माता-पिता से बच्चे का ब्लड ग्रुप अलग क्यों होता है ?

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

हमारे शरीर में सबसे महत्वपूर्ण तरल खून है। इसके बिना हमारा शरीर शून्य है। ब्लड शरीर में ऑक्सिजन की सप्लाई करता है। हर व्यक्ति के शरीर में मौजूद ब्लड का एक खास ग्रुप होता है। लेकिन, क्या आपने कभी सोचा है माता-पिता के ब्लड ग्रुप से हमार ब्लड ग्रुप अलग क्यों होता है?। अगर नहीं, तो जानें इस आर्टिकल में इसके पीछे की वजह।

यह भी पढ़ेंः Uric Acid Blood Test : यूरिक एसिड ब्लड टेस्ट क्या है?

ब्लड टाइप के बारे में जानने वाली बातें

मानव शरीर में लगभग 8 से 10 पिन रक्त होता है जो व्यक्ति के आकार के आधार पर होता है। हालांकि प्रत्येक व्यक्ति में रक्त की संरचना समान नहीं होती है। यह वही है जो व्यक्ति के खून के प्रकार को बनाता है। एक व्यक्ति का रक्त प्रकार इस बात पर निर्भर करता है कि उसकी मां या पिता ने किस जीन को पारित किया था। रक्त के प्रकारों के ग्रुपिंग के बारे में जानने का सबसे अच्छा तरीका एबीओ प्रणाली है हालांकि दूसरे ग्रुप भी  हैं।

एबीओ समूह के अंदर चार प्रमुख श्रेणियों को आठ सामान्य ब्लड टाइप में बांटा गया है: ए, बी, ओ, और एबी। एक रोगी को ट्रांसफ्यूजन में सही ब्लड देना महत्वपूर्ण है। गलत प्रकार एक प्रतिकूल और संभावित घातक प्रतिक्रिया को ट्रिगर कर सकता है।

यह भी पढ़ेंः HCG Blood Test: जानें क्या है एचसीजी ब्लड टेस्ट?

ब्लड टाईप कैसे बनता है

खून में कोशिकाएं और प्लाज्मा के रूप में जाना जाने वाला एक पीला पानी तरल होता है। रक्त समूह इस बात पर निर्भर करता है कि रक्त के प्रत्येक भाग में क्या है। दो मुख्य ब्लड ग्रुप सिस्टम ABO एंटीजन और Rhesus एंटीजन (RhD एंटीजन सहित) हैं। इन दो प्रतिजनों का उपयोग रक्त के प्रकारों को वर्गीकृत करने के लिए किया जाता है।

बैक्टीरिया और वायरस आमतौर पर एक एंटीजन ले जाते हैं। एक संक्रमण के दौरान उनका एंटीजन उन्हें कुछ ऐसी चीज के रूप में चिह्नित करता है जो शरीर के लिए बाहरी है या आमतौर पर शरीर में नहीं पाई जाती है। अधिकांश रेड ब्लड सेल प्रतिजन लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर पाए जाने वाले प्रोटीन मॉलिक्यूल होते हैं।

व्हाइट ब्लड सेल इम्यून डिफेंस के रूप में एंटीबॉडी का उत्पादन करती हैं। ये एंटीबॉडी एंटीजन को टार्गेट करते हैं और बाहरी वस्तु पर हमला करते हैं उदाहरण के लिए बैक्टीरिया

यह भी पढ़ेंः Allergy Blood Test : एलर्जी ब्लड टेस्ट क्या है?

ब्लड ग्रुप कब जरूरी है?

किसी व्यक्ति के ब्लड टाइप की पुष्टि करना महत्वपूर्ण है जब वे रक्त दान कर रहे हैं या एक ट्रांसफ्यूजन ले रहे हैं। अगर ग्रुप बी एंटीजन वाले किसी व्यक्ति को ग्रुप ए एंटीजन वाले रेड ब्लड सेल को प्राप्त होता है तो उनका शरीर ट्रांसफ्यूजन को अस्वीकार कर देगा।

ऐसा इसलिए है क्योंकि लाल रक्त कोशिकाओं पर बी एंटीजन वाले रोगियों के प्लाज्मा में एंटी-ए एंटीबॉडी है। प्लाज्मा में एंटी-ए एंटीबॉडी तब हमला करता है और ए एंटीजन डोनर लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट कर देता है। यह घातक हो सकता है।

क्यों कोई बच्चा अपने माता-पिता के ब्लड ग्रुप से अलग होता है ?

मूल रूप से देखें तो 4 ब्लड ग्रुप AB, B, A और O होते हैं। बच्चा अपने माता-पिता के ब्लड ग्रुप से अलग हो भी सकता है और नहीं भी। उदाहरण के तौर पर AB और O ब्लड टाइप वाले माता-पिता के बच्चों के ब्लड टाइप A या B हो सकते हैं। कई बार बच्चे का ब्लड ग्रुप अपने माता-पिता से मिल सकता है। ब्लड ग्रुप में बदलाव जेनेटिक्स की वजह से भी होता है।

यह भी पढ़ें : Blood Test : ब्लड टेस्ट क्या है?

बच्चों में ब्लड ग्रुप कैसे बनता है ?

  • अगर माता-पिता दोनों का ही ब्लड ग्रुप O है, ऐसी स्थिति में जन्म लेने वाले शिशु का ब्लड ग्रुप भी O ही होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप O और A है तो ऐसे में बच्चे का ब्लड ग्रुप O और A दोनों में से कोई एक होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप O और B है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप O और B दोनों में से कोई एक होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप O और AB है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप A और B दोनों में से कोई एक होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप O और O है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप भी O हो होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप A और A है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप A और O दोनों में से कोई एक होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप A और B है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप O-A-B-AB चरों में से कोई एक होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप A और AB है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप A-B-AB तीनों में से कोई एक होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप A और O है तो तो बच्चे का ब्लड ग्रुप A और O हो सकता है।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप B और B है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप O-B दोनों में से कोई एक होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप B और AB है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप B-A-AB तीनों में से कोई एक होगा।
  • माता पिता का ब्लड ग्रुप B  और A है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप A, B, AB और O हो सकता है।
  • माता पिता का ब्लड ग्रुप B और O है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप B या O हो सकता है।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप AB और AB है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप B-A-AB तीनों में से कोई एक होगा।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप AB+A है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप A, B और AB हो सकता है।
  •  माता-पिता का ब्लड ग्रुप AB+B है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप A, B और AB हो सकता है।
  • माता-पिता का ब्लड ग्रुप अगर AB +O है तो बच्चे का ब्लड ग्रुप A या B हो सकता है।

यह भी पढ़ेंः Dragon’s Blood: ड्रैगन ब्लड क्या है?

क्या ब्लड टाइप आहार वास्तव में काम करता है?

पिछले कुछ सालों में “ब्लड टाइप डायट” के बारे में कई दावे किए गए हैं जिसमें आप अपने रक्त प्रकार के लिए विशिष्ट खाद्य पदार्थ खाते हैं ताकि कुछ बीमारियों के जोखिम को कम किया जा सके और आपके समग्र स्वास्थ्य में सुधार हो सके। इसका कोई वैज्ञानिक शोध नहीं है कि आपके रक्त प्रकार के लिए खाने के प्रमाण आपको स्वस्थ बनाते हैं। ब्लड ग्रुप के बारे में किसी भी तरह की जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं।

और पढ़ें :

HCG Blood Test: जानें क्या है एचसीजी ब्लड टेस्ट?

कॉर्ड ब्लड बैंकिंग के फायदे क्या हैं? बैंक का चुनाव करते वक्त इन बातों का रखें ख्याल

ब्लड प्रेशर की समस्या है तो अपनाएं डैश डायट (DASH Diet), जानें इसके चमत्कारी फायदे

सोने से पहले ब्लड प्रेशर की दवा लेने से कम होगा हार्ट अटैक का खतरा

Share now :

रिव्यू की तारीख सितम्बर 30, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया फ़रवरी 3, 2020

शायद आपको यह भी अच्छा लगे