home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

अपनी कुछ आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें, नहीं तो पड़ सकता है पछताना

अपनी कुछ आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें, नहीं तो पड़ सकता है पछताना

किसी भी महिला के जीवन कई सारे बदलाव आते हैं। अब चाहे शादी के पहले वर्किंग होना और शादी के बाद घर और परिवार की बढ़ती जिम्मेदारी की वजह से हॉउस वाइफ (House wife) बन जाना। ऐसे ही कई बदलाव हैं, जो महिलाएं मां बनने के बाद खुद के लिए करना छोड़ देती हैं। कुछ महिला अपनी सेहत (Health) के प्रति लापरवाह हो जाती हैं, तो कुछ फिर से अपने काम पर नहीं लौट पाती हैं। हालांकि अपनी आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें। यह हमेशा ध्यान रखें की अपनी अच्छी आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें। यह आपके, शिशु और परिवार के लिए भी लाभकारी होगा।

हैलो स्वास्थ्य की टीम ने आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें या महिलाएं अक्सर अपनी कई बातों को नजरअंदाज कर देती हैं इससे जुड़े सवालों और उनके जवाब जानने चाहे।

इस कड़ी में सबसे पहले हमने बात की मुंबई की रहने वाली 31 वर्षीय शिखा शर्मा से, तो शिखा कहती हैं कि ” उनकी बेटी दो साल की हो चुकी हैं और अब उसे ब्रेस्टफीडिंग (Breastfeeding) की ज्यादा जरूरत भी नहीं पड़ती है। हालांकि इन सब के बीच मैं थोड़ी लेजी रहने लगी हूं और आपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह बनने लगी थी। फिर मैंने हेल्थ काउंसलर से संपर्क किया। उन्होंने मुझे सेहत का साथ बिलकुल भी लापरवाही न बरतने की सलाह दी। उन्होंने मुझे समझया जिस तरह से प्रेग्नेंसी में खुश रहने का सकारात्मक असर आपकी सेहत और बच्चे पर पड़ता था ठीक वैसे ही शिशु के जन्म (Babies birth) के बाद भी जरूरी है। मैंने फिर से अपने ओर ध्यान देना शुरू किया। मैंने नियमित वर्कआउट शुरू की और पौष्टिक आहार (Healthy food) का सेवन शुरू कर दिया। अपनी बेटी की देखभाल के साथ-साथ मैं अब अपना भी ध्यान रखने लगी हूं। इसलिए अच्छी आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें में ही भलाई है।

और पढ़ें : डायस्टैसिस रेक्टी : क्या है और कैसे लगाएं इसका पता?

मां की अच्छी आदतें : वर्किंग हैं तो न छोड़े जॉब (Don’t leave job)

मुंबई के बांद्रा में रहने वाली 35 वर्ष सपना तनेजा से जब हमने आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें इससे जुड़े सवाल किये तो मिसेज तनेजा कहती हैं कि “प्रेग्नेंसी के पहले मैं एक प्राइवेट सॉफ्टवेयर कपनी में बतौर इंजीनियर वर्किंग थीं, लेकिन मेरे बेटे के जन्म के बाद मुझे कोई शारीरिक परेशानी नहीं था और न ही मुझे सिजेरियन डिलिवरी (C-section) हुई। सबकुछ नॉर्मल होने के बावजूद भी मैं काफी तनाव में रहने लगी की बेटे की देखभाल ठीक से करूंगी और इसके बदले उन्हें अगर कुछ भी करना पड़े तो भी। ऐसी विचारधारा मन में होने पर मैंने मन ही मन निर्णय ले लिया की मैं जॉब पर दुबारा नहीं लौटूंगी। बेटे के 7 महीने के होने के बाद एक से दो महीने का वक्त तो मैंने अपने आपको व्यस्त रख लेती थी लेकिन, मैं धीरे-धीरे डिप्रेशन (Depression) में रहने लगी थी। फिर मैंने किसी तरह से हिम्मत जुटाई और अपने आपको और बेटे को संभालने के साथ-साथ फिर से अपने ऑफिस को जॉइन किया।

मेरा बेटा अभी तीन साल का है और हमसभी लाइफ को अच्छे से एन्जॉय करते हैं। इसलिए मेरे अनुसार आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें, अगर आप वर्किंग (Working) थीं तो फिर से अपने काम पर जरूर लौटें। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार शिशु के जन्म के 3 से 5 दिनों के बाद महिला अपने आपको असहाय, चिंतित, चिड़चिड़ी या परेशानी महसूस करती हैं। ऐसी स्थिति में मां को बेबी ब्लूज की समस्या हो सकती है। एक रिसर्च के अनुसार एशियाई देशों में प्रसवोत्तर अवसाद (Postpartum depression) की दर नई बनी माओं में 65 प्रतिशत या इससे ज्यादा भी हो सकती है। रिपोर्ट के अनुसार लगभग 70-80 प्रतिशत न्यू मॉम को शिशु के जन्म के चार-पांच दिनों के बाद कुछ नकारात्मक भावनाओं का सामना करना पड़ता है। चाइल्ड बर्थ (Childbirth) के पहले सप्ताह के दौरान लगभग 80 प्रतिशत तक महिलाओं में ‘बेबी ब्लूज’ की समस्या देखने को मिल सकती है।

[mc4wp_form id=”183492″]

आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें : हॉबी को करें एंजॉय (Enjoy your hobby)

आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें जब इसी सवाल का जवाब हमने 26 साल की प्रिया शुक्ल से जानना चाहा तो प्रिया कहती हैं कि “जब मैं 20 साल की थी तो मेरी शादी हो गई और 21 साल की उम्र में माँ बन गई। शादी से पहले मैं पार्ट टाइम जॉब करती थी और पढ़ाई भी कर रही थी। इसके साथ ही मैं डांस भी सीखती थीं। मेरे पिताजी नहीं हैं और अपने घर में बड़ी होने की वजह से टेंशन भी रहती थी। ऐसे में डांस मेरे लिए किसी स्ट्रेस बस्टर से कम नहीं था। गर्भधारण के बाद भी मैं गर्भावस्था में डांस क्लास (Dance class during pregnancy) जॉइन करना चाहती थी लेकिन, कर नहीं पाई।

बेबी के होने के बाद जिम्मेदारी और बढ़ गई तो डांस कर पाना संभव नहीं हो रहा था। लेकिन, कुछ समय के बाद मैंने डांस क्लास जॉइन किया और अब तो मैं घर पर बच्चों को डांस सिखाती भी हूं। मेरा ऐसा मानना है की डिलिवरी की बाद कम से कम 5 या 6 महीने तक किसी एक्टिविटी में पार्टिसिपेट किया जा सकता है। इसलिए अपनी आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें। अब तो मैं और मेरी बेटी दोनों एक साथ डांस भी करते हैं।”

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के बाद भी स्लिम दिखने वाली करीना के फिगर का राज

आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें : मेल मिलाप भी है जरूरी

कई महिलाएं ऐसी होती हैं, जो लोगों या दोस्तों से मिलना जुलना बेहद पसंद करती हैं। लेकिन, मां बनने के बाद वह अपनी सोशल लाइफ को दरकिनार कर देती हैं। बिहार की रहने वाली 41 वर्षीय रीना सिन्हा कहती हैं कि “जब मेरा बेटा पैदा हुआ तो मैं जरूरत से ज्यादा अपने बेटे में व्यस्त रहने लगी थीं। लोगों से मिलना-जुलना मेरे लिए किसी जमाने की बात हुआ करती थी। लेकिन, जैसे-जैसे मेरा बेटा बड़ा हुआ मुझे ऐसा लगा की मुझे भी उसे थोड़ा स्पेस देना चाहिए। उसकी उम्र 14 साल है और अब उस पर कोई भी दवाब डालना या उसकी रूटीन की चीजें मैं करती रहूं यह ठीक नहीं था। इसलिए मैंने उसे आत्मनिर्भर (Independent) बनाना शुरू किया और मैं भी एक बार फिर से अपने दोस्तों के साथ वक्त साझा करने लगी।

ऐसा मैंने देर से करना शुरू किया लेकिन, किसी भी मां को अगर परिवार को खुश रखना है, तो सबसे पहले अपने आपको खुश (Happy) रखें। मेरे लिए सोशल लाइफ बेहद जरूरी थी।” ऐसा रीना का मानना है लेकिन, सोशल आप सिर्फ अपने दोस्तों के साथ ही नहीं बने रह सकती हैं। आप अपनी सोसाइइटी के लोगों से मिल सकती हैं या परिवार के सदस्यों से मिल सकती हैं।

अगर आप अपनी आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें तो यह आपके खुद के लिए और परिवार दोनों के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। इसलिए सिर्फ निम्नलिखित 4 आदतों को आप अपना सकती हैं। जैसे:-

  1. सेहत (Health) का रखें ध्यान
  2. जॉब (Job) न छोड़ें
  3. डांस (Dance) या कोई अन्य शौक न छोड़ें
  4. सोशल बने रहें (Be Social)

इन ऊपर बताई गई आदतों के अलावा अगर आप किसी और तरह की एक्टिविटी पसंद करती हैं, तो उसे फॉलो करते रहें और हेल्दी रहें।

और पढ़ें: डिलिवरी के वक्त दाई (Doula) के रहने से होते हैं 7 फायदे

अगर आप आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें और अपने अच्छी आदतों को कैसे बनाए रखें इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहती हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Everything You Need to Know About Postpartum Depression/ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/20819960Accessed on 17/04/2020

Dancing through pregnancy: activity guidelines for professional and recreational dancers/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/19618574/Accessed on 17/04/2020

Healthy Mothers Healthy Babies: awareness and perceptions of existing breastfeeding and postpartum depression support among parents and perinatal health care providers in Hawai’i./https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/25821653/Accessed on 17/04/2020

Breast-feeding nutrition: Tips for moms/https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/infant-and-toddler-health/in-depth/breastfeeding-nutrition/art-20046912/Accessed on 17/04/2020

HealthyMothersmy.clevelandclinic.org/health/diseases_conditions/hic_Depression/hic_Treatment_Options_for_Depression/hic_Depression_Medicines/Accessed on 17/04/2020

 

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड