बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व तो है, लेकिन इसे बच्चों की डायट में कैसे शामिल करें जानें

    बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व तो है, लेकिन इसे बच्चों की डायट में कैसे शामिल करें जानें

    प्रोटीन एक माइक्रोन्यूट्रिएंट है। बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व विशेष माना जाता है। कई रिचर्स में ऐसा दावा किया गया है कि स्कूल जाने वाले बच्चे अपने डेली प्रोटीन इंटेक को प्राप्त नहीं कर पाते। जो कई बार बच्चों के विकास में देरी का कारण भी बन सकता है। हालांकि उनकी डायट में थोड़ा सा बदलाव करके प्रोटीन की कमी को पूरा किया जा सकता है। इस आर्टिकल में बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व (Importance of protein in the growth of children) और उन्हें ये प्रोटीन कैसे प्रदान करें इसके बारे में जानकारी दी जा रही है।

    बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व (Importance of protein in the growth of children)

    प्रोटीन बॉडी के कई सारे कार्यों को अंजाम देने में महत्वपूर्ण रोल प्ले करता है। जिसमें मसल्स के टिशूज, स्किन, अंग, ब्लड रेयर और नेल्स को रिपेयर करना और रिकवरी करना शामिल है। प्रोटीन 20 एमिनो एसिड्स से मिलकर बना होता है। जिसमें से बॉडी 11 को प्रोड्यूस करती है वही दूसरे 9 फूड के जरिए लेने होते हैं। प्रोटीन के कई सोर्स विटामिन ई, बी, जिंक, आयरन और मैग्नीशियम प्रदान करती हैं। जिन बच्चों को पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन प्राप्त नहीं होता है वे कई स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर सकते हैं। जिसमें थकान, फोकस में कमी, धीमा विकास, हड्डियों और जोड़ों में दर्द, देर से घाव भरना, इम्यून सिस्टम के रिस्पॉन्स में कमी आदि शामिल हैं, लेकिन प्रोटीन की कमी को ठीक किया जा सकता है।

    और पढ़ें: बेस्ट बेबी कैरियर्स : मां और बच्चे दोनों का काम बना देते हैं आसान!

    बच्चों को कितने प्रोटीन की जरूरत होती है? (How much protein do babies need?)

    प्रोटीन की जरूरत हर बच्चे के हिसाब से अलग हो सकती है। इसलिए अपने बच्चे के लिए सही अमाउंट जानने के लिए डॉक्टर की सलाह लें।

    बच्चों के लिए प्रोटीन के फायदे (Benefits of protein for kids)

    बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व (Importance of protein in the growth of children) समझने के लिए आपको इसके फायदे जानना जरूरी है। जो निम्न प्रकार हैं।

    • बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व अधिक है क्योंकि शरीर में कोशिकाओं के निर्माण के लिए प्रोटीन आवश्यक है। यह रक्त की पुनःपूर्ति में सहायता करता है, घावों को ठीक करता है, और बालों और नाखूनों के विकास को भी नियंत्रित करता है।
    • बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व (Importance of protein in the growth of children) विशेष इसलिए भी है क्योंकि प्रोटीन, एंजाइम और हॉर्मोन के रूप में, यह सुनिश्चित करता है कि शरीर का मेटाबॉलिज्म अच्छा बना रहे।
    • प्रोटीन एक बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखने में मदद कर सकता है और इस प्रकार उसे रोग पैदा करने वाले बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में मदद करता है। प्रोटीन एंटीबॉडी के रूप में काम करता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को सहायता प्रदान करता है।
    • प्रोटीन हीमोग्लोबिन के उत्पादन में मदद करता है जो रक्त का एक महत्वपूर्ण घटक है क्योंकि यह शरीर के सभी भागों में ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है।
    • ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए शरीर को कार्बोहाइड्रेट की आवश्यकता होती है। जब कार्बोहाइड्रेट की कमी होती है, तो शरीर कैलोरी प्राप्त करने और ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए प्रोटीन का उपयोग कर सकती है।

    इन फायदों के आधार पर समझा जा सकता है कि बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व (Importance of protein in the growth of children) कितना अधिक है। चलिए अब ये भी जान लेते हैं कि बच्चों को प्रोटीन की र्प्याप्त मात्रा कैसे दी जाए।

    बच्चों के हाय प्रोटीन फूड्स (High Protein foods for kids)

    यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके बच्चे को उसके आहार के माध्यम से पर्याप्त प्रोटीन मिले, आप उसके आहार में निम्नलिखित प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने पर विचार कर सकते हैं। बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व तो है ही इसे अपनेअपने बच्चे की डायट में शामिल करने के ऑप्शन भी जान लें।

    डेयरी फूड्स (Dairy Foods)

    दूध और दुग्ध उत्पाद जैसे दही और पनीर प्रोटीन का एक स्वस्थ स्रोत हैं। सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे के पास रोजाना पर्याप्त मात्रा में डेयरी उत्पाद ले रहा हो। अगर बच्चा दूध नहीं पीता है तो आप उसे खीर या फ्रूट शेक बनाकर दे सकते हैं। वहीं दही से फ्रूट रायता या उसे छाछ दे सकते हैं। पनीर तो बच्चे को काफी पसंद होता है, लेकिन फिर भी अगर वह ना खाएं तो उसको पराठे में यूज कर सकते हैं।

    और पढ़ें: Best Baby Swings: जानिए बेस्ट बेबी स्विंग और बेबी झूला खरीदने के लिए टिप्स!

    अंडे (Eggs)

    बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व (Importance of protein in the growth of children)

    अंडे प्रोटीन का एक समृद्ध स्रोत हैं और नन्हे-मुन्नों के लिए उत्तम हैं। नाश्ते में एक अच्छी तरह उबला अंडा या आमलेट निश्चित रूप से बच्चे के दिन की शानदार शुरुआत करेगा।

    मीट (Meat)

    अगर आप नॉन वेजिटेरियन फैमिली से हैं तो बता दें कि बिना स्किन वाले चिकन जैसे लीन मीट में भरपूर मात्रा में प्रोटीन होता है। स्वादिष्ट चिकन करी या चिकन स्टार्टर आपके बच्चे को पर्याप्त प्रोटीन पोषण और अच्छा स्वाद प्रदान करेगा।

    दालें (Pulses)

    जो शाकाहारी हैं, आप अपने बच्चे को पौधे आधारित खाद्य पदार्थ जैसे मूंगफली का मक्खन, सोया दूध, टोफू, नट्स, फलियां, सोया दही और बीज दे सकते हैं। ये न सिर्फ हेल्दी और प्रोटीन से भरपूर होते हैं, बल्कि स्वाद में भी अच्छे होते हैं। दालों और फलियों का सूप बनाया जा सकता है। वहीं सोया उपयोग सलाद में किया जा सकता है।

    यह सुनिश्चित करना कि आपका बच्चा पौष्टिक भोजन करे ऐसा कभी-कभी मुश्किल हो सकता है। बच्चों का झुकाव जंक फूड की ओर होता है और वे अच्छे भोजन से बचते हैं। अपने बच्चे को पौष्टिक आहार खिलाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि स्वाद और पोषण के बीच संतुलन बनाने के लिए नियमित खाद्य पदार्थों को स्वादिष्ट और हेल्दी फूड्स के साथ मिलाया जाए। निम्न टिप्स काम आ सकते हैं।

    और पढ़ें: 4 महीने के शिशु के लिए एक्टिविटीज : फिजिकल और मेंटल डेवलपमेंट में करेंगी मदद!

    1. नाश्ता पर ध्यान दें

    नाश्ता दिन का एक महत्वपूर्ण भोजन है, इसलिए इसे अपने बच्चे के लिए पौष्टिक और स्वादिष्ट बनाएं। कुछ प्रोटीन युक्त विकल्प जो आपका बच्चा खाना पसंद करेगा उनमें दाल चीला, पनीर पराठा, दही के साथ पराठा और पनीर सैंडविच शामिल हैं। आपके बच्चे को ये स्वादिष्ट नाश्ते के विकल्प निश्चित रूप से पसंद आएंगे और उनके माध्यम से उन्हें प्रोटीन की अच्छी खुराक मिलेगी।

    2. चिकन को थोड़ा और रोमांचक बनाएं

    अपने बच्चे को कुछ सब्जियां खिलाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि चिकन या पनीर की पैटी बनाकर उसे बन्स के दो टुकड़ों के बीच भरकर बर्गर बनाया जाए। इसे तीखी चटनी के साथ स्वाद दें और आपका बच्चा इसे पसंद करेगा।

    3. सुनिश्चित करें कि शाम का नाश्ता प्रोटीन से भरा हो

    जब आपका बच्चा शाम के नाश्ते के लिए कहे, तो उसे मिल्कशेक, दही, पनीर, नट्स जैसे प्रोटीन युक्त स्नैक्स खाने दें।

    और पढ़ें: Amber Teething Necklaces: बच्चों के लिए एम्बर टीथिंग नेकलेस क्या सुरक्षित होते हैं?

    4. प्रोटीन से भरपूर मिठाई बनाएं

    हम सभी मिठाई खाने का आनंद लेते हैं, और कई बार बच्चों को भी मीठा खाना पसंद होता। और जब वह मिठाई मांगता है, तो आप न कहना नहीं चाहेंगे। तो आप उसके लिए एक स्वस्थ, प्रोटीन युक्त मिठाई बना सकते हैं। आपका छोटा बच्चा मिठाई का स्वाद लेगा और आप निश्चिंत रह सकते हैं कि उसे प्रोटीन मिल रहा है। आप दूध का हलवा, क्विनोआ पैनकेक, दाल पैनकेक आदि बना सकते हैं। ये प्रोटीन का अच्छा स्रोत हैं! आप उसे घर का बना बेसन के लड्डू और फ्रूट योगर्ट भी दे सकते हैं।

    उम्मीद करते हैं कि आपको बच्चों की ग्रोथ में प्रोटीन का महत्व (Importance of protein in the growth of children) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Healthy eating for children/https://www.nidirect.gov.uk/articles/healthy-eating-children/ Accessed on 18/02/2022

    Childhood Nutrition Facts/https://www.cdc.gov/healthyschools/nutrition/facts.htm/Accessed on 18/02/2022

    Child Nutrition/https://medlineplus.gov/childnutrition.html/Accessed on 18/02/2022

    Protein intake from 0 to 18 years of age and its relation to health: a systematic literature review for the 5th Nordic Nutrition Recommendations/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3664059/Accessed on 18/02/2022

    Protein/ https://www.healthdirect.gov.au/protein/Accessed on 18/02/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 21/02/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड