3 सबसे आम भोजन विकार (Eating disorder) और उनके लक्षण

Medically reviewed by | By

Update Date दिसम्बर 11, 2019 . 2 मिनट में पढ़ें
Share now

ईटिंग डिसऑर्डर या भोजन विकार, इसे सामान्य शब्दों में समझें, तो ये खाने से जुड़ा एक डिसऑर्डर है। ये एक खतरनाक बेहेवियर समस्या है। इसमें इंसान को बहुत कम खाने या बहुत अधिक खाने की लत सी लग जाती है। इसके अलावा, इंसान अपने शेप, साइज और वेट को लेकर बहुत ही कॉन्शियस या चिंतित हो जाता है। इसमें वजन के बारे में अत्यधिक चिंतित होना भी शामिल है। खाने के विकारों की वजह से हार्ट और किडनी समस्याएं भी हो सकती है। अगर ये समस्या ज्यादा बढ़ जाए, तो इससे मृत्यु भी हो सकती है। इसलिए, आज हम ईटिंग डिसऑर्डर के कारण, लक्षण और बचाव के विषय में बात करेंगे।

आमतौर पर ईटिंग डिसऑर्डर तीन प्रकार के होते हैं :

एनोरेक्सिया नर्वोसा

इस स्थिति में इंसान में बहुत कम खाना लगता है। वजन कम हो जाता है। कम वजन होते हुए भी इस बीमारी में पीड़ित इंसान वजन बढ़ाने से डरता है। इस विकार में इंसान बहुत पतला हो जाता है लेकिन, उसे ये महसूस होता है कि उसका वजन ज्यादा है।

यह भी पढ़ें :हेल्थ सप्लिमेंट्स का बेहतर विकल्प बन सकते हैं ये फूड, डायट में करें शामिल

एनोरेक्सिया के कारण

इस बीमारी का सीधा संबध इंसान की शारीरिक, मानसिक और समाजिक बनावट से जुड़ा है। इन्हीं तीन हिस्से या किसी एक हिस्से पर ठेस पहुंचने या किसी कमी के कारण पीड़ित खाने पीने की अधिकता या लापरवाही करने लगता है और अंत में निराश हो जाता है। परिवार और सामाजिक दबाव के कारण भी एनोरेक्सिया हो सकता है। माता-पिता या रिश्तेदार जब बच्चों की शारीरिक बनावट, वेट, साइज को लेकर उन्हें ताना देते हैं, तो ऐसी स्थिति में उन बच्चों को एनोरेक्सिया हो सकता है। स्ट्रेस फुल लाइफस्टाइल एनोरेक्सिया को ट्रिगर कर सकता है। इसके अलावा, जेनिटिक कारण भी एनोरेक्सिया के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें : देर रात खाना सेहत के लिए पड़ सकता है भारी, हो सकती हैं ये समस्याएं

एनोरेक्सिया के लक्षण

  • दुबला पतला होने के बाद भी वजन बढ़ाने से डरना
  • खाना खाने के बारे में झूठ बोलना
  • अचानक वजन कम होना
  • वेट, साइज शेप को लेकर जरूरत से ज्यादा चिंतित होना
  • स्लिम या पतला कहे जाने पर गुस्सा होना या उसका खंडन करना
  • वजन कम करने के लिए दवा लेना
  • खाने के बाद अधिक व्यायाम करना

बुलिमिया नर्वोसा

इस समस्या से पीड़ित इंसान खूब खा-पीकर उसे उगलने की कोशिश करता है। मुंह में उंगली डालकर उल्टी करके खाने को बाहर निकालने का प्रयास करते हैं, क्योंकि वे खुद को ज्यादा खाने के लिए दोषी मानते हैं। बार-बार जुलाब का प्रयोग करना और जबरदस्ती बार-बार उल्टी करने से उनके पाचन तंत्र और आहर नली को नुकसान पहुंचाता है।

यह भी पढ़ें : ज्यादा नमक खाना दे सकता है आपको हार्ट अटैक

बुलिमिया नर्वोसा के लक्षण

  • कॉन्फिंडेस में कमी
  • ब्लड प्रेशर में गिरावट
  • पीरियड्स में अनियमितता होना
  • बार-बार शौच के लिए जाना
  • अत्यधिक भोजन एक साथ करना
  • अवसाद

बिंज-ईटिंग

बिंज-ईटिंग डिसऑर्डर में इंसान को ज्यादा खाना खाने की लत हो जाती है। वह खुद को खाने पीने से रोक नहीं पाता और उससे होने वाले शारिरिक नुकसान को अनदेखा करता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ये खाने के विकार होने की संभावना ज्यादा होती है।

यह भी पढ़ें : ऐसे पता करें आपका बच्चा ठीक से खाना खा रहा है या नहीं?

बिंज-ईटिंग के लक्षण

  • जरूरत से ज्यादा खानपान
  • बिना भूख के भी भोजन की बड़ी मात्रा खाना
  • शर्मिंदगी के कारण अकेले भोजन करना
  • निराश, उदास या बाद में दोषी महसूस करना

तो आज हमने जाना कि तीन प्रकार के भोजन विकार क्या होते हैं लेकिन, भोजन के विकारों को सिर्फ जान लेने भर से बात नहीं बनने वाली। अगर आपके साथी या परिवार के लोगों में अगर ये भोजन विकार दिखाई दें, तो उसे तुंरत ही चिकित्सीय सलाह दिलानी चाहिए।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में एसिडिक फूड क्यों नहीं खाना चाहिए?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    Recommended for you

    भोजन संबंधी विकार

    Eating disorder : भोजन संबंधी विकार क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Anu Sharma
    Published on अप्रैल 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    late night eating - देर रात खाना

    देर रात खाना आपकी सेहत पर पड़ सकता है भारी, हो सकती हैं ये समस्याएं

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Shivani Verma
    Published on सितम्बर 30, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
    भोजन विकार (ईटिंग डिसऑर्डर)

    भोजन विकार (ईटिंग डिसऑर्डर) कितने प्रकार के होते हैं?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Smrit Singh
    Published on अगस्त 31, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें