क्या है प्रेग्नेंसी के बाद होने वाली एप्रन बेली की परेशानी और कैसे करें इसे मैनेज?

    क्या है प्रेग्नेंसी के बाद होने वाली एप्रन बेली की परेशानी और कैसे करें इसे मैनेज?

    जीवन अपने साथ कई बदलावों को लेकर आता है। फिर चाहे प्रेग्नेंसी हो, वेट लॉस, वेट गेन या लाइफ का कोई अन्य कोई चरण। इन कुछ बदलावों के बाद आप यह महसूस करेंगे कि आपका शरीर उस तरह से नहीं दिख या फील हो रहा है जैसा उसको लगना चाहिए। ऐसे ही कुछ बदलाव प्रेग्नेंसी के बाद भी आते हैं। इनमे से एक बदलाव को एप्रन बेली (Apron belly) कहा जाता है। अगर आप प्रेग्नेंसी के बाद अपनी बेली के नीचे अधिक अमाउंट में फैट या टिश्यू को नोटिस करें तो इस बात की संभावना है कि आपको एप्रन बेली (Apron belly) की समस्या है। आज हम बात करने वाले हैं एप्रन बेली के बारे में। आइए जानें क्या है यह समस्या और किस तरह से संभव है इसका उपचार?

    एप्रन बेली (Apron belly) किसे कहा जाता है?

    एप्रन बेली (Apron belly) को मां का एप्रन या पेनस स्टमक (Pannus stomach) भी कहा जाता है। यह समस्या तब होती है जब पेट और इंटरनल ऑर्गन्स के आसपास का फैट, वजन बढ़ने या गर्भावस्था के कारण फैल जाता है। प्रेग्नेंसी में यह समस्या तब होती है जब ओमेंटम (Omentum) में बहुत अधिक फैट डिपॉजिट हो जाता है। अब बात की जाए ओमेंटम (Omentum) की, तो यह एब्डोमिनल मसल्स के नीचे और इंटेस्टाइन के सामने एक फ्लैप है जहां फैट डिपॉजिट होता है। एप्रन बेली (Apron belly) एब्डोमेन से प्यूबिक एरिया के टॉप, अपर थाई या यहां तक की घुटनों से हैंग हो सकता है।

    इस समस्या का मुख्य कारण प्रेग्नेंसी और वजन का बढ़ना होता है। हालांकि, यह केवल नयी माताओं या ओवरवेट महिलाओं में ही सामान्य नहीं है बल्कि जिन पुरुषों ने बहुत अधिक वजन कम किया हो, उन्हें भी यह परेशानी हो सकती है। अब जानते हैं कि एप्रन बेली फैट के रिस्क क्या हैं?

    और पढ़ें: Twin pregnancy timetable: जानिए ट्विन प्रेग्नेंसी एवं ट्विन प्रेग्नेंसी टाइमटेबल से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें!

    एप्रन बेली (Apron belly) फैट के रिस्क के बारे में जानें

    स्किन के नीचे स्थित फैट जिसे हाथों से पकड़ा जा सकता है, उसे सबक्यूटेनियस फैट (Subcutaneous fat) कहा जाता है। बेली में, यह फैट विसेरल (Visceral) के बीच और आसपास के स्थानों में जमा हो जाता है। इस फैट को विसेरल फैट (Visceral fat) कहा जाता है और यह उन टॉक्सिन्स को जनरेट करता है जो शरीर के कार्य करने के तरीके को प्रभावित करता है। यह शरीर के अंदर दबा हुआ होता है और यह इस बात का इंडिकेशन नहीं देता है कि शरीर कितना स्वस्थ है। आपका वजन अधिक हो सकता है लेकिन इस प्रकार का फैट भविष्य में इंफ्लेमेशन, टाइप 2 डायबिटीज, कैंसर और अन्य हृदय रोगों का कारण बन सकता है।

    और पढ़ें: अगर आप प्रेग्नेंसी की कर रही हैं तैयारी, तो जानें इस दौरान कौन सी एक्सरसाइजेज करने से हो सकता है फायदा!

    एप्रन बेली (Apron belly) के कारण होने वाले डिसकम्फर्ट से कैसे राहत पाएं?

    अक्सर, एप्रन बेली (Apron belly) की स्थिति में दर्द और परेशानी उन इमोशंस के रूप में आती है जो आपको महसूस होती है। कई लोगों के लिए, उनका एप्रन बेली शर्म या तनाव का कारण हो सकता है। लेकिन, चिंता न करें क्योंकि आप अकेली नहीं हैं जिन्हें यह समस्या होती है। किसी भी शेप या साइज के लोगों में यह समस्या हो सकती है। अपनी सम्पूर्ण हेल्थ को प्रभावित करने वाले अंडरलायिंग कारणों का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है, यही नहीं इसे लेकर किसी भी तरह के शर्म को महसूस करने से बचें। अगर एप्रन बेली (Apron belly) के कारण आपको कोई फिजिकल डिस्कम्फर्ट होता है, तो कई चीजों से आपको अच्छा महसूस करने में मद द मिल सकती है, जैसे:

    एंटी-चेफिंग क्रीम्स अप्लाई करें (Apply anti-chafing creams)

    एक एप्रन बेली (Apron belly) के नीचे की त्वचा रब हो सकती है। एक एंटी-चफिंग क्रीम का उपयोग करने से त्वचा की जलन और इसके बाद होने वाली परेशानी को रोकने में मदद मिल सकती है।

    एप्रन बेली, Apron belly.

    और पढ़ें: Best Pregnancy Workouts and Exercises: बेस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट और एक्ससाइज कौन-सी होती हैं?

    स्पोर्ट बैंड या क्लोदिंग का इस्तेमाल करें (Use support bands or clothing)

    सपोर्ट बैंड या क्लोदिंग को इस तरह से बनाया जाता है ताकि एब्डोमिनल एरिया को सपोर्ट मिले। इससे अतिरिक्त स्किन सेगिंग (Skin sagging) और अतिरिक्त वजन से होने वाली पीठ की समस्याओं को कम कर सकता है।

    एरिया को साफ और ड्राय रखें (Keep the area clean and dry)

    अच्छी हाइजीन को बनाए रखने से रैशेज और अन्य त्वचा संबंधी समस्याओं को रोकने में मदद मिलती है। यही नहीं, इससे एप्रन बेली (Apron belly) के नीचे की त्वचा को नमी बनी रहती है। इससे त्वचा में रैशेज और समस्याओं से बचा जा सकता है। इस समस्या का सही उपचार ढूंढने और कॉन्फिडेंस को बनाए रखना इस समस्या से छुटकारा पाने का महत्वपूर्ण स्टेप है। जबकि आप अपने एप्रन बेली को कम करने या हटाने के तरीकों की तलाश करना चाहते हैं, आपको अभी भी सहज महसूस करने के लिए कदम उठाने चाहिए। अब जानते हैं एप्रन बेली (Apron belly) को कम या रिमूव करने के तरीकों के बारे में।

    और पढ़ें: Mucus plug discharge: क्या हानिकारक है प्रेग्नेंसी में होने वाला यह डिस्चार्ज?

    एप्रन बेली (Apron belly) को कम या रिमूव करने के क्या हैं तरीके?

    एप्रन बेली (Apron belly) फैट मेटाबॉलिकली एक्टिव है और इस फैट डिपॉजिट से छुटकारा पाने के लिए आपको कुछ समय लग सकता है। जैसा कि पहले ही बताया गया है कि इस तरह की बेली के कारण प्रेग्नेंसी और वजन का अधिक होना है। ऐसे में इस समस्या से राहत पाने के तरीके इस प्रकार हैं:

    डायट कंट्रोल से वेट लॉस (Weight Loss By Diet Control)

    अपने खानपान में बदलाव का सीधा प्रभाव बेली फैट पर पड़ सकता है। ऐसे में सही डायट का चुनाव कर के आप इस बेली से छुटकारा पा सकते हैं। इसके लिए इन चीजों का रखें ध्यान:

    • डायटरी बदलाव करें। डायट में बदलाव से विसेरल फैट और सबक्यूटेनियस फैट को लूज करने में हेल्प मिलती है।
    • अपनी डायट में साबुत फूड्स को शामिल करके जिसमें ताजे फल, सब्जियां, दाल, साबुत अनाज और प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ शामिल हैं, आप कैलोरी की मात्रा को कम कर सकते हैं।
    • इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर या डायटीशियन की सलाह ले सकते हैं।
    • एक्स्ट्रा कैलोरीज को एलिमिनेट करें। अधिक मीठे फूड्स, रिफाइंड ग्रेन्स और सोडा ड्रिंक्स आदि के सेवन से बचें। क्योंकि, इनमें अधिक कैलोरीज और जीरो न्यूट्रिएंट्स होते हैं। अपने कैलोरी रिच फूड्स की डेली इंटेक को मॉनिटर करने के लिए आप फूड डायरी मेंटेन करें।

    और पढ़ें: Best pregnancy safe hair dye: प्रेग्नेंसी में इन हेयर डाय का इस्तेमाल है पूरी तरह से सेफ

    एक्सरसाइज (Exercise)

    एक्सरसाइज से न केवल आप फैट डिपॉजिट्स को कम कर सकते हैं बल्कि अधिक वजन से होने वाली कई समस्याओं से भी छुटकारा पा सकते हैं। अगर आप एप्रन बेली (Apron belly) को कम करना चाहते हैं तो आप कुछ एक्सरसाइजेज का सहारा ले सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

    और पढ़ें: Urine Tests During Pregnancy: प्रेग्नेंसी में यूरिन टेस्ट से घबराएं नहीं, क्योंकि यह गर्भवती महिला एवं गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के लिए है जरूरी!

    सर्जिकल और नॉन-सर्जिकल तरीके (Surgical and Non-Surgical Ways)

    एक्सरसाइज और डायट से वजन और फैट दोनों कम करने में मदद मिल सकती है। लेकिन, एक्सेस स्किन वैसे ही रहती है ऐसे में कुछ सर्जिकल और नॉन-सर्जिकल तरीकों से यह अतिरिक्त स्किन कम हो सकती है। यह तरीके इस प्रकार हैं:

    लेजर या कूल स्कल्पटिंग प्रोसीजर (Laser or cool sculpting procedures)

    लेजर से बेली फैट यानि एप्रन बेली (Apron belly) से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है। लेकिन, कुछ नॉन-सर्जिकल प्रोसीजर हैं जो ब्रेस्टफीडिंग, ओबेसिटी और किसी मेडिकल कंडिशंस की स्थिति में सही नहीं हैं। ऐसे में इनमें से किसी भी प्रोसीजर से पहले डॉक्टर की सलाह लें ।

    पैनिक्युलेक्टोमी (Panniculectomy)

    पैनिक्युलेक्टोमी एक सर्जिकल प्रोसीजर है जिससे आप एक्स्ट्रा स्किन और फैट कम होने में सहायता मिल सकती है। पैनिक्युलेक्टोमी, टमी टक जैसे एक फ्लैट एब्डोमिनल एरिया के अतिरिक्त त्वचा और वसा को हटाकर पेट की मांसपेशियों को कसता नहीं है। यह एक सर्जिकल प्रोसीजर है, तो इसमें कुछ हेल्थ स्टैंडर्ड को पूरा करना शामिल है।

    और पढ़ें: बेली फैट (Belly fat) कम करने के लिए अपनाएं ये एक्सरसाइज

    यह तो थी जानकारी एप्रन बेली (Apron belly) के बार में। अगर आप पेट से एप्रन की तरह स्किन हैंग करती दिखाई दे तो आप शर्मिंदा हो सकते हैं और आपको परेशानी हो सकती है। अगर इस समस्या के कारण आपको रैशेज, चैफिंग (Chafing) आदि हो, तो कई तरीकों से आप इनसे छुटकारा पा सकते हैं। इसके साथ ही अपनी डायट का ख्याल रखें और व्यायाम करें। अगर इस समस्या से संबंधी कोई भी सवाल आपके मन में है, तो डॉक्टर से बात अवश्य करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    AnuSharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 18/05/2022

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement