Chronic Fatigue Syndrome (CFS): क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम (Chronic Fatigue Syndrome) (CFS) क्या है?

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम (Chronic Fatigue Syndrome) (CFS) कई प्रकार से कमजोरी पैदा करने वाले विकार है। हालांकि, कुछ मामलों में क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम संक्रमण की समस्या से भी संबंधित हो सकता है। सीएफएस (CFS) को मायलजिक इंसेफेलाइटिस  (Myalgic Encephalomyelitis),सिस्टेमिक एक्सर्टियन इन्टॉलरेंस डिजीज (Systemic Exertion Intolerance Disease) (SEID) के नाम से भी जाना जाता है।

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम होने पर आपको अपने स्वास्थ्य में निम्न स्थितियां महसूस हो सकती हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • बिना किसी शारीरिक कार्य के भी पिछले छह महीने या उससे अधिक समय से भी आपको बहुत ज्यादा शारीरिक थकान महसूस होना।
  • चीजें रखकर भूल जाना या हाल ही में हुई कोई जरूरी बात-चीत याद न रहना
  • गले में खराश रहना
  • लिम्फ नोड्स की समस्या होना
  • मांसपेशियों में दर्द महसूस करना
  • बिना सूजन के जोड़ों में दर्द महसूस करना
  • लगातार सिरदर्द की समस्या होना
  • भरपूर नींद लेने के बाद भी थका हुआ महसूस करना
  • लेटे रहना या खड़े होने पर चक्कर आना
  • एक्सरसाइज करने के 24 घंटे से अधिक समय बाद भी आपको थकान महसूस होना।

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम हजारों लोगों को प्रभावित करता है। पुरुषों की तुलना में इसकी समस्या महिलाओं में अधिक देखी जा सकती है। यह स्थिति युवाओं से लेकर मध्यम आयु वर्ग तक के लोगों और वयस्कों को भी प्रभावित कर सकता है। अगर अधिक समय तक इसकी समस्या बनी रहती है, तो यह डिप्रेशन का भी कारण हो सकता है। हालांकि, एक बात का ध्यान रखें कि डिप्रेशन क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम (CFS) का कारण नहीं होता है।

और पढ़ें : Chronic Obstructive Pulmonary Disease (COPD) : क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीज क्या है?

लक्षण

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं?

सीएसएफ (CFS) के लक्षण व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक स्थिति के आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं। जो कभी-कभी गंभीर भी हो सकते हैं।

निम्न स्थितियां सीएसएफ के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं, जो हैंः

थकानः इसके सबसे आम लक्षणों में थकान मुख्य हो सकता है। जिसके कारण आपकी दैनिक गतिविधियां प्रभावित हो सकती है। शारीरिक रूप से हमेशा थकान महसूस करने से शारीरिक कार्यों को करने की क्षमता कम हो सकती है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति का अधिक से अधिक आराम करना भी कारगार नहीं माना जाता है। यानि, अगर व्यक्ति लंबे समय तक बेड रेस्ट लेता है, तो भी उसके लक्षणों में किसी तरह का सुधार नहीं देखा जा सकता है।

इसके लक्षण समय के साथ गंभीर होने लगते हैं।

हालांकि, कई लोगों में कुछ समय बाद बिना किसी उपचार के ही इसके लक्षण पूरी तरह से खत्म हो सकते हैं, जिसे विमुद्रीकरण (remission) कहा जाता है। इसके अलावा, ऊपर बताए गए इसके निम्न लक्षण दोबारा भी शुरू हो सकते हैं, जिसे रिलैप्स कहा जाता है।

रेमिशन (remission) और रिलैप्स की स्थिति इसके लक्षणों को और भी ज्यादा खराब और गंभीर कर सकते हैं।

और पढ़ें : क्या एक ही व्यक्ति को दोबारा हो सकता है कोरोना वायरस का संक्रमण?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

कारण

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम के कारण क्या हैं?

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम का कारण अज्ञात है, लेकिन स्थिति इम्यून सिस्टम पर प्रभाव के साथ संक्रमण से संबंधित हो सकती है। CFS के कारणों के रूप में कई वायरस का अध्ययन किया गया है, लेकिन इसके किसी भी कारण की पुष्टि नहीं की जा सकती है। कुछ अध्ययनों के मुताबिक,जीवाणु क्लैमाइडिया न्यूमोनिया (जो निमोनिया और अन्य बीमारियों का कारण बनता है) कुछ मामलों में CFS का कारण हो सकते हैं।

  • इसके संबंधित संक्रमणों में से एक एपस्टीन-बार वायरस या ईबीवी है। EBV मोनोन्यूक्लिओसिस का कारण है जिससे “मोनो” या “चुंबन रोग” भी होता है।
  • कुछ मामलों में EBV CFS का कारण नहीं बनता है, और CFS लंबे समय तक EBV संक्रमण या दीर्घकालिक मोनोन्यूक्लिओसिस में एक जैसा नहीं है।
  • अन्य असंबंधित संक्रामक रोग जो थकान का कारण बनता हैं उनमें निमोनिया, दस्त और ब्रोंकाइटिस शामिल हो सकते हैं।
  • कैंडिडा अल्बिकन्स संक्रमण या यीस्ट इंफेक्शन CFS का कारण नहीं बनते हैं।

और पढ़ें : Cough : खांसी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जोखिम

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम को बढ़ाने वाले जोखिम क्या हैं?

CFS की समस्या सबसे अधिक 40 से 50 की उम्र के बीच के लोगों में देखी जा सकती है। इसके अलावा, यह पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में अधिक देखा जा सकता है। कुछ तरह की स्थितियां है, जो इसके जोखिम कारक को बढ़ा सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • आनुवंशिक प्रवृतियां (genetic predisposition)
  • एलर्जी
  • तनाव
  • पर्यावरणीय कारक

और पढ़ें : Restless Legs Syndrome: जानें रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम कैसे, इसके कारण और उपचार क्या हैं?

उपचार

क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम के लिए उपचार क्या हैं?

क्रॉनिक थकान सिंड्रोम या माइलगिक एन्सेफेलोमाइलाइटिस (एमई/सीएफएस) या सिस्टेमिक एक्सर्टियन इन्टॉलरेंस डिजीज (SEID) के उपचार के तौर पर कई विकल्प मौजूद हैं, जिसमें शामिल हैंः

  • एक्यूपंक्चर
  • पोषण सप्लीमेंट्स
  • कुछ तरह की एक्सरसाइज और मेडिटेशन
  • दैनिक आहार

इसके उपचार की प्रक्रिया हर व्यक्ति पर अलग-अलग तरह से प्रभावी देखी जा सकती है।

कुछ स्थितियों में आपको डॉक्टर ओवर-द-काउंटर और प्रिस्क्रिप्शन दवाओं के सेवन की भी सलाह दे सकते हैं, जो आपको मौजूदा लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

क्या दवाईयां क्रोनिक थकान सिंड्रोम (CFS) का उपचार कर सकती है?

क्रॉनिक थकान सिंड्रोम (CFS) के उपचार के लिए दवाओं का सेवन पूरी तरह से लाभकारी नहीं माना जा सकता है। हालांकि, इसके कुछ लक्षणों को कम करने के लिए आपको डॉक्टर आपको निम्न स्थितियों के लिए दवाओं के सेवन की सलाह दे सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • नींद की समस्या को दूर करने के लिए नींद की गोली, जैसे- एंटीहिस्टामाइन, जिसमें शामिल हो सकते हैं- -एस्जोपिकलोन, रामेल्टन, जोलपिडेम
  • शारीरिक थकान को दूर करने के लिए कुछ तरह के सप्लीमेंट्स
  • मांसपेशियों के दर्द और जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए दर्द निवारक दवाओं की सलाह दे सकते हैं, जैसे- आइबूप्रोफेन, एस्पिरिन, एसिटामिनोफेन

निम्न बातों का भी रखें ध्यान

कभी-कभी सभी नींद की दवाओं के सेवन से आपको कुछ तरह के साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं, जैसे- दिन में नींद आना, चक्कर आना, खड़े होने या बैठने पर शरीर का बैलेंस बनाए रखने नें परेशानी होना और मेमोरी लैप्स।

ऐसी किसी भी स्थिति का अनुभव होने पर आपको अपनी खुराक तुरंत बंद कर देनी चाहिए और अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। साथ ही, इन दवाओं का सेवन आपके डॉक्टर आपके लिए सिर्फ कुछ समय के लिए ही तय कर सकते हैं। लंबे समय तक इनका सेवन करना गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों का कारण भी बन सकते हैं।

इससे जुड़ी अगर आपकी कोई समस्या है, तो उसके बेहतर समाधान के लिए कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Quiz: ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst) के बारे में जानने के लिए खेलें क्विज

जानिए ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst) की जानकारी in hindi,निदान और उपचार, ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst) के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, cyst का खतरा, जानिए जरूरी बातें

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
क्विज फ़रवरी 18, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

पीसीओडी से ग्रस्त महिलाओं की सेक्स लाइफ पर हो सकता है खतरा, जानें कैसे

पीसीओडी और सेक्स समस्याएं क्या है, PCOD and Sex problems in hindi, पीसीओडी और सेक्स समस्याएं, pcod and sex problem kya hai, pcos ki wajah se kaun si sex problem hoti hain, पीसीओएस और सेक्स का संबंध क्या है। पीसीओडी कैसे आपकी सेक्स लाइफ खराब कर सकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
महिलाओं का स्वास्थ्य, स्वस्थ जीवन फ़रवरी 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कोउवाडे सिंड्रोम क्या है, पिता पर क्या पड़ता है असर?

कोउवाडे सिंड्रोम की जानकारी in hindi. सिंपथेटिक प्रेग्नेंसी या कोउवाडे सिंड्रोम ऐसी अवस्था है जिसमें पुरुष बच्चा होने के लक्षणों को महसूस करता है। इस आर्टिकल में जानिए इस सिंड्रोम के लक्षण और यह फॉल्स प्रेग्नेंसी से कितना अलग है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी जनवरी 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Horner syndrome : हॉर्नर सिंड्रोम क्या है?

हॉर्नर सिंड्रोम (Horner syndrome) क्या है? इस समस्या के क्या लक्षण हैं? हॉर्नर सिंड्रोम होने का क्या कारण है? इसका इलाज क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z नवम्बर 28, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

लॉकडाउन में पीसीओएस पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS)

लॉकडाउन में पीसीओएस को कैसे दें मात? फॉलो करें ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ सितम्बर 16, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें
मेटाबोलिक सिंड्रोम-Metabolic syndrome

Metabolic syndrome: मेटाबोलिक सिंड्रोम क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Poonam
प्रकाशित हुआ अप्रैल 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में रेस्टलेस लेग सिंड्रोम-pregnancy restless legs syndrome

प्रेग्नेंसी में रेस्टलेस लेग सिंड्रोम से कैसे बचाव करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ अप्रैल 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम-Toxic shock syndrome

Toxic Shock Syndrome : टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम क्या है? जानिए इसके कारण और उपचार

के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
प्रकाशित हुआ मार्च 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें