home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

मैटरनिटी लीव एक्ट के बारे में अगर जानते हैं आप तो खेलें क्विज

मैटरनिटी लीव एक्ट के बारे में अगर जानते हैं आप तो खेलें क्विज

मैटरनिटी लीव किसी भी महिला के जीवन का जरूरी अवकाश माना जाता है। ये वही समय होता है, जब महिला काम के दौरान कुछ महीनों का अवकाश लेती है, जिसमें वो गर्भधारण के अखिरी महीनों के साथ ही बच्चे के जन्म के बाद का भी कुछ समय व्यतीत करती है। अगर कोई भी कामकाजी महिला प्रेग्नेंसी के बारे में सोच रही है तो उसे मैटरनिटी लीव एक्ट के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। मैटरनिटी लीव के अंतर्गत दिया जाने वाला अवकाश पेड होता है। मैटरनिटी लीव की पॉलिसी में समय-समय पर कुछ बदलाव भी होते हैं। महिलाओं को काम के साथ ही वर्कप्लेस में उन्हें मिलने वाले अधिकारों और समय-समय पर उनमें आए परिवर्तन के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। मैटरनिटी बैनीफिट के दौरान महिला को कितनी सैलरी मिलेगी या फिर महिला ने अगर बच्चा एडॉप्ट किया है, तो इसके क्या नियम हैं, इस बात की जानकारी एक्ट में दी गई है। प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को मानसिक समस्याओं के साथ ही शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है, इसलिए मातृत्व अवकाश बेहद जरूरी हो जाता है। कई बार महिलाओं को प्रेग्नेंसी की शुरुआत में मिसकैरिज का भी सामना करना पड़ता है, जो उनके लिए बहुत दुखदायी होता है। ऐसे समय में महिला को इमोशनल सपोर्ट के साथ ही सभी लोगों के साथ की जरूरत होती है। मैटरनिटी लीव एक्ट में इन सभी बातों का जिक्र किया गया है और साथ ही अवकाश की अवधि भी तय की गई है।

[mc4wp_form id=”183492″]

मैटरनिटी लीव के दौरान महिला अपना ख्याल रखने के साथ ही अपने बच्चे का ख्याल भी रखती है। आपको बताते चलें कि महिला मैटरनिटी लीव लेने के बाद चाइल्ट केयर लीव भी ले सकती है। बच्चों की देखभाल के लिए मां का काम से ब्रेक लेना और फिर काम पर वापिस आना वाकई जिम्मेदारी भरा काम है। कुछ महिलाओं को मैटरनिटी लीव के बारे में ठीक से जानकारी नहीं होती है, जिसके कारण वो लीव का सही से बेनिफिट नहीं ले पाती है। आज आप मैटरनिटी लीव क्विज के माध्यम से इस बारे में जानेंगे और साथ ही आप मैटरनिटी लीव क्विज खेलकर अपने ज्ञान को भी बढ़ा सकते हैं।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

MATERNITY BENEFIT ACT, 1961    https://labour.gov.in/sites/default/files/TheMaternityBenefitAct1961.pdf Accessed on 24/8/2020

MATERNITY BENEFIT ACT   https://mhrd.gov.in/sites/upload_files/mhrd/files/rti/DOSEL_51080.pdf Accessed on 24/8/2020

MATERNITY BENEFIT ACT, 1961/https://clc.gov.in/clc/acts-rules/maternity-benefit-act/ Accessed on 24/8/2020

The Maternity Benefit Act, 1961/https://labour.gov.in/sites/default/files/TheMaternityBenefitAct1961.pdf/ Accessed on 24/8/2020

Valuing Pregnancy: A Matter of Legal Protection/https://indiacode.nic.in/handle/123456789/1681?sam_handle=123456789/1362/ Accessed on 24/8/2020

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/08/2020 को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड