backup og meta

48 हफ्ते के बच्चे की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?


Niharika Jaiswal द्वारा लिखित · अपडेटेड 30/09/2021

48 हफ्ते के बच्चे की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

विकास और व्यवहार

मेरे 48 हफ्ते के बच्चे का विकास कैसा होना चाहिए?

अगर शिशु ने अभी तक चलना शुरू नहीं किया है, तो इस बात पर आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है, कुछ शिशु इसमें समय लेते हैं। ये वे समय है, जब आपका शिशु चलने का प्रयास कर सकता है क्योंकि, कई मामलों में देखा जाता है कि बच्चे 16 या 17 वें महीने में चलना शुरू करते हैं।

48 हफ्ते के बच्चे क्या-क्या करने में सक्षम हो सकते हैं:-

  • आराम से अकेले बिना सहारे के खड़ा हो सकते हैं;
  • 48 हफ्ते के बच्चे अच्छी तरीके से चलना भी शुरू कर सकतें हैं;
  • रोने के अलावा दूसरी तरह से भी अपनी आवश्यकताओं के बारे में बता सकते हैं,
  • 48 हफ्ते के बच्चे बॉल से खेलना शरू कर सकते हैं,
  • कप आदि से अपने आप  पानी पी सकते हैं,
  • अस्पष्ट शब्द बोल सकता है,
  • दिए गए निर्देशों का पालन कर सकता है,
  • मामा और दादा जैसे शब्द बोल सकता है।

मुझे अपने 48 हफ्ते के बच्चे के विकास के लिए क्या करना चाहिए?

बच्चे के आस-पास के वातावरण का उसके ऊपर गहरा प्रभाव पड़ता है। इ​सलिए ये सुनिश्चत कर लें कि वातावरण आपके बच्चे के लिए बिल्कुल सुरक्षित हो, आपको बच्चों की सुरक्षा के जरूरी नियमों का भी पालन करना चाहिए।

अपने बच्चे को उसका पहला कदम रखते हुए देखने में माता-पिता को काफी खुशी महसूस होती है। इसलिए हमें  बच्चे को हाथ पकड़ कर चलने या खड़े होने के लिए उत्साहित करना चाहिए। उनके दोनों हाथों को पकड़कर, उन्हें अपनी तरफ चलने के लिए प्रयास करवाना चाहिए।

यह भी पढ़ें : Menopause :मेनोपॉज क्या है? जानिए इसके कारण ,लक्षण और इलाज

स्वास्थ्य और सुरक्षा

48 हफ्ते के बच्चे को लेकर मुझे डॉक्टर से क्या बात करनी चाहिए?

इस समय ज्यादातर डॉक्टर बच्चों को चेकअप के लिए नहीं बुलाते हैं। चाहें डॉक्टर बच्चों के साथ कितना भी फ्रेंडली व्यवहार करें, बच्चे भी डॉक्टर के पास जाना पसंद नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आपको ऐसा लगता है कि डॉक्टर के पास जाना अति आवश्यक है, तो आप तुरंत डॉक्टर के पास जाएं और उनकी सलाह लें।

मुझे अपने 48 हफ्ते के बच्चे के बारे में किन बातों की जानकारी होनी चाहिए?

साधारण तौर पर, 48 हफ्ते के बच्चे या इस उम्र के आस-पास के बच्चों को चिकन पॉक्स हो सकता है, इसलिए हमें चिकन पॉक्स के लक्षणों के बारे में जानना बहुत जरूरी है, अगर हमारा बच्चा किसी दूसरे बच्चे, जिसको पहले से ही चिकन पॉक्स हुआ है,  उसके संपर्क में आया है तो उसे भी चिकन पॉक्स हो सकता है। चिकन पॉक्स के लक्षणों के ​दिखने में कम से कम 10 से 21 दिन का समय लगता है।

चिकन पॉक्स के लक्षण:

चिकन पॉक्स की शुरुआत होने पर बच्चे को हल्का बुखार रहता है तथा शरीर पर हल्के लाल रंग के उभरे हुए दाने होते हैं, जो तरल पदार्थ से भरे हुए होते हैं और धीरे—धीरे भूरे रंग की पपड़ी में बदल जाते हैं।

क्या करें जब शिशु को चिकनपॉक्स हो जाए:

जब बच्चे को चिकन पॉक्स हो जाता है तो हमें तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए तथा बच्चे को संक्रमण से बचाने के लिए उसके नाखूनों को बिल्कुल छोटा रखें, ताकि वह अपने शरीर पर हुए दानों को खरोंच न सकें। दानों में होने वाली खुजली से बच्चों को बचाने के लिए ठंडे पानी में कपड़ा डिप कर के बच्चे क शरीर को पोछें।

  • अगर आपको चिकन पॉक्स के लक्षण काफी खराब होते हुए दिखाई दे रहे हैं, तो आपको अपनी डॉक्टर को बताना चाहिए
  • घावों का ज्यादा बड़ा होना;
  • घावों का मुंह के अंदर या आंखों में होना;
  • बच्चे को कई दिनों तक बुखार रहना,
  • त्वचा का लाल रहना।

48 हफ्ते के बच्चे में होने वाले भावनात्मक बदलाव

48 हफ्ते के बच्चे या इस उम्र के आस-पास के बच्चे कभी-कभी दो अलग-अलग शिशुओं की तरह लग सकते हैं। पहले वैसे हो सकते हैं जो आपके साथ खुले हुए हैं और आपके साथ अच्छे से खेलते हैं। लेकिन, वहीं दूसरी ओर वे ही अपरिचित लोगों या वस्तुओं के आस-पास चिंतित, हमेशा पेरेंट्स से चिपके हुए और हमोशा भयभीत रहने वाले भी हो सकते हैं। ऐसे में कुछ लोग आपको यह सलाह भी दे सकते हैं कि आपका बच्चा भयभीत या शर्मीला है क्योंकि आपके लाड़-प्यार ने उसे बिगाड़ रखा है, लेकिन इसमें कोई सच्चाई नहीं है। 48 हफ्ते के बच्चे या उसकी उम्र के आस-पास के बच्चों के व्यवहार में बदलाव आपके पालन-पोषण की शैली के कारण नहीं बल्कि इसलिए होते हैं क्योंकि वह इस उम्र में पहली बार परिचित और अपरिचित स्थितियों के बीच अंतर बताने में सक्षम हो पाते हैं। अजनबियों के आस-पास बच्चों को होने वाली चिंता आमतौर पर आपके बच्चे के लिए पहला भावनात्मक मील के पत्थरों में से एक हो सकता है। आपको लगता है कि इसमें कुछ गलत हो सकता है क्योंकि आपका बच्चा जो तीन महीने के उम्र में लोगों के साथ शांत रहता था और उनकी गतिविधियों पर प्रतिक्रिया देता था या उनके साथ खेलता था। वह अब अजनबियों के सामने घबराने लगा है। यहां यह भी जान लें कि 48 हफ्ते के बच्चे या इस उम्र के आस-पास के बच्चों के लिए यह सामान्य है और आपको इस बारे में कोई चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। यहां तक ​​कि रिश्तेदारों और अक्सर बेबीसिटर्स, जिनके साथ आपका बच्चा कभी सहज था, अब उनकी उपस्थिति में भी छुपने या रोने लगता है।

यह भी पढ़ें :

Microalbumin Test: माइक्रोएल्ब्युमिन टेस्ट क्या है?

महत्वपूर्ण बातें

मुझे अपने 48 हफ्ते के बच्चे के बारे में किन बातों का ख्याल रखना चाहिए?

48 हफ्ते के बच्चे के साथ बहुत सारी चीजें बदलती हैं,​​ जिनका हमें ध्यान रखना चाहिए, जिनमें से मुख्य है चुसनी (pacifier )का उपयोग करना। इस अवस्था में आप देख सकते हैं कि बच्चे को हर समय चुसनी को उपयोग करना पसंद होता है। लेकिन, विशेषज्ञों के अनुसार, यह एक ऐसा समय है जब हमें बच्चें से चुसनी को दूर कर देना चाहिए और उन्हें बोतल द्वारा दूध देना शुरू कर देना चाहिए।

बच्चे को इस आदत से दूर करने के मुख्य दो कारण हैं, पहला कि वो जितना ज्यादा समय चुसनी का उपयोग करेगा, उतना ज्याद समय इस आदत को छोड़ने में लगेगा। इसके अलावा, अगर बच्चा अपने मुंह में हर समय चुसनी को रखेगा तो वे  जल्दी बोलना नहीं सीखेगा।

[mc4wp_form id=’183492″]

हैलो हेल्थ कोई डॉक्टरी सलाह निदान यार उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें:-

Clotrimazole : क्लोट्रिमजोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

अपने 10 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

8 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

MRI Test : एमआरआई टेस्ट क्या है?

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।


Niharika Jaiswal द्वारा लिखित · अपडेटेड 30/09/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement