क्या सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना भविष्य में मोटापे का कारण बन सकता है?

    क्या सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना भविष्य में मोटापे का कारण बन सकता है?

    सी-सेक्शन डिलिवरी में बिकिनी लाइन के ऊपर पेल्विस (Pelvis) पर चीरा लगाया जाता है। इस चीरे के माध्यम से ही बच्चे को गर्भाशय (Uterus) से बाहर निकाला जाता है। डिलिवरी की इस प्रक्रिया को पढ़कर आप डरे नहीं, सिजेरियन डिलिवरी (Cesarean delivery) कठिन विकल्प नहीं है, बस इसमें कुछ सावधानियां रखनी पड़ती है। महिलाएं सोचती हैं, कि सिजेरियन के बाद कई तरह की परेशानियों से दो चार होना पड़ेगा। कई महिलाएं सोचती हैं कि सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना एक बड़ी समस्या होती है, लेकिन कई मामलों में नॉर्मल डिलिवरी के बाद भी मोटापे और वजन बढ़ने की परेशानी आती है।

    यह भी पढ़ें- सी-सेक्शन से जुड़े मिथकों पर आप भी तो नहीं करते भरोसा?

    सी-सेक्शन में जोखिम और खतरे

    नॉर्मल डिलिवरी (Normal Delivery) के बाद महिला रिकवर जल्दी हो जाती है, लेकिन सिजेरियन डिलिवरी के बाद रिकवरी में थोड़ा अधिक समय लग सकता है।

    • सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना एक सामान्य बात है, अगर वजन बढ़ गया है तो इसे कम करने की कोशिशों के लिए इंतजार न करें, क्योंकि अगर आपने बढ़ते वजन पर लगाम न लगाई तो समय गुजरने के बाद मोटापा कम करने में बहुत मशक्कत करनी पड़ सकती है।
    • सिजेरियन के बाद ब्लीडिंग कई हफ्तों तक होती है, इसके लिए महिलाएं तैयार रहें। डॉक्टर से इस संबंध में बात कर लें ताकि ब्लीडिंग के दौरान क्या करना है, क्या नहीं है, उसका अनुसरण कर शरीर को नुकसान होने से बचा सकें।
    • सिजेरियन के बाद ब्रेस्ट में सूजन और दर्द हो सकता है।
    • स्किन ड्राई और बाल पतले हो सकते है।

    यह भी पढ़ें- सी-सेक्शन स्कार को दूर कर सकते हैं ये 5 घरेलू उपाय

    सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना और उसके कारण

    • सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ने का कारण दर्दनिवारक दवाइयां है। दर्द और जख्म को ठीक करने के लिए जो दवाई दी जाती है, उससे मोटापा बढ़ जाता है।
    • यदि सिजेरियन के बाद किसी स्थिति में महिला बच्चे को स्तनपान नहीं करवा पा रही है, तब भी महिला का वजन बढ़ जाता है।
    • सिजेरियन के बाद जब अस्पताल से छुट्टी हो जाती है तब निष्क्रिय होने से भी मोटापा बढ़ जाता है। इसलिए डॉक्टर से सलाह लेकर व्यायाम जरूर करें।
    • सिजेरियन के बाद शरीर में कमजोरी बहुत हो जाती है। इसलिए महिलाएं अधिक भोजन करती है और मोटापा बढ़ जाता है।
    • इन सभी कारणों से यदि मोटापा बढ़ रहा है तो जरूरी है कि ध्यान दिया जाएं, वरना मोटापा परेशानी की हद तक बढ़ सकता है, जिसे कम करने में मशक्कत करनी पड़ सकती है।

    यह भी पढ़ें- क्यों जरूरी है ब्रीच बेबी डिलिवरी के लिए सी-सेक्शन?

    सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना और उसे कम करने के उपाय

    सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना आम बात है ऐसे में मोटापा कम करने के लिए सबसे पहले आपको धैर्य रखना होगा। इसके अलावा इन उपायों को अपनाकर आप सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ने की समस्या से छुटकारा पा सकती हैं।

    • डॉक्टर से सलाह लेकर योगा शुरू करें, विशेष तौर पर प्राणायाम करें इससे पेट की मांसपेशियां मजबूत होगी।
    • कई महिलाएं वजन बढ़ने पर स्तनों की कसावट कम होने के डर से बच्चे को ब्रेस्टफीड कराना बंद कर देती है, लेकिन इससे मोटापा कम होने के बजाय बढ़ जाता है। मोटापा कम करने के लिए बच्चे को कम से कम छह महीने तक स्तनपान जरूर करवाएं।
    • पानी सही मात्रा में लें, कम पानी से शरीर में मोटापा कम होने की बजाय कमजोरी हो सकती है।
    • नींद संतुलित लें, इससे आप स्वस्थ रहेंगी और मोटापा कम करने में मदद मिलेगी।
    • पाचन क्रिया (Digestion) ठीक रखने के लिए फाइबर युक्त फल और सब्जियां खाएं।

    स्तनपान से वजन को घटा सकते हैं

    सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना तो लाजमी है, लेकिन सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना के बाद आप उसे स्तनपान करा कर भी वजन कम सकती हैं। आइए जानते हैं कि स्तनपान के द्वारा आप सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना कैसे रोक सकती है?

    स्तनपान कराने में महिला की अधिक कैलोरी बर्न होती है। द अमेरिकन कॉलेज ऑब्सेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट के अध्ययन के मुताबिक अगर मां हर दो घंटे पर स्तनपान कराती है तो उसका वजन काफी तेजी से कम होगा। क्योंकि एक बार स्तनपान कराने में लगभग 300-500 कैलोरी ऊर्जा खर्च होती है। ये उन मांओं के लिए ज्यादा कारगर साबित होगा जिनका सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना और उसके कारण समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

    पानी है हर समस्या का समाधान

    विशेषज्ञ पानी को हर मर्ज की दवा बताते है। आप जितना ज्यादा पानी पीएंगी सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना उतना असरदार नहीं होगा। वहीं, वजन ही तेजी से कम होगा। क्योंकि पानी आपके शरीर को हाइड्रेट रखेगा और उपापचयी क्रिया को सुचारु रूप से चलने देता है।

    टहलना वजन कम करने का सबसे आसान तरीका

    मां को डिलिवरी के बाद हर डॉक्टर टहलने की सलाह देते हैं। ऐसा करने से मां का वजन कुछ हद तक कम हो जाता है। नॉर्मल या सिजेरियन डिलिवरी के मामलों में महिलाओं को प्रसव के दिन बाद घर में कम से कम 10 मिनट तक टहलना चाहिए। टहलने से मां के पेट और जांघों में जमी चर्बी कम होती है। जिसके कम होने से वजन भी घट जाएगा।

    क्यों न थोड़ी एक्सरसाइज भी करें

    आप जितनी कैलोरी लेंगी अगर उसे बर्न नहीं करेंगी तो वजन का बढ़ना लाजमी है। ऐसी परेशानी से निपटने के लिए मात्र एक ही उपाय है। आप थोड़ा व्यायम करें। अगर आपकी नॉर्मल डिलीवरी हुई है तो आप हर तरह के व्यायाम कर सकती है। लेकिन, अगर आपको सिजेरियन डिलिवरी हुई है तो अपने डॉक्टर के परामर्श के बाद ही व्यायाम शुरू करें। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को आसान और बेसिक एक्सरसाइज करनी चाहिए। जिसमें जॉगिंग, वॉकिंग, स्वीमिंग, एरोबिक्स, साइकिलिंग आदि शामिल है। अपनी दिनचर्या में एक्सरसाइज शामिल करने से वजन कम हो जाएगा।

    सी-सेक्शन के बाद वजन बढ़ना भले ही साधारण सी बात लगे लेकिन अगर समय रहते इस बढ़ते वजन पर काबू नही पाया गया तो आगे और भी कई समस्याएं हो सकती है। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    sudhir Ginnore द्वारा लिखित · अपडेटेड 26/10/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement