कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को लेकर ग्लोबल इमरजेंसी घोषित, इंडियन आर्मी ने कर ली तैयारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 3, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

चीन में फैल रहे कोरोना वायरस ( 2019-nCoV)को लेकर जहां एक ओर दुनिया भर में लोग डरे हुए हैं, वहीं इसका असर अब भारत में भी दिखने लगा है। WHO ने कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को ग्लोबल इमरजेंसी करार दिया है। डब्लूएचओ चीफ ने कहा कि कोरोना वायरस कमजोर हेल्थ सिस्टम में तेजी से वार करता है और हम सभी लोग इसको लेकर बहुत चिंतित हैं। गुरुवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन से फैलने वाले कोरोना वायरस ( 2019-nCoV)को इंटरनेशनल इमरजेंसी के रूप में घोषित किया। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अंतरराष्ट्रीय आपातकाल घोषित किया है। ऐसे शब्द का प्रयोग विश्व स्तर पर जल्दी नहीं किया जाता है। सभी देशों के प्रमुख इस भयंकर वायरस से निपटने के लिए रणनीति बना रहे हैं।

आपको बताते चले कि केरल में एक स्टूडेंट का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है। रोगी केरल के वुहान यूनिवर्सिटी का छात्र है। अभी पेशेंट स्टेबल है और फिल्हाल डॉक्टरों की निगरानी में है। कोरोना वायरस के कारण अब तक 213 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 9,800 से ज्यादा इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। चीन में कई भारतीय फंसे हुए हैं।

चीन से भारतीयों को एयरलिफ्ट करने के लिए एयर इंडिया का विमान वुहान रवाना हो चुका है। भारत के कई राज्यों से कोरोना वायरस के संदिग्ध मामलें सामने आ रहे हैं, जिनकी तुरंत जांच की जा रही है।

इंडियन आर्मी ने तैयार किया सुविधा केंद्र

डब्लूएचओ (WHO) के आपातकाल घोषित करने के बाद इंडियन आर्मी ने मानसर के पास सुविधा केंद्र बनाया है, जिसमे वुहान से आ रहे लगभग 300 भारतीय छात्रों को रखा जाएगा। कोरोना वायरस( 2019-nCoV) की जांच के लिए छात्रों की निगरानी के लिए एक टीम भी रखी जाएगी ताकि संक्रमण के बारे में पता लगाया जा सके। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) ने चीन (वुहान) से आने वाले लगभग 600 भारतीय परिवारों के लिए ITBP छावला कैंप, नई दिल्ली के पास एक सुविधा केंद्र बनाया है। एयरपोर्ट से परिवार और बच्चों को इसी सुविधा केंद्र में लाया जाएगा। कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को फैलने से रोकने के लिए बचाव बहुत जरूरी है।

और पढ़ें- बुजुर्गों को कोरोना का खतरा अधिक, जानें कैसे करें बचाव

कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) के बारे में जानते हैं आप ?

कोरोना वायरस इंसानों समेत सभी मैमल्स (Mammals) में रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं को पैदा कर सकता है। इस वायरस का नाम कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) इस वजह से पड़ा, क्योंकि इलेक्ट्रोन माइक्रोस्कॉप से देखने पर ये विषाणु क्राउन शेप में दिखता है। अधिकतर कोरोना वायरस हानिकारक नहीं होते हैं। लेकिन, कोरोना वायरस के सार्स (SARS) और मार्स (MERS) प्रकार इंसानों के लिए खतरनाक हो सकते हैं। जानवरों में पहला कोरोना वायरस पहली बार 1937 में पक्षियों में संक्रमित ब्रोंकाइटिस वायरस के रूप में मिला था और इसके बाद पहला ह्यूमन कोरोना वायरस 1960 में सामान्य जुकाम से ग्रसित मरीजों की नाक में पाया गया। कोरोना वायरस को कोरोना बियर से जोड़कर भी देखा गया था। कोरोना बियर को कोरोना वायरस फैली की वजह बताया जा रहा था, जो कि गलत है। इस वायरस को इसलिए भी खतरनाक माना जा रहा है क्योंकि इसके लक्षण की जानकारी आसानी से नहीं हो पाती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : सांप (Snake) से कोरोना वायरस (Coronavirus) फैलने की है आशंका, सामने आई ये बातें

कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) के इन लक्षणों से रहे सतर्क

सर्दी-जुकाम होना सामान्य बात होती है लेकिन अभी दुनियाभर में कोरोना वायरस का आतंक फैला हुआ है। ऐसे में कुछ लक्षणों का ध्यान जरूर रखना चाहिए।

  • सिरदर्द की समस्या
  • खांसी की समस्या
  • गले में दर्द और खराश
  • शरीर का ताप बढ़ जाना
  • अस्वस्थ्य होने का सामान्य एहसास
  • अस्थमा
  • नाक बहना

कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को लेकर सावधानियां

  •  स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) से बचाव के लिए भारत के लिए जानकारी उपलब्ध कराई है।
  • अगर किसी भी व्यक्ति को जुकाम के लक्षण दिख रहे है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दिए गए नंबर पर भी संपर्क किया जा सकता है।
  • जब भी घर से बाहर निकलें तो मुंह पर मास्क का प्रयोग करके निकलें।बिना मास्क के घर के बाहर न जाए।
  • मास्क को साफ रखना भी बहुत जरूरी है। डिस्पोजल मास्क का दोबारा प्रयोग न करें।
  • अगर देश के बाहर की यात्रा करके आएं हैं तो तुरंत अपनी जांच कराएं और घबराएं नहीं।

और पढ़ें :  कोरोना वायरस से बचाव संबंधित सवाल और उनपर डॉक्टर्स के जवाब

  • अगर आप किसी भी देश से भारत वापस आए है तो इस जानकारी न छुपाएं। ऐसा करना गैर इरादतन अपराध की श्रेणी में आएगा।
  • अब जबकि ग्लोबल इमरजेंसी लागू कर दी गई है, कुछ समय के लिए चीन की यात्रा करने से बचें।
  • घर से बाहर जाने पर अपने साथ ताजा खाना रखें और बाहर का खाना न खाएं।
  • किसी से भी हाथ मिलाने से बचें और यदि जरूरी भी है तो हाथ मिलाने के बाद हाथों को साबुन से धोएं।
  • छींक या खांसी आने पर मुंह को ढक लें।
  • खांसी और छींक से परेशान मरीज से थोड़ी एहतियात के साथ मिलें या जिसकी तबियत ठीक न हो उससे दूरी बनाकर रखें।
  • कोशिश करें कि जानवरों का मांस न खाएं। जो भी खाएं, उसे अच्छी तरह से साफ कर लें
  • किसी भी तरह के जानवरों के फार्म, पशुओं के बाजार और बूचड़खाने में जाने से बचें।
  • अगर कोई व्यक्ति विदेश से आया है और उसे जुकाम के लक्षण दिख रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ऐसे व्यक्ति से दूरी बनाएं। कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को लेकर सतर्क रहे।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार मुहैया नहीं कराता।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य आपके लिए चिंता का विषय बन सकता है। कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य निमोनिया, सांस फूलने जैसे स्थितियों से गुजर सकता है। वर्ल्ड लंग डे पर जानें कोरोना के बाद फेफड़ों की कैसे देखभाल करें, world Lung Day, Coronavirus, COVID-19.

के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

कोरोना से ठीक होने के बाद के उपाय के रूप में काढ़ा, आंवला, मुलेठी, हल्दी वाला गर्म दूध, गिलोय का अर्क आदि पीने के साथ ही योग और संतुलित डाइट फॉलो करें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
कोविड 19 की रोकथाम, कोरोना वायरस सितम्बर 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

पीपीआई यानी प्रोटोन पंप प्रोटोन पंप इंहिबिटर, ऐसी दवाएं जो हार्ट बर्न और एसिडिटी के इलाज में उपयोग की जाती है। अमेरिकन स्टडीज में दावा किया गया है कि इनके उपयोग से कोरोना वायरस का रिस्क बढ़ जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड 19 सावधानियां, कोरोना वायरस सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

कोविड-19 के बाद ट्रैवल करना पहले जितना मजेदार नहीं रहेगा क्योंकि एक तो आपको संक्रमण से बचाव की चिंता लगी रहेगी दूसरी तरफ कई नियमों का पालन भी करना होगा।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड-19, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध,epilepsy and covid-19

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हाथों की सफाई, hand wash

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हार्ट पर कोविड-19 का प्रभाव, heart issues after recovery from coronavirus

कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ सितम्बर 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें