आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

जानिए एंडोस्कोपी के लिए आप खुद को कैसे तैयार करें

    जानिए एंडोस्कोपी के लिए आप खुद को कैसे तैयार करें

    एंडोस्कोपी एक प्रकर की जांच है। कई लोगों के मन में यह सवाल होता है कि एंडोस्कोपी की जांच कैसे की जाती है? वैसे एंडोस्कोपी के कई प्रकार हैं, लेकिन एंडोस्कोपी आंत से संबंधित अंगों की जांच के लिए किया जाता है। एंडो स्कोप फ्लैक्सिबल और पतला सा एक उपकरण है। जिसे मुंह के होते हुए गले के जरिए पेट में डाला जाता है। इस पूरी प्रक्रिया को इसोफेगो गैस्ट्रो ड्यूडिनोस्कोपी (EGD) कहते हैं। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (जीआई) एंडोस्कोपी में, आपका डॉक्टर आपके मुंह के माध्यम से और आपके अन्नप्रणाली के नीचे एक एंडोस्कोप डालते हैं, जो कि एक लचीली ट्यूब होती है जिसमें कैमरा लगा होता है। कुछ भी गंभीर मामलों में डॉक्टर एंडोस्कोपी टेस्ट का ही विकल्प देते हैं, जैसे- अल्सर, पेट में जलन, ट्यूमर, संक्रमण या ब्लीडिंग आदि में। जानिए यहां कि एंडोस्कोपी की जांच कैसे की जाती है यहां:

    और पढ़ें : Foods For Heartburn: हार्ट बर्न के लिए फूड में क्या करें शामिल?

    अपर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल एंडोस्कोपी (Upper Gastrointestinal Endoscopy)

    पेट या इसोफेगस के बेहतर तस्वीरों के लिए एंडोस्कोप के साथ ही डॉक्टर अल्ट्रासाउंड टेस्ट भी करते हैं। इससे पेट के उन अंगों की भी तस्वीरें ली जाती है, जैसे- अग्नाशय (pancreas)। अल्ट्रासाउंड और एंडोस्कोपी दोनों को कंबाइन कर के टेस्ट किया जाता है। इससे एचडी (HD) तस्वीरें और वीडियो दोनों आता है। वीडियो और तस्वीर जितनी साफ रहेगी बीमारी को पता लगाने में उतनी ही आसानी होगी। कई लोग अपने डॉक्टर से बैरेट एसोफेगस जैसी स्थितियों का पता लगाने के लिए नैरो बैंड इमेजिंग का उपयोग करने के लिए कहते हैं। कुछ मामालों में अपर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल टेस्ट को कई बार करने की जरूरत पड़ती है। ये तब होता है जब समस्या कम होने के जगह और बढ़ने लगती है। जब आपके डॉक्टर को पित्ताशय या अग्नाशय के टेस्ट (अल्ट्रासाउंड, लिवर स्कैन या एक्स-रे के द्वारा) का रिजल्ट संतुष्ट नहीं कर पाता है तो अंत में डॉक्टर एंडोस्कोपिक रेट्रोग्रेड कोलेंजियोपैन्क्रिआटोग्राम (ERCP) टेस्ट करने के लिए कहते है। ERCP मुख्यत: जॉन्डिस का पता लगाने के लिए किया जाता है।

    और पढ़ें : क्या आप महसूस कर रहे हैं पेट में जलन, इंफ्लमेटरी बाउल डिजीज हो सकता है कारण

    जानिए एंडोस्कोपी के लिए आप खुद को कैसे तैयार करें (Know how to prepare yourself for endoscopy)

    आपका डॉक्टर आपको एंडोस्कोपी की सलाह देते हैं, तो आपके मन में यह सवाल तैयारी के बारे में विशिष्ट निर्देश देगा, लेकिन यहां कुछ सामान्य सुझाव दिए गए हैं जो यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं कि आप तैयार हैं।

    अपनी हेल्थ कंडिशन के बारे में डॉक्टर को बताएं

    एंडोस्कोपी कराने से पहले मरीज को डॉक्टर को अपनी हेल्थ कंडिशन के बारे में जरूर बताएं, यदि आप गर्भवती हैं या आपको हृदय रोग या कैंसर जैसी कोई स्वास्थ्य स्थिति है। यह जानकारी आपके डॉक्टर को यह जानने में मदद करती है कि प्रक्रिया आपके लिए सुरक्षित है या इसे करने के लिए कोई आवश्यक सावधानी बरतनी है या नहीं।

    और पढ़ें : स्टूल में खून आना हो सकता है किसी बड़ी बीमारी की तरफ इशारा, इसे गलती से भी न करें नजरअंदाज

    कोई मेडिकेशन या दवाओं से एलर्जी रिएक्शन होने पर

    आपको अपने डॉक्टर को किसी भी एलर्जी के बारे में और आपके द्वारा ली जा रही किसी भी दवाओं के बारे में भी बताना चाहिए। एंडोस्कोपी से पहले आपका डॉक्टर आपको अपनी खुराक बदलने या कुछ दवाएं लेने से रोकने के लिए कह सकते हैं। कुछ दवाएं प्रक्रिया के दौरान रक्तस्राव के आपके जोखिम को बढ़ा सकती हैं। इन दवाओं में शामिल हैं:

    कोई भी दवाएं जो उनींदापन का कारण बनती हैं, उन शामक के साथ हस्तक्षेप कर सकती हैं जिनकी प्रक्रिया की आवश्यकता होगी। एंटी एंग्जायटी ड्रग और कई एंटीडिप्रेसेंट सेडाटिव्स (Antidepressant sedatives) आपकी प्रतिक्रिया को प्रभावित कर सकते हैं। यदि आप मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए इंसुलिन या अन्य दवाएं लेते हैं, तो अपने डॉक्टर के साथ सलाह जरूर करें, ताकि आपका रक्त शर्करा बहुत कम न हो।अपनी दैनिक खुराक में तब तक कोई बदलाव न करें जब तक कि आपका डॉक्टर आपको ऐसा करने के लिए न कहे।

    और पढ़ें : Microalbumin Test: माइक्रोएल्ब्युमिन टेस्ट क्या है?

    प्रक्रिया के जोखिमों को जानें

    सुनिश्चित करें कि आप प्रक्रिया के जोखिमों और होने वाली जटिलताओं को भी समझें। इसकी जटिलताएं दुर्लभ हैं, लेकिन इसमें निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं: कई बार दिक्कत तब हो सकती है, जब भोजन या तरल फेफड़ों में जाता है। यह तब हो सकता है जब आप प्रक्रिया से पहले आप कुछ खाते या पीते हैं। इस जटिलता को रोकने के लिए खाली पेट रहें और डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें। यदि आपको कुछ दवाओं से एलर्जी है, जैसे कि प्रक्रिया के दौरान आराम करने के लिए आपको दी जाने वाली सेडाटिव्स। ये दवाएं आपके द्वारा ली जा रही अन्य दवाओं में भी हस्तक्षेप कर सकती हैं। अपने डॉक्टर अपनी चल रही सभी दवाओं के बबारे मं जरूर बताएं। यदि बायोप्सी की जाती है तो रक्तस्राव हो सकता है। हालांकि, रक्तस्राव आमतौर पर मामूली होता है और इसे आसानी से ठीक किया जा सकता है।

    गाड़ी न चलाएं

    एंडोस्कोपी के दौरान आराम के लिए आपको संभवतः सेडाटिव्स या नारकोटिक दवाएं दी जा सकती हैं। तो आपको इस प्रक्रिया के बाद गाड़ी नहीं चलानी चाहिए क्योंकि इन दवाओं से आपको नशा जैसा महसूस हो सकता है। बेहतर होगा कि एंडोस्कोपी के दौरान अपने साथ किसी को लेकर आएं, अकेले न जाएं।

    और पढ़ें: नींद और GERD : गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज में नींद न आने की परेशानी को कैसे करें दूर?

    खाने-पीने का ध्यान रखें

    प्रक्रिया से एक रात पहले आधी रात के बाद आपको कुछ भी खाना या पीना नहीं चाहिए। हालांकि, यदि आपकी प्रक्रिया दोपहर में होती है, तो आप आमतौर पर एंडोस्कोपी से छह घंटे पहले तक आधी रात के बाद स्पष्ट तरल पदार्थ ले सकते हैं। स्पष्ट तरल पदार्थ में शामिल हैं:

    अरामदायक कपड़ें पहने

    हैवी या चुभन वाले कपड़े आपको एंडोस्कोपी में कुछ असुविधा पैदा कर सकती है। आरामदायक कपड़े पहनना सुनिश्चित करें और गहने पहनने से बचें। आपको प्रक्रिया से पहले चश्मा या डेन्चर हटाने के लिए कहा जाएगा।

    और पढ़ें: नींद और GERD : गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज में नींद न आने की परेशानी को कैसे करें दूर?

    वहीं, बता दें कि अपर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल एंडोस्कोपी की रिपोर्ट हॉस्पिटल और लैबोरेट्री के तरीकों पर निर्भर करती है। इसलिए आप अपने डॉक्टर से टेस्ट रिपोर्ट के बारे में अच्छे से समझ लें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: