक्टर के पास ले जाने की जरूरत है तो उसे ले जाएं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

मुझ किन बातों की जानकारी होनी चाहिए?

45 सप्ताह के शिशु चल सकता है और कई बच्चों में आपने नोटिस किया होगा कि चलते समय उनके पैर सीधे नहीं रहते हैं। यह देखने में ऐसा लगता है कि उनके घुटने चलते समय एक दूसरे से टकरा सकते हैं, इस स्थिति को बोव्ड लेग्स कहते हैं,क्योंकि अभी बच्चे नया-नया चलना शुरू किया है, इसलिए ऐसा लग रहा है, लेकिन जब वे लगातार ठीक से चलने लगेगा तो ये समस्या भी दूर हो जाएगी।

बोव्ड लेग्स:

ज्यादातर, पहले दो वर्षों में अधिकतर बच्चों के पैरों में बोव्ड लेग्स की समस्या देखी जाती है और इसके बाद जैसे-जैसे वे ज्यादा चलने लगते हैं, ये समस्या दूर हो जाती है। यदि फिर भी ठीक नहीं हो रही है तो उन्हें नॉक नी (knock knee ) की समस्या हो सकती है, लेकिन, अगर किशोरावस्था में भी उनके घुटने एरिया लाइन में नहीं आते हैं और पैरों की शेप नॉर्मल नहीं दिखाई देती है तो एक बार डॉक्टर से मिलें। लेकिन बच्चे के विकास में कोई नकारात्मक बदलाव नहीं होता है।

और पढ़ें: 38 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

कभी कभी हमको बच्चों के पैरों में पैर का बोव्ड होना, या एक घुटने का मुड़ा हुआ होना, पैरों का बोव्ड होना या फिर बच्चे का नॉक नी (knock knee) होने जैसी असामान्यताएं देखने को मिलती हैं।तो शिशु को शिशु चिकित्सक द्वारा या बाल रोग विशेषज्ञ द्वारा आगे के मूल्यांकन की आवश्यकता हो सकती है। ऐसे मामलों में बच्चों के परिवार में नॉक नीस( knock knee) का परिवारिक इतिहास होता है, इसलिए आगे की जांच के लिए बच्चे को पैट्रियोटिक ऑर्थोपेडिक के पास जाना चाहिए, जो यह निर्धारण करेंगे कि उसकी स्थिति के अनुसार उपचार आवश्यक है या नहीं। इसके अलावा, हमें ये भी ध्यान रखना होगा कि हमारे बच्चे को रिकेट्स की प्रॉब्लम तो नहीं है, जो कि बोव्ड लेग्स का एक साधारण कारण है। बच्चे को फार्मूला मिल्क डेयरी प्रोडक्ट और विटामिन डी की भरपूर खुराक देनी चाहिए।

बच्चों का गिरना:

45 सप्ताह के शिशु की ऐसी उम्र है जिसमें कई माता-पिता डरते हैं कि उनका बच्चा सरवाइव कर पाएगा कि नहीं, जैसे कि साधारण सी चोट लग जाना, होंठ का कटना या खरोच आदि ऐसी बहुत सी चीजें हैं, जिससे बच्चों को बचाया जाता है। कई बार पेरेंट्स बच्चों को काई भी चीजें करने के मना कर देते हैं और उन्हें सावधानी रखना सिखाते हैं। कुछ बच्चे यह सावधानियां जल्दी सीख लेते हैं और कुछ बिना सावधानी अपना जीवन एंजॉय करते हैं, बिना गिरे या बिना दर्द का अनुभव करें बच्चे खुद को मजबूत नहीं बना पाते हैं। इसलिए माता पिता को अपने बच्चों को बिना डरे खुद अनुभव करके चीजों को सिखने की अनुमति देनी चाहिए।
मां-बाप को बच्चे को कुछ देर अकेले चलने देना चाहिए। वह बस इतना है कि यह ध्यान रखें कि बच्चा जहां पर चल रहा है, वह जगह ऐसी हो कि यदि वह गिरे तो उसे चोट न लगे। बच्चे को स्वतंत्रता पूर्वक चलने दें।

आपके घर की सबसे सुरक्षित जगह पर भी बच्चे को गंभीर चोट लग सकती है, जिसके लिए आप हमेशा तैयार रहें कि यदि ऐसा हो तो आपको क्या करना है, आपके पास फर्स्ट एड बॉक्स हमेशा रहना चाहिए।

45 सप्ताह के शिशु को चोट लग जाए तो माता-पिता के रिएक्शन से बच्चे की प्रतिक्रिया और भी खराब हो सकती है। ऐसी स्थिति में आप बोलें कि कुछ नहीं हुआ है और सब ठीक है, तो इससे उन्हें भी सब नॉर्मल लगेगा।

और पढ़ें: 42 हफ्ते के बच्चे की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

मेरी चिंताएं

मुझे किन बातों का ख्याल रखना चाहिए?

11 महीने के पहले हफ्ते में आपके लिए चिंता करने के लिए बहुत सी चीजें होती हैं जिसमें बच्चे को बोतल छुड़ाकर कप से दूध पिलाना प्रमुख है नीचे दिए गए सुझाव इसमें आपकी मदद करेंगे और इस प्रक्रिया को थोड़ा आसान बना देंगे :

  • सही समय पर बच्चे को बोतल में
  • इस प्रक्रिया में ज्यादा तेजी ना करें
  • बोतल को बच्चे की नजर से दूर कर दें
  • बच्चे के कब को एक्साइटिंग बनाएं
  • बच्चा जो भी गंदगी करें उसको स्वीकार करें
  • बच्चे को उदाहरण देकर समझाएं
  • सकारात्मक रहें
  • धैर्य रखें
  • बच्चे को ज्यादा प्यार करें

और पढ़ें: नवजात शिशु का मल उसके स्वास्थ्य के बारे में क्या बताता है?

मुझे 45 सप्ताह के शिशु की डायट में किन चीजों को शामिल करना चाहिए?

11 महीने के बच्चे को चिकित्सक ब्रेकफास्ट में हमेशा मां का दूध देने की सलाह देता है। इसके बाद आप चाहे तो फल का सेवन करा सकते हैं। इसके लिए आप सीजनल फल को मैश करके अपने बच्चे को खिला सकते हैं। केला हर मौसम में मिलता है। नाश्ते के लिए केला एक अच्छा विकल्प है। केले को हमेशा मैश करने के बाद ही खिलाएं।

11 महीने के बच्चे के हर मील में कम से कम डेढ़ से दो घंटे का अंतराल होना चाहिए। चिकित्सक जितना बच्चे को खिलाने के लिए कहें उतना ही खिलाएं। बच्चे को ज्यादा या कम खिलाना दिक्कत खड़ी कर सकता है। बच्चे को पूरी डायट न मिलने पर वह कुपोषित हो सकता है। बच्चों को आप लंच में चावल या दाल का पानी दे सकती हैं। आप सब्जी में रोटी के कुछ टुकड़े भिगोकर रख दें। थोड़ी देर में इसे खिला सकती हैं। उबली हुई सब्जियों का सेवन करा सकती हैं। आमतौर पर एक्सपर्ट्स बच्चे की डायट में हरी सब्जियां शामिल करने की सलाह देते हैं। शिशु की डायट में आप दलिया, दही चावल आदि भी शामिल कर सकते हैं।

45 सप्ताह के शिशु की डायट में किन चीजों को न करें शामिल

  • एसिडिक फूड जैसे नींबू या संतरा
  • ज्यादा चटपटी और मसाले दार चीजें न खिलाएं, क्योंकि बच्चे की आंत की लाइनिंग का फिलहाल अच्छे से विकास नहीं हुआ है। इससे बच्चे के गट सिस्टम पर असर पड़ सकता है।
  • पैकेट वाले फूड
  • फ्रोजन सब्जियां
  • नॉन वेज न खिलाएं
  • सोया को दूर रखें
  • ऑयली फूड का सेवन न कराएं

और पढ़ें: बेबी पूप कलर से जानें कि शिशु का स्वास्थ्य कैसा है

उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में 45 सप्ताह के शिशु की देखभाल से जुड़ी जानकारी दी गई है। यदि आपका इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न है तो आप कमेंट सेक्शन में अपना सवाल पूछ सकते हैं। हम अपने एक्सपर्ट्स द्वारा आपके प्रश्नों के उत्तर दिलाने का पूरा प्रयास करेंगे। यदि आप इस संदर्भ में अन्य जानकारी पाना चाहते हैं तो इसके लिए किसी चाइल्ड स्पेश्लिस्ट से कंसल्ट करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

माइक्रोसेफली- जब बच्चों के मस्तिष्क का नहीं होता सही विकास

माइक्रोसेफली (microcephaly) एक दुर्लभ न्यूरोलॉजिकल स्थिति है, जिसमें बच्चे का सिर सामान्य से छोटा होता है। गर्भ में उनके मस्तिष्क का विकास सही नहीं हो पाता।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod

बच्चों के लिए ओट्स, जानें यह बच्चों की सेहत के लिए कितना है फायदेमंद

बच्चों के लिए ओट्स काफी लाभकारी है, इसका सेवन करने से बच्चों को विभिन्न प्रकार की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है, जानने के लिए पढ़ें। (oats-for-kids)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की प्लानिंग कर रहे हैं जो इन जगहों का बनाए प्लान

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की प्लानिंग कर रहे हैं तो जानें कौन कौन सी जगहों पर जा सकते हैं। बच्चों की पसंद और ना पसंद के हिसाब से करें डेस्टिनेशन प्लान।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

क्या मानसिक मंदता आनुवंशिक होती है? जानें इस बारे में सबकुछ

मानसिक मंदता क्या है, मानसिक मंदता होने के कारण क्या है, क्या मानसिक अल्पता आनुवंशिक होती है, Mental retardation intellectual disability.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Recommended for you

बच्चों का स्वास्थ्य (1-3 साल)

जानिए टॉडलर्स और प्रीस्कूलर्स बच्चों के स्वास्थ्य और देखभाल के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 20, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
बेबी

बेबी की देखभाल करना है आसान, अगर आपको इस बारे में हो पूरी जानकारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 18, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
एब्डॉमिनल माइग्रेन (Abdominal Migraine)

एब्डॉमिनल माइग्रेन! जानिए बच्चों में होने वाली इस बीमारी के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 18, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
जुड़वा बच्चे कंसीव करने की संभावना कैसे बढ़ती है

जुड़वां बच्चे कंसीव करने की संभावना को बढ़ा सकते हैं ये फैक्टर्स, जान लें इनके बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ February 18, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें