जानें कितना सुरक्षित है बच्चों के लिए वीडियो गेम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आजकल के आधुनिक दौर में बच्चों के लिए वीडियो गेम के तौर पर ढेरों विकल्प मौजूद हैं। बच्चों को वीडियों गेम्स खेलना भी बहुत पसंद होता है। आए दिन बच्चों के लिए वीडियो गेम भी बनते रहते हैं जिसे खेलने में बच्चे व्यस्त भी रहते हैं। कई बार बच्चे इन वीडियो गेम्स को खेलने में इतने मशगूल हो जाते हैं कि अपने माता-पिता की बात तक नहीं सुनते।

यह भी पढ़ेंः इस एक्सरसाइज से आसानी से मजबूत होती हैं मसल्स, जानें आइसोमेट्रिक एक्सरसाइज के फायदे 

सवाल

बच्चों के लिए वीडियो गेम कितना सुरक्षित और हानिरकारक हो सकता है?

जवाब

स्वास्थ्य और मानसिक विकास के लिहाज से बच्चों के लिए वीडियो गेम कुछ हद तक खतरनाक हो सकते हैं। अगर वीडियो गेम्स खेलने की बात करें तो हर पेरेंट्स बच्चो पर चीढ़ जाते है। हर पेरेंट अपने बच्चे को बोलते हैं कि गेम्स नहीं खेले इससे आंख खराब होती है। ये बात सही भी है की ज्यादा वीडियो गेम्स खेलने से आंख खराब हो सकती है। लेकिन इसके साथ ही बच्चों के लिए वीडियो गेम खेलने की बहुत से फायदे भीं है। इसलिए अगर आपके बच्चे कहें की उन्हें वीडियो गेम खेलना है, तो इसमें कोई बुरी बात नहीं है। बच्चों के लिए वीडियो गेम का एक टाइम फिक्स करें, ताकि आपका बच्चा गेम भी खेले और एक्टिव भी रहे।

यह भी पढ़ेंः बच्चों का पढ़ाई में मन न लगना और उनकी मेंटल हेल्थ में है कनेक्शन

बच्चों के लिए वीडियो गेम के फायदे क्या हैं?

बच्चों के लिए वीडियो गेम जहां कुछ हद तक नुकसानदेह हैं, तो वहीं कुछ हद तक ये फायदेमंद भी हैं। तो आइए जानते हैं बच्चों के लिए वीडियो गेम कितना फायदेमंद हैंः

1.थिंकिग पावर बढ़ाने में मदद करे बच्चों के लिए वीडियो गेम

बच्चों के लिए वीडियो गेम बच्चो की थिंकिंग पावर यानी बच्चों के सोचने की क्षमता को बढ़ा सकता है। कुछ गेम्स प्रॉब्लम सॉल्विंग होते हैं। जैसे-जैसे बच्चे इन पजल्स गेम्स को खेलते हैं, उनका लेवल उतना ही मुश्किल होता जाता है। इससे बच्चे के मानसिक विकास पर अच्छा प्रभाव देखा जा सकता है। इसे खेलने से बच्चों में प्राब्लम सॉल्विंग टेक्नीक बढ़ सकती है। बच्चे लीड लेने लगते हैं और कॉम्पिटेटिव खेलने लगते है। बच्चे के मानसिक विकास के लिए ये जरूरी होता है।

2.क्रिएटिविटी बढ़ाए

बच्चों के लिए वीडियो गेम बच्चे के क्रिएटिविटी लेवल को बढ़ाने में मददगार हो सकते हैं। कुछ बच्चों को वीडियो गेम्स क्रिएटिविटी लगती है, तो कई बच्चो को ये दिलचस्प लगता है और वो उसी तरह से सोचने भी लगते है।

यह भी पढ़ेंः मां का गर्भ होता है बच्चे का पहला स्कूल, जानें क्या सीखता है बच्चा पेट के अंदर?

3.चीजें याद करने में मदद करती है बच्चों के लिए वीडियो गेम

बच्चों के लिए वीडियो गेम का सिर्फ मतलब खेल खेलने से ही नहीं होता है, बल्कि बच्चों के लिए ऐसे कई वीडियो भी है जिनकी मदद से छोटे उम्र के बच्चों को लर्निंग दी जाती है। इन एनिमेशन लर्निंग वीडियो का इस्तेमाल आमतौर पर छोटे बच्चों के प्लेवे स्कूल्स में भी किया जाता है। एक्सपर्ट के मुताबिक, जब किसी बच्चे को कोई चीज ग्राफिक्स, एनिमेशन या तस्वीरों के जरिए याद कराई जाती है या बताई जाती है, तो बच्चे उसे बहुत आसानी से समझ और याद कर सकते हैं। इसलिए बच्चों के लिए वीडियो गेम का मतलब सिर्फ खेल ही नहीं, बल्कि पढ़ाई से भी जुड़ी होती है।

4.दोस्त बनाने में मदद करे

बच्चो के लिए वीडियो गेम बच्चे के लिए नए दोस्त बनाने में मदद कर सकता है। अगल-अलग उम्र और अलग-अलग पसंद के अनुसार बच्चों के लिए वीडियो गेम बनाए जाते हैं। इससे बच्चे अपनी उम्र और पसंद के अनुसार वीडियो गेम खेलने वाले दूसरे बच्चे से जल्द ही दोस्ती कर सकते हैं।

5.फीजिकल फिटनेस पर ध्यान बढ़ाता है बच्चों के लिए वीडियो गेम

बच्चों के लिए वीडियो गेम के कई प्रकार मौजूद हैं। इनमें से जहां कुछ पजल्स हैं, तो कुछ कैरेक्टर बेस्ड भी हैं। इनमें जहां कुछ दिमाग पर जोर देते हैं, तो वहीं कुछ शरीर पर जोर देते हैं। ऐसे कई गेम हैं जो बच्चे को शारीरिक तौर पर नए-नए मूव्स सीखने के लिए उत्साहित करते हैं। जैसे कुछ गेम्स के उदाहर हैं, कराटे किड गेम, कुंग फू गेम, छोटा भीम रेस आदि।

यह भी पढ़ेंः ओपोजिशनल डिफाइएंट डिसऑर्डर (ODD) के कारण भी हो जाते हैं बच्चे जिद्दी!

बच्चों के लिए वीडियो गेम के नुकसान क्या हैं?

अभी तक हमने आपको बच्चों के लिए वीडियो गेम के फायदे बताए हैं, तो चलिए अब बच्चों के लिए वीडियो गेम के नुकसान के बारे में भी जानते हैंः

1.बच्चों के लिए वीडियो गेम समय की बर्बादी हो सकती है

हर माता-पिता को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनका बच्चा किस तरह की एक्टिविटी में कितनी दिलचस्पी लेता है। बच्चों के लिए वीडियो गेम काफी मजेदार और दिलचस्प होते हैं, जिसकी वजह से बच्चा कई घंटों तक बिना रूके इन्हें खेल सकता है। इसलिए माता-पिता को अपने बच्चों के लिए वीडियो गेम खेलने का एक समय तय करना चाहिए। इलेक्ट्रॉनिक्स के अगर फायदे है तो कुछ नुकसान भी है इसलिए ये पेरेंट्स पर निर्भर करता है की वो अपने बच्चो को कितने समय खेलने देते है और बच्चों के खेलने के दौरान बच्चों पर नजर रखना भी जरुरी होता है।

2.बच्चों का आलसी बना सकता है वीडियो गेम

बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए जरूरी है कि बच्चा शारीरिक खेलों में भी हिस्सा ले। लेकिन, वीडियो गेम की लत बच्चे को आलसी बना सकती है और बच्चा दूसरे बच्चों के साथ कोई खेल खेलने की बजाय फोन में ही वीडियो गेम खेलना ज्यादा पसंद करने लगता है।

यह भी पढ़ेंः बच्चा करता है बेडवेटिंग, इस तरह निपटें इस परेशानी से

3.बच्चा चिड़चिड़ा हो सकता है

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि अगर बच्चा कोई काम नहीं कर पाता है या उसे उसके मन के मुताबिक चीजें नहीं मिलती है, तो वह चिड़चिड़ा होने लगता है। ऐसे इसी तरह जब गेम्स के लेवल बढ़ने लगते हैं, तो बच्चे को उसे पास करने में बहुत मुश्किल होती है, जिसकी वजह से भी बच्चा चिड़चिड़ा हो सकता है।

इसके अलावा ध्यान रखें कि कई वीडियो गेम्स पर कॉशन भीं लिखा होता है जो पेरेंट्स को पड़ना जरूरी होता है की क्या ये खेलने से बच्चे कुछ गलत तो नहीं करेंगे। बच्चों को गेम के साथ आउटडोर एक्टिविटी खेलने के लिए बताएं क्योंकि जिससे वो हेल्दी और फिट रहें। इसके अलावा उनको बताएं कि लगातार वीडियो गेम खेलने से शरीर को नुकसान हो सकता है। 

ऊपर दी गई सलाह किसी भी चिकित्सा को प्रदान नहीं करती है। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से जरूर सलाह लें।

और पढ़ेंः-

बच्चों को बुरे प्रभावों से दूर रखने के लिए 5 टिप्स

खाने की बुरी आदतें डालती है सेहत पर बुरा असर, पढ़ें

पहली ब्रेन सर्जरी जिसे लोगों ने फेसबुक पर लाइव देखा

अंडर आर्म के पसीने और बदबू से छुटकारा दिलाएगा मीराड्राई ट्रीटमेंट

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    किशोरावस्था में बदलाव के दौरान माता-पिता कैसे निभाएं अपनी जिम्मेदारी?

    यहां जाने कि आप कैसे किशोरावस्था में बदलाव होने पर बच्चों को समझ सकते हैं और उनसे किस तरह बात करनी चाहिए। Kishoravastha me badalav होने पर अपनाएं ये टिप्स।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग अप्रैल 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

    बच्चे की करियर काउंसलिंग करते समय किन बातों का रखना चाहिए ध्यान?

    जानिए बच्चे की करियर काउंसलिंग in Hindi, बच्चे की करियर काउंसलिंग के फायदे, बच्चे के लिए सही स्ट्रीम कैसे चुनें, Bachche ki Career counseling, बच्चे के लिए सही भविष्य चुनने के लिए टिप्स।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग अप्रैल 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    बच्चों का चीजें निगलना/गले में फंसना हो सकता है खतरनाक, कैसे दें फर्स्ट एड

    बच्चों का चीज निगलना, नवजात शिशु का चीजें निगलना के लक्षण, गले में फंसी वस्तु को बाहर निकालने के उपाय, चीज निगलने पर क्या करें फर्स्ट एड, Cheezein nigalna.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
    बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 1, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    खाने की बुरी आदत भी डालती है सेहत पर बुरा असर, पढ़ें

    जानिए खाने की बुरी आदत in Hindi, बच्चे की खाने की बुरी आदत कैसे छुड़ाएं, खाने की आदत पर कैसे कंट्रोल करें, Khane Ki Buri Aadatein, खाने की अच्छी आदात क्या है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Dr. Pranali Patil
    फन फैक्ट्स, हेल्थ सेंटर्स नवम्बर 25, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    डायबिटीज टाइप 2 पेशेंट रियल स्टोरी

    Episode 4 : पॉजिटिव एटिट्यूड, थोड़ा सेल्फ डिसिप्लिन और फाइटिंग स्पिरिट, इनसे हरा सकते हैं डायबिटीज या किसी भी बीमारी को

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
    प्रकाशित हुआ नवम्बर 4, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    Change your bad habits- गलत आदतों से छुटकारा

    क्यों न इस स्वतंत्रता दिवस अपनी इन गलत आदतों से छुटकारा पाया जाए

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रकाशित हुआ अगस्त 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    शिशु को घमौरी-Baby Heat rash

    जानें शिशु को घमौरी होने पर क्या करनी चाहिए?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
    प्रकाशित हुआ अप्रैल 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    बच्चे-का-अंगूठा-चूसना

    बच्चे का अंगूठा चूसना कैसे छुड़वाएं?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
    प्रकाशित हुआ अप्रैल 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें