लिवर के लिए घातक हो सकती हैं ये मेडिसिंस, लेने से पहले जरूर लें जानकारी

    लिवर के लिए घातक हो सकती हैं ये मेडिसिंस, लेने से पहले जरूर लें जानकारी

    जब भी हम किसी दवा का सेवन करते हैं, तो मन में बस ये ही ख्याल आता है कि दवा का सेवन करने के बाद बीमारी पूरी तरह से ठीक हो जाएगी। कम ही लोग होते हैं, जिन्हें ये जानकारी हो कि दवा का सेवन करने के बाद शरीर के अन्य अंग को नुकसान भी पहुंच सकता है। जी हां! ये बिल्कुल सच है कि दवाओं का सेवन जहां एक ओर शरीर को बीमारी से बचाने का काम करता है वहीं दूसरी ओर दवाओं का सेवन बड़ी परेशानी का कारण भी बन सकता है। मेडिकेशन लिवर इंज्युरी का कारण भी बन सकती है। लिवर किडनी की तरह नहीं होता है, जिसके खराब होने पर डायलिसिस प्रोसेस को अपना लिया जाए। अगर लिवर फेल हो जाए, तो कोई भी उपाय काम नहीं आता है। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि दवाओं के सेवन के कारण लिवर फेलियर की समस्या के कई मामलें दुनियाभर में हर साल आते हैं। करीब 900 से ज्यादा ड्रग्स हैं, जो लिवर डैमेज का कारण बन सकती है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको उन मेडिसिंस के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं, जो लिवर के लिए खतरनाक साबित हो सकती हैं।

    और पढ़ें : Liver diseases: अगर नहीं दिया इन बीमारियों के लक्षणों पर ध्यान, तो डैमेज हो सकता है लिवर

    लिवर के लिए खतरनाक दवाएं (Worst medications for your liver)

    शरीर में किसी भी तरह की बीमारी हो सकती है और उससे बचने के लिए दवाओं का सेवन बहुत जरूरी हो जाता है। कुए दवाएं ऐसी होती हैं, जिनका लंबे समय तक सेवन करना पड़ सकता है। कुछ बीमारियां लंबे ट्रीटमेंट के बाद ही खत्म होती हैं या फिर नियंत्रित हो पाती हैं। जानिए आखिर वो कौन-सी दवाइयां हैं, जो आपके लिवर को नुकसान पहुंचा सकती हैं।

    ऑटोइम्यून कंडिशन (Autoimmune conditions) की दवाएं हो सकती हैं खतरनाक

    लिवर के लिए खतरनाक दवाएं एक नहीं बल्कि अनेक हैं। अजैथोप्रीन (Azathioprine) मेडिसिन इम्यून सिस्टम को कंट्रोल करने का काम करती है। ये दवा ऑटोइम्यून कंडीशन जैसे क्रोहन रोग (Crohn’s disease) और ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस (Autoimmune hepatitis) के इलाज के लिए किया जाता है। अजैथियोप्रिन लेने के हफ्तों से महीनों के बाद, लिवर को नुकसान का खतरा बढ़ जाता है। अगर किसी व्यक्ति को ऑटोइम्यून कंडीशन है और वो काफी समय से इस दवा का इस्तेमाल कर रहा है, तो ऐसे में डॉक्टर से परामर्श जरूर करें और समय पर लिवर की जांच भी कराएं। अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

    और पढ़ें : लिवर फाइब्रोसिस (Liver Fibrosis) क्या है? जानिए इसके कारण और लक्षण

    रिस्पेरिडोन (Risperidone)

    रिस्पेरिडोन का इस्तेमाल (antipsychotics and antidepressants) एंटीसाइकोटिक्स और एंटीडिप्रेसेंट्स के रूप में किया जाता है। रिस्पेरिडोन का लंबे समय तक इस्तेमाल करने से बाइल गॉलब्लैडर तक नहीं पहुंच पाता है। लिवर की सहायता से बाइल का निर्माण होता है। बाइल लिवर से गॉलब्लैडर में स्टोरेज के लिए पहुंचता है। रिस्पेरिडोन का लंबे समय तक सेवन करने से बाइल लिवर से गॉलब्लैडर में नहीं पहुंच पाता है और लिवर में ही जमा होने लगता है। इस कंडीशन को ड्रग इंड्यूस्ड कोलेस्टेसिस (Drug-induced cholestasis) कहते हैं। अगर आप इस दवा का सेवन कर रहे हैं, तो डॉक्टर से इस बारे में सलाह जरूर लें। लिवर के लिए खतरनाक दवाएं खाने से पहले आपको सावधानी बरतनी चाहिए।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    आईएनएच थेरिपी (INH therapy)

    अगर आपको टीबी (TB) की समस्या है और आप तीन से छह महीने तक आईएनएच थेरिपी ले रहे हैं, तो ये आपकी सेहत के लिए बुरा साबित हो सकता है। आईएनएच थेरिपी ( Isoniazid) के दौरान लिवर इंज्युरी की संभावना बढ़ जाती है। अगर आपको टीबी की समस्या और आप मेडिसिंस ले रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से इस बारे में जानकारी जरूर प्राप्त करें। कई बार एहतियात भी आपको बड़ी समस्या से बचाने का काम कर सकते हैं।

    और पढ़ें : लिवर रोग का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

    कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवाएं (Cholesterol Lowering Medications)

    कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाली दवाएं भले ही शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने का काम करती हैं लेकिन ये लिवर के लिए नुकसानदायक हो सकती हैं। स्टैटिन (statins)का सेवन करने से लिवर को नुकसान पहुंचता है। दवा का कितना सेवन लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है, इस बारे में कहना मुश्किल है लेकिन दवाओं का लंबे समय तक सेवन लिवर को धीमे-धीमे नुकसान पहुंचाता है।

    लिवर के लिए खतरनाक दवाएं : एसिटामिनोफेन (Acetaminophen)

    आमतौर पर हल्के दर्द और बुखार के लिए एसिटामिनोफेन (Acetaminophen) का सेवन किया जाता है। अगर दवा का गलत तरीके से इस्तेमाल किया जाए या फिर दवा को अधिक मात्रा में लिया जाए, तो ये शरीर में साइडइफेक्ट पैदा कर सकती है। एफडीए (FDA) की सलाह के अनुसार एक वयस्क व्यक्ति को 3,000 मिलीग्राम से अधिक एसिटामिनोफेन नहीं लेना चाहिए। कुछ दवाओं के संयोजन में एसिटामिनोफेन का इस्तेमाल होता है। आपको ये बात ध्यान रखने की जरूरत है कि खांसी, सर्दी आदि कि दवाओं का सेवन अधिक मात्रा में न कर डॉक्टर से पूछने के बाद ही करें। लंबे समय तक इसका इस्तेमाल आपके लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है।

    और पढ़ें : World Liver Day: शरीर की इम्‍यूनिटी बढ़ाने के लिए अपने लिवर की हेल्थ पर दें ध्यान

    लिवर के लिए खतरनाक दवाएं : सोडियम वैल्प्रोएट (Sodium valproate)

    मिर्गी के रोगियों के इलाज के लिए डेपकोट का इस्तेमाल किया जाता है। जिन लोगों को बायपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) और माइग्रेन की बीमारी होती है, उनके लिए भी इस दवा की सलाह दी जाती है। ये दवा सीधे लिवर सेल्स पर अटैक करती है और स्टीटोसिस (steatosis) कंडीशन का कारण बनती है। अन्य एंटी सीजर्स ड्रग्स जैसे कि कार्बमेजपाइन (Carbamazepine) और फिनाइटोइन (phenytoin) भी लिवर को डैमेज करने का काम करती हैं।

    मेडिसिंस ले रहे हैं, तो इन बातों का रखें ध्यान

    अगर आपको कोई हेल्थ कंडीशन हैं और आप लगातार दवाओं का सेवन कर रहे हैं, तो आपको सावधान हो जाना चाहिए। अगर आप किसी दवा का लंबे समय तक सेवन कर रहे हैं, तो बेहतर होगा कि किसी तरह के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। लिवर हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है और इसकी सुरक्षा के लिए हमे हमेशा सतर्क रहना चाहिए। जो लोग अधिक मात्रा में शराब का सेवन करते हैं, उनका लिवर भी हमेशा खतरे में रहता है। अगर आपको दवाओं के सेवन के बाद पेट में दर्द, मतली, थकान, आंखों के सामने अंधेरा छा जाना, मूत्र, भूख न लगना, खुजली, पीली त्वचा या आंखों में पीलापन आदि लक्षण दिखे, तो डॉक्टर से जरूर सलाह लें। कुछ मेडिसिंस के कॉम्बिनेशन भी लिवर को नुकसान पहुंचाते हैं, आपको इस बारे में डॉक्टर से जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।

    जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि दवाओं का सेवन जरूरी होता है लेकिन दवाओं का लंबे समय तक सेवन आपको नुकसान भी पहुंचा सकता है। आप लिवर से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि आपको लिवर के लिए खतरनाक दवाएं क्या हो सकती हैं, इस बारे में जानकारी मिल गई होगी। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 15/04/2021

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement