home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन के बारे में पूरी जानकारी!

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन के बारे में पूरी जानकारी!

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम में होने वाली डायरिया की समस्या से राहत दिलाने में मदद करता है। आईबीएस गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट की नर्व्स के ओवर रिएक्ट का कारण बनता है। जिसकी वजह से एब्डोमिनल पेन, डिसकंफर्ट और फ्रीक्वेंट डायरिया और कब्ज की परेशानी होती है। आईबीएस लक्षणों का एक समूह है यह कोई बीमारी नहीं है। बच्चों में आईबीएस को तब माना जाता है जब उनमें एब्डोमिनल लक्षण हफ्ते में एक बार या दो महीने तक दिखाई दें। जिसमें वॉटरी या हार्ड स्टूल पास होना, बार-बार बॉवेल मूममेंट होना।

बच्चे अपने लक्षणों को अच्छी तरह नहीं बता पाते हैं इसलिए पेरेंट्स को इनको समझना होगा। पीडियाट्रिक आईबीएस के लक्षणों में निम्न शामिल हैं।

  • भूख की कमी
  • पीठ में दर्द
  • पेट फूलना
  • कब्ज या डायरिया
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द या क्रैम्पिंग होना
  • गैस
  • सिर दर्द
  • जी मिचलाना
  • स्टूल में म्यूकस आना

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) उपयोगी हो सकता है। इसके बारे में जानने से पहले पता कर लीजिए बच्चों में आईबीएस के कारण क्या हैं?

और पढ़ें: पीडियाट्रिक IBD के लिए कॉर्टिकॉस्टेरॉइड्स के इस्तेमाल से पहले जान लें यह जरूरी बातें!

पीडियाट्रिक आईबीएस के कारण (Pediatric IBS Causes)

पीडियाट्रिक आईबीएस के कारण एडल्ट आईबीएस की तरह ही हो सकते हैं। साथ ही आईबीएस एक सिंगल बीमारी नहीं है इसलिए इसके कई कारण हो सकते हैं। जिसमें निम्न शामिल हैं।

  • गट और ब्रेन के बीच नर्व कम्युनिकेशन का डिसफंक्शन
  • मेंटल हेल्थ कंडिशन्स जैसे कि चिंता (Anxiety)
  • छोटी आंत में बैक्टीरिया की ओवरग्रोथ (Overgrowth of bacteria in the small intestine)
  • बैक्टीरियल गैस्ट्रोएंट्रराइटिस (Bacterial gastroenteritis)

अगर आईबीएस की फैमिली हिस्ट्री है तो बच्चे को भी इसका रिस्क बढ़ जाता है। आईबीएस का कोई इलाज नहीं है, लेकिन ऐसे कई ट्रीटमेंट्स हैं जो बच्चे की मदद कर सकते हैं। जिसमें पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) का उपयोग है। चलिए इनके बारे में विस्तार से जान लेते हैं।

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS)

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) नॉनप्रिस्क्रिप्शन ट्रीटमेंट्स होता है जो डायरिया से राहत दिलाने का काम करता है। ये डायरिया को रोककर या कम करके काम करती हैं। पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) सिर्फ लक्षणों जैसे कि बार-बार स्टूल पास करना को कम करने में मदद करती हैं ये परेशानी के कारण को खत्म नहीं करती। इसका मतलब ये है कि ऐसे ही इन दवाओं को लेना बंद किया जाता है डायरिया वापस आ सकता है अगर इसका कारण खत्म नहीं हुआ है।

कुछ पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) इंटेस्टाइनल कॉन्ट्रैक्शन को कम करके काम करते हैं। जिससे इंस्टेटाइन से पदार्थों को निकालने वाला समय बढ़ जाता है। यह अधिक पानी को आंत से शरीर में अवशोषित करने की अनुमति देता है जिससे स्टूल में पानी की मात्रा कम हो जाती है। वहीं कुछ एंटीडायरियल स्टूल को फायबर की मदद से बल्की बनाने और इसका वॉल्यूम को बढ़ाने का काम करते हैं।

और पढ़ें: पीडियाट्रिक आइबीडी के लिए न्यूट्रिशन थेरिपी के क्या हैं फायदे?

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) में शामिल हैं ये भी

ओरल रीहायड्रेशन एजेंट को भी एंटीडायरियल्स कहा जाता है। हालांकि ये डायरिया को रोकने या कम करने में मदद नहीं करते बल्कि ये डायरिया के दौरान अधिक मात्रा में निकले पानी को रिप्लेस करने में मदद करते हैं। दूसरे एजेंट्स जो डायरिया के लक्षणों से राहत दिलाने में मदद करते हैं जिसमें एंटीमोटिलिटी एजेंट्स (Antimotility agents) या एंटीस्पासमोडिक एजेंट्स (Antispasmodic agents) शामिल हैं। इसके साथ ही एंटीबैक्टीरियल का उपयोग भी कभी-कभी पीडियाट्रिक आईबीएस के इलाज में किया जाता है जब इसका कारण कोई इंफेक्शन होता है।

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) में लोपरामाइड (Loperamide) इंस्टेटाइनल स्पाज्म को कम करने का काम करती है जो डायरिया को ट्रिगर करता है। डॉक्टर बच्चे के लिए एंटीडायरियल चबाने वाली टैबलेट या लिक्विड रिकमंड कर सकते हैं। यह एक से दो दिन के लिए दिए जाते हैं जो लक्षणों से अस्थाई तौर पर राहत दिलाते हैं।

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) के नाम

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन में कई दवाओं का उपयोग किया जाता है, लेकिन डॉक्टर बच्चे की स्वास्थ्य स्थिति, उम्र और कंडिशन की गंभीरता के आधार पर दवा और उसका डोज रिकमंड करते हैं। इसलिए डॉक्टर की सलाह के बिना दवा की डोज का फ्रीक्वेंसी में किसी प्रकार की छेड़छाड़ ना करें। बच्चे को दवा सही समय पर दें। पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन देने के बाद भी बच्चे की स्थिति में सुधार नहीं हो रहा है तो डॉक्टर को जरूर बताएं। पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) के कुछ नाम निम्न हैं।

  • लोमोटिल Lomotil (Pro)
  • इमोडियम Imodium (Pro)
  • एसिडोफिलस (Acidophilus)
  • पेप्टो बिसमॉल (Pepto-Bismol)
  • इमोडियम (Imodium A-D)
  • प्लोरास्टर (Florastor)
  • देवरम (Devrom)

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए मेडिकेशन एंटीडारियल के अलावा कुछ अन्य चीजों को भी शामिल किया जाता है। चलिए उनके बारे में भी जान लेते हैं।

और पढ़ें: बच्चों के लिए बेस्ट पीडियाट्रिक एंटीफंगल क्रीम्स: कैसे करें इनका इस्तेमाल, जानिए!

लैक्सेटिव्स (Laxatives)

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS)

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) के बारे में जानने के बाद अब हम आपको बता रहे हैं ऐसे कंपोनेंट के बारे में जो कॉन्स्टिपेशन से राहत दिलाने में मदद करता है। आईबीएस की समस्या होने पर कब्ज की समस्या भी अक्सर बच्चों को परेशान करती है। बच्चों के लक्षण के आधार पर डॉक्टर एक या कई प्रकार के लैक्सेटिव्स रिकमंड करते हैं। लैक्सेटिव्स के प्रकार में ऑस्टमॉटिक लैक्सेटिव्स (Osmotic laxatives), बल्क फॉर्मिंग लैक्सेटिव्स (Bulk-forming laxatives), स्टिम्युलेंट लैक्सेटिव्स (Stimulant laxatives) शामिल हैं।

प्रोबायोटिक्स (Probiotics)

प्रोबायोटिक्स सप्लिमेंट्स में लाभदायक माइक्रोऑर्गानिज्म (Microorganisms) होते हैं जो डायजेस्टिव टैक्ट में पाए जाते हैं जैसे कि बिफिडोबैक्टीरियम Bifidobacterium। यह पाचन में मदद करते हैं। प्रोबायोटिक्स हानिकारक बैक्टीरिया की ग्रोथ को रोकने का भी काम करते हैं जो गैस्ट्रोइंटेस्टनाइल लक्षणों का कारण बनते हैं जिसमें कब्ज और डायरिया शामिल हैं। कुछ प्रोबायोटिक्स चबाने वाली टैबलेट और गमी के रूप में भी उपलब्ध हैं जो बच्चों के लिए अच्छे ऑप्शन्स हो सकते हैं।

एंटीबायोटिक्स (Antibiotics)

पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन के अलावा एंटीबायोटिक्स भी उपयोगी हो सकती हैं क्योंकि यह बच्चों की लार्ज इंटेस्टाइन में बैक्टीरिया की ओवरग्रोथ होने पर रिकमंड की जाती हैं जो आईबीएस का कारण बनती हैं।

आंतें पाचन में सहायता करने के लिए कुछ बैक्टीरिया पर निर्भर करती हैं, लेकिन बैक्टीरिया के संतुलन में बदलाव आंतों के संकुचन को अधिक या कम कर सकता है। 10 से 14 दिनों के लिए व्यापक स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक लेने से आंतों में बैक्टीरिया के स्तर को कम करने या बदलने में मदद मिल सकती है।

और पढ़ें: पीडियाट्रिक ब्रोन्कोस्पाज्म: पाएं पूरी जानकारी बच्चों में होने वाली इस बीमारी के बारे में

उम्मीद करते हैं कि आपको पीडियाट्रिक आईबीएस के लिए एंटीडायरियल मेडिकेशन (Antidiarrheal medications for pediatric IBS) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 01/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड