आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

हेल्दी स्किन और नाखून के लिए जरूरी है बायोटिन!

    हेल्दी स्किन और नाखून के लिए जरूरी है बायोटिन!

    क्या आपको पता है कि कई बार हेयर फॉल और कमजोर नाखून शरीर में बायोटिन (Biotin) की कमी के कारण हो सकता है। बायोटिन एक प्रकार का विटामिन है, जो भोजन में पाया जाता है। यह शरीर में भोजन को ऊर्जा में बदलने में मदद करता है और अच्छे स्वास्थ्य में कई अन्य महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बायोटिन बालों और नाखूनों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रभावकारी माना जाता है। इसके अलावा, बायोटिन (Biotin) स्वस्थ गर्भावस्था और अन्य लाभों में ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद करता है।

    और पढ़ें: बच्चों में विटामिन-के की कमी को पूरा करने के लिए क्या जरूरी है सप्लिमेंट्स का इस्तेमाल?

    बायोटिन क्या है (What is Biotin)?

    बायोटिन आठ प्रकार के विटामिन बी में से एक है। इसे विटामिन बी -7 या विटामिन एच के रूप में भी जाना जाता है। बायोटिन पानी में घुलनशील है। शरीर पानी में घुलनशील विटामिनों को संग्रहित नहीं करता है,, इसलिए लोगों को उन्हें अपने आहार में शामिल करने की आवश्यकता होती है। बायोटिन कार्बोक्सिलेज नामक कई एंजाइमों के कार्य के लिए आवश्यक होता है। ये महत्वपूर्ण चयापचय प्रक्रियाओं का हिस्सा हैं, जैसे ग्लूकोज और फैटी एसिड का उत्पादन। इसलिए प्रतिदिन आहार में बायोटिन को लेने की सलाह दी जाती है:

    • वयस्कों के लिए 30 माइक्रोग्राम (एमसीजी), गर्भावस्था के दौरान सहित
    • स्तनपान कराने पर 35 एमसीजी

    बायोटिन की कमी लोगों में काफी दुर्लभ देखी जाती है। हालांकि, कुछ लोग – जैसे कि गर्भवती महिलाएं और जो लोग अधिक मात्रा में शराब पीते हैं – उनमें हल्की कमी हो सकती है। इसके अलावा, नियमित रूप से कच्चे अंडे खाने से बायोटिन की कमी हो सकती है, क्योंकि कच्चे अंडे की सफेदी में एविडिन नामक एक प्रोटीन होता है, जो बायोटिन को ब्लॉक करता है, शरीर को इसे अवशोषित करने से रोकता है।

    और पढ़ें: Vitamin B-12: विटामिन बी-12 क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    बायोटिन शरीर के लिए इस प्रकार से फायदेमंद है (Biotin is beneficial for the body in this way)

    बायोटिन शरीर में कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिनमें शामिल हैं:

    और पढ़ें : Vitamin H : विटामिन एच क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    विशेष रूप से, बायोटिन इसमें शामिल है:

    ग्लूकोनोजेनेसिस: यह कार्ब्स के अलावा अन्य स्रोतों से ग्लूकोज का संश्लेषण है, जैसे कि अमीनो एसिड, और बायोटिन युक्त एंजाइम इस प्रक्रिया को शुरू करने में मदद करते हैं।
    फैटी एसिड संश्लेषण: बायोटिन एंजाइमों की सहायता करता है, जो प्रतिक्रियाओं को सक्रिय करते हैं और फैटी एसिड के उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण हैं।
    अमीनो एसिड का टूटना: बायोटिन युक्त एंजाइम ल्यूसीन सहित कई महत्वपूर्ण अमीनो एसिड के चयापचय में शामिल होते हैं।

    इस कमी वाले लोगों के लिए, बायोटिन युक्त सप्लिमेंट लेने से उनके नाखूनों की मजबूती में सुधार हो सकता है। आहार और अन्य जीवनशैली कारकों को बदलने से नाखूनों के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

    और पढ़ें : बच्चों में विटामिन-के की कमी को पूरा करने के लिए क्या जरूरी है सप्लिमेंट्स का इस्तेमाल?

    बायोटिन के बेनेफिट्स (Benefits of Biotin)

    बायोटिन शरीर के लिए कई प्रकार से प्रभावकारी है। जिनमें शामिल हैं:

    बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है (Good for Hair Health)

    आहार त्वचा और बालों के स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। उदाहरण के लिए, स्वस्थ बालों के लिए कुछ खाद्य पदार्थों में अंडे, ब्राजील नट्स और फैटी फिश शामिल हैं। बायोटिन की कमी बालों के झड़ने का कारण बन सकती है, जो संकेत देता है कि विटामिन बालों को स्वस्थ रखने में मददगार है।

    और पढ़ें : ब्रेस्टफीडिंग में विटामिन सी सप्लिमेंट्स के फायदे और नुकसान जानने के लिए करें बस एक क्लिक!

    गर्भावस्था और स्तनपान का समर्थन करना (Supporting pregnancy and breastfeeding)

    बायोटिन गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। गर्भावस्था के दौरान बायोटिन का स्तर लो होना आम है। लगभग 50% गर्भवती महिलाओं में कम से कम हल्की कमी हो सकती है। कमी का यह स्तर किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है, लेकिन ध्यान देने योग्य लक्षण पैदा करने के लिए पर्याप्त नहीं है। वैसे गर्भवती महिलाओं में यह कमी आम है, क्योंकि गर्भावस्था के दौरान शरीर विटामिन को तेजी से ब्रेकडाउन करता है। नतीजतन, गर्भवती महिला को गर्भवती नहीं होने वाली महिला की तुलना में अधिक बायोटिन की आवश्यकता हो सकती है । गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान किसी भी प्रकारका सप्लिमेंट लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

    और पढ़ें :स्तनपान के दौरान अतिरिक्त विटामिन की आवश्यकता कैसी पूरी करें, जानिए एक्सपर्ट से

    डायबिटीज पेशेंट के लिए भी है प्रभावकारी (It is also effective for diabetic patient)

    टाइप 2 डायबिटीज, एक मेटाबॉलिक स्थिति है। बायोटिन की कमी रक्त शर्करा, या ग्लूकोज, विनियमन को बाधित कर सकती है। कुछ सबूत बताते हैं कि मधुमेह वाले लोगों में बायोटिन का स्तर कम हो सकता है। टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में बायोटिन की खुराक रक्त शर्करा के स्तर को कैसे प्रभावित करती है। बायोटिन और क्रोमियम पिकोलिनेट दोनों लेने से टाइप 2 मधुमेह के इलाज में मदद मिल सकती है। कुल मिलाकर, मधुमेह और रक्त शर्करा नियंत्रण पर बायोटिन के प्रभावों को पूरी तरह से समझने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता होगी।

    और पढ़ें : Lactic acidosis and Diabetes: लैक्टिक एसिडोसिस और डायबिटीज के कनेक्शन के बारे जानें यहां?

    स्किन हेल्थ के लिए प्रभावकारी है

    स्वस्थ त्वचा को बनाए रखने में बायोटिन की भूमिका महत्वपूर्ण है। बायोटिन की कमी वाले लोगों को त्वचा की समस्याओं का अनुभव हो सकता है, जिसमें लाल, पपड़ीदार चकत्ते शामिल हैं। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि बायोटिन सोरायसिस में सुधार करने में मदद कर सकता है।

    और पढ़ें :डेमोडेक्स फॉलिकलोरम (Demodex folliculorum) : स्किन में रहने वाले इन पैरासाइट के बारे में जानते हैं आप?

    बायोटिन के लिए खाएं ये फूड्स (Eat These Foods for Biotin)

    स्वस्थ त्वचा को बनाए रखने के लिए विटामिन महत्वपूर्ण है, और बायोटिन के निम्न स्तर वाले लोगों में यह खराब हो सकता है। बायोटिन की कमी को आप अपने डायट में कुछ फूड्स को शामिल कर के कर सकते हैं। जिनमें शामिल हैं:

    • अंडे की जर्दी
    • पनीर
    • फलियां, जैसे सोयाबीन और मूंगफली
    • पत्तेदार साग
    • गोभी
    • मशरूम
    • नट और नट बटर

    प्राकृतिक स्रोतों से पोषक तत्व प्राप्त करना हमेशा सर्वोत्तम होता है। यदि आप स्वाभाविक रूप से पर्याप्त बायोटिन प्राप्त करने में असमर्थ हैं, तो आपके डॉक्टर द्वारा एक सप्लिमेंट का सुझाव दिया जा सकता है।

    और पढ़ें : बच्चों में विटामिन-के की कमी को पूरा करने के लिए क्या जरूरी है सप्लिमेंट्स का इस्तेमाल?

    कुछ लोग ऐसे सप्लिमेंट लेते हैं जिनमें या तो बायोटिन होता है या विटामिन के संयोजन में। वैसे तो डॉक्टर बायोटिन को बहुत सुरक्षित मानते हैं। प्रतिदिन 300 मिलीग्राम तक की खुराक ली जा सकती है, लेकिन वो भी डॉक्टर की सलाह पर लें। वयस्कों के लिए अनुशंसित दैनिक खुराक बहुत कम है: 30 एमसीजी। जैसा कि बायोटिन एक पानी में घुलनशील विटामिन है, और कोई भी मात्रा जिसे शरीर अवशोषित नहीं करता है। इसका किसी भी प्रकार का सप्लिमेंट लेने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: