स्टेज के मुताबिक कैसे होता है रेक्टल कैंसर का इलाज?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट January 20, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

हमारे पाचन तंत्र के आखिरी सिरे पर कोलन होता है, जिसके आखिरी सिरे पर रेक्टम होता है। रेक्टम हमारे शरीर द्वारा निष्कासन के लिए तैयार किए गए मल को बाहर निकालने से पहले स्टोर करके रखता है। इसमें होने वाले कैंसर को रेक्टल कैंसर कहा जाता है। हालांकि, कोलन का हिस्सा होने की वजह से इसे कोलन कैंसर, कोलोरेक्टल कैंसर और बोवेल कैंसर भी कहा जाता है। रेक्टल कैंसर का इलाज भी कोलन कैंसर के इलाज की तरह ही होता है, लेकिन चूंकि यह उसके भी अंतिम सिरे पर है तो रेक्टल कैंसर के ट्रीटमेंट में थोड़ा बहुत अंतर हो सकता है। रेक्टल कैंसर का इलाज उसकी स्टेज पर निर्भर करता है, इस आर्टिकल में आप जानेंगे स्टेज के मुताबिक रेक्टल कैंसर का ट्रीटमेंट कैसे होता है।

यह भी पढ़ें- आई कैंसर (eye cancer) के लक्षण, कारण और इलाज, जिसे जानना है बेहद जरूरी

रेक्टल कैंसर का इलाज : पहले जानते हैं कि यह होता कैसे है?

रेक्टल कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है, हालांकि ज्यादातर यह बुजुर्गों को प्रभावित करता है। इस गंभीर समस्या में आमतौर पर सबसे पहले छोटे, गैर कैंसरकृत (बिनाइन) ट्यूमर कोलन या रेक्टम के अंदर होने लगते हैं। समय के साथ यह गैरकैंसरकृत ट्यूमर कैंसरकृत ट्यूमर में बदल जाते हैं और रेक्टल कैंसर की समस्या हो जाती है। धीरे-धीरे यह ट्यूमर आपके कोलन या रेक्टम में फैलने लगते हैं, जिससे आपके कैंसर की स्टेज निर्धारित होती है।

ट्यूमर क्यों बनते हैं?

रेक्टल कैंसर की समस्या के साथ यह भी समझ लेते हैं कि ट्यूमर क्यों बनता है? दरअसल, हमारे शरीर के प्रत्येक अंग में नई कोशिकाओं यानी सेल्स का निर्माण और पुरानी कोशिकाओं के नष्ट होने की प्रक्रिया प्राकृतिक रूप से चलती रहती है। लेकिन, जब इस प्रक्रिया के लिए जिम्मेदार डीएनए में किन्हीं कारणों से समस्या आ जाती है, तो यह प्रक्रिया बाधित हो जाती है और नई कोशिकाएं बहुत तेज गति से विकसित होने लगती हैं व पुरानी सेल्स नष्ट नहीं होती हैं, जिससे उस जगह पर पहले सूजन और फिर बाद में ट्यूमर का विकास होता है।

यह भी पढ़ें- पेरासिटामोल/ एसिटामिनोफीन (Acetaminophen) बन सकती है कैंसर का कारण, हो सकती है बैन

रेक्टल कैंसर का इलाज : इसकी वजह से होने वाली समस्याएं या लक्षण क्या हैं?

रेक्टल कैंसर होने की वजह से आपके शरीर में कई शारीरिक समस्याएं इसके लक्षणों के रूप में दिख सकती हैं। जैसे-


रेक्टल कैंसर का इलाज : डॉक्टर इसका पता कैसे लगाते हैं?

रेक्टल कैंसर का इलाज करने के लिए डॉक्टर पहले उसकी स्टेज या गंभीरता का पता लगाने के लिए कुछ टेस्ट्स करवाते हैं।

यह भी पढ़ें- पेट का कैंसर क्या है ? इसके कारण और ट्रीटमेंट

रेक्टल कैंसर का इलाज : रेक्टल कैंसर की स्टेज क्या है?

हमारे शरीर में कोलन या रेक्टम के तीन हिस्से होते हैं। पहला म्यूकोसा (Mucosa), दूसरा और मध्य हिस्सा मस्क्युलरिस प्रोप्रिया (Muscularis propria) और आखिरी व बाहरी हिस्सा मेसोरेक्टम (Mesorectum) होता है। म्यूकोसा रेक्टल वॉल का आंतरिक हिस्सा होता है, जिसमें मौजूद ग्लैंड्स म्यूकस का निर्माण करती हैं, जो मल के आराम से निकलने में मदद करती हैं। इसके बाद मस्क्युलरिस प्रोप्रिया रेक्टल वॉल का मध्य हिस्सा होता है, जिसमें रेक्टम के आकार और संकुचन आदि प्रक्रिया के लिए जरूरी मसल्स होती हैं। इसके बाद मेसोरेक्टम रेक्टल वॉल का बाहरी हिस्सा होता है, जो उसे सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक फैटी लेयर होती है। इन तीन लेयर के साथ रेक्टम के आसपास मौजूद लिंफ नोड्स होते हैं, जो कि वैसे तो इम्यून सिस्टम का हिस्सा होता है, लेकिन रेक्टम या शरीर के किसी भी ऑर्गन को वायरस या बैक्टीरिया जैसे खतरनाक तत्व से सुरक्षा प्रदान करता है।

स्टेज 0 – रेक्टल कैंसर का इलाज उसकी स्टेज पर निर्भर करता है। इस गंभीर बीमारी की स्टेज 0 में रेक्टम वॉल के अंदरुनी हिस्से म्यूकोसा में कुछ असामान्य कोशिकाएं दिखना शुरू हो जाती हैं।

स्टेज 1 – स्टेज 1 में कैंसरकृत कोशिकाएं रेक्टम वॉल के अंदरुनी और मध्य हिस्से तक फैलने लगती हैं। लेकिन, अभी इससे रेक्टम का बाहरी हिस्सा और लिम्फ नोड्स अप्रभावित रहते हैं।

स्टेज 2 – रेक्टल कैंसर की स्टेज 2 में ट्यूमर या कैंसर सेल्स रेक्टम की दीवार यानी मेसोरेक्टम के बाहर आ जाता है, लेकिन अभी भी लिम्फ नोड अप्रभावित रहते हैं। इस स्टेज को 2ए और 2बी दो हिस्से में बांटा गया है।

स्टेज 3 – इस हिस्से के कैंसर की स्टेज में कैंसरकृत ट्यूमर रेक्टम के साथ-साथ लिम्फ नोड्स में भी फैल जाता है और उससे प्रभावित क्षेत्र के आधार पर इस स्टेज को 3ए, 3बी और 3सी में बांटा गया है।

स्टेज 4 – रेक्टल कैंसर की स्टेज 4 में कैंसर ट्यूमर रेक्टल या कोलन एरिया से बाहर फैलकर शरीर के दूसरे अंगों तक फैलने लगता है। यह स्टेज कैंसर की सबसे गंभीर और खतरनाक चरण होता है।

यह भी पढ़ें- क्या आपको भी है बोन कैंसर, जानें इसके बारे में सब कुछ

स्टेज के मुताबिक रेक्टल कैंसर का इलाज कैसे होता है?

रेक्टल कैंसर का इलाज उसकी स्टेज के मुताबिक होता है, आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

स्टेज 0 के मुताबिक रेक्टल कैंसर का इलाज

इस स्टेज के इलाज में डॉक्टर रेक्टम के अंदरुनी हिस्से में विकसित होनी शुरू हुई कैंसरकृत सेल्स को या फिर इस अंग के छोटे से हिस्से को ही हटा देते हैं। जिसके लिए वह एक्सटर्नल रेडिएशन थेरेपी या इंटरनल रेडिएशन थेरिपी का इस्तेमाल करते हैं।

स्टेज 1 के मुताबिक रेक्टल कैंसर का इलाज

इस स्टेज में कैंसर रेक्टम के अंदरुनी हिस्से में फैल चुका होता है और मध्य हिस्से में प्रवेश करने लगता है। अगर आपकी उम्र ज्यादा है या ट्यूमर का आकार छोटा है, तो इसके इलाज के लिए सिर्फ रेडिएशन थेरिपी का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन, इस स्टेज के लिए सबसे ज्यादा सर्जरी प्रभावित होती है। स्टेज 1 के मुताबिक रेक्टल कैंसर का इलाज में सर्जरी के साथ कीमोथेरिपी की भी मदद ली जा सकती है।

स्टेज 2 के मुताबिक रेक्टल कैंसर का इलाज

इस स्टेज में कैंसर रेक्टम के सभी हिस्सों में फैल जाता है और ब्लैडर, यूट्रस और प्रोस्टेट ग्लैंड जैसे आसपास के अंगों को भी प्रभावित करना शुरू कर देता है। इस स्टेज में कैंसर से प्रभावित सभी अंगों की सर्जरी और सर्जरी से पहले या बाद में कीमोथेरिपी के साथ रेडिएशन थेरिपी की जाती है।

स्टेज 3 के मुताबिक रेक्टल कैंसर का इलाज

चूंकि इस स्टेज में ट्यूमर लिम्फ नोड्स में भी फैल जाता है और इसके इलाज में ट्यूमर को हटाने की सर्जरी, सर्जरी के बाद या पहले कीमोथेरिपी के साथ रेडिएशन थेरिपी की जाती है।

स्टेज 4 के मुताबिक रेक्टल कैंसर का इलाज

रेक्टल कैंसर के इलाज में स्टेज 4 काफी खतरनाक और मुश्किल होती है। क्योंकि, इस चरण में कैंसर रेक्टम के साथ लिवर या लंग जैसे दूसरे अंगों को भी प्रभावित कर चुका होता है। इस स्टेज का मुख्य इलाज कीमोथेरिपी होती है। हालांकि, डॉक्टर इसके साथ ट्यूमर की सर्जरी भी कर सकता है। इस चरण में रेक्टल ब्लीडिंग को रोकने या कम करने के लिए सर्जरी की जाती है, जो कि किसी और विकल्प की मदद से नहीं की जा सकती है। हालांकि, सर्जरी से इसके इलाज का दावा नहीं किया जा सकता है, लेकिन संभावना बढ़ जाती हैं।

किसी प्रकार की अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान और उपचार प्रदान नहीं करता।

और पढ़ें:

फेफड़ों का कैंसर था इतना खतरनाक, फिर भी हार नहीं मानी

रेडिएशन थेरिपी की डोज मॉनिटर करने के लिए नया तरीका, कैंसर का इलाज होगा आसान

अगर आपका कॉम्प्लेक्शन डार्क है तो ध्यान में रखें प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण

तो क्या 2120 तक खत्म हो जाएगी सर्वाइकल कैंसर की बीमारी ?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कोलोन कैंसर डायट: रेग्यूलर डायट में शामिल करें ये 9 खाद्य पदार्थ

कोलोन कैंसर क्या है? कोलोन कैंसर डायट में क्या करें शामिल? What is Colon Cancer and Colon Cancer Diet in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कैंसर, कोलोरेक्टल कैंसर February 8, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या कोलन कैंसर को रोकने में फाइबर की कोई भूमिका है?

फाइबर और कोलन कैंसर का क्या संबंध है और कैसे फाइबर कोलन कैंसर को रोकने में मददगार साबित होता है? fibre prevent colon cancer

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कोलोरेक्टल कैंसर, कैंसर February 5, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

कई लोगों के साथ ओरल सेक्स करने से काफी बढ़ जाता है सिर और गले के कैंसर का खतरा

ह्यूमन पैपीलोमा वायरस (HPV) में रोगी को कान में दर्द, निगलने में परेशानी, आवाज़ बदल जाने या वज़न कम होने जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ता है।

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
सिर और गर्दन का कैंसर, कैंसर February 4, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें

अपनी 70 साल की उम्र को भी नहीं आने दिया कैंसर के सामने, हिम्मत से किया पार: लंग कैंसर वॉरियर, नरेंद्र शर्मा

लंग कैंसर वॉरियर (Latest Cancer Warrior) नरेंद्र शर्मा ने जानें कैंसर से कैसे जीती अपनी जंग, अपने डायट में किया बदलाव और अपनी लाइफस्टाइल को बदला। (Latest Cancer Treatment ), (world cancer day)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
अन्य कैंसर, कैंसर February 1, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

सिर और गर्दन का कैंसर

क्या स्मोकिंग, सिर और गर्दन के कैंसर का मुख्य कारण हैं, जानिए इस बारे में विस्तार से

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ March 5, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
महिलाओं में होने वाली बीमारी (Women illnesses)

Women illnesses: इन 10 बीमारियों को इग्नोर ना करें महिलाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
cancer remission/ कैंसर रेमिशन क्या होता है

कैंसर रेमिशन (Cancer remission) को ना समझें कैंसर का ठीक होना, जानिए इसके बारे में पूरी जानकारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 17, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
सीटू में सर्वाइकल कार्सिनोमा (Cervical Carcinoma In Situ)

स्टेज-0 सर्वाइकल कार्सिनोमा क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 10, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें