आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

डिलिवरी के बाद जल्दी होना चाहती हैं फिट? इन बातों का रखें ख्याल

डिलिवरी के बाद जल्दी होना चाहती हैं फिट? इन बातों का रखें ख्याल

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को रात भर ठीक से नींद नहीं आती। ऐसा अक्सर तीसरी तिमाही के दौरान होता है। वहीं बाॅडी पेन की समस्या, लेबर के दौरान असहनीय दर्द और फिर बच्चे का जन्म। इन सभी के बीच महिला शारीरिक और मानसिक रूप से बहुत थक जाती हैं। बच्चे के जन्म के बाद उसकी जिम्मेदारी अधिक बढ़ जाती है। इसलिए प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस (Fitness after pregnancy) बहुत जरूरी है। ऐसे में डिलिवरी के बाद (Post delivery) उसे खास केयर की जरूरत होती है।

डिलिवरी के बाद करीब 40 दिनों तक महिला को स्पेशल केयर की आवश्यकता होती है, ताकि वो शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो सके और अपने बच्चे को भी ठीक तरह से संभाल सके। केयर के दौरान महिला की इम्यूनिटी बढ़ने (Immune boosting) के साथ ही घाव जल्दी ठीक हो जाते हैं और मिल्क के प्रोडक्शन में भी बढ़त होती है।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस को बेहतर बनाने के लिए अपनाएं ये बातें (Post Pregnancy fitness tips)

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस (Fitness after pregnancy)

प्रेग्नेंसी के बाद अगर आप फिट होना चाहती हैं, तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। बच्चे के जन्म के बाद आपको बहुत सारे आराम के साथ ही मानसिक रूप से खुश रहने की भी जरूरत है। प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस (Fitness after Pregnancy) के लिए कुछ बातों को आप जरूर ध्यान रखें, ये आपके साथ ही होने वाले बच्चे के लिए भी फायदेमंद रहेगा।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: करीबी लोगों का साथ है जरूरी

कहते हैं कि जब बच्चा परेशान होता है, तो अपनी मां को याद करता है। ये बात होने वाली मां पर भी लागू होती है। जब कोई महिला पहली बार मां बनती हैं, तो उसका अटेचमेंट अपनी मां के साथ दोगुना ज्यादा बढ़ जाता है। अगर आप डिलिवरी (Delivery) के बाद अपनी मां के साथ रहेंगी तो आपको बहुत अच्छा महसूस होगा। यकीन मानिए, आपको दर्द का एहसास कम होगा और आप जल्द ही इंप्रूव करेंगी।

और पढ़ें : जानिए क्या है प्रीटर्म डिलिवरी? क्या हैं इसके कारण?

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: मसालेदार फूड को करें अवॉयड

डिलिवरी के बाद मां को शरीर की कमजोरी दूर करनी होती है, साथ ही उसे ऐसा खानपान चाहिए होता है, जिससे मिल्क प्रोडक्शन हो सके। प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस (Fitness after Pregnancy) के लिए जरूरी है कि आप हेल्दी फूड लें। नॉर्मल डिलिवरी (Normal Delivery) के बाद डॉक्टर किसी भी चीज का परहेज नहीं बताते, लेकिन सी-सेक्शन (C-section) के बाद कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है। टांके लगे होने के कारण डॉक्टर बिना मसाले के सिंपल फूड की सलाह देते हैं। आपको क्या खाना है या फिर क्या इग्नोर करना है? इसके बारे में अपने डॉक्टर से जरूर पूछें।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: डिलिवरी के बाद जरूर लें मसाज

डिलिवरी के बाद शरीर के लिए मसाज बहुत जरूरी होती है। अगर आपकी नॉर्मल डिलिवरी हुई है, तो आप पांच से छह दिन के अंदर मसाज लेना शुरू कर सकती हैं। नॉर्मल डिलिवरी (Normal Delivery) के बाद महिलाओं को शरीर के नीचे हिस्से में बहुत कमजोरी महसूस होती है। मसाज होने के बाद आपको रिलेक्स फील होगा। भारतीय परंपरा के अनुसार डिलिवरी के बाद मां और होने वाले बच्चे को 15 दिन से लेकर एक महीने तक मसाज (Massage) करवाने की सलाह दी जाती है। मसाज शरीर में एनर्जी लेवल को बराबर रखती है।

और पढ़ें : डिलिवरी के बाद बॉडी को शेप में लाने के लिए महिलाएं करती हैं ये गलतियां

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: गुनगुने पानी से करें स्नान

गुनगुने पानी से स्नान करने के बाद आपको रिलेक्स फील होगा। प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस के लिए जरूरी है कि आपके घाव जल्द भरे। अगर आपकी नॉर्मल डिलिवरी (Normal Delivery) हुई है, तो वजायना के पास स्टिचिस लगे होंगे। डॉक्टर आपको बीटाडाइन से घाव को धोने के लिए कहेगा। बीटाडाइन एंटीसेप्टिक होता है, जिससे घाव जल्दी भरते हैं। आप गुनगुने पानी से भरे टब में बीटाडाइन डालें और उसमें कुछ देर बैठ जाएं। इससे आपकी बॉडी रिलेक्स होगी और आप खुद को फिट महसूस करेंगी।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: सपोर्टिंग ब्रा जरूर पहनें

डिलिवरी के बाद महिलाएं कपड़ों को लेकर अक्सर लापरवाही करती हैं। डिलिवरी के बाद आरामदायक कपड़े पहनना बहुत जरूरी है। अगर आपका सी-सेक्शन (C-section) हुआ है तो ऐसे कपड़ों का चुनाव करें जो आगे खुले हुए हो। घाव में कपड़ें से चोट भी लग सकती है। इसलिए कपड़े चुनते समय इन बातों का ध्यान रखें। साथ ही जब सपोर्टिंग ब्रा जरूर पहनें क्योंकि ये ब्रेस्ट को ढीला होने से बचाने का काम करती है। कुछ महिलाएं ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान समस्या न हो, इसलिए ब्रा नहीं पहनती है। आप चाहे तो फीडिंग ब्रा (Feeding Bra) का चुनाव कर सकती हैं।

और पढ़ें : डिलिवरी के वक्त दिया जाता एपिड्यूरल एनेस्थिसिया, जानें क्या हो सकते हैं इसके साइड इफेक्ट्स?

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: बेबी के साथ लें चैन की नींद

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस (Fitness after Pregnancy) के लिए नींद (Sleep) का पूरा होना बहुत जरूरी है। डिलिवरी के बाद चैन की नींद के बारे में सोचना थोड़ा कठिन लग सकता है, लेकिन आप अगर शेड्यूल प्लान करें, तो ये भी संभव है। बच्चा एक से दो घंटे के अंतराल में रोता है और फिर दूध पीकर सो जाता है। जब भी आप बच्चे को सुलाएं, उसके साथ कुछ घंटे की नींद लेती रहे। ऐसा करने से नींद भी पूरी होगी। इस दौरान मोबाइल और लैपटॉप से दूरी बनाकर रखना आपकी सेहत के लिए अच्छा रहेगा।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: अभी न सोचें सेक्स के बारे में

डिलिवरी के बाद शरीर में विभिन्न प्रकार के बदलाव आते हैं। प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस पाने के लिए थोड़ा समय लग सकता है। ऐसे में हो सकता है कि आप डिलिवरी के एक महीने बाद सेक्स (Sex) के बारे में सोच रही हो। ऐसा न सोचें क्योंकि नॉर्मल या सी-सेक्शन डिलिवरी के करीब दो से तीन महीने बाद शरीर अपनी पुरानी अवस्था में आता है। आप इस बारे में डॉक्टर से पूछेंगे तो बेहतर रहेगा। डिलवरी के तीन महीने बाद आप इंटरकोर्स (Intercourse) कर सकती हैं । साथ ही दूसरे बच्चे में कम से कम तीन साल का अंतर रखने के लिए गर्भनिरोधक का इस्तेमाल जरूर करें।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान योग और व्यायाम किस हद तक है सही, जानें यहां

[mc4wp_form id=”183492″]

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: वॉक करें

वॉक (Walk) हमारे शरीर के लिए कितना फायदेमंद होता है, ये हम सभी को पता है। ये न्यू मॉम के लिए बहुत जरूरी है। डिलीवरी के बाद महिलाओ को कठिन व्यायाम के लिए डॉक्टर द्वारा मना किया जाता है। लेकिन वॉक एक ऐसी एक्टिविटी है, जिसके लिए डॉक्टर मना नहीं करते हैं। लेकिन महिलाओ को लंबा व्यायाम करने की जगह थोड़ी देर रूक-रूक कर वॉक जरूर करनी चाहिए। इससे महिलाएं फिट रहेंगी और अपना वेट लॉस भी आसानी से जल्दी कर पाएंगी। इससे आपको तनाव (Tension) से भी राहत मिलती है और साथ ही महिला के शरीर में ऊर्जा की भी वृद्धि होगी।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: तनाव कम करें

डिलीवरी के बाद न्यू मॉम पर जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं, जिसके कारण उनमें तनाव (Tension) भी बढ़ जाता है। शिुश की देखभाल के साथ माॅम को अपने ऊपर ध्यान देना जरूरी है। यदि आप डिलीवरी के बाद फिटनेस चाहती हैं, तो आपको तनाव से दूर रहना जरूरी है। क्योंकि तनाव रक्त (Blood) में होने वाले कार्टिसोल (Cortisol Hormone) नामक हॉर्मोन की वृद्धि करता है, जिसके कारण आपका वजन बढ़ (Weight gain) सकता है। इसका असर मां और बच्चे दोनों पर पड़ता है। तनाव के कारण मां में उदासी और चिड़चिड़ापन भी बढ़ने लगता है। इसलिए इससे बचने की कोशिश करें।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: संतुलित आहार लें

बच्चे के जन्म के बाद मां का शरीर काफी कमजोर हो जाता है। मां और बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य के लिए मां का संतुलित आहार लेना बहुत जरूरी है। मां को चाहिए कि वो अपनी डायट में हरी सब्जियां, साबुत अनाज, फल और प्रोटीन युक्त फूड लें। इस दौरान खूब पानी पिएं। वहीं स्‍तनपान (Breastfeeding) करवाने वाली महिलाओं को दूध, फल और ड्राय फ्रूट को भी लेना चाहिए।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस: व्‍यायाम करें

न्यू मॉम को अपनी फिटनेस पर बहुत ध्यान देने की जरूरत होती है। यदि वो शुरूआत में ध्यान नहीं देंगे तो बहुत सी मुश्किलें आ सकती हैं। फिट रहने के लिए आप अपने डॉक्‍टर की सलाह पर एक्‍सरसाइज शुरू कर सकती हैं, लेकिन ज्‍यादा कठिन व्‍यायाम (Workout) न करें। खासतौर पर उन्हें, जिनकी सर्जरी (C-section) हुई है। आप योगा करें तो ज्यादा अच्छा होगा। इससे मां का पूरा शरीर फिट रहेगा। अगर शुरूआत से ही किया जाए तो मां आसानी से अपने वेट को कम कर सकती हैं।

जिम्मेदारी उठाने के लिए रहें तैयार

अगर डिलिवरी के बाद कुछ बातों का ध्यान रखें तो जल्दी फिट हो सकती हैं। आपको अपने साथ ही अपने बच्चे की देखरेख भी करनी होती है। इसलिए पहले अपना ध्यान रखना जरूरी है। पूरी नींद (Sound sleep), हेल्दी खाना (Healthy food), मसाज (Massage) और बिना तनाव (Tension) के आप कुछ ही समय में पहले जैसी हो जाएंगी। इस समय को एंजॉय करने के लिए छोटी-छोटी बातों को ध्यान रखना बहुत जरूरी है। अब आपकी जिम्मेदारी बढ़ चुकी है। मां और बच्चे के स्वास्थ्य को लेकर लापरवाही नहीं होनी चाहिए।

प्रेग्नेंसी के बाद फिटनेस (Fitness after Pregnancy) के लिए आप अपने डॉक्टर से भी सलाह ले सकती हैं। महिलाओं की स्वास्थ्य स्थिति में अंतर हो सकता है। आपके स्वास्थ्य के अनुसार डॉक्टर सलाह देगा। डिलिवरी के बाद किन चीजों को इग्नोर करना है, ये भी डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/10/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड