COVID-19 वैक्सीन : क्या सच में रूस ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन बना ली है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

दुनिया में चारों तरफ जहां कोरोना वायरस के केसेस बढ़ रहे हैं। महामारी से लाखो लोगों की जान जा रही हैं। वहीं, अब पूरी दुनिया कोरोना की वैक्सीन के इंतजार में आस लगाए बैठी है। सभी के मन में सवाल है कि कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन कब आएगी। आपको बता दें कि कोरोना की वैक्सीन (Corona virus Vaccine) को बनाने में दुनिया भर तमाम देश रिसर्च में लगे हुए हैं। वहीं, रूस से COVID-19 वैक्सीन को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है। रूस का दावा है कि वह COVID-19 वैक्सीन को मंजूरी देने वाला पहला देश बनने वाला है, जिसमें बड़े पैमाने पर टीकाकरण की शुरुआत अक्टूबर से शुरू की जाएगी। एक रिपोर्ट के अनुसार, उप-स्वास्थ्य मंत्री ओलेग ग्रिडनेव ने कहा है कि देश 12 अगस्त को नोवल कोरोना वायरस के खिलाफ अपना पहला टीका दर्ज करेगा। क्या सच में रूस ने कोरोना वायरस की वैक्सीन बना ली है? आइए जानते हैं इसके बारे में सब कुछ यहां-

कोरोना की वैक्सीन : फेज 3 का ट्रायल शुरू होने जा रहा

वैक्सीन के नैदानिक ​​परीक्षणों की शुरुआत 18 जून को हुई और इसमें 38 वालंटियर्स (volunteers) शामिल थे। सभी पार्टिसिपेंट्स ने इम्युनिटी विकसित की। पहले ग्रुप को 15 जुलाई को और दूसरे ग्रुप को 20 जुलाई को छुट्टी भी दी गई। इसके अलावा, वेकरोलोजी और बायोटेक्नोलॉजी के वेकटोर स्टेट रिसर्च सेंटर द्वारा विकसित दूसरे कोविड-19 वैक्सीन परीक्षण में भाग लेने वाले सभी वालंटियर्स की हेल्थ ठीक है। साथ ही उनमें टीकाकरण का कोई दुष्प्रभाव भी नहीं देखा गया है। ऐसा फेडरल सर्विस फॉर सर्विलांस ऑन कंज्यूमर राइट्स एंड ह्यूमन वेल बींग ने एक रूसी समाचार एजेंसी को बताया है। रूस की गमलेई की कोरोना की वैक्सीन पश्चिमी देशों की तुलना में ज्‍यादा तेजी से आगे बढ़ रही है। आपको बता दें कि तीन अगस्‍त से इस वैक्‍सीन का फेज 3 का ट्रायल शुरू होने जा रहा है। जिसमें रूस, यूएई और सऊदी अरब के हजारों लोग हिस्‍सा लेंगे।

और पढ़ें : कोरोना वायरस लेटेस्ट अपडेट्स : कोरोना संक्रमण के मामलों में तीसरे स्थान पर पहुंचा भारत

डब्ल्यूएचओ ने जोर दिया इस बात पर

इस बीच, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंगलवार को रूस से आग्रह किया कि मॉस्को द्वारा COVID-19 वैक्सीन का तेजी से उत्पादन शुरू करने की योजना की घोषणा करने के बाद सुरक्षित और प्रभावी टीकों के उत्पादन के लिए स्थापित दिशा-निर्देशों का पालन करें। डब्ल्यूएचओ ने जोर दिया कि सभी वैक्सीन उम्मीदवारों को रोल आउट होने से पहले परीक्षण के पूर्ण चरणों से गुजरना चाहिए। डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता क्रिश्चियन लिंडमियर ने संयुक्त राष्ट्र में जिनेवा में संवाददाताओं से कहा कि “वैक्सीन के प्रोडक्शन के लिए कुछ दिशा-निर्देश हैं जिनका पालन किया जाना चाहिए।” उन्होंने कहा, “इस उद्देश्य के लिए कोई भी टीका या दवा, निश्चित रूप से, रोल-आउट के लिए लाइसेंस प्राप्त करने से पहले सभी परीक्षणों से गुजरना चाहिए।”

और पढ़ें : कोरोना के बाद चीन में सामने आया नया फ्लू वायरस, दे रहा है महामारी का संकेत

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जताई शंका

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), पहले ही रूस की इस कोरोना वैक्सीन को लेकर संदेह जता चुका है। इसके अलावा अब तो ब्रिटेन ने रूस की इस वैक्सीन को उपयोग करने से साफ मना कर दिया है। दरअसल, अमेरिका और ब्रिटेन सहित तमाम देशों के एक्सपर्ट्स वैक्सीन की प्रभावशीलता और सेफ्टी पर शंका जता रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि रूस ने अभी तक अपने पहले नैदानिक ​​परीक्षणों से कोई वैज्ञानिक डेटा प्रकाशित नहीं किया है। इस वजह से सभी देश इसकी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। ग्लोबल हेल्थ प्रोग्राम के निदेशक थॉमस बोल्स्की ने कहा कि “यदि टीकों का सही तरीके से परीक्षण नहीं किया जाता है, तो इससे स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पैदा हो सकते हैं। साथ ही इस स्थिति में वैक्सीन पर लोगों का भरोसा भी कम हो सकता है।” फाइनल स्टेज स्टडी, जिसमें आमतौर पर हजारों लोग शामिल होते हैं, जिससे साबित होता है कि कोई प्रयोगात्मक टीका कितना सुरक्षित है और वास्तव में काम करता है या नहीं।

और पढ़ें : क्या मॉनसून और कोरोना में संबंध है? बारिश में कोविड-19 हो सकता है चरम पर

सितंबर से कोरोना की वैक्सीन का बड़े पैमाने पर हो सकता है प्रोडक्शन

गमलेई सेंटर के हेड अलेक्जेंडर जिंट्सबर्ग ने गवर्नमेंट न्‍यूज एजेंसी को बताया कि उन्‍हें आशा है कि कोरोना की वैक्सीन 12 से 14 अगस्‍त के बीच ‘सिविल सर्कुलेशन’ में आ जाएगी। अलेक्‍जेंडर के अनुसार, प्राइवेट कंपनियां सितंबर से कोरोना की वैक्‍सीन का बड़े पैमाने पर उत्पादन भी शुरू कर सकती हैं। गमलेई सेंटर हेड की माने तो कोरोना वैक्‍सीन ह्यूमन ट्रायल में पूरी तरह सुरक्षित साबित हुई है। अगस्‍त में जब कोरोना संक्रमित पेशेंट्स को वैक्‍सीन की डोज दी जाएगी तो यह उसके फेज 3 ट्रायल जैसा होगा। क्‍योंकि जिन लोगों को वैक्सीन का डोज दिया जाएगा, उनकी मॉनिटरिंग भी सुनिश्चित की जाएगी। आपको बता दें कि फेज 1 और 2 में सामान्यतौर पर किसी वैक्‍सीन/दवा की सेफ्टी को जांचा जाता है। ताकि फेज 3 में एक बड़े ग्रुप पर वैक्सीन का ट्रायल किया जा सके।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले

रूस के कोरोना वायरस रिस्पांस सेंटर ने कहा कि रूस ने पिछले 24 घंटों में 5,241 कोरोना वायरस के नए मामले दर्ज किए हैं, जिससे कुल कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर आठ लाख से भी ऊपर पहुंच गई हैं। इस तरह से रोजाना बढ़ने वाले मामलों में 0.6 प्रतिशत की वृद्धि दर दर्ज की गई है। वहीं, पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या धीरे-धीरे दो करोड़ पहुंचने वाली है। अभी यह संख्या 1. 9 करोड़ है जिसमें से लगभग सात लाख लोगों की मौत कोरोना के कारण हुई है हालांकि, इसमें से 11.5 मिलियन लोग रिकवर भी हो चुके हैं।

और पढ़ें : कोविड-19 के इलाज में कितनी प्रभावी हैं ये 3 जेनरिक दवाएं?

COVID-19 वैक्सीन के आने तक रखें खुद का बेहद ख्याल

आप लोगों से निवेदन है कि जब तक दुनिया भर के वैज्ञानिक और हेल्थकेयर से जुड़े अन्य संस्थान COVID-19 वैक्सीन के डेवलपमेंट और प्रोडक्शन को जल्द से जल्द पूरा नहीं कर लेते हैं, तब तक आप लोग जितना ज्यादा हो सकता है घर पर रहें। भले ही देश में अनलॉक का आगाज हो गया है फिर भी बाहर निकलने पर सोशल डिस्टैन्सिंग (social distancing) का पालन करें। घर से बाहर कदम रखते ही मास्क का इस्तेमाल करना न भूलें। अपने हाथों को समय-समय पर धोएं और हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करें। जब तक कोरोना की वैक्सीन (corona vaccine) मार्केट में नहीं आ जाती है, तब तक सावधानी बरतना ही इस वायरस से बचने का प्रभावी तरीका है। खुद सुरक्षित रहें और लोगों को भी इसके लिए प्रोत्साहित करें।

आशा करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा। आपको यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताइए। अगर आपका इस विषय से जुड़ा कोई सवाल है तो वह भी कमेंट बॉक्स के जरिए आप हमसे शेयर कर सकते हैं। इस विषय में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे: पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी कैसे है एक दूसरे पर निर्भर?

जानिए विश्व मरीज सुरक्षा दिवस में कोविड-19 के समय कैसे मरीज और स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा एक दूसरे से संबंधित है? पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कैसे स्वस्थ भोजन की आदत कोरोना से लड़ने में मददगार हो सकती है? जानें एक्सपर्ट्स से

स्वस्थ भोजन की आदत कैसे डेवलप करें? बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ भोजन की आदत को अपनाना जरूरी है। स्वस्थ भोजन खाने के क्या फायदे या प्रभाव हैं?

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स किसी की सुधरी तो किसी की हुई बेकार

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स बदल गई हैं। लॉकडाउन के दौरान घर पर हेल्दी फूड्स खाना आपकी इम्युनिटी को स्ट्रॉन्ग रखने के लिए जरूरी है। वर्क फ्रॉम होम करते हुए हम लोगों को अपनी सेहत और फिटनेस पर भी ध्यान देने का मौका मिला। Lockdown eating habits in hindi

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

गणेश चतुर्थी 2020 : गणेश चतुर्थी को लेकर सरकार ने जारी किए ये गाइडलाइन, जानें क्या नहीं करना होगा

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को लेकर राज्य सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं। महाराष्ट्र सरकार ने सभी 'मंडलों' के लिए गणेशोत्सव मनाने के लिए नगर पालिका या लोकल अथॉरिटी से परमिशन लेना अनिवार्य कर दिया है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
स्वास्थ्य बुलेटिन, त्योहार अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ सितम्बर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कोरोना से ठीक होने के बाद के उपाय

कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 के बाद ट्रैवल

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें