Coconut Oil: नारियल तेल क्या है?

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

परिचय

नारियल तेल (Coconut Oil) क्या है?

नारियल तेल (Coconut Oil) के तेल को गरी का तेल भी कहा जाता है। जो नारियल के पेड़ (कोकोस न्यूसीफेरा) के फलों से पाया जाता है। यह इसके पके हुए फल के गूदे या सार से निकाला जाता है। लोग इसका सेवन आहार के तौर पर भी करते हैं, साथ ही यह पानी का भी उच्च स्त्रोत होता है। इसका इस्तेमाल खाना पकाने और तलने के लिए किया जाता है।

कोकोनट का तेल बॉडी मॉस्चराइजर के लिए भी एक अच्छा विकल्प होता है। कोकोनट में 200 से 250 ML पानी होता है। इसके पानी में विटामिन्स, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम व फाइबर जैसे कई पोषक तत्व भी होते हैं। कोकोनट वॉटर को एंटीऑक्सीडेंट का प्रमुख स्रोत भी माना गया है। यही वजह है कि नारियल का सेवन सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना गया है।

सर्वे के अनुसारः

  • 26 फीसदी यानी एक चौथाई से अधिक लोग अपने बालों की सुरक्षा और सेहत के लिए कोकोनट ऑयल का इस्तेमाल करते हैं। जबकि, 22 प्रतिशत से अधिक है जो इसका इस्तेमाल खाना पकाने के लिए करते हैं।
  • 36 फीसदी यानी एक तिहाई से अधिक लोग नारियल का सेवन अपनी पसंद के अनुसार अलग-अलग रूपों और तरीकों में करते हैं।
  • हालांकि, 11 फीसदी ऐसे भी लोग हैं जो नारियल पसंद नहीं करते हैं।

यह भी पढ़ेंः हेल्दी कुकिंग के लिए करें जैतून के तेल का इस्तेमाल

उपयोग

नारियल का तेल किसलिए इस्तेमाल किया जाता है?

डायबिटीज के नियंत्रण के लिए

गरी के तेल खाने के फायदे में डायबिटीज (मधुमेह) के जोखिम को कम किया जा सकता है। रिपोर्ट के अनुसार, इसके तेल के इस्तेमाल के फायदे टाइप -2 डायबिटीज को कंट्रोल करने में भी देखे जाते हैं। नारियल तेल के प्रयोग से कोलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है और यह बढ़े हुए ब्लड प्रेशर को भी कम करने में मदद करता है।

दिल की समस्याओं को कम करने के लिए

यह तेल हृदय के स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है। इसमें पॉली अनसैचुरेटेड फैटी एसिड की मात्रा होती है, जो हृदय रोगों के खतरे को कई गुना तक कम करने में मदद करते हैं।

नारियल के तेल का इस्तेमाल निम्नलिखित बीमारियों में किया जा सकता हैः

इसके अलावा यह इम्युनिटी को बढ़ाने, वजन घटाने और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी इस्तेमाल होता है।

निम्नलिखित समस्याओं में आप नारियल तेल को त्वचा और बालों में लगाकर मॉइस्चराइजर की तरह कर सकते हैं,

इस तेल को और भी दूसरी तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए आप डॉक्टर या हर्बल विशेषज्ञ से संपर्क करें।

नारियल का तेल कैसे काम करता है?

नारियल तेल शरीर मे कैसे काम करता है इसको लेकर अभी ज्यादा जानकारी मौजूद नहीं है। इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए आप डॉक्टर या हर्बल विशेषज्ञ से संपर्क करें। हालांकि कुछ शोध यह मानते हैं कि नारियल तेल में मीडियम चेन ट्राइग्लिसराइड्स होते हैं जो शरीर मे मौजूद सैचुरेटेड फैट (Saturated Fat) की तुलना में अलग तरीके से काम करते हैं।

यह भी पढ़ें : Budesonide + Formoterol : बुडेसोनाइड+ फॉर्मोटेरोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

नारियल तेल से जुड़ी सावधानियां और चेतावनी

नारियल तेल के इस्तेमाल से पहले मुझे क्या जानकारी होनी चाहिए?

इस तेल का इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर या फार्मासिस्ट या फिर हर्बल विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए, यदि

    • आप गर्भवती हैं या स्तनपान कराती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि जब आप बच्चे को फीडिंग कराती हैं तो अपने डॉक्टर के मुताबिक़ ही आपको दवाओं का सेवन करना चाहिए।
    • अगर आप कोई स्वास्थ्य संबंधी दवाई का सेवन कर रहे हैं तो इसका सेवन करने से बचें।
    • अगर आपको नारियल तेल और उसके दूसरे पदार्थों से या फिर किसी और दूसरे हर्ब्स (HERBS) से एलर्जी हो।
    • आप पहले से किसी तरह की बीमारी आदि से ग्रसित हैं।
    •  यदि आपको किसी तरह के खाने, जानवर या सामान से एलर्जी है तो गार्सिनिया का सेवन करने से बचना चाहिए।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की ज़रुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना ज़रुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

कितना सुरक्षित है नारियल तेल का उपयोग?

प्रेग्नेंसी और स्तनपान के दौरानः प्रेग्नेंसी और स्तनपान के दौरान इस हर्बल सप्लीमेंट को लेकर ज्यादा जानकारी मौजूद नहीं है। इसको इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।

यह भी पढ़ेंः लैप्रोस्कोपी के बाद प्रेग्नेंसी की संभावना कितनी बढ़ जाती है?

नारियल तेल के साइड इफेक्ट्स

नारियल तेल के इस्तेमाल से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

नारियल तेल के इस्तेमाल से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं,

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट हों ऐसा जरूरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

इंटरैक्शन

नारियल तेल के इस्तेमाल से अन्य किन चीजों पर प्रभाव पड़ सकता है?

इस तेल के इस्तेमाल से आपकी बीमारी या आप जो वतर्मान में दवाइयां खा रहे हैं उनके असर पर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सेवन से पहले डॉक्टर से इस विषय पर बात करें।

खासतौर पर अगर आप हाई कोलेस्ट्रॉल के मरीज हैं तो उपयोग से पहले डॉक्टर की राय लें।

नारियल तेल की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आमतौर पर कितनी मात्रा में नारियल तेल का इस्तेमाल करना चाहिए?

रोजाना दिन में दो बार 10 मिली कोकोनट आयल को आठ हफ्तों तक प्रभावित जगह पर इस्तेमाल करना चाहिए।

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

नारियल तेल किन रूपों में उपलब्ध है?

नारियल तेल निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है

  • सॉफ्टजेल
  • लिक्विड
हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या इलाज मुहैया नहीं कराता।

और पढ़ें :-

Mouse Ear herb: माउस ईयर हर्ब क्या है?
Celery : अजवाइन क्या है?

स्टेमिना बढ़ाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

Diarrohea : डायरिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय
Share now :

रिव्यू की तारीख जुलाई 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया जनवरी 14, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे