आपकी त्वचा पर खुरदुरे, भूरे या काले धब्बे हो सकते हैं टीनिया नाइग्रा इंफेक्शन का संकेत!

    आपकी त्वचा पर खुरदुरे, भूरे या काले धब्बे हो सकते हैं टीनिया नाइग्रा इंफेक्शन का संकेत!

    टिनिया नाइग्रा (Tinea Nigra) एक बहुत ही दुर्लभ प्रकार का फंगल इंफेक्शन है। यह पैरों के तलवों, हाथ की हथेलियों या दुर्लभ मामलों में पूरे शरीर पर हो सकता है। यह इंफेक्शन भूरे या काले धब्बे की तरह विकसित होता है। हॉर्टिया वर्नेकी नामक एक प्रकार का यीस्ट अधिकांश टिनिया नाइग्रा इंफेक्शन का कारण बनता है। यह केवल आपकी त्वचा की सबसे सतह-स्तर की परत को प्रभावित करता है और यह खतरनाक स्थिति नहीं है। टीनिया नाइग्रा आपकी त्वचा पर खुरदुरे, भूरे या काले धब्बे के रूप में दिखाई दे सकता है। कई बार लोग इसे स्किन कैंसर समझ सकते हैं, क्योंकि यह समय के साथ बड़ा होता जाता है। टिनिया नाइग्रा (Tinea Nigra) उपचार योग्य है और आमतौर पर आपके स्वास्थ्य पर इसका दीर्घकालिक प्रभाव नहीं पड़ता है। जानिए इसके कारण, लक्षण और उपचार के बारे में यहां:

    और पढ़ें: Heartworm: मनुष्यों में हार्टवर्म इंफेक्शन कितना हो सकता है गंभीर? इस बारे में जानकारी है जरूरी!

    टिनिया नाइग्रा के लक्षण (Symptoms of Tinea Nigra)

    टिनिया नाइग्रा इंफेक्शन से प्रभावित होने पर पैरों के तलवे या हाथ की हथेलियों पर भूरे या काले धब्बे दिखाई देने लगते हैं। यदि आपके हाथों पर टिनिया नाइग्रा है, तो आप पाएंगे कि इसका रंग पूरे दिन बदलता रहता है। यह सुबह में गहरे रंग से शाम को हल्के रंग में भिन्न होता देखेंगे। यह दिन के दौरान गतिविधियों को करने के लिए अपने हाथों का उपयोग करने के कारण रंग में बदलाव हो सकता है। टिनिया नाइग्रा आमतौर पर आपके हाथों की हथेलियों और आपके पैरों के तलवों को प्रभावित करता है। यह आपकी गर्दन पर भी विकसित हो सकता है। कई मामलों में इसके धब्बे इतने छोटे और हल्के नजर आ सकते हैं कि एक व्यक्ति उन्हें नोटिस आसान न हो, वे भी धीरे-धीरे बढ़ने लगते हैं। इसके सबसे आम लक्षणों में शामिल हैं:

    • चोट के बाद पैर या हाथ पर एक पैच का होना
    • अनियमित आकार का पैच जो धीरे-धीरे बढ़ता है
    • बढ़ते हुए धब्बे, जिसमें खुजली भी सकती है
    • पैच जो बढ़ते हुए तिल या झाई की तरह नजर आ सकते हैं

    टिनिया नाइग्रा वाले अधिकांश लोगों को केवल एक घाव होता है। हालांकि, अगर कवक प्रवेश के कई बिंदुओं के संपर्क में आता है, जैसे कि दोनों हाथों पर घाव, एक व्यक्ति के पास कई पैच हो सकते हैं। स्वस्थ लोगों में, टिनिया नाइग्रा केवल त्वचा की सतही परतों पर ही रहता है। यह फैलता नहीं है, गंभीर संक्रमण का कारण नहीं बनता है। इसके 20 साल से कम उम्र के युवाओं को प्रभावित करने की संभावना अधिक है।

    और पढ़ें: दिल से जुड़ी तकलीफ ‘मायोकार्डियम इंफेक्शन’ बन सकती है परेशानी का सबब, कुछ ऐसे रखें अपना ख्याल!

    टिनिया नाइग्रा इंफेक्शन इन कारणों से होता है (Tinea Nigra infection is causes)

    टिनिया नाइग्रा एक फंगल संक्रमण है, जिसका अर्थ है कि किसी व्यक्ति को यह तब हो जाता है जब वे किसी ऐसे कवक के संपर्क में आते हैं, जो संक्रमण का कारण बन सकते हैं। यह स्किन के इंफेक्शन हॉर्टिया वर्नेकी (Hortaea werneckii) नामक कवक के संपर्क में आने के बाद होता है। हॉर्टिया वर्नेकी अत्यधिक उच्च नमक सामग्री वाले हाइपरसैलिन वातावरण या पानी के निकायों में पनपता है। उदाहरण के लिए, डैड सी, जो दुनिया की सबसे खारी झीलों में से एक है, वहां का वातावरण हाइपरसैलिन है। यह है कि आपके हॉर्टिया वर्नेकी के संपर्क में आने के तुरंत बाद यह दिखाई नहीं देता है। कवक के संपर्क में आने के कम से कम 2 से 7 सप्ताह बाद आप अपनी त्वचा में रंग परिवर्तन देखेंगे। यह त्वचा के संपर्क में आने पर मानव शरीर में प्रवेश कर सकता है, आमतौर पर घाव के माध्यम से। यह शरीर के उन हिस्सों पर रहने की सबसे अधिक संभावना है जहां पसीना अधिक होता है, जैसे हाथ और पैर।

    और पढ़ें: Indirab vaccine: रेबीज के वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए जरूर जानिए इस वैक्सीन के बारे में!

    टीनिया निग्रा के जोखिम (Risk of Tinea Nigra)

    टिनिया नाइग्रा के साथ आने वाले कोई गंभीर जोखिम या जटिलताएं नहीं हैं। यह एक सतही त्वचा संक्रमण है जो केवल आपकी त्वचा के एक छोटे से क्षेत्र के रंग और संभवतः बनावट को बदलता है। यह खतरनाक नहीं है, लेकिन आप कॉस्मेटिक उद्देश्यों के लिए इससे छुटकारा पाना चाह सकते हैं।

    और पढ़ें: Coconut Oil Detox: बढ़ते वजन और इंफेक्शन से बचाने में सहायक है कोकोनट ऑयल डिटॉक्स प्रक्रिया!

    टिनिया नाइग्रा का निदान इस तरह से किया जाता है (How is tinea nigra diagnosed)

    टिनिया नाइग्रा कई अन्य स्थितियों के लक्षणों के समान हो सकता है, इसलिए सटीक निदान प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। अगर आपको लगता है कि आपको टिनिया नाइग्रा इंफेक्शन हुआ है, तो आपको त्वचा विशेषज्ञ से मिलना चाहिए। आपके त्वचा विशेषज्ञ इसकी जांच के लिए संक्रमित क्षेत्र का एक नमूना निकालेंगे और जांच के लिए भेजेंगे कि आपको टिनिया नाइग्रा है या नहीं। यह पुष्टि करने का एक त्वरित तरीका है कि आपको टिनिया नाइग्रा है न कि त्वचा कैंसर। यदि आपका टेस्ट पॉजिटिव आता है, तो आप अपने संक्रमण का इलाज ऐंटिफंगल त्वचा क्रीम से कर सकते हैं। एंटीफंगल त्वचा क्रीम 2 से 4 सप्ताह के लगातार उपयोग के बाद आप इंफेक्शन कम हो जाएगा।

    और पढ़ें: Cardiovascular Exercise: कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज दिल ही नहीं, बल्कि पूरे हेल्थ के लिए है लाभकारी!

    टिनिया नाइग्रा का इलाज (Treatment of tinea nigra)

    जो लोग घरेलू उपचार आजमाना चाहते हैं, वे केराटोलाइटिक एजेंटों के साथ सुधार देख सकते हैं। एक केराटोलिटिक एक रसायन है, जो डेड त्वचा को हटाने में मदद करता है। कुछ संभावित प्रभावी केराटोलिटिक्स में शामिल हैं:

    • वार्ट क्रीम (Wart cream)
    • सैलियालिक ऐसिड (Salicylic acid)
    • विहटफिल्ड ऑयनमेंट (Whitfield’s ointment)

    और पढ़ें: पीडियाट्रिक फंगल इंफेक्शंस: बच्चों में होने वाले इन संक्रमणों के बारे में क्या यह सब जानते हैं आप?

    ये दवाएं गर्भावस्था के दौरान सुरक्षित नहीं हो सकती हैं, इसलिए जो महिलाएं गर्भवती हैं या गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, उन्हें घरेलू उपचार की कोशिश करने के बजाय डॉक्टर को दिखाना चाहिए। यदि घरेलू उपचार विफल हो जाता है, तो डॉक्टर को देखना सबसे अच्छा है। त्वचा पर भूरे रंग के घावों के अन्य संभावित कारण हैं। डॉक्टर आमतौर पर टिनिया नाइग्रा के इलाज के लिए सामयिक एंटिफंगल क्रीम लिखते हैं। लोगों को डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही क्रीम को सीधे पैच पर लगाना चाहिए। कुछ मामलों में, किसी व्यक्ति को ओरल ऐंटिफंगल दवाएं लेने के लिए भी डाॅक्टर बोल सकते हैं, खासकर यदि घाव बहुत बड़े हैं या यदि ऐंटिफंगल क्रीम ने काम नहीं किया है।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Hortaea werneckii
    https://mycology.adelaide.edu.au/descriptions/hyphomycetes/hortaea/

    Tinea nigra
    dermnetnz.org/topics/tinea-nigra/

    Sarangi, G., et al. (2014). Bilateral tinea nigra of palm: a rare case report from Eastern India.
    http://www.ijmm.org/article.asp?issn=02550857;year=2014;volume=32;issue=1;spage=86;epage=88;aulast=Sarangi

    Tinea nigra
    https://drfungus.org/knowledge-base/tinea-nigra/

    Study of nine observed cases of tinea nigra in Greater Vitória (Espírito Santo state, Brazil) over a period of five years.
    scielo.br/pdf/abd/v79n3/en_v79n3a06.pdf

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड