home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

दुनिया से कभी खत्म नहीं होगा कोविड-19 का प्रकोप, फ्लू जैसे लक्षणों से लोगों को बीमार बनाता रहेगा कोरोना

दुनिया से कभी खत्म नहीं होगा कोविड-19 का प्रकोप, फ्लू जैसे लक्षणों से लोगों को बीमार बनाता रहेगा कोरोना

दुनिया भर में कोविड-19 का प्रकोप रोज लोगों की जान ले रहा है। विश्व का शायद ही कोई ऐसा देश बचा हो, जहां कोरोना वायरस संक्रमण का फैलाव नहीं हुआ हो। कोरोना का बढ़ता फैलाव दुनिया के सभी देशों की चिंता का कारण बन चुका है। वर्तमान की स्थिति यह है कि छोटे या बड़े, सभी देश कोरोना वायरस का प्रकोप झेल रहे हैं और कई देशों के वैज्ञानिक कोरोना का इलाज ढूंढ़ने की भी कोशिश कर रहे हैं। सभी लोगों को उम्मीद थी कि वैज्ञानिकों की कोशिशें कामयाब होंगी और जल्द ही कोविड-19 का खात्मा हो सकेगा, लेकिन अब यह खबर आई है कि दुनिया से कभी खत्म नहीं हो सकेगा कोविड-19 का प्रकोप। यह भी जानकारी मिली है कि भविष्य में भी फ्लू जैसे लक्षणों के रूप में कोरोना वायरस लोगों को बीमार बनाता रहेगा।

कोविड-19 का प्रकोपः विश्व स्वास्थ्य संगठन ने किया था महामारी घोषित

चीन से जब कोरोना वायरस का फैलाव शुरू हुआ, तो किसी ने नहीं सोचा था कि यह बीमारी इतनी बड़ी महामारी बन जाएगी। किसी को उम्मीद नहीं थी कि कोरोना संक्रमण का फैलाव दुनिया भर में बीस लाख से अधिक लोगों को बीमार बना देगा और लाखों लोगों की जान ले लेगा, लेकिन देखते ही देखते यह बीमारी पूरी दुनिया में फैल गई, जिसके कारण विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे महामारी घोषित कर दिया। फिलहाल कोरोना से सावधानी ही इस बीमारी का इलाज है।

कोविड-19 का प्रकोप-covid-19 ka prakop
कोविड-19 का प्रकोप-covid-19 ka prakop

ये भी पढ़ेंः विश्व के किन देशों को कोरोना वायरस ने नहीं किया प्रभावित? क्या हैं इन देशों के कोविड-19 से बचने के उपाय?

कोविड-19 का प्रकोपःलंदन के वैज्ञानिक ने दी चेतावनी

दुनिया भर के वैज्ञानिक भले ही कोविड-19 प्रकोप को खत्म करने के लिए इलाज तलाश कर रहे हों, लेकिन इससे संबंधित नई खबर सभी को चिंतित करने वाली है। लंदन में क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जॉन ऑक्सफोर्ड ने कहा, “हो सकता है कि दुनिया से कोरोना संक्रमण का फैलाव पूरी तरह कभी खत्म न हो। भविष्य में कोरोना वायरस का प्रकोप भले ही कुछ कम हो जाए, लेकिन यह पूरी तरह खत्म नहीं होगा। भविष्य में इस बीमारी के फ्लू जैसे लक्षणों दिखाई दे सकते हैं। अगर समय पर ध्यान नहीं दिया गया तो भविष्य में लोगों को फ्लू जैसे लक्षण महसूस होते रहेंगे।”

ये भी पढ़ेंः क्या एक ही व्यक्ति को दोबारा हो सकता है कोरोना वायरस का संक्रमण?

कोविड-19 का प्रकोपःठंडी जलवायु में होता है कोरोना वायरस का फैलाव

क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जॉन ऑक्सफोर्ड ने यह भी कहा कि दूसरी जलवायु की तुलना में ठंडे वातावरण में कोरोना वायरस का प्रजनन बेहतर तरीके से होता है और इससे कोरोना संक्रमण का फैलाव तेजी से होने की संभावना हो सकती है। इसलिए संभव है कि यूनाइटेड किंगडम या दूसरे ठंडी जलवायु वाले स्थानों पर कोविड-19 या कोरोना वायरस का प्रकोप पूरी तरह खत्म न हो पाए और यह मौसमी बीमारी जैसे फ्लू में बदल कर लोगों को बीमार बनाए।

ये भी पढ़ेंः कोविड-19 के इलाज के लिए 100 साल पुरानी पद्धति को अपना रहे हैं डॉक्टर, जानें क्या है प्लाज्मा थेरेपी

कोविड-19 का प्रकोपःसर्दी के समय तेजी से हो सकता है कोरोना वायरस का फैलाव

यूनाइटेड किंगडम के वैज्ञानिक ने कहा, “इस बात की पूरी संभावना है कि सर्दी के मौसम में कोरोना संक्रमण का फैलाव बहुत तेजी से हो। इसका कारण है कि इस मौसम में कोरोना वायरस का प्रजनन तेजी से होता है और इस मौसम में यह वायरस स्वस्थ कोशिकाओं को अधिक प्रभावी ढंग से बीमार बना सकता है।”

कोविड-19 का प्रकोप-covid-19 ka prakop
कोविड-19 का प्रकोप-covid-19 ka prakop

ये भी पढ़ेंः अगर आपका इलाका भी हो भी रहा सैनिटाइज, तो इन बातों का रखें ख्याल

कोविड-19 का प्रकोपःगर्मी में कम हो सकता है कोरोना संक्रमण का फैलाव

शोधकर्ताओं ने यह भी कहा कि इस बात की भी संभावना अधिक है कि जैसे-जैसे तापमान बढ़ता जाएगा, कोविड-19 का प्रकोप कम होता जाएगा। शोधकर्ताओं ने चीन का उदाहरण देते हुए कहा कि ठंड के समय में चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप बहुत अधिक था, लेकिन अब मौसम में बदलाव होने के कराण नए मामलों में कमी देखने को मिल रही है।

ये भी पढ़ेंः Corona Virus Fact Check: आखिर कैसे पहचानें कोरोना वायरस की फेक न्यूज को?

कोविड-19 का प्रकोपःसालों से ऐसे वायरस लोगों को बना रहे बीमार

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वारयस फैमिली के दूसरे वायरस श्वसन-तंत्र संबंधी बीमारी फैलाने का कारण बनते रहे हैं। यही कारण है कि अगर आप इन बीमारियों का अध्ययन करेंगे, तो पाएंगे कि ये बीमारियां पिछले 50 वर्ष या इससे भी अधिक समय से मौसमी बीमारियों के रूप में लोगों को होती रहती हैं।

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस की ग्लोसरी: आपने पहली बार सुने होंगे ऐसे-ऐसे शब्द

कोविड-19 का प्रकोपःएक ही फैमिली के वायरस से हुईं थीं MERS और SARS जैसी बीमारियां

प्रोफेसर जॉन ऑक्सफोर्ड ने आगे कहा कि MERS और SARS जैसी दूसरी घातक संक्रमणों के प्रसार के लिए एक ही फैमिली का वायरस जिम्मेदार है। इसलिए भी संभावना है कि कोरोना वायरस संक्रमण का फैलाव पूरी तरह खत्म न हो और यह फ्लू में बदल जाए। वास्तव में MERS और SARS के लक्षणों को देखकर ही कोविड-19 प्रकोप के कभी खत्म न होने की संभावना को बल मिल रहा है।

कोविड-19 का प्रकोप-covid-19 ka prakop
कोविड-19 का प्रकोप-covid-19 ka prakop

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस के लक्षण तेजी से बदल रहे हैं, जानिए कोरोना के अब तक विभिन्न लक्षणों के बारे में

कोविड-19 का प्रकोपःफ्लू और कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण एक समान

कोविड-19 (कोरोन वायरस) का प्रकोप दिसंबर 2019 में चीन के वुहान से शुरू हुआ था। एक पशु बाजार से शुरू हुआ कोरोना वायरस का फैलाव लगातार खतरनाक तरीके से बढ़ता जा रहा है। लोग जब इस वायरस से संक्रमित होते हैं, तो उन्हें शुरू में कोई लक्षण महूसस नहीं होता, बल्कि शुरुआत में लोगों को केवल फ्लू के जैसे ही लक्षण महसूस होते हैं।

फ्लू होने पर लोगों को शुरू में सर्दी, खांसी, बुखार, उल्टी और सांस लेने में तकलीफ होती हैं और कोरोना वायरस महामारी के संक्रमण के कारण भी लोगों को यही समस्याएं आती हैं।

ये भी पढ़ेंः फार्मा कंपनी ने डोनेट की 34 लाख हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन टैबलेट्स, ऐसे होगा इस्तेमाल

कोविड-19 का प्रकोपःखुद को बदल सकता है कोरोना वायरस

यह बीमारी अभी भी बढ़ती जा रही है और यह अंदाजा लगाना मुश्किल है कि दुनिया के वैज्ञानिक कब तक कोविड-19 का प्रकोप खत्म कर पाएंगे या इस महामारी पर नियंत्रण पाने में कामयाब हो सकेंगे। अगर इस रोग पर काबू पाने में पूरी तरह कामयाबी न मिल सकी, तो भविष्य में इस बीमारी के कारण लोगों को सर्दी, खांसी जैसे फ्लू के लक्षणों महसूस होते रहें। कोरोना वायरस के कारण तेजी से दुनिया बदल रही है।सावधानी की सहायता से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है।

कोविड-19 का प्रकोप-covid-19 ka prakop
कोविड-19 का प्रकोप-covid-19 ka prakop

ये भी पढ़ेंः कोरोना से होने वाली फेफड़ों की समस्या डॉक्टर्स के लिए बन रही है पहेली

यह भी संभावना है कि फ्लू के लक्षणों के कारण लोग इसकी जांच न कराएं और इसकी पूरी तरह रोकथाम न हो पाए। यह वायरस खुद को बदलने की क्षमता रखता है और अगर ऐसा हो गया तो यह और भी खतरनाक हो सकता है। इसलिए उम्मीद है कि वैज्ञानिक जल्द ही इस रोग का इलाज ढूंढ़ लेंगे और दुनिया से कोविड-19 का प्रकोप पूरी तरह से खत्म होगा।

कोविड-19 का प्रकोपःविश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्देशों का करें पालन

कोविड-19 (कोरोना वायरस) का प्रकोप आज विश्व भर में डेढ़ लाख से अधिक लोगों की जान ले चुका है और अभी भी कोरोना वायरस का फैलाव रुकने का नाम नहीं ले रहा है। इसलिए जब तक कोरोना वायरस का प्रकोप दुनिया से खत्म न हो जाए या कोरोना संक्रमण का फैलाव कम न हो जाए, तब तक आप पूरी तरह सावधान रहें। विश्व स्वास्थ्य संगठन और सरकार के सभी निर्देशों का पूरी तरह से पालन करें, क्योंकि ऐसा करके ही आप कोरोना वायरस का फैलाव कम कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ेंः

नोवल कोरोना वायरस संक्रमणः बीते 100 दिनों में बदल गई पूरी दुनिया

मास्क पर एक हफ्ते से ज्यादा एक्टिव रह सकता है कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

कोरोना के दौरान डेटिंग पैटर्न में बदलाव, इस तरह पार्टनर तलाश रहे युवा

इस सदी का सबसे खतरनाक वायरस है कोरोना, कोविड-19 की A से Z जानकारी पढ़ें यहां

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Accessed on 19/04/2020

Coronavirus-https://www.who.int/health-topics/coronavirus-

Coronavirus disease (COVID-19) Pandemic –https://www.who.int/emergencies/diseases/novel-coronavirus-2019

India ramps up efforts to contain the spread of novel coronavirus-https://www.who.int/india/emergencies/novel-coronavirus-2019

#IndiaFightsCorona COVID-19 –https://www.mygov.in/covid-19

Alert! Coronavirus could turn into a seasonal infection, urges a UK scientist
https://timesofindia.indiatimes.com/life-style/health-fitness/health-news/alert-coronavirus-could-turn-into-a-seasonal-infection-urges-a-uk-scientist/articleshow/74459902.cms

 

लेखक की तस्वीर badge
Suraj Kumar Das द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x