29 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए आपको क्या जानना है जरूरी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट May 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और व्यवहार

मेरे बच्चे को अभी क्या-क्या गतिविधियां करनी चाहिए?

29 महीने के बच्चे की देखभाल करना मुश्किल नहीं बल्कि नामुमकिन-सा काम होता है। खासकर तब जब बच्चे का शरीर और मानसिक विकास तेजी से हो रहा हो। 29 महीने के बच्चे जब किसी के साथ खेलते हैं, तो अपने खिलौने के लिए अक्सर झगड़ा करते हैं। इस उम्र में बच्चे अपनी चीजों की रक्षा करना चाहते हैं, लेकिन किसी के साथ कोई चीज शेयर कैसे की जाती है, इसका ज्ञान स्वाभिक तौर पर आना मुश्किल होता है।

इस उम्र में अक्सर बच्चा अपनी चीजों को दोहराता है। अक्सर देखा जाता है कि 29 महीने के बच्चे बार-बार एक ही चीज को खाना चाहता है। हर बार वही कपड़े पहनना चाहता है या ठीक उसी क्रम में चीजे करने की इच्छा रखता है। 29 महीने के बच्चे की देखभाल के दौरान आपको यह याद रखने की आवश्यकता है कि वह दुनिया के बारे में समझ बनाने की कोशिश कर रहा है। इसलिए थोड़ा-सा कंट्रोल करके चीजों को सिखाने की कोशिश करें। इस दौरान आप जितनी सादगी के साथ बच्चों के साथ पेश आएंगे वो वही सीखने की कोशिश करेगा।

29 महीने के बच्चे का दिमाग तेजी से विकास करता है और वह अपनी आंखों के जरिए जो भी देखता है उसकी एक छवि दिमाग में बैठा लेता है। जैसा कि अनुभव और आदत उसके मस्तिष्क में नए-नए कनेक्शन बनाते हैं, वह इन कैप्चर की गई छवियों को दिमाग में बैठा लेता है, जैसे कि उसका खोया हुआ गुड्डा कैसा था, दादी मां का घर कैसा है, कल जो उसने खाना खाया था आदि।

यह भी पढ़ें: बच्चों में फूड एलर्जी का कारण कहीं उनका पसंदीदा पीनट बटर तो नहीं

29 महीने के बच्चे की देखभाल : बच्चे को अब किन चीजों के लिए तैयार करना चाहिए ?

  • 29 महीने के बच्चे के सामने घर में या बच्चे के सामने झगड़ा करने से बचे
  • “शेयरिंग” जैसे शब्दों का उपयोग करें। 29 महीने के बच्चे से पुछे कि “क्या आप मेरी कुकी शेयर करना चाहेंगे?”
  • 29 महीने के बच्चे को बाहर की चीजों के प्रति आकर्षित करें, जैसे कहीं घूमाना या फिर बुलबुले बनाना।
  • उन्हें दिखाएं कि घर में मौजूद बड़े लोग या बच्चे कैसे चीजे शेयर करते हैं।
  • घर में जब दूसरे बच्चे खेलने आते हैं तो उनका फेवरेट खिलौना छुपा दें। बच्चे अक्सर चाहते हैं कि जो चीजें उन्हें पसंद है या फिर जिससे उनका जुड़ाव है उसे कोई और बच्चा न खेले।
  • बच्चों को खेलने के लिए आजादी दें। छोटे बच्चों का दिमाग काफी तेज होता है, इसलिए उनका दिमाग कल्पनाएं ज्यादा कर सकता है, इसलिए बच्चों को पेंटिंग, ड्राइिंग और मिट्टी से खेलने की आजादी दें, ताकि वह नई चीजों को सीख सके।
  • रात में जब बच्चा सोने वाले हो, तो उससे दिन भर की एक्टिविटी के बारे में पूछें। जैसे-आज आपने क्या खेला?

यह भी पढ़ें: बच्चों को खड़े होना सीखाना है, तो कपड़ों का भी रखें ध्यान

डॉक्टर के पास कब जाएं?

29 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए बच्चे से जुड़े किन विषयों पर डॉक्टर से बात करनी चाहिए?

अक्सर देखा जाता है कि 29 महीने के बच्चे होने के बावजूद कुछ बच्चों की अंगूठा चूसने की आदत नहीं जाती है। मनोवैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो अंगूठा चूसने से बच्चों का मन शांत होता है। इस उम्र में बच्चों के दिमाग में प्री-स्कूल या फिर डे-केयर जाने की भी एक छवि बना दी जाती है, इसलिए जब वह अंगूठे की ओर देखता है, तो वह थका हुआ, डरा हुआ या फिर ऊब चुका महसूस करता है।

वह रात को सोते समय और रात के बीच में जागने पर खुद को वापस सुलाने के लिए अंगूठे को चूसने की कोशिश करता है। यह एक आम प्रक्रिया है, जो ज्यादातर बच्चों में देखने को मिलती है। ऐसे में आप डॉक्टर के पास बच्चों को लेकर जाएं तो उसको डराए नहीं बल्कि प्यार से समझाने की कोशिश करें।

इस समय बच्चों का नियमित चेकअप किया जाता है। आपका डॉक्टर कुछ ऐसे सवाल कर सकता है-

  • बच्चे के खाने का क्या रूटीन है? क्या वह समय से खाता है?
  • क्या आपका बच्चा शारीरिक रूप से एक्टिव है? क्या वह बाहर खेलता है?
  • आपका बच्चा टीवी या आईपैड देखता है ? अगर हां, तो कितने घंटे?

डॉक्टर को क्या बताएं?

अपने 29 महीने के बच्चे को नियमित डेंटल चेकअप के लिए ले जाएं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उसके दांत स्वस्थ और साफ हैं। इस उम्र में बच्चों के दांत उगने के कारण कई बार सांस की बदबू आ जाती है, अगर आपके बच्चे में इस तरह की परेशानी है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : जानें एक साल तक के बच्चे को क्या खिलाएं

क्या उम्मीद करें?

29 महीने के बच्चे बच्चे की देखभाल से संबंधित और किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए ?

  • बच्चों और वयस्कों में कभी-कभी सांस की बदबू की परेशानी देखने को मिलती है।
  • अमूमन मुंह का सूखा रहना: कई मामलों में देखा गया है कि 29 महीने के बच्चे या उससे छोटे बच्चे नाक की बजाय मुंह से सांस लेते हैं, अगर आपका बच्चा भी ऐसा ही कर रहा है तो उसके मुंह में बैक्टीरिया कम होने की संभावना है।
  • मटर, बीन, एक छोटा खिलौना या एक अन्य वस्तु जिसे अक्सर बच्चे मुंह या नाक में डाल लेते हैं, इसकी वजह से भी सांसों से बदबू आ सकती है। ऐसा उन बच्चों के साथ देखने को मिलता है, जो छोटी-छोटी चीजों को उठा लेते हैं और सीधे नाक या मुंह में डाल लेते हैं।
  • खराब हाइजीन : अक्सर लोग खाना खाने के बाद बच्चों के मुंह नहीं धुलवाते हैं, जिसके कारण खाना दांतों के बीच, गम लाइन पर, जीभ पर या अपने बच्चे के गले में टॉन्सिल की सतह पर जमा रहता है। इसी कारण बच्चे के मुंह में बैक्टीरिया पैदा हो जाते हैं, जो सांसों में बदबू का कारण बनते हैं।
  • तीखा खानाः अगर आपको छोटा सा बेबी लहसुन और प्याज वाली सब्जी या अन्य चीजों को चटकारे लेकर खाता है तो यह कई बार सांस की बदबू का कारण बन सकते हैं। यह वह पदार्थ हैं। जो शरीर के सिस्टम से सांस को प्रभावित करते हैं।

समय पर टीका देने के अलावा बच्चों से जुड़ी छोटी-छोटी बातों का भी ध्यान रखना आवश्यक होता है। उदाहरण के तौर पर बच्चों को कड़ी धूप से जरूर बचाकर रखें। शुरुआती दौर में सनबर्न होने की संभावना होती है। सनबर्न होने से त्वचा खराब होती है। उन्हें टोपी और चश्मे के साथ बाहर लेकर जाएं। बच्चों को हर मौसम में खास देखभाल की जरूरत होती है। उनके खान-पान से लेकर स्वास्थ्य तक का मौसम के हिसाब से ख्याल रखें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी तरह की चिकित्सीय सलाह, निदान या इलाज की सुविधा नहीं देता है।

और पढ़ें:

पिकी ईटिंग से बचाने के लिए बच्चों को नए फूड टेस्ट कराना है जरूरी

बच्चों के लिए सिंपल बेबी फूड रेसिपी, जिन्हें सरपट खाते हैं टॉडलर्स

बच्चों में फूड एलर्जी का कारण कहीं उनका पसंदीदा पीनट बटर तो नहीं

अपने 34 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

रटी-रटाई बातें भूल जाता है बच्चा? ऐसे सुधारें बच्चों में भूलने की बीमारी वाली आदत

जानिए बच्चों में भूलने की बीमारी in Hindi, बच्चों में भूलने की बीमारी कैसे ठीक करें, बच्चे की याददाश्त कैसे बढ़ाएं, baccho me bhulne ki bimari,

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

मायके में डिलिवरी के फायदे और नुकसान क्या हैं?

जानिए मायके में डिलीवरी के क्या हैं फायदे और क्या है नुकसान? किन बातों को ध्यान में रखकर गर्भवती महिलाएं करें बेबी डिलिवरी की प्लानिंग?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण: ऐसे पहचाने इसके लक्षण

जानिए बच्चों में साइनसाइटिस का कारण in Hindi, बच्चों में साइनसाइटिस का कारण कैसे पहचानें, Baccho me sinus ka karan, शिशुओं में साइनसाइटिस के लक्षण और उपचार, बंद नाक के कारण।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

लॉकडाउन में बोरियत से बच्चों को बचाने के ब्रेन स्टॉर्मिंग इनडोर गेम्स

लॉकडाउन में बोरियत से छोटे बच्चों को बचाने के लिए उन्हें मोबाइल न देकर दिमाग को शार्प करने वाले कुछ गेम्स से कराएं रूबरू। इन ब्रेन स्टॉर्मिंग इनडोर गेम्स से बच्चों का दिमाग भी तेज होगा, वे कुछ नया भी सीखेंगे। जानिए लॉकडाउन में बोरियत से बचने के तरीके in Hindi, Lockdown me Boriyat, कोरोना वायरस, कोविड-19, Brain storming indoor games for children.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
कोरोना वायरस, इंफेक्शस डिजीज April 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बच्चों का स्वास्थ्य (1-3 साल)

जानिए टॉडलर्स और प्रीस्कूलर्स बच्चों के स्वास्थ्य और देखभाल के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 20, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की प्लानिंग कर रहे हैं जो इन जगहों का बनाए प्लान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ August 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं/teach children kind to animals

अपने बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ July 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
बच्चों में पिनवॉर्म -pinworms in kids

बच्चों में पिनवॉर्म की समस्या और इसके घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ April 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें