अपने 35 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और व्यवहार

मेरे बच्चे को अभी क्या-क्या गतिविधियां करनी चाहिए?

इस उम्र में बच्चों को दोस्त चाहिए होते हैं। दोस्तों का साथ रहना इसलिए भी जरूरी है, ताकि वह तेजी से विकास करें। अगर आपका बच्चा इस उम्र में आपकी जगह अपने दोस्तों के साथ खेलना पसंद करता है तो इसे बेवजह न लें। हो सकता है कि आपका बच्चा किसी दिन सिर्फ यह कहे कि मां नहीं बल्कि पापा मुझको बेडटाइम स्टोरी सुनाएंगे। अगर बच्चे की मां रोजाना बेबीसिटर को बुलाती हैं और किसी दिन अचानक पापा ऐसा करते हैं तो बच्चे को थोड़ा अजीब लग सकता है। दरअसल, बच्चों को फॉलो करने की आदत हो जाती है इसलिए अगर उसका वही काम पहले मां करती थी और अचानक पापा करने लगते हैं तो बच्चा असहज हो जाता है।

मान लें, आप अपने बच्चे को छोड़कर अकेले कहीं घूमने चले जाएं तो आपके बच्चे को अकेलेपन का एहसास होगा। आपका बच्चा इस तरह से आप से कह सकता है कि “सच में मैंने आपको बहुत मिस किया और यह मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगा। आप दोबारा ऐसा करेंगे तो मैं डर जाऊंगा। ”

प्री-स्कूल के बच्चों में कल्पना और वास्तविकता के बीच की लाइन काफी धुंधली होती है जिसकी वजह से उनमें झूठ बोलने की प्रवृत्ति जन्म ले सकती है। अगर आपका बच्चा भी कभी झूठ बोलता है तो आपको इस बात को समझना होगा कि उसका इरादा आपसे झूठ बोलना नहीं है, बल्कि हो सकता है कि वो कुछ छुपाने के लिए ऐसा कर रहा हो।

और पढ़ें: प्री-स्कूल में एडजस्ट करने के लिए बच्चे की मदद कैसे करें?

बच्चे को अब किन चीजों के लिए तैयार करना चाहिए ?

अगर आप बच्चे के साथ चाय पार्टी, ब्लॉक-बिल्डिंग जैसे गेम खेलकर बोर हो गए हैं तो आपको एक बार फिर से सोचने की जररूत है। यदि आप बच्चे के साथ नहीं खलेंगे तो उसे अकेले ही खेलने के लिए प्रोत्साहित करें। ऐसा करने से आपके बच्चे का दिमाग ज्यादा तेजी से विकास करेगा और वह स्वतंत्र महसूस कर पाएगा। इसके अलावा विकल्पों की तलाश करें जो वो आपके बिना कर सकता है, जैसे-खाना पकाना या बागवानी करना, बाहर खेलना या सैर करना। कई बार देखा गया है कि जब आप काम करते हैं तो आपका बच्चा आपकी गतिविधियों की नकल करता है। उदाहरण के लिए, अपने स्वयं के “डेस्क” या “रसोई घर” में वो वही चीजें दोहराने की कोशिश करता है जो आप कर रहे हैं।

इस उम्र में बच्चे कुछ ऐसी गतिविधि करते हैं, जिसे देखकर ऐसा लगता है कि मानो वह अपने माता-पिता को खुश करने के लिए ऐसा कर रहे हों। हालांकि, ऐसा होता नहीं है। इस उम्र में बच्चे अक्सर दीवार पर पेंटिंग करते हैं। अगर आपका बच्चा भी ऐसा ही करता है और इससे आपको परेशानी होती है तो आपको बच्चे को डांटने की जरूरत नहीं बल्कि उसे समझाने की जरूरत है कि क्रेयॉन किताबों और कागज को रंगने के लिए होते हैं। इनको दीवारों पर नहीं चलाना चाहिए।

अधिकांश बच्चे दो और तीन साल की उम्र के बीच एक तिपहिया साइकिल चलाने में मास्टर बन जाते हैं। इस उम्र में साइकिल चलाने से आपके बच्चे की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और वह पैरों को पैडल पर कैसे मैनेज किया जाता है यह आसानी से सीख लेता है। प्लास्टिक से बने लो-स्लंग मॉडल के साथ शुरू करने से आपके बच्चे पैरों को हिलाने में मदद कर सकते हैं। ध्यान रखें कि आपका बच्चा तिपहिया वाहन तो आसानी से चला सकता है लेकिन, उसे दोपहिया वाहन के लिए आवश्यक संतुलन और समन्वय नहीं होगा।

और पढ़ें: बड़े ही नहीं तीन साल तक के बच्चों में भी हो सकता है डिप्रेशन

डॉक्टर के पास कब जाएं?

बच्चे से जुड़े किन विषयों पर डॉक्टर से बात करनी चाहिए?

अगर आपका बच्चा कई लोगों और खिलौनों के साथ खेलता है उसे बैक्टीरिया से दूर रखना कठिन नहीं बल्कि नामुमकिन सा काम लगता है। कई बार बैक्टीरिया के संपर्क में आने के कारण बच्चे को पेट दर्द, खांसी, दाने, उल्टी और यहां तक कि बुखार आसानी से हो सकता है। हो सकता है कि आपको ये लक्षण मालूम हो लेकिन, इनके पीछे के कारण को नहीं जान पाते हैं। अगर बच्चे को किसी भी तरह की परेशानी होती है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बच्चे की देखभाल करने वालों के लिए भी वैक्सीन लेना काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि ऐसा करने से बच्चा पूरी तरह से सुरक्षित रह सकता है।  टीका लगने के बाद हल्का बुखार होना सामान्य है लेकिन, इसके अलावा किसी अन्य तरह की परेशानी होती है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

डॉक्टर को क्या बताएं?

बच्चे की इस उम्र के पड़ाव में आपको इस बात की चिंता होनी चाहिए कि उसको सभी तरह के टीके लग गए हों। क्या फ्लू का सीजन आ गया है? अमूमन देखा जाता है कि हर साल अक्टूबर से मई के महीने में फ्लू ज्यादा बढ़ने की संभावना रहती है क्योंकि यही वो दौर होता है जब मौसम बदलता रहता है। अक्टूबर से जनवरी तक तेज सर्दी होती है और फिर गर्मी में चलने वाली लू बच्चों को परेशान करती है। अपने डॉक्टर से बच्चों को सभी तरह के फ्लू के टीके लगवा लें ताकि वह बीमार न पड़ें। निम्नलिखित बातें आपको जानने की आवश्यकता हैं-

  • फ्लू आम सर्दी की तुलना में अधिक गंभीर हो सकता है।
  • फ्लू वैक्सीन आमतौर पर 2 साल या उससे अधिक उम्र के बच्चे को दी जाती है लेकिन, कुछ प्रकार के फ्लू वैक्सीन हैं जो छः महीने और उससे अधिक उम्र के लिए दिए जा सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए कृपया डॉक्टर से इस बारे में पूछें।
  • टीका लगने के बाद हल्का बुखार होना सामान्य हो सकता है। अगर आपके बच्चे को टीका लगाने के बाद बुखार के अलावा किसी तरह की समस्या होती है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें: कैसे करें आईसीयू में एडमिट बच्चे की देखभाल?

क्या उम्मीद करें?

मुझे बच्चे के स्वास्थ्य से जुड़ी क्या चिंताएं करनी चाहिए?

इस उम्र में देखा जाता है कि बच्चा रात में नींद पूरी करने के दौरान बीच में कई बार जग जाता है। इसलिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि वह खुद इस बात को सीखें कि दोबारा कैसे सोना है। हो सकता है कि इस दौरान वह कुछ नया आजमा सके। बच्चे को अच्छी नींद लेने में ये टिप्स आपकी मदद कर सकते हैं-

  • बच्चे को बिस्तर पर ले जाएं और उसे बताएं कि यही सोने की जगह है और आपको पूरे नौ घंटे यही सोना है।
  • बिस्तर पर जाते वक्त बताना कि सोना क्यों और किस लिए जरूरी है।
  • रात को सोते वक्त उसे किस देना ताकि वह सुरक्षित महसूस कर सके।
। 
संबंधित लेख:
नवजात शिशु का रोना इन 5 तरीकों से करें शांत
नवजात की देखभाल करने के लिए नैनी या आया को कैसे करें ट्रेंड?
नवजात की कार्डिएक सर्जरी कर बचाई गई जान, जन्म के 24 घंटे के अंदर करनी पड़ी सर्जरी
नवजात बच्चों की बीमारी: जन्म से दिखें अगर ये लक्षण, तो न करें नजरअंदाज

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बच्चों की त्वचा की देखभाल नहीं है आसान, इन टिप्स से बनेगा काम

बच्चों की त्वचा की देखभाल कैसे करें? new born baby skin care tips in hindi, बच्चों की स्किन केयर, बच्चों की स्किन प्रॉब्लम, बच्चों की त्वचा के लिए ये टिप्स जरूर पढ़ें....

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
बेबी की देखभाल, बेबी, पेरेंटिंग November 28, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें

बच्चों के काटने की आदत से हैं परेशान, ऐसे में डांटें या समझाएं?

बच्चों के दांत काटने की आदत को छुड़वाना चाहते हैं? जानिए बच्चों के काटने की आदत को छुड़ाने के टिप्स in hindi, शिशु का दांत काटना कैसे दूर करें, अपनाएं ये टिप्स।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh

सरोगेट मदर का चुनाव कैसे करें?

सरोगेट मदर का चुनाव कैसे करें in hindi. सरोगेट मदर का चुनाव करते वक्त किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ये जानना जरूरी है। इसमें कपल की उम्र से लेकर सरोगेट मां की उम्र कितनी होनी चाहिए शामिल है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

मिट्टी या नाखून खाता है आपका लाडला, कहीं यह पाइका डिसऑर्डर (Pica Disorder) तो नहीं

पाइका डिसॉर्डर एक ऐसी बीमारी है जिसमें बच्चा नॉन फूड आइटम खाता है। पाइका डिसॉर्डर वाले बच्चे पेपर, नाखून, मिट्टी, पेंट आदि खाते हैं। और जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh

Recommended for you

बेबी

बेबी की देखभाल करना है आसान, अगर आपको इस बारे में हो पूरी जानकारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 18, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें

बच्चों के लिए खीरा (Cucumber for babies) फायदेमंद है, लेकिन कब से शुरू करें देना?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 12, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
Baby birth position -बेबी बर्थ बेस्ट पुजिशन

बेबी बर्थ पुजिशन, जानिए गर्भ में कौन-सी होती है बच्चे की बेस्ट पुजिशन

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ December 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
सरोगेसी के मिथ

सरोगेसी प्लानिंग से पहले इससे जुड़े मिथकों को भी जान लें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ December 1, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें