आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

ये कंडीशंस प्रभावित कर सकती हैं स्कैल्प को, जानिए इसके बारे में अधिक जानकारी!

    ये कंडीशंस प्रभावित कर सकती हैं स्कैल्प को, जानिए इसके बारे में अधिक जानकारी!

    हमारा शरीर में स्कैल्प या खोपड़ी का अहम स्थान होता है।अगर स्कैल्प में किसी प्रकार की समस्या होती है, तो इस कारण से खुजली होना, स्कैल्प में पपड़ी जम जाना या फिर स्कैल्प की स्किन लाल हो जाना आदि समस्याओं का सामना करना पड़ता है। स्कैल्प या खोपड़ी को एक नहीं बल्कि कई कंडीशन प्रभावित कर सकती हैं। यह एलर्जी रिएक्शन भी हो सकता है या फिर माइनर इंफेक्शन भी हो सकता है। वहीं कुछ सीरियस हेल्थ कंडीशन भी खोपड़ी में विभिन्न प्रकार की समस्या खड़ी कर सकती हैं। जानिए स्कैल्प को प्रभावित करने वाली कंडीशन (Health Conditions That Affect The Scalp) कौन सी हो सकती है।

    और पढ़ें: Face Wash For Oily Skin: ऑयली स्किन के लिए कौन-से फेसवॉश का किया जा सकता है इस्तेमाल?

    स्कैल्प को प्रभावित करने वाली कंडीशन (Health Conditions That Affect The Scalp)

    आपने कई लोगों को सिर खुजलाते हुए या फिर बालों में सफेद रंग की पपड़ी की समस्या को देखा होगा। खोपड़ी में इस प्रकार की समस्या एक नहीं बल्कि कई हेल्थ कंडीशन से जुड़ी हो सकती है। अगर इसका ट्रीटमेंट करा लिया जाए, तो ऐसी समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। कई बार स्किन कंडीशन भी इसकी समस्या को बढ़ाने का काम करती हैं। आइए जानते हैं कौन-सी हेल्थ कंडीशन या इंजेक्शन स्कैल्प में परेशानी पैदा कर सकते हैं।

    हेड लाइस या जूं बन सकते हैं खुजली का कारण

    जिन लोगों को बालों में जूं या लाइस की समस्या होती है, उन्हें बालों में खुजली की समस्या बनी रहती है। जूं एक पैरासाइट इंसेक्ट है, जो कि स्कैल्प में रहता है। यह आइब्रो या आईलैशेस में भी आ सकता है। सी डी सी की मानें तो जूं का इलाज आसानी से किया जा सकता है। आपको मेडिकल स्टोर में ऐसे कई शैंपू मिल जाएंगे, जो जूं को भगाने का काम करते हैं। आप चाहे तो डॉक्टर से भी दवा ले सकते हैं। वहीं कुछ कंघी भी ऐसी होती हैं, जो जूं और उनके अंडों को दूर करने का काम करती हैं।

    और पढ़ें: स्किन का रंग अगर पड़ गया है ब्लू, तो यह हो सकता है पेरीफेरल सायनोसिस का लक्षण!

    स्कैल्प को प्रभावित करने वाली कंडीशन : सोरायसिस

    सोरायसिस की समस्या के कारण भी खोपड़ी में खुजली की समस्या पैदा हो सकती है। सोरायसिस की कंडीशन ऐसी स्किन कंडीशन है, जो स्किन में तेजी से फैलती है। सोरायसिस से पीड़ित लगभग 45 से 50% लोगों को स्कैल्प संबंधित समस्या का सामना करना पड़ता है। इस कारण से स्कैल्प की स्किन की रंग लाल हो जाता है और साथ में पैच भी दिखाई देने लगते हैं। कुछ लोगों में सोरायसिस की समस्या अधिक बढ़ जाती है। कानों के आसपास, गर्दन के नीचे तक भी पैच दिख सकते हैं। साथ ही बाल झड़ने की समस्या भी पैदा हो जाती है। अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी का मानना है कि बाल झड़ने की समस्या परमानेंट नहीं बल्कि टम्परेरी होती है। समस्या के खत्म हो जाने पर बाल झड़ना भी बंद हो जाता है।

    सोरायसिस की समस्या से निपटने के लिए डॉक्टर टॉपिकल मेडिकेशन, मेडिकेटेड शैंपू, इंजेक्शन, स्कैलसॉफ्ट आदि की सलाह देते हैं। आपको अगर स्कैल्प में किसी भी प्रकार की समस्या महसूस हो, तो आपको तुरंत डॉक्टर से जांच करानी चाहिए और साथ ही ट्रीटमेंट भी लेना चाहिए।

    और पढ़ें: पैरों की ड्राय स्किन के लिए उपाय अपनाने हैं, तो पढ़ें यहां

    स्कैल्प को प्रभावित करने वाली कंडीशन : एंड्रोजेनेटिक एलोपीसिया (Androgenetic alopecia)

    एंड्रोजेनेटिक एलोपीसिया (Androgenetic alopecia) भी एक प्रकार की हेल्थ कंडीशन है। इस कंडीशन के कारण पुरुषों में तेजी से बालों का झड़ना शुरू हो जाता है। पुरुषों में हेयरलाइन में बाल तेजी से गिरने लगते हैं और कुछ समय बाद पूर्ण रूप से गंजापन भी हो सकता है। कुछ लोगों में गंजापन आंशिक होता है। वहीं महिलाओं में इस कंडीशन के कारण पूरे स्कैल्प के बाल पतले हो जाते हैं। ऐसे में डॉक्टर ट्रीटमेंट के तौर पर हेयर ट्रांसप्लांट या फिर मेडिसिन (मिनोक्सिडिल) लेने की सलाह देते हैं। अगर आपके बाल भी तेजी से गिर रहे हैं, तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए। बालों का गिरना कई हेल्थ कंडीशन से जुड़ा हुआ हो सकता है। डॉक्टर जांच के बाद ही आपको जानकारी दे सकते हैं कि आखिरकार आपके बाल क्यों तेजी से गिर रहे हैं।

    स्कैल्प को प्रभावित करने वाली कंडीशन :टीनिया कैपिटस (Tinea capitis)

    यह एक प्रकार का दाद है, जो कि फंगल इंफेक्शन के कारण होता है। इस इंफेक्शन के कारण खोपड़ी में टीनिया कैपिटिस की समस्या हो जाती है। इस कारण से स्कैल्प में बहुत ज्यादा डैंड्रफ हो जाता है और साथ ही ड्राय स्केलिंग भी दिखाई पड़ती है। लोगों के बाल भी झड़ना शुरु हो जाते हैं। साथ ही खोपड़ी में पीली पपड़ी भी दिखाई देती है। उलझे हुए बाल होना, फोड़े के समान समस्या पैदा हो जाना और खुजली होना आदि इन्फेक्शन के लक्षण होते हैं। ऐसे में डॉक्टर बीमारी की जांच करने के बाद एंटीफंगल एजेंट लेने की सलाह देते हैं। साथ ही डॉक्टर एंटीफंगल शैंपू भी दे सकते हैं, जिससे की खोपड़ी के उस हिस्से को साफ और सूखा रखा जा सके। अगर आपको खोपड़ी में इस प्रकार की समस्या महसूस होती है, तो बेहतर होगा कि तुरंत इलाज कराएं। फंगल इंफेक्शन को ट्रीट करने के लिए एंटीफंगल एजेंट बहुत जरूरी होता है।

    और पढ़ें: महिलाओं के प्यूबिक एरिया में ड्राय स्किन होने के कारण और बचने के तरीके जानें

    स्कैल्प को प्रभावित करने वाली कंडीशन : एलर्जिक कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस (Allergic contact dermatitis )

    एलर्जिक कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस (Allergic contact dermatitis) कंडीशन के कारण भी सिर की त्वचा में समस्या पैदा हो जाती है। जब सिर कि त्वचा किसी अलग एलर्जन के कांटेक्ट में आती है, तो उस स्थान पर दाने हो जाते हैं। यह सूजन की समस्या भी पैदा करते हैं और बाद में वाटरी ब्लिस्टर्स भी बन जाते हैं। अगर यह वाटर ब्लिस्टर फूट जाते हैं, तो समस्या हो जाती है, जो कि उस क्षेत्र को गहरे रंग का कर देता है। ऐसे में इस समस्या का ट्रीटमेंट बहुत जरूरी है। एलर्जमन को पहचान कर उससे दूर रहना बहुत जरूरी हो जाता है। डॉक्टर यह चेक करते हैं कि आखिरकार यह समस्या क्यों पैदा हुई है और उसके बाद ट्रीटमेंट देते हैं।

    स्कैल्प को प्रभावित करने वाली कंडीशन : फोलिक्युलिटिस (Folliculitis)

    यह भी एक प्रकार का इंफेक्शन है, जो कि हेयर फॉलिकल को प्रभावित करता है। ये संक्रमण बैक्टीरिया या फिर फंगल इंफेक्शन के कारण पैदा हो सकता है। इस कारण से हेयर फॉलिकल वाले स्थान में सूजन पैदा हो जाती है। इसके कारण बढ़ते हुए बाल प्रभावित होते हैं। हेयर फॉलिकल वाले स्थान में रेड या वाइट पिंपल जैसा दिखने लगता है। साथ ही खुजली की समस्या शुरू हो जाती है। शेविंग या फिर टाइट कपड़े भी इस समस्या को बढ़ा देते हैं। जिस एरिया में आपको यह समस्या हुई है, वहां पर वार्म कंप्रेस एप्लाई करना चाहिए। ऐसा करने से बहुत राहत मिलती है। साथ ही डॉक्टर की सलाह से एंटीबायोटिक मेडिसिन भी लेनी चाहिए।

    और पढ़ें: Fitzpatrick Skin Types : स्किन कैंसर के बारे में जानने का आसान तरीका है फिट्जपैट्रिक स्किन टाइप्स!

    हमने आपको यहां उन कंडीशन के बारे में बताया है, जिससे की खोपड़ी की स्किन प्रभावित होती है। अगर आपको खोपड़ी में अचानक से खुजली की समस्या बढ़ गई है या फिर सफेद पपड़ी दिखने लगी है और तेजी से बाल भी झड़ रहे हैं, तो ऐसे में इग्नोर नहीं करना चाहिए। आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। डॉक्टर जांच के बाद बताएंगे कि आपको कौन-सी हेल्थ कंडीशन है और साथ ही उसका ट्रीटमेंट भी करेंगे।

    इस आर्टिकल में हमने आपको स्कैल्प को प्रभावित करने वाली कंडीशन (Health Conditions That Affect The Scalp) के बारे में अहम जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की ओर से दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको स्किन कंडीशन के संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हैलो हेल्थ की वेबसाइट में आपको अधिक जानकारी मिल जाएगी।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/04/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: