laparoscopy scarless surgery: लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी क्या है?

के द्वारा लिखा गया

अपडेट डेट जुलाई 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी क्या है?

लैप्रोस्कोपी एक ऐसा टर्म है, जिसमें एक छोटे चीरे के जरिये पेरीटोनियल कैविटी की जांच की जाती है। यह विषेश सर्जरी नाभि पर एक छोटे छेद या चीरे के जरिये की जाती है, जो लगभग 1/4वें हिस्से से लेकर 1 इंच लंबा होता है। इसे लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के नाम से जाना जाता है। पूरे ऑपरेशन को टेलीस्कोपिक वीडियो कैमरे के जरिये देखा जाता है। यह कैमरा एक चीरे के जरिये अंदर रखा जाता है और पूरे ऑपरेशन का रिकॉर्ड टीवी मॉनीटर पर देखा जा सकता है। ऑपरेशन को पूरा करने की प्रक्रिया में अन्य चीरे के जरिये सर्जिकल इंस्ट्रूमेंट मरीज की बॉडी में अंदर डाले जाते हैं। इस प्रक्रिया को लैप्रोस्कोपी मिनिमल इनवेसिव सर्जरी (एमआईएस) के नाम से भी जाना जाता है।

कम से कम चीरे के साथ यह सर्जरी कई हानि रहित स्त्री रोग समस्याओं के उपचार के लिए इस्तेमाल की जाती है। भले ही पारंपरिक सर्जरी हो या रोबोटिक मदद वाली सर्जरी, दोनों ही स्त्री रोग में सर्जरी की पूरी प्रक्रिया से संबंधित होती हैं। चिकित्सा जगत में तकनीकी सफलता और सर्जरी में अनुभवी चिकित्सकों के सराहनीय प्रयासों से इन उन्नत प्रक्रियाओं में कम से कम निषान पड़ने या चीरे की जरूरत रह गई है।

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के लाभ

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी मरीजों के लिए पारंपरिक सर्जरी की तुलना में कई तरह से फायदेमंद है। ऐसा माना जाता है कि लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी किसी अन्य सर्जरी की पारंपरिक विधि के मुकाबले ज्यादा प्रभावी होती है। लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी या मिनिमल इनवेसिव सर्जरी के लाभ निम्नलिखित हैंः

छोटा चीरा

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी का एक बेहद महत्वपूर्ण लाभ चीरे का छोटा आकार है। यदि हम किसी पारंपरिक सर्जरी (जिसमें ऑपरेशन करने के लिए लंबा चीरा लगाया जाता है) से इसकी तुलना करें, तो लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी में ऑपरेशन के लिए बेहद छोटे चीरे की जरूरत होती है। इस प्रक्रिया में ट्यूब, कैमरा, फाइबर-ऑप्टिक लाइट आदि जैसे मेडिकल उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है।

कम दर्द

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के दौरान, यह प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद आपके शरीर में कम दर्द होता है। जबकि, पारंपरिक रूप से की जाने वाली अन्य किसी सर्जरी में यह दर्द बना रहता है। इसके अलावा, लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के मरीजों की तुलना में अन्य सर्जरी में उन्हें दर्द निवारक दवाएं लेने की जरूरत होती है।

अस्पताल में कम समय तक भर्ती रहने की जरूरत

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी वाले मरीजों को कुछ ही दिन में घर जाने की अनुमति दे दी जाती है । वह अपने दैनिक कार्य पुनः शुरू कर सकते हैं। जबकि, पारंपरिक सर्जरी में ज्यादा आराम के लिए मरीज को लंबे समय तक अस्पताल में रखने की आवश्यकता होती है।

और पढ़ें: Cholesteatoma surgery : कोलेस्टेटोमा सर्जरी क्या है?

जोखिम

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी में आमतौर पर जोखिम कम ही देखने को मिलते हैं। इस सर्जरी से शरीर में लाभ अधिक पहुंचते हैं। साथ ही विभिन्न प्रकार की समस्याओं से छुटकारा मिलता है। जानिए लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी से क्या लाभ पहुंचते हैं।

हेल्थ की रिकवरी होती है तेज

जब आपके शरीर में छोटे या कम चीरे लगाए जाते हैं तो आप जल्दी स्वस्थ हो जाते हैं, क्योंकि इसमें शरीर में कम टांके लगाए जाते हैं। वहीं, पारंपरिक रूप से की जाने वाली सर्जरी में आपके शरीर को चीरों या निषान से रिकवर होने में कई दिन लग जाते हैं।

पड़ते हैं कम निशान

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी में आपके शरीर पर कम संख्या में चीरे लगाए जाते हैं और इससे निशान भी कम पड़ते हैं। इससे ऑपरेशन पूरा होने के बाद कम टांके लगाए जाते हैं, जिससे आपके शरीर में कम निशान दिखते हैं। जबकि, पुरानी सर्जरी प्रक्रिया में बड़े आकार के और कई चीरे लगाए जाते हैं, जिससे आपके शरीर पर ज्यादा टांके लगते हैं।

कारगर परिणाम

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी का परिणाम पुराने जमाने की सर्जरी की तुलना में अधिक कारगर होता है। इसमें टेलीस्कोपिक कैमरे का इस्तेमाल होता है, जिससे शरीर के आंतरिक अंगों की जानकारी बेहतर तरीके से देखी जा सकती है।

मांसपेशियों और अंगों को कम नुकसान

कम चीरे और निशान के साथ आपकी मांसपेशियों और अंगों को पूरी तरह काम करने में कम तकलीफ होती है, जबकि बड़े आकार की सर्जरी में आपके शरीर को पूरी तरह स्वस्थ होने के लिए मांसपेशियों और अंगों पर ज्यादा दबाव पड़ता है।

और पढ़ें:  Male Breast Reduction : मेल ब्रेस्ट रिडक्शन कैसे होता है?

ब्लीडिंग होती है कम

यह स्पष्ट है कि यदि चीरा छोटा हो तो ब्लीडिंग कम होगी और दूसरी तरफ यदि चीरा बड़ा लगाया गया हो या कई चीरे लगाए गए हों तो लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी की तुलना में रक्तस्राव ज्यादा होगा।

लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी आमतौर पर निम्नलिखित के संदर्भ में की जाती हैः

  • आपकी नाभि या पेडू के आसपास ट्यूमर जैसी असामान्य गांठ की जांच के लिए
  • एंडोमेट्रियोसिस, पेल्विक इन्फ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) और एक्टोपिक प्रेग्नेंसी की जांच और उपचार के लिए
  • महिला को गर्भवती होने में समस्या की पहचान के लिए। ये कारण आपके शरीर में सिस्ट, फाइब्रॉएड्स या अन्य संक्रमण हो सकते हैं।
    बायोप्सी के लिए।
  • यह पता लगाने के लिए कि क्या कैंसर पेट तक फैल गया है या नहीं।

लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी तेजी से लोकप्रिय हो रही ऐसी तकनीक है, जिसका इस्तेमाल चिकित्सकों द्वारा सफलतापूर्वक किया जाता है। इसका इस्तेमाल अपेंडिक्स, गॉल ब्लैडर, गर्भाशय निकालने और बेरिएट्रिक सर्जरी से संबंधित समस्याओं का उपचार तलाशने वाले मरीजों में किया जा सकता है। पेट से संबंधित कई और बड़ी सर्जरी कराने वाले मरीजों को लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी कराने की सलाह नहीं दी जाती है, या गंभीर रूप से सूजन की समस्या से ग्रसित लोगों को इस तरह की सर्जरी नहीं करानी चाहिए। इसका कारण यह है कि कई सर्जरी या सूजन की समस्या मरीज के पेट में अंदर की पिक्चर या दृष्यता को सीमित कर सकती हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें:  Oophorectomy : उफोरेक्टमी क्या है?

प्रक्रिया

लैप्रोस्कोपिक स्कारलेस सर्जरी कैसे की जाती है?

यह सर्जरी आपके पेट पर एक चीरे के जरिये की जाती है, यह खास प्रक्रिया में पेरीटोनियल कैविटी या पेट में मेडिकल इक्विपमेंट लगाया जाता है। मरीज की नाभि के आसपास निशान या चीरा लगाया जाता है। स्कारलेस सर्जरी की वजह से जो आसानी से नहीं दिखता है या छिप सकता है।

इनमें भी की जाती है लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी

ऐसी सर्जरी निम्नलिखित समस्याओं से जूझ रहे लोगों में भी की जा सकती हैः

  • एशरमैन सिंड्रोम के लिए डेसियोलाइसिस
  • यूटराइन पॉलिप्स में पोलीपेक्टोमी
  • यूटराइन फाइब्रॉएड्स में मायोमेक्टोमी
  • सेप्टेट अटेरस में सेप्टम हटाना
  • आईयूसीडी हटाना
  • कन्सेप्शन के रिटेन्ड प्रोडक्ट्स को हिस्टेरोस्कोपिक के जरिये हटाना
  • गर्भाशय से रक्तस्राव में हिस्टेरोस्कोपिक डी और सी
  • एक्टोपिक प्रेग्नेंसी में सेल्पिनगेक्टेमी/ सेल्पिनगोस्टोमी
  • एंडोमेट्रियोसिस में एंडोमेट्रियोमा अैर एडेसियोलाइसिस को हटाना
  • यूटराइन फाइब्रॉएड्स में लैप मायोमेक्टोमी
  • ओवेरियन सिस्ट में लैप ओवरियन सिस्टेक्टोमी
  • पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स में लैप सैक्रोकोलपोपेक्सी
  • टोटल लैप हिस्टेरेक्टोमी
  • पेल्विक एडेसंस में लैप एडेसियोलाइसिस
  • एंडोमेट्रियोटिक स्पॉट्स पेल्विक पेन में लैप कोटराइजेशन

मौजूदा समय में लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी प्रक्रिया में इतनी तेजी से बदलाव आ रहा है कि एक दिन हमें मरीजों को सर्जरी के दौरान छोटा चीरा भी नहीं लगाने की जरूरत होगी। एक समय ऐसा आएगा जब चिकित्सक पेट और रेक्टम का ऑपरेशन किए बगैर चीरा लगाने में सक्षम होंगे। चिकित्सा क्षेत्र में बढ़ते तकनीकी विकास और तकनीकों की वजह से हर कोई मिनिमम इनवेसिव और दर्द रहित प्रक्रियाओं पर ध्यान केंद्रित करेगा।

और पढ़ें : Parathyroidectomy surgery: पैराथायरायडक्टमी सर्जरी क्या है?

रिकवरी

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के बाद खुद का ख्याल कैसे रखना चाहिए ?

लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी के बाद जब तक आप हॉस्पिटल में रहेंगे, डॉक्टर और नर्स आपकी पूरी देखभाल करेंगे। सर्जरी के बाद जब आप घर में जाएंगे तो डॉक्टर आपको बता देंगे कि किस तरह से आपको अपनी दिनचर्या में बदलाव के साथ ही कुछ बातों का ध्यान रखने की जरूरत पड़ सकती है। सर्जरी के बाद आपको कब तक आराम करना चाहिए, इसके बारे में आपका डॉक्टर आपको निर्देश दे सकते हैं।

लैप्रोस्कोपी के बाद आहार

लैप्रोस्कोपी के बाद आहार में हल्का और जल्दी पचने वाला खाना डॉक्टर खाने की सलाह देगा। आपको कुछ सब्जियां जैसे कि तरोई, लौकी, परवल आदि खाने की सलाह दी जा सकती है। साथ ही मौसमी फल का जूस लेने की भी सलाह दी जा सकती है। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से लैप्रोस्कोपी के बाद आहार के बारे में जरूर पूछें।

इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

एक्सपर्ट से डॉ अरुणा कालरा

laparoscopy scarless surgery: लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी क्या है?

जानिए लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी की जानकारी, laparoscopy scarless surgery क्या है , कैसे और कब की जाती है, लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी की प्रक्रिया, क्या है जोखिम, जानें इसके खतरे, कैसे करें रिकवरी, कैसे करें बचाव।laparoscopy scarless surgery in hindi,

के द्वारा लिखा गया डॉ अरुणा कालरा
laparoscopy scarless surgery,लैप्रोस्कोपी स्कारलेस सर्जरी

प्रसव-पूर्व योग से दूर भगाएं प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली समस्याओं को

प्रसव-पूर्व योग का क्या अर्थ है? प्रसव-पूर्व योग में हर तिमाही के अनुसार अलग-अलग प्रकार के योग होते हैं। Prenatal Exercises के क्या फायदे होते हैं? prasav purva yoga

के द्वारा लिखा गया डॉ अरुणा कालरा
prasav purva yoga, प्रसव-पूर्व योग

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या है फाइब्रॉएड कैंसर? जानें इसके लक्षण और उपचार

यहां जानिए क्या फाइब्रॉएड कैंसर का रूप ले सकता है? क्या महिलाओं में साधारण सा होने वाला फाइब्रॉएड्स इतना खतरनाक हो सकता है। kya fibroids ek cancer hai, Are Fibroids Cancerous in hindi,

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया sudhir Ginnore
गर्भाशय फाइब्रॉएड, हेल्थ सेंटर्स दिसम्बर 16, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

फाइब्रॉएड्स का इलाज कैसे किया जाता है?

Treatment for fibroids - जानिए समय रहते फाइब्रॉएड्स का इलाज किया जाना क्यों जरूरी है in Hindi। फाइ्ब्रॉएड्स का इलाज कैसे किया जाता है। fibroids ka ilaj in hindi, फाइब्रॉएड्स ट्रीटमेंट, Treatment for fibroids in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया sudhir Ginnore
हेल्थ सेंटर्स, गर्भाशय फाइब्रॉएड दिसम्बर 10, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

फाइब्रॉएड्स के प्रकार – जानिए फाइब्रॉएड्स कितने प्रकार के होते हैं

फाइब्रॉएड्स के प्रकार - जानिए महिलाओं के गर्भाशय में होने वाले फाइब्रॉएड्स कितने प्रकार के होते है। fibroids ke prakar in hindi, Types of fibroids in hindi,

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया sudhir Ginnore
गर्भाशय फाइब्रॉएड, हेल्थ सेंटर्स दिसम्बर 10, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Splenectomy: स्प्लेनेक्टोमी क्या है?

जानिए स्प्लेनेक्टोमी की जानकारी in Hindi, Splenectomy क्या है, कैसे और कब की जाती है, स्प्लेनेक्टोमी की प्रक्रिया, क्या है जोखिम, जानें इसके खतरे, कैसे करें रिकवरी, कैसे करें बचाव।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
सर्जरी, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z नवम्बर 4, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

लॉकडाउन में पीसीओएस पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS)

लॉकडाउन में पीसीओएस को कैसे दें मात? फॉलो करें ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ सितम्बर 16, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें
ओवेरियन कैंसर और ब्रेस्टफीडिंग

स्तनपान करवाने से महिलाओं में घट जाता है ओवेरियन कैंसर का खतरा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रकाशित हुआ मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst)

Quiz: ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst) के बारे में जानने के लिए खेलें क्विज

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ फ़रवरी 18, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
सिजेरियन और नॉर्मल डिलिवरी के फायदे

क्या मैं फाइब्रॉएड्स के साथ प्रेग्नेंट हो सकती हूं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया sudhir Ginnore
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 16, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें