Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux: कैसे बचें हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से?

    Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux: कैसे बचें हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से?

    हार्टबर्न के बारे में आप यह जानते होंगे कि यह छाती के सेंटर में होने वाली दर्दभरी और बर्निंग सेंसेशन को कहा जाता है। स्टडी के मुताबिक युवाओं की बड़ी संख्या गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (Gastroesophageal reflux disease) से पीड़ित है, जो हार्टबर्न का कारण बन सकती है। गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज यानी GERD की समस्या तब होती है, जब एसिड पेट से वापस अन्नप्रणाली में पुश हो जाता है, जिससे हार्टबर्न सेंसेशन होती है। आमतौर पर एसिड रिफ्लक्स और हार्टबर्न के उपचार के लिए दवाइयों की सलाह दी जाती है। किंतु, हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) भी आपके लिए लाभदायक सिद्ध हो सकते हैं। आइए जानें हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) कौन से हैं। लेकिन पहले हार्टबर्न के बारे में जान लेते हैं।

    क्या है हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स (Heartburn and Acid Reflux)

    हार्टबर्न छाती में होने वाली बर्निंग पेन है, जो ब्रेस्टबोन के ठीक पीछे होती है। यह दर्द खाना खाने के बाद बदतर हो जाती है, खासतौर पर शाम को या जब आप लेटते हैं। आमतौर पर यह समस्या हानिकारक नहीं होती है और जीवनशैली में बदलाव से इसे मैनेज किया जा सकता है। इसके साथ ही ओवर-द-काउंटर दवाईयां भी इसमें मदद मिल सकती हैं। यह समस्या रोगी के रोजाना के कार्यों को प्रभावित कर सकती है और कई बार इससे ऐसे गंभीर कंडिशन के लक्षणों का कारण भी बन सकती है जिसे मेडिकल केयर की जरूरत हो सकती है।

    गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (Gastroesophageal reflux disease) आमतौर पर हार्टबर्न का कारण बनती है। गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (Gastroesophageal reflux disease) को एसिड रिफ्लक्स भी कहा जाता है। यह समस्याएं आमतौर पर जीवनशैली में बदलाव से दूर हो सकती हैं। आइए जानें हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) कौन से हैं।

    और पढ़ें: Herbs and Supplements for Acid Reflux: जानिए एसिड रिफ्लक्स में हर्ब्स और सप्लिमेंट्स के बारे में यहां!

    हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux)

    कोई भी व्यक्ति कभी-कभी एसिड रिफ्लक्स और हार्टबर्न का अनुभव कर सकता है। इसके माइल्ड मामलों में कुछ लाइफस्टाइल में बदलाव से ही लाभ हो सकता है। हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) इस प्रकार हैं:

    अपनी लेफ्ट साइड सोएं (Sleep on your left side)

    कुछ स्टडीज से यह साबित हुआ है कि अपने राइट साइड सोने से रात को एसिड रिफ्लक्स के लक्षण बदतर हो सकते हैं। वहीं लेफ्ट साइड लेटने से इसे कुछ हद तक कम किया जा सकता है। हालांकि, इसके कारणों के बारे में पूरी जानकारी नहीं है। अन्नप्रणाली पेट के दाहिने हिस्से में एंटर करती है। जिसके कारण, जब आप अपनी लेफ्ट साइड सोते हैं तो लोअर एसोफेजियल स्फिंक्टर पेट के एसिड के स्तर से ऊपर होता है। लेकिन जब हम राइट साइड सोते हैं तो स्टमक एसिड लोअर एसोफेजियल स्फिंक्टर को कवर कर लेता है, जिससे रिफ्लक्स का रिस्क बढ़ता है।

    और पढ़ें: Acid reflux and Heart palpitations: क्या एसिड रिफ्लक्स बन सकता है हार्ट पल्पिटेशन्स का कारण?

    हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) में अपने बेड के सिरे को ऊपर करें (Elevate the head of your bed)

    कुछ लोग एसिड रिफ्लक्स की समस्या रात को महसूस करते हैं, जिससे स्लीप की क्वालिटी प्रभावित होती है और उन्हें सोने में मुश्किल होती है। अपने बिस्तर के सिरे को ऊपर उठाकर जिस स्थिति में आप सोते हैं, उसे बदलने से एसिड रिफ्लक्स के लक्षणों को कम करने और नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद मिल सकती है। इसे एसिड रिफ्लक्स की समस्या कम होती है और लक्षण जैसे हार्टबर्न सुधरते हैं।

    और पढ़ें: Acid Reflux in the Morning: सुबह में एसिड रिफ्लक्स की समस्या से कैसे रखें खुद को दूर?

    जल्दी डिनर करें (Eat dinner earlier)

    एक्सपर्ट और डॉक्टर एसिड रिफ्लक्स और हार्टबर्न से पीड़ित लोगों को सोने से तीन घंटे पहले डिनर की सलाह देते हैं। क्योंकि, खाने के बाद होरीजॉन्टली लेटने से डायजेशन और भी मुश्किल हो सकती है। जिससे GERD के लक्षण बदतर हो सकते हैं। एक अन्य स्टडी के अनुसार टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लेट नाईट डिनर करने से भी एसिड रिफ्लक्स की समस्या बढ़ती है। हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) में इसका ध्यान रखना आवश्यक है।

    Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux, हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके

    और पढ़ें: Acid Reflux Diet: एसिड रिफ्लक्स डायट में क्या करें शामिल और किन 7 चीजों से करें परहेज?

    कम मात्रा में और बार बार खाएं (Eat smaller, more frequent meals)

    एक रिंग जैसी मांसपेशी को लोअर एसोफेजियल स्फिंक्टर के रूप में जाना जाता है जहां अन्नप्रणाली पेट में ओपन होती है। यह एक वॉल्व की तरह काम करती है और इससे नॉर्मली एसिड कंटेंट्स से छुटकारा मिलता है। यह आमतौर पर बंद रहती है लेकिन जब हम निगलते हैं, डकार लेते हैं या उल्टी करते हैं, तो यह खुल सकती है। एसिड रिफ्लक्स से पीड़ित लोगों की मसल कमजोर होती है और यह समस्या तब होती है, जब मसल पर बहुत अधिक प्रेशर होता है जो एसिड का कारण बनता है। अप्रत्याशित रूप से, अधिकांश रिफ्लक्स सिम्पटम्स भोजन के बाद ही होते हैं। ऐसा भी माना जाता है कि कम मात्रा में और बार-बार खाने से यह समस्या बढ़ सकती है। इसलिए, इसके रोगियों को कम मात्रा में और बार-बार खाने की सलाह दी जाती है।

    और पढ़ें: शिशुओं में एसिड रिफ्लक्स के लक्षण, कारण और क्या हैं उपाय?

    हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) में अपने वजन को सही रखें (Maintain a moderate weight)

    वजन को सही रखना कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाने का सही तरीका है। ऐसे ही बेली फैट को लूज करने और सही वजन को मैंटेन रखने से हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से छुटकारा मिल सकता है। इसके लिए अपने खाने पाने का ध्यान रखें और एक्सरसाइज करें। इससे आपको वजन कम करने में मदद मिलेगी। इसके लिए आप अपने डॉक्टरों से भी बात कर सकते हैं।

    और पढ़ें: कहीं अस्थमा का कारण एसिड रिफ्लक्स तो नहीं!

    अपने खाने पीने का रखें ध्यान (Eat right)

    हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) में इस चीज का भी ध्यान रखना जरूरी है। पुअर कार्ब डायजेशन और स्मॉल इंटेस्टाइन में बैक्टीरियल ओवरग्रोथ एसिड रिफ्लक्स का कारण बन सकती है। लो कार्ब डायट्स एक प्रभावी ट्रीटमेंट है। लेकिन, इसके बारे में अभी और अधिक स्टडी करना जरूरी है। इसके साथ ही इन चीजों का भी रखें ख्याल:

    • कार्बोनेटेड पेट पदार्थ का सेवन करने से डकार की फ्रीक्वेंसी बढ़ती है जिससे एसिड रिफ्लक्स की समस्या अधिक होती है। इसलिए ऐसे पेय पदार्थों का सेवन न करें।
    • एसिड रिफ्लक्स से पीड़ित कुछ लोग ऐसा महसूस करते हैं कि साइट्रस जूस का सेवन करने से उनके लक्षण बदतर हो सकते हैं। साइट्रस जूस में कुछ खास कंपाउंड्स भी अन्नप्रणाली की लायनिंग को प्रभावित करते हैं। इसलिए इनके सेवन से भी बचना चाहिए।
    • कुछ स्टडीज यह बताती हैं कि पुदीना में मौजूद कुछ कंपाउंड भी हार्टबर्न और रिफ्लक्स के लक्षणों को बढ़ाते हैं लेकिन इसके सुबूत लिमिटेड हैं।
    • हाट फैट फूड्स भी GERD सिम्पटम्स को बढ़ाते हैं जिसमें हार्टबर्न शामिल है। लेकिन, इस बारे में अधिक रिसर्च की जानी जरूरी है।
    • हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) में एल्कोहॉल का सेवन करने से बचना भी शामिल है। अधिक एल्कोहॉल के सेवन से एसिड रिफ्लक्स और हार्टबर्न की गंभीरता बढ़ती है। इसके साथ ही रोगी को अधिक कॉफी का सेवन करना भी नजरअंदाज करना चाहिए।

    और पढ़ें: Causes Of Heartburn And Nausea: क्या हैं हार्टबर्न और नौसिया के कारण?

    उम्मीद है कि हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स से बचाव के तरीके (Ways to Prevent Heartburn and Acid Reflux) के बारे में यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। यह वो बैचैन करने वाली समस्याएं हैं जो कई विभिन्न कंडिशंस का कारण बन सकती हैं। हालांकि, इसके लिए कई मेडिकेशन्स और ट्रीटमेंट ऑप्शन मौजूद हैं, जिनको अपना कर इन समस्याओं से राहत मिल सकती है। इसके साथ ही आपकी डायट और जीवनशैली का सही रहना भी जरुरी है। अगर आपके मन के इसके बारे में कोई भी सवाल है तो डॉक्टर से इस बारे में अवश्य जानें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र
    लेखक की तस्वीर badge
    AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 12/04/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड