home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स कैसे ब्रेस्ट कैंसर को हराने में करते हैं मदद जानिए

ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स कैसे ब्रेस्ट कैंसर को हराने में करते हैं मदद जानिए

हॉर्मोन का निमार्ण ब्रेन का हिस्सा जिसे हायपोथेलामस (Hypothalamus) कहा जाता है उसके जरिए होता है। ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स (Luteinizing hormone-releasing hormones) पिट्यूटरी ग्लैंड से ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन (luteinizing hormone) (LH) और फॉलिकल स्टिम्यूलेटिंग हॉर्मोन (Follicle-stimulating hormone) (FSH) को प्रोड्यूस और सिक्रेट करने का कारण बनते हैं। पुरुषों में ये हॉर्मोन टेस्टिकल्स को टेस्टोस्टेरोन बनाने और महिलाओं में ओवरीज को ईस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन के बनाने के लिए स्टिम्यूलेट करने का कारण बनते हैं। ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स एनालॉग्स महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के मैनेजमेंट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ये हायपोथैलेमिक पिट्यूटरी पर काम करके ओवरीज के फंक्शन को रोकने का काम करते हैं। इसके साथ ही ये ल्यूटिनाइजिंग हॉर्मोन के लेवल को कम करते हैं।

ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स (Luteinizing hormone-releasing hormones) के बारे में क्या कहती है स्टडी

एनसीबीआई (NCBI) में छपी एक स्टडी के अनुसार प्रीमेनोपॉजल ब्रेस्ट कैंसर (Premenopausal breast cancer) के लिए ओविरयन फंक्शन सप्रेशन (Ovarian function suppression) का उपयोग सबसे पहले 19th सेंचुरी में किया गया था। परंपरागत रूप से ओवेरियन फंक्शन सप्रेशन अपरिवर्तनीय (Irreversibly) रूप से सर्जरी और रेडिएशन से पूरा किया गया था, लेकिन ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स के एनालॉग इस उद्देश्य के लिए एक विश्वनीय एजेंट के रूप में उभरे हैं। खासतौर पर एचएच-आरएच एगोनिस्ट्स (LH-RH agonists)। ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स (Luteinizing hormone-releasing hormones) एगोनिस्ट्स को प्रीमेनोपॉजल एडवांस्ड ब्रेस्ट कैंसर के लिए सर्जिकल ओफोरेक्टॉमी (Surgical oophorectomy) के समान प्रभावी माना गया है। ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स एगोनिस्ट्स के बारे में जानने से पहले ब्रेस्ट कैंसर के बारे में जान लेते हैं जिसके ट्रीटमेंट में इनका उपयोग किया जाता है।

और पढ़ें: CDK4/6 इन्हिबिटर्स : ब्रेस्ट कैंसर में इन दवाईयों के प्रयोग के बारे में जानें!

ब्रेस्ट कैंसर क्या है? (Breast Cancer)

ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स (Luteinizing hormone-releasing hormones)

ब्रेस्ट कैंसर एक बीमारी है जो ब्रेस्ट में मौजूद कोशिकाओं के असामान्य रूप से बढ़ने से होती है। ब्रेस्ट कैंसर के कई प्रकार हैं। ब्रेस्ट के अंदर मौजूद कोशिका के कैंसर में बदलने के आधार पर ब्रेस्ट कैंसर का प्रकार निर्भर करता है। ब्रेस्ट कैंसर ब्रेस्ट के विभिन्न हिस्सों में डेवलप हो सकता है। ब्रेस्ट के मुख्य रूप से तीन प्रमुख हिस्से होते हैं जिनमें लोब्यूल्स (Lobules), डक्ट्स (ducts) और कनेक्टिव टिशूज (Connective tissue) शामिल हैं। लोब्यूल्स ग्लैंड्स हैं जो मिल्क को प्रोड्यूस करती हैं। वही डक्ट ट्यूब होते हैं जो मिल्क को निप्पल तक ले जाते हैं और कनेक्टिव टिशूज सबको जोड़कर रखते हैं। ज्यादातर ब्रेस्ट कैंसर डक्ट्स और लोब्यूल्स में होते हैं।

ब्रेस्ट कैंसर ब्लड वेसल्स (Blood vessels) और लिम्फ वेसल्स (Lymph vessels) के जरिए ब्रेस्ट के बाहर तक फैल जाता है। जब ब्रेस्ट कैंसर बॉडी के दूसरे हिस्सों में फैल जाता है तो उसे मेटास्टासाइज्ड metastasized कहा जाता है।

ब्रेस्ट कैंसर के प्रकार (Types of Breast Cancer)

ब्रेस्ट कैंसर के सामान्य प्रकार निम्न हैं।

इनवेसिव डक्टल कार्सिनोमा (Invasive ductal carcinoma)

इस कैंसर में कैंसर सेल्स डक्ट के बाहर ब्रेस्ट टिशूज के किसी दूसरे हिस्से में ग्रो होती हैं। इनवेसिव कैंसर सेल्स बॉडी के दूसरे हिस्से में फैल सकती हैं।

इनवेसिव लोब्यूलर कार्सिनोमा (Invasive lobular carcinoma)

कैंसर सेल्स लोब्यूल्स से ब्रेस्ट टिशूज तक फैल सकती हैं। इनवेसिव कैंसर सेल्स शरीर के दूसरे हिस्से में फैल सकती हैं।

और पढ़ें: ब्रेस्ट कैंसर में कायनेज इन्हिबिटर्स के प्रयोग के बारे में क्या आप जानते हैं?

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण (Breast Cancer Symptoms)

महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के अलग लक्षण दिखाई देते हैं। वहीं कुछ महिलाओं में इसके लक्षण दिखाई ही नहीं देते। ब्रेस्ट कैंसर के सामान्य लक्षण निम्न हैं।

  • ब्रेस्ट या अंडरऑर्म के नीचे लंप का होना
  • ब्रेस्ट के किसी हिस्से पर सूजन
  • निप्पल या ब्रेस्ट के किसी हिस्से पर लालिमा
  • निप्पल एरिया में दर्द
  • ब्रेस्ट के साइज और शेप में बदलाव
  • ब्रेस्ट के किसी भी हिस्से में दर्द

एक बात याद रखें ये लक्षण किसी दूसरी मेडिकल कंडिशन के चलते भी दिखाई दे सकते हैं। इसलिए सही डायग्नोसिस के लिए डॉक्टर की मदद लें।

ब्रेस्ट कैंसर के बारे में अधिक जानने के लिए देखें ये 3डी मॉडल:

ब्रेस्ट कैंसर के इलाज के लिए ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स एनालॉग

ब्रेस्ट कैंसर के इलाज के लिए ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स (Luteinizing hormone-releasing hormones) एनालॉग का यूज किया जाता है। ये सिंथेटिक हॉर्मोन होते हैं। जिन्हें ड्रग के रूप में दिया जाता है। ऐसे ही एक ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स एनालॉग के बारे में हम आपको जानकारी देने जा रहे हैं।

और पढ़ें: अपने पॉजिटिव एटीट्यूड से हराया, स्टेज-4 ब्रेस्ट कैंसर को: ब्रेस्ट कैंसर सर्वाइवर, रूचि धवन

जोलाडेक्स (Zoladex)

जोलाडेक्स के अंदर गोसेरेलिन (Goserelin) पाया जाता है जो कि मेडिसिन के ग्रुप जिसे ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स एनालॉग (Luteinizing hormone-releasing hormones) कहा जाता है से संबंधित है। इस ड्रग का उपयोग महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के साथ ही, यूटेराइन फाइब्रॉइड्स, एंडोमेटरियोसिस के इलाज में होता है। वहीं पुरुषों में यह प्रोस्टेट कैंसर के इलाज में उपयोग किया जाता है। गोसेरेलिन लॉन्ग एक्टिंग जीएनआरएच एगोनिस्ट (GnRH agonist) है जिसे ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स एगोनिस्ट के रूप में क्लासीफाइड किया गया है।

एलएचआरएच (LHRH) एगोनिस्ट पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन के उत्पादन को रोककर काम करते हैं। यह हॉर्मोन टेस्टिकल को पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन छोड़ने के लिए उत्तेजित करता है और महिलाओं में एस्ट्रोजन को मुक्त करने के लिए ओवरी को उत्तेजित करता है। इस दवा का कैंसर पर सीधा प्रभाव नहीं पड़ता है बल्कि यह केवल टेस्टिकल या ओवरी पर कार्य करती है। टेस्टोस्टेरोन और ईस्ट्रोजन की कमी टेस्टोस्टेरोन या एस्ट्रोजन पर निर्भर कैंसर कोशिकाओं में कोशिका वृद्धि को स्टिम्यूलेट करने में इंटरफेयर करती है। प्रोस्टेट कैंसर के उपचार में जोलाडेक्स (ZOLADEX) का उपयोग अक्सर एंटी-एंड्रोजन दवाओं के साथ किया जाता है। एंटी-ए एंड्रोजन ऐसे पदार्थ हैं जो टेस्टोस्टेरोन के प्रभाव को रोकते हैं।

powered by Typeform

जोलाडेक्स (Zoladex) दवा कैसे काम करती है?

जोलाडेक्स (ZOLADEX) एक गोनाडोट्रोपिन-रिलीजिंग हॉर्मोन (GnRH) एनालॉग है। पुरुषों में यह शरीर द्वारा उत्पादित टेस्टोस्टेरोन (हॉर्मोन) की मात्रा को कम करके काम करता है। महिलाओं में यह ईस्ट्रोजन (हार्मोन) की मात्रा को कम करके काम करता है। एलआरएच (LHRH) एगोनिस्ट मस्तिष्क में स्थित पिट्यूटरी ग्रंथि को ल्यूटिनाइजिंग हॉर्मोन का उत्पादन बंद करने के लिए कहकर काम करते हैं।

ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स (Luteinizing hormone-releasing hormones) एनालॉग जोलाडेक्स का उपयोग करने से पहले ध्यान रखें ये बातें

जोलाडेक्स (ZOLADEX) दवा को लेने से पहले, अगर आपको लिवर, किडनी या दिल की बीमारी है, तो अपने डॉक्टर को इस बारे में बताएं। यह दवा बच्चों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं में उपयोग के लिए रिकमंडेड नहीं है। यह ड्रग इंजेक्शन के रूप में उपलब्ध है। डॉक्टर हर 28 दिन में दवा को पेट में लगाते हैं। इसकी ऑनलाइन कीमत 10 हजार रुपए प्रति बॉक्स है।

और पढ़ें: जानिए ब्रेस्ट कैंसर के बारे में 10 बुनियादी बातें, जो हर महिला को पता होनी चाहिए

ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स एनालॉग (Luteinizing hormone-releasing hormones) जोलाडेक्स के साइड इफेक्ट्स

इस दवा के कॉमन साइड इफेक्ट्स में हॉट फ्लशेज, सेक्स ड्राइव में कमी और हड्डियों का पतला होना, इंजेक्शन लगने वाली जगह पर दर्द, ब्लीडिंग, लालिमा, स्किन पर चकत्ते पड़ना, ब्रेस्ट पेन और सूजन, यूरिन पास करते वक्त दर्द होना, वजायना में ड्रायनेस, सिर में दर्द आदि शामिल हैं। अधिक परेशानी होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

नोट: यहां बताए गए ड्रग का उपयोग डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें। हमारा उद्देश्य किसी ब्रांड का प्रचार नहीं ब्लकि अपने पाठकों तक जानकारी पहुंचना है। यहां दी गई जानकारी को चिकित्सा का विकल्प ना मानें। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि आप जिस वेबसाइट से दवा खरीदते हैं उसकी कीमतों में यहां दी गई कीमतों से अंतर हो सकता है।

उम्मीद करते हैं कि आपको ल्यूटेनाइजिंग हॉर्मोन रिलीजिंग हॉर्मोन्स (Luteinizing hormone-releasing hormones) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Luteinizing hormone-releasing hormone analogues–the rationale for adjuvant use in premenopausal women with early breast cancer/
https://www.nature.com/articles/bjc1998754/ Accessed on 14th June 2021

Luteinizing hormone-releasing hormone agonists in premenopausal hormone receptor-positive breast cancer/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/17386122/Accessed on 14th June 2021

Breast cancer/https://www.cdc.gov/cancer/breast/basic_info/symptoms.htm/Accessed on 14th June 2021

Hormone (endocrine) therapy/https://breastcancernow.org/information-support/facing-breast-cancer/going-through-treatment-breast-cancer/hormone-therapy/Accessed on 14th June 2021

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 14/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड