ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst) से राहत दिलाएंगे ये 6 योगासन

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट October 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

ओवेरियन सिस्ट आजकल महिलाओं को होने वाली आम बीमारी है। ओवेरियन सिस्ट एक थैली होती है, जो महिला की ओवरी में बन जाती है। इस थैली में तरल पदार्थ होता है। एक अध्ययन के अनुसार 10 प्रतिशत महिलाएं ओवेरियन सिस्ट की परेशानी से पीड़ित हैं। सही समय पर इस रोग का पता लगने और सही इलाज से इस बीमारी से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है। यह समस्या दूर करने में आपका स्वस्थ लाइफस्टाइल, व्यायाम और अच्छा खानपान मदद कर सकता है। लेकिन योग भी इसे दूर करने में आपके लिए लाभदायक सिद्ध हो सकता है। ओवेरियन सिस्ट के लिए कौन-कौन से आसन किये जा सकते हैं, यह समझने से पहले ओवेरियन सिस्ट की समस्या क्यों होती है, यह जान लेते हैं। 

क्यों होती है ओवेरियन सिस्ट की समस्या?

ओवेरियन सिस्ट की परेशानी निम्नलिखित कारणों से हो सकती है। जैसे:

हॉर्मोनल बदलाव: हॉर्मोन में होने वाले बदलाव या वैसे दवाओं का सेवन जिसे आव्युलेशन आसानी से हो सके।

एंडोमेट्रोसिस: वैसी महिलाएं जिन्हें एन्ड्रोमेट्रोसिस की समस्या होती है, उन्हें ओवेरियन सिस्ट का खतरा ज्यादा रहता है।

प्रेग्नेंसी: प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों में ओवेरियन सिस्ट की समस्या हो सकती है। यही सिस्ट कभी-कभी बेबी डिलिवरी के बाद ये सिस्ट खुद से नहीं नहीं निकल पाते हैं, तो इसे रिमूव करवाना पड़ता है।

पेल्विक इंफेक्शन: अगर पेल्विक इंफेक्शन की समस्या ज्यादा होती है, तो ऐसी स्थिति में ओवेरियन सिस्ट का खतरा बढ़ जाता है।   

और पढ़ें : स्ट्रेस बस्टर के रूप में कार्य करता है उष्ट्रासन, जानें इसके फायदे और सावधानियां

ओवेरियन सिस्ट के आसन कौन-कौन से हैं?

ओवेरियन सिस्ट के आसन 1. भुजंगासन

ओवेरियन सिस्ट के आसन-Yoga for ovarian cyst

इस आसन का नाम भुजंग+आसन से मिलकर बनता है। यहां भुजंग का अर्थ है सांप। भुजंगासन में शरीर की मुद्रा सांप की तरह लगती है। इसलिए, इसका नाम ऐसा पड़ा। इस आसन को करने से चिंता से मुक्ति मिलती है और साथ ही शरीर में रक्त संचार सही से होता है। जिसका प्रभाव ओवेरियन सिस्ट जैसी परेशानी पर भी पड़ता है।

और पढ़ें: मशहूर योगा एक्सपर्ट्स से जाने कैसे होगा योग से स्ट्रेस रिलीफ और पायेंगे खुशी का रास्ता

कैसे करें ओवेरियन सिस्ट के आसन में शामिल भुजंगासन?

  • इस आसन को करने के लिए किसी शांत जगह का चुनाव करें।
  • अब एक मैट पर पेट के बल लेट जाएं।
  • आपके दोनों पैर और इनकी एड़ियां आपस में टच करनी चाहिए।
  • अब अपनी चिन को जमीन से लगाएं। 
  • अपनी हाथों को जमीन पर रखें और सांस लेते हुए अपने शरीर के आगे के भाग को ऊपर उठाएं।
  • आपकी छाती और सिर दोनों ऊपर होने चाहिए। 
  • सहारे के लिए अपने हाथों का सहारा लें।
  • अब अपने कंधों को नीचे रखें और आराम करें।
  • आराम की स्थिति में आते हुए आप अपनी कोहनियों को मोड़ सकते है।
  • इस मुद्रा में जितना अधिक हो सके उतनी देर रहें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

ओवेरियन सिस्ट के आसन 2. अनुलोम विलोम प्राणायाम

ओवेरियन सिस्ट के आसन-Yoga for ovarian cyst
नियमित करें अनुलोम विलोम प्राणायाम

ओवेरियन सिस्ट को दूर करने वाले योगासन में एक है अनुलोम विलोम। अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से दिमाग तक खून का प्रवाह अच्छे से होता है, जिससे हार्मोंस के संतुलन में भी मदद मिलती है। इससे ओवेरियन सिस्ट की समस्या को दूर करने में मदद मिल सकती है। यही नहीं, शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए भी यह योगासन सहायक है। 

कैसे करें ओवेरियन सिस्ट के आसन में शामिल अनुलोम विलोम?

  • इस प्राणायाम को करने के लिए किसी शांत जगह पर मैट बिछा कर उस पर बैठ जाएं।
  • अपनी आंखों को बंद करें और पीठ को सीधा रखें।
  • इसके बाद अपने बाएं हाथ के अंगूठे से अपने नाक के बाएं छिद्र को बंद करे और दूसरे छिद्र से गहरी सांस लें।
  • अब दाएं छिद्र को उंगलियों से बंद कर लें और धीरे -धीरे सांस छोड़ दें।
  • इसके बाद दाएं हाथ के अंगूठे से अपने नाक के दाहिने छिद्र को बंद करें और बाएं छिद्र से सांस लें।
  • अब बाएं छिद्र को अपनी उंगलियों से बंद कर लें और सांस धीरे-धीरे बाहर छोड़ दें।
  • इस आसन को बार-बार दोहराएं।

और पढ़ें : ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के साथ जानुशीर्षासन के और अनजाने फायदें और करने का सही तरीका जानिए

ओवेरियन सिस्ट के आसन3. बटरफ्लाई पोज (तितली आसन)

ओवेरियन सिस्ट के आसन-Yoga for ovarian cyst
बटरफ्लाई पोज से ओवेरियन सिस्ट को दें मात

जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है इस आसन में पूर्ण मुद्रा तितली की तरह लगती है। इसलिए, इसका नाम ऐसा पड़ा। यह आसन बहुत ही आसान है और कूल्हों को खोलने में मदद करता है। इसके साथ ही यह जांघों के लिए बेहतरीन आसान है, जिससे स्ट्रेस भी दूर होता है

कैसे करें ओवेरियन सिस्ट के आसन में शामिल अनुलोम विलोम बटरफ्लाई पोज? 

  • तितली आसन को करने में किसी शांत जगह पर मैट बिछा कर सीधे हो कर बैठ जाएं।
  • अपने पैरों को अपने सामने कर के इनके तलवों को आपस में मिला लें।
  • अब अपने पैरों को हाथों से पकड़ लें।
  • अपने पैरों को अपने शरीर के पास रखें।
  • गहरी सांस लें और छोड़ें।
  • इसके बाद अपनी टांगों को हिलाना शुरू करें।
  • यह ऐसा होना चाहिए जैसे तितली अपने पंख फड़फड़ाती है।
  • जितनी तेजी से हो सके अपनी टांगों को हिलाते रहें।
  • कुछ देर इसे करने के बाद अपनी सामान्य मुद्रा में वापस आ जाएं।

और पढ़ें : नॉर्मल डिलिवरी में मदद कर सकते हैं ये 4 आसान योगासन

ओवेरियन सिस्ट के आसन 4. योनि मुद्रा

ओवेरियन सिस्ट के आसन-Yoga for ovarian cyst
योनि मुद्रा से दूर होगी ओवेरियन सिस्ट

योनि मुद्रा में योनि का अर्थ है गर्भाशय या गर्भ। इसका नाम ऐसा इसलिए है, क्योंकि इस आसन को करने वाले का बाहरी दुनिया से कोई संपर्क नहीं रहता। ऐसा होना वैसा ही है जैसे एक बच्चा गर्भाशय में होता है। ओवेरियन सिस्ट को दूर करने वाले योगासन में से यह दिमागी शांति के लिए बहुत उपयोगी है।

कैसे करें ओवेरियन सिस्ट के आसन में शामिल योनि मुद्रा? 

  • इस आसान को करने के लिए किसी शांत जगह पर मैट पर आराम से बैठ जाएं।
  • अब अपनी दोनों कनिष्ठा उंगलियों को आपस में मिला लें। साथ ही अपने अंगूठे भी मिला लें।
  • इसके बाद कनिष्ठा उंगलियों के नीचे की दोनों मध्यमा अंगुलियों मिला लें।
  • ध्यान रहे मध्यमा उंगलियों के नीचे अनामिका अंगुलियों को एक-दूसरे के उल्टी दिशा में रखें और उनके नाखुनों को तर्जनी उंगली के प्रथम पोर से दबाएं।
  • इस मुद्रा को आप किसी भी जगह कर सकते हैं।

और पढ़ें : जानिए किस तरह व्यायाम डालता है पाचन तंत्र पर असर

ओवेरियन सिस्ट के आसन 5. पवनमुक्तासन

ओवेरियन सिस्ट के आसन-Yoga for ovarian cyst
पवनमुक्तासन से करें ओवेरियन सिस्ट का निवारण

पवनमुक्तासन आसन को करने से पेट की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। यही नहीं, शरीर की अन्य समस्याओं को दूर करने में भी यह प्रभावी है। ओवेरियन सिस्ट को दूर करने वाले योगासन में पवनमुक्तासन भी लाभदायक है।

कैसे करें ओवेरियन सिस्ट के आसन में शामिल पवनमुक्तासन? 

  • इस आसान को करने के लिए जमीन पर पीठ के बल आराम से लेट जाएं।
  • सांस लेते हुए अपने घुटनों को मोड़ें और अपने पेट के पास ले आएं।
  • अपनी सांस छोड़ें और अपने दोनों हाथों की उंगलियों को आपस में फंसा लें।
  • घुटनों को नीचे रखें।
  • इसके बाद हाथों की मदद से बाएं घुटने से सीने को छूने का प्रयास करें।
  • अब अपना सिर ऊपर करें और अपने घुटने से अपने नाक को छूने की कोशिश करें।
  • कुछ देर इसी अवस्था में रहें।
  • इसके बाद दूसरे घुटने से इस आसान को दोहराएं।

और पढ़ें : रीढ़ की हड्डी के लिए फायदेमंद ऊर्ध्व मुख श्वानासन को कैसे करें, क्या हैं इसे करने के फायदे जानें

ओवेरियन सिस्ट के आसन 6. हलासन

ओवेरियन सिस्ट के आसन-Yoga for ovarian cyst
ओवेरियन सिस्ट के लिए हलासन

हलासन का मतलब है हल की मुद्रा वाला आसन। हल किसानों द्वारा खेतों में प्रयोग होने वाला औजार है। इस आसन में शरीर की मुद्रा हल की तरह लगती है। हलासन का प्रयोग सर्वांगासन के बाद किया जाता है, जिसमे कंधे के सहारे योग करना होता है।

आप इन आसनों को कर के ओवेरियन सिस्ट की समस्या से राहत पा सकती हैं। बशर्ते इनका नियमित पालन किया जाए।

ओवेरियन सिस्ट के आसन को समझने के साथ-साथ कुछ और अहम जानकारी

ओवेरियन सिस्ट की समस्या के निवारण के लिए क्या सर्जरी आवश्यक है?

द नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार 5 से 10 प्रतिशत महिलाओं में सर्जरी की आवश्यकता पड़ती है। लेकिन निम्नलिखित परिस्थितियों में हेल्थ एक्सपर्ट सर्जरी की सलाह दे सकते हैं। जैसे:

  • मासिक धर्म ठीक होने के बावजूद सिस्ट की समस्या बरकरार रहना
  • सिस्ट का आकार बड़ा होते जाना
  • दर्द महसूस होना
  • अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में सिस्ट रिपोर्ट ठीक न आना

ओवेरियन सिस्ट कैंसर का रूप ले सकता है?

रिसर्च के अनुसार 13 से 21 प्रतिशत महिलों को ओवेरियन सिस्ट कैंसरस हो जाते हैं। अगर महिला की उम्र ज्यादा है, तो खतरा ज्यादा बना रहता है। इसलिए अगर किसी महिला को ओवेरियन सिस्ट की समस्या है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : पीरियड्स के रंग खोलते हैं सेहत के राज

गर्भावस्था के दौरान ओवेरियन सिस्ट होने पर क्या करें?

प्रेग्नेंसी के दौरान आपके गायनोकोलॉजिस्ट आपकी प्रेग्नेंसी को ध्यान से मॉनिटर करते हैं। ओवेरियन सिस्ट हर गर्भवती महिलाओं में होने वाली समस्या नहीं है। इसलिए आपके डॉक्टर द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का पालन ठीक तरह से करें।

कैसे समझें ओवेरियन सिस्ट की समस्या?

निम्नलिखित लक्षण नजर आने पर या समझ आने पर डॉक्टर से संपर्क करें। जैसे:

अगर आपको ऐसे लक्षण नजर आ रहें हैं, तो अनदेखा न करें। क्योंकि किसी भी बीमारी का इलाज शुरुआती अवस्था में आसानी से किया जाता हो।  अगर आप ओवेरियन सिस्ट के आसन या इस परेशानी से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

शीतली प्राणायाम करने का तरीका और फायदा

शीतली प्राणायाम के हैं कई फायदें, इसे कब और कैसे करने के लिए जानें एक्सपर्ट की राय और इस प्राणायाम को करने का सही तरीका, हेल्थ बेनीफिट्स को भी जानें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

स्ट्रेस को कम करने के अलावा कर्नापीड़ासन के 6 और फायदे, तरीका और चेतावनी

कर्नापीड़ासन करने से हमें क्या फायदा होता है, किसे करना चाहिए और किसे नहीं आदि जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल। Benefits of karnapidasana in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu

कैसे करें ताड़ासन? क्या हैं इसके फायदे और सावधानियां

ताड़ासन योगा क्या है, इसके फायदे, इसे कैसे करना चाहिए, किन परिस्तिथियों में इसे नहीं करना चाहिए, इसके दुष्परिणाम सहित अन्य जानकारी के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

क्या है वायु मुद्रा, इसे करने का सही तरीका और फायदे के बारे में जानें

वायु मुद्रा कर किन किन बीमारियों से बचा सकता है, इसके फायदे और नुकसान को जानने के साथ कैसे इस मुद्रा को करें, कितनी देर तक करें, जानें इस आर्टिकल में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

Recommended for you

पीसीओएस के साथ एग फ्रीजिंग

क्या पीसीओएस के साथ एग फ्रीजिंग कराना सही हैं? जानें क्या है प्रक्रिया

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ September 24, 2020 . 10 मिनट में पढ़ें
लॉकडाउन में पीसीओएस पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS)

लॉकडाउन में पीसीओएस को कैसे दें मात? फॉलो करें ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ September 16, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें
Change your bad habits- गलत आदतों से छुटकारा

क्यों न इस स्वतंत्रता दिवस अपनी इन गलत आदतों से छुटकारा पाया जाए

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ August 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अपान मुद्रा

अपान मुद्रा: जानें तरीका, फायदा और नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ August 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें