home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

ब्रेस्ट संक्रमण (Breast infection) को ब्रेस्ट कैंसर तो नहीं समझ रहीं आप? जानें दोनों में अंतर

ब्रेस्ट संक्रमण (Breast infection) को ब्रेस्ट कैंसर तो नहीं समझ रहीं आप? जानें दोनों में अंतर

ब्रेस्ट कैंसर क्या है?

ब्रेस्ट में गांठ, स्किन में बदलाव, निप्पल के आकार में बदलाव, स्तन का सख्त होना, स्तन के आस-पास (अंडर आर्म्स) गांठ होना, निप्पल से रक्त या तरल पदार्थ का आना या स्तन में दर्द महसूस होना ब्रेस्ट कैंसर हो सकता है। ऐसा एल्कोहॉल या सिगरेट का सेवन करना, पहले गर्भ धारण में देरी होना, बच्चों को स्तनपान न करवाना, वजन अत्यधिक बढ़ना, बदलती लाइफस्टाइल, गर्भनिरोधक दवाईयों का सेवन करना या जेनेटिकल (परिवार में अगर किसी को ब्रेस्ट कैंसर हुआ हो) कारणों की वजह से भी कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।

25 से 30 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को खुद से ब्रेस्ट की जांच (Breast Self Examination) जरूर करनी चाहिए। हालांकि, कई मामलों में लोग ब्रेस्ट संक्रमण को ब्रेस्ट इंफेक्शन समझने की गलती कर देते हैं।

ब्रेस्ट इंफेक्शन क्या हैं?

ब्रेस्ट इंफेक्शन

ब्रेस्ट संक्रमण को मैस्टाइटिस (Mastitis) भी कहते हैं। ब्रेस्ट इंफेक्शन (स्तन संक्रमण) स्तनपान करवाने वाली महिलाओं या स्तनपान नहीं करवाने वाली महिलाओं में भी होता है। ब्रेस्ट संक्रमण स्तनपान करवाने वाली महिलाओं में नवजात के मुंह में मौजूद बैक्टीरिया के कारण होता है या फिर नवजात ठीक से दूध नहीं पी पाता है, जिसे लैक्टेशन मैस्टाइटिस कहते हैं। वहीं वैसी महिलाएं जो स्तनपान नहीं करवाती हैं उनमें इंफेक्शन क्यों होता है, इसपर अभी भी रिसर्च की जा रही है।

अमेरिकन कैंसर सोसायटी के अनुसार कभी-कभी निप्पल की त्वचा में दरार पड़ने की वजह से बैक्टीरिया स्टेफिलोकोकस ऑरियस (Staphylococcus aureus) ब्रेस्ट के अंदर चला जाता है जिससे मैस्टाइटिस हो जाता है।

और पढ़ें – Quiz : ब्रेस्ट पेन (Breast pain) को कम करने के लिए खेलें ब्रेस्ट पेन क्विज

ब्रेस्ट संक्रमण के लक्षण क्या हैं ?

मैस्टाइटिस के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं। इन लक्षणों में शामिल हैं:

  • स्तन (किसी-किसी जगह) का लाल होना और सूजन आना
  • लाल और सूजन वाली जगह छूने पर दर्द होना
  • तनाव और चिंतित रहना
  • बॉडी का ट्रेम्प्रेचर बढ़ना
  • थका हुआ महसूस करना
  • शरीर में दर्द महसूस होना
  • निप्पल से तरल पदार्थ का डिस्चार्ज होना
  • ब्रेस्ट में खुजली होना
  • मैस्टाइटिस एक साथ दोनों ब्रेस्ट में हो सकता है।
  • पुरुषों में मैस्टाइटिस होने की संभावना होता है लेकिन, ऐसा कम होता है।
  • मिल्क डक्ट के ब्लॉक होने के कारण मैस्टाइटिस होता है।

और पढ़ें – चीज खाते हैं तो हो जाएं सावधान, बढ़ सकता है ब्रेस्ट कैंसर का खतरा

ब्रेस्ट संक्रमण किन कारणों से हो सकता है?

  • बच्चे का ठीक से दूध नहीं पी पाना
  • फीड करवाने में देरी करना या जल्दी-जल्दी फीड करवाना
  • मिल्क डक्ट का ब्लॉक होना
  • बहुत ज्यादा दूध बनना
  • जुड़वा बच्चे को स्तनपान करवाना
  • निप्पल की त्वचा का क्रैक होना
  • अत्यधिक टाइट कपड़े (ब्रा) पहनना और कपड़े की क्वालिटी ठीक नहीं होना
  • इम्यून सिस्टम कमजोर होना
  • एनीमिया होना
  • आहार में अत्यधिक फैट और नमक का सेवन करना
  • बच्चे की डिलिवरी के वक्त परेशानी होना
  • महिला की उम्र 21 से 35 वर्ष होना
  • पहले कभी ब्रेस्ट संक्रमण हुआ हो
  • निप्पल पियर्सिंग करवाना
  • स्मोकिंग करना
  • स्वस्थ महिलाओं में ब्रेस्ट संक्रमण की संभावना कम होती है लेकिन, कभी-कभी पुरानी बीमारी, डायबिटीज या इम्यून सिस्टम कमजोर होने के कारण ब्रेस्ट संक्रमण की संभावना बढ़ सकती है।
  • मेनोपॉज के दौरान या बाद में भी ब्रेस्ट संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

और पढ़ें – ब्रेस्ट कैंसर पेशेंट का ख्याल रखते वक्त इन बातों को ना भूलें

ब्रेस्ट संक्रमण का इलाज कैसे होता है ?

  • एक्सपर्ट्स की मानें तो फीड करवाने वाली महिला को सही गैप पर बच्चे को फीड करवाना चाहिए। इसे मिल्क डक्ट कुछ वक्त के लिए खाली और ड्राय रहेगा।
  • इंफेक्शन को कम करने के लिए एंटीबायोटिक्स दी जाती है।
  • परेशानी कम नहीं होने पर डॉक्टर से फिर से संपर्क करना चाहिए।

ब्रेस्ट में हो रहे बदलाव को नजरअंदाज न करें और जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें।

अब जानें, स्तन कैंसर के लक्षण क्या हैं?

निम्नलिखत लक्षण स्तन कैंसर की ओर इशारा करते हैं:

  • स्तन में गांठ होना
  • स्तन के स्किन में बदलाव होना।
  • निप्पल के आकार में बदलाव होना।
  • स्तन का सख्त होना।
  • स्तन के आस-पास (अंडर आर्म्स) भी गांठ होना।
  • निप्पल से रक्त या तरल पदार्थ का आना।
  • स्तन में दर्द महसूस होना।

स्तन में गांठ की समस्या से भी महिलाएं परेशान रहती हैं और तनाव में आ जाती हैं। लेकिन, स्तन में होने वाले गांठ हमेशा कैंसर ही नहीं होता है।

और पढ़ें – लोब्यूलर ब्रेस्ट कैंसर (Lobular breast cancer) क्या है ?

स्तन कैंसर के कारण क्या हैं ?

निम्नलिखित कारणों से स्तन कैंसर हो सकता है –

  • एल्कोहॉल या सिगरेट का सेवन करना।
  • पहले गर्भ धारण में देरी होना।
  • बच्चों को स्तनपान न करवाना।
  • शरीर का वजन अत्यधिक बढ़ना।
  • बदलती लाइफस्टाइल।
  • गर्भनिरोधक दवाईयों का सेवन करना।
  • जेनेटिकल (परिवार में अगर किसी को ब्रेस्ट कैंसर हुआ हो) कारणों की वजह से भी कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।

ब्रेस्ट कैंसर का इलाज कैसे होता है?

  • सर्जरी- लम्पेक्टॉमी (Lumpectomy) और मस्टेक्टॉमी (Mastectomy) – ब्रेस्ट कैंसर का इलाज करने के लिए कई प्रकार की सर्जरी के विकल्प उपलब्ध हैं। सर्जरी आपके कैंसर की स्टेज पर निर्भर करती हैं। इसके साथ ही ज्यादातर सर्जरी में ट्यूमर को बाहर निकाल लिया जाता है।
  • रेडिएशन थेरिपी – हाई पावर बीम वाली लेजर से ब्रेस्ट कैंसर कोशिकाओं को खत्म कर दिया जाता है।
  • कीमोथेरिपी – इसकी मदद से कैंसर कोशिकाओं को नष्ट कर दिया जाता है। कुछ मामलों में इसका इस्तेमाल रेडिएशन थेरेपी के साथ भी किया जा सकता है।

और पढ़ें – ब्रेस्ट कैंसर से डरें नहीं, खुद को ऐसे मेंटली और इमोशनली संभाले

डॉक्टर के पास कब जाएं?

यदि आपको अपने स्तनों के आसपास गांठ, सूजन या चकत्ते नजर आते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। ऐसा स्तनपान करवाते समय या न करवाते समय भी हो सकता है। डॉक्टर से संपर्क करें, यदि –
  • आपके निपल में से असामान्य डिस्चार्ज होता है।
  • स्तन में दर्द के कारण रोजाना के कार्यों में समस्या आना।
  • लंबे समय से बिना किसी कारण ब्रेस्ट में पेन होना।
  • सूजन, जलन या लाल चकत्तों के कारण स्तनपान करवाने में दिक्कत आना। इस स्थिति में आपको स्तनपान करवाते समय स्तन पर गांठ महसूस हो सकती है जो कि बाद में अपने आप चली जाती है।

उम्मीद है कि ये आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। अब आप ब्रेस्ट कैंसर और ब्रेस्ट इंफेक्शन में अंतर को समझ गए होंगे। दोनों ही बातों का ध्यान रखना जरूरी है। अगर आपको ब्रेस्ट में कोई डिसकंफर्ट महसूस होता है तो उसे कैंसर ही न समझ लें साथ ही डिसकंफर्ट के लक्षणों को नजरअंदाज भी न करें क्योंकि यह ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण हो सकते हैं। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/10/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x