आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Green poop: किन कारणों से पूप का रंग हो सकता है हरा, जानिए यहां

    Green poop: किन कारणों से पूप का रंग हो सकता है हरा, जानिए यहां

    जिस प्रकार से बच्चे के पूप के रंग से कई बातों का पता चलता है, वैसे ही अगर किसी व्यक्ति के पूप का रंग हरा है, तो इससे भी कई बातें जुड़ी हुई मानी जाती है। ग्रीन पूप होने की एक नहीं बल्कि कई कारण हो सकते हैं। यह साधारण है या फिर खतरे की बात है, यह तो जांच के बाद ही पता चलता है। पूप का रंग हरा क्यों है, आइए जानते हैं इससे जुड़े विभिन्न कारणों के बारे में।

    और पढ़ें: इसोफैगस: पाचन तंत्र के इस अंग के बारे में कितना जानते हैं आप?

    ग्रीन पूप (Green poop) की आखिर क्यों होती है समस्या?

    हम जो कुछ भी खाते हैं, उसका पाचन हो जाने के बाद वह इंटेस्टाइन में चला जाता है और इसके बाद वेस्ट प्रोडक्ट के रूप में शरीर के बाहर निकल जाता है। पूप का रंग कई बार खाने के कारण अलग रंग का हो सकता है लेकिन कुछ मामलों ये मेडिकल कंडीशन से भी जुड़ा हो सकता है। कोई मेडिकल कंडीशन हो, एंटीबायोटिक्स का सेवन करने से या बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण भी मल का रंग बदल सकता है।

    आपके मन में यह सवाल जरूर होगा कि अक्सर पूप का रंग ब्राउन क्यों होता है? ऐसा रेड ब्लड सेल्स के कारण और बैक्टीरिया के कारण बचें वेस्ट के कारण होता है। इंटेस्टाइन में पाचन के दौरान बाइल भी मौजूद होता है, जो आमतौर पर पीले हरे रंग का होता है लेकिन बैक्टीरिया के कारण इसका रंग बदल भी सकता है। पाचन के दौरान अच्छे बैक्टीरिया खाने से पोषक तत्वों को अवशोषित कर लेते हैं और पाचन के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। पाचन तंत्र में भोजन पर्याप्त समय तक नहीं रह पाता है, तो भी इसका रंग बदल सकता है। आइए जाने और कौन से कारण हैं, जो ग्रीन पूप (Green poop) के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।

    और पढ़ें: जानिए पेट में खाना कब तक रहता है और कैसे होता है इसका पाचन

    ग्रीन पूप: खानपान से जुड़ा हो सकता है मल का रंग

    अगर आपको रोजाना सामान्य मल हो रहा है लेकिन किसी एक दिन हरे रंग का मल होता है, तो इसका यह भी कारण हो सकता है कि आपने खाने में कुछ ऐसा खाया है, जो हरे रंग का है। आमतौर पर हरी सब्जियों को खाने के बाद मल के रंग में बदलाव हो सकता है। खाने में गोभी, पालक (spinach) , ब्रोकली या ब्लू बेरीज का सेवन करने से मल का रंग बदल जाता है। हरी सब्जियों में क्लोरोफिल होता है। यह क्लोरोफिल प्लांट को सूर्य से भोजन बनाने में मदद करता है। इसका यह बिल्कुल भी मतलब नहीं है कि हरी सब्जियां खाने से आपको किसी प्रकार की समस्या होती है। वहीं कुछ ऐसे भी फूड्स होते हैं, जो हरे रंग के होते हैं और उन्हें खाने से भी मल का रंग बदल जाता है।

    एंटीबायोटिक्स और अन्य दवाओं के इस्तेमाल से

    अगर आपको इंफेक्शन के कारण एंटीबायोटिक मेडिसिंस लेना पड़ रहा है, तो ऐसे में भी स्टूल का रंग परिवर्तन हो सकता है। आंत में पाए जाने वाले बैक्टीरिया पाचन के लिए अच्छे माने जाते हैं लेकिन एंटीबायोटिक लेने के कारण अच्छे बैक्टीरिया भी मर जाते हैं। इस कारण से इनकी आबादी कम हो जाती है। अगर ऐसे में प्रोबायोटिक्स का सेवन किया जाए, तो बैक्टीरिया को बढ़ाया जा सकता है। वहीं कुछ मेडिसिन सप्लीमेंट भी पूप के हरे रंग का कारण बन सकते हैं।

    और पढ़ें: पाचन के लिए ट्रिप्सिन एंजाइम क्यों जरूरी है? जानिए इसके कार्य

    ग्रीन पूप गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कंडीशन (Gastrointestinal conditions)

    अगर आपको क्रोहन डिजीज है या फिर जीआई कंडीशन है, तो ऐसे में इंटेस्टाइन में बाइल तेजी से मूव करता है। इस कारण से ग्रीन पूप की समस्या पैदा हो सकती है। क्रोहन डिजीज एक इंटेस्टाइन रोग है, जो पाचन तंत्र में सूजन का कारण बनता है। सीलिएक डिजीज के कारण ग्लूटेन के प्रति इंटॉलरेंस पैदा हो जाती है। इस कारण से जीआई प्रॉब्लम (GI problems) गैस, ब्लोटिंग, डायरिया, पेट दर्द की समस्या पैदा हो जाती है। अगर आपको सीलिएक डिजीज है, तो आपको ग्रीन पूप की समस्या हो सकती है।

    और पढ़ें: टॉप डायजेस्टिव एंजाइम्स : यह एंजाइम्स निभाएं पाचन से जुड़ी परेशानियों को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका

    एनल फिशर (Anal fissures) की समस्या के कारण हरा पूप

    एनल फिशर (Anal fissures) के कारण एनस के आसपास टीयर हो जाते हैं। जिन लोगों को क्रॉनिक डायरिया की समस्या होती है या फिर इंफ्लामेटरी बाउल डिजीज होती, उन्हें भी इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इस कारण से स्टूल का रंग हरा हो जाता है। एनल फिशर के कारण स्टूल का रंग हरा होने के साथ ही स्टूल में ब्लड भी दिख सकता है। अगर आपको कभी भी अपने पूप के रंग में बदलाव दिखे या फिर ब्लड दिखे तो इसे सामान्य समस्या नहीं समझना चाहिए। ये किसी गंभीर बीमारी से भी जुड़ा हो सकता है।

    ग्रीन पूप: स्टूल के रंग और कैंसर का क्या है संबंध?

    आपके मन में यह भी सवाल आ रहा होगा कि अगर स्टूल के रंग में परिवर्तन हो गया है, तो क्या यह कैंसर का संकेत हो सकता है। आपको घबराने की जरूरत नहीं है। यह सच है कि स्टूल का अलग-अलग रंग कैंसर के ट्यूमर का संकेत हो सकता है लेकिन कैंसर के साथ ही स्टूल का रंग काले या भूरे रंग का भी होता है। साथ ही ये सूखा हो सकता है और स्टूल के साथ-साथ ब्लड आने की भी संभावना अधिक होती है। आमतौर पर हरे रंग के पूप से कैंसर का कोई संबंध नहीं होता है। अगर आपके स्टूल के साथ साथ ही उल्टी या दस्त की समस्या भी हो गई है और साथ ही शरीर में अन्य लक्षण भी दिखाई पड़ रहे हैं, तो ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

    और पढ़ें: गैस्ट्रोपैरीसिस : पाचन क्रिया से जुड़ी इस समस्या से हो सकती है टाइप 2 डायबिटीज की तकलीफ!

    पेट का खराब होना, स्टूल के साथ में ब्लड आना, लगातार दस्त की समस्या बने रहना आदि समस्याओं से अगर आप गुजर रहे हैं, तो ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। दस्त की समस्या होने पर शरीर में पानी की कमी होने लगती है। अगर पर्याप्त मात्रा में पानी ना पिया जाए, तो डिहाइड्रेशन की समस्या भी हो जाती है। ऐसे में जरूरी है कि आप डॉक्टर को दिखाएं और बीमारी के कारणों के बारे में जानकारी लें। ऐसा करने से समय पर ट्रीटमेंट मिल जाएगा और आप किसी बड़ी बीमारी से बच जाएंगे। अगर आपको फिर भी स्टूल के रंग को लेकर अधिक जानकारी चाहिए, तो अपने डॉक्टर से इस बारे में जरूर बात करें।

    इस आर्टिकल में हमने आपको ग्रीन पूप (Green poop) के बारे में अहम जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की ओर से दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको पाचन तंत्र के संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हैलो हेल्थ की वेबसाइट में आपको अधिक जानकारी मिल जाएगी।

    health-tool-icon

    बीएमआर कैलक्युलेटर

    अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/04/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: