Nutmeg: जायफल क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 14, 2020
Share now

जायफल का परिचय

जायफल (Nutmeg) एक सदाबहार वृक्ष है, जो इण्डोनेशिया के मोलुकास द्वीप में पाया जाता है। इसका इस्तेमाल ज्यादातर भारतीय घरों में छोटे बच्चों के लिए किया जाता है, ताकि उनके द्वारा खाए जाने वाले खाने को आसानी से पचाया जा सके। दक्षिण भारत के कुछ घरों में इसका इस्तेमाल मसाले के तौर पर किया जाता है। इसका वानस्पतिक नाम Myristica fragrans है। इसकी लगभग 80 जातियां हैं, जो भारत, आस्ट्रेलिया और प्रशंत महासागर के द्वीपों में पाई जाती हैं। 

जायफल के उपयोग

जायफल का उपयोग आमतौर पर कई प्रकार की स्वास्थ्य स्थितियों के लिए किया जाता है:

अनिद्रा की समस्या में

अनिद्रा या नींद न आने की समस्या को दूर करने में यह काफी लाभकारी होता है। इसका लाभ लेने के लिए सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध में चुटकी भर इसका पाउडर मिलकार पीने से फायदा मिलता है।

गठिया के लिए

गठिया की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। गठिया होने के कई कारण भी होते हैं। गठिया होने पर प्रभावित जगह पर इसके तेल से मालिश करना चाहिए या जायफल का सेवन करना चाहिए। जायफल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो गठिया के दर्द और सूजन से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं।

दांतों की सेहत के लिए

दांतों में कैविटी की समस्या होने पर इससे उनका उपचार किया जा सकता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं, जो मुंह के स्वास्थ्य और दांतों की सड़न की समस्या को दूर कर सकते हैं।

कैंसर से बचाव के लिए

कैंसर से घरेलू बचाव के तौर पर इसका सेवन किया जा सकता है। जायफल का एसेंशियल ऑयल एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है। जो कैंसर की रोकथाम के लिए मददगार हो सकता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटी-माइक्रोबियल पेट के कैंसर से भी बचाव करते हैं।

इसका इस्तेमाल कई और बीमारियों में किया जाता है इसलिए इसका इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लीजिए।

यह भी पढ़ें: Cashew : काजू क्या है?

जायफल कैसे काम करता है?

इसमें ऐसे रसायन होते हैं, जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकते हैं। जायफल पर हाल ही में हुए शोध के मुताबिक, यह शरीर में पैदा होने वाले बैक्टीरिया और कवक को भी मार सकता है। इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

यह भी पढ़ेंः Alzheimer : अल्जाइमर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जायफल से जुड़ी सावधानियां एवं चेतावनी 

जायफल का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अगर आप गर्भवती हैं या फिर शिशु को स्तनपान करवा रही हैं, तो इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें। ऐसा इसलिए है कि गर्भावस्था में महिला को खानपान का ध्यान रखना जरूरी है, ऐसे में अगर जायफल का सेवन किया जाए, तो कई बार यह नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

  • अगर आप कोई स्वास्थ्य संबंधी दवाई का सेवन कर रहे हैं, तो इसका सेवन करने से बचें।
  • अगर आपको किसी तरह की एलर्जी या दवाई से नुकसान है, तो जायफल का सेवन बिना डॉक्टर के सुझाव के न करें।
  • आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या कोई चिकित्सीय उपचार चल रहा है तो इसका सेवन न करें।
  • यदि आपको किसी तरह के खाने, जानवर या सामान से एलर्जी है, तो जायफल का सेवन करने से बचना चाहिए।

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, एलौपेथिक दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरूरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: Curry Leaves : करी पत्ता क्या है?

जायफल का इस्तेमाल कितना सुरक्षित है?

इसपर पर हुए शोधों में अभी तक कई बातें सामने नहीं आ पाई हैं। अगर आप गर्भवती हैं या फिर स्तनपान करवा रही हैं, तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लीजिए। गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान इसके साइड इफेक्ट के बारे में जरूर जानकारी प्राप्त करें।

जायफल के दुष्प्रभाव हो सकते हैं?

  • 120 मिलीग्राम या उससे अधिक जायफल की खुराक रोजाना लंबे समय तक लेने से मतिभ्रम और अन्य मानसिक दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
  • जायफल पर हुए शोध में यह बात सामने आई है कि जो लोग ज्यादा मात्रा में जायफल का इस्तेमाल करते हैं, उन्हें मतली, शुष्क मुंह, चक्कर आना, अनियमित धड़कन, दिमाग की क्षति और मृत्यु तक हो सकती है।
  • अगर आप जायफल का इस्तेमाल स्किन पर रहे हैं, तो एक बार डॉक्टर से सलाह लीजिए। शोध में जायफल त्वचा के इस्तेमाल के लिए सुरक्षित है या नहीं इसकी पर्याप्त जानकारी नहीं मिल पाई है।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, एलौपेथिक दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरूरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

अगर आप इसका इस्तेमाल किसी तरह की दवाई के साथ कर रहे हैं, तो एक बार डॉक्टर से संपर्क जरूर करिए।

लिवर के लिए- शोधकर्ताओं के मुताबिक, अधिक मात्रा में जायफल का इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लीजिए। लिवर की दवाओं के साथ अगर जायफल का इस्तेमाल किया जाए, तो यह दवाओं को बेसर कर सकता है। जायफल के साथ अगर लिवर की दवाएं ली जाएं, तो इसके कई तरह के दुष्प्रभाव हो सकते हैं, इसलिए इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लीजिए।

लिवर की बीमारी में ली जाने वाली इन दवाओं में क्लोरज़ोक्साज़ोन, थियोफ़िलाइन, बुफ़्यूरोल, क्लोज़ापाइन (क्लोज़ारिल), साइक्लोबेनज़ाप्रिन (फ्लेक्सेरिल), फ्लुवोक्सामाइन (ल्यूवोक्स), हेलोपरिडोल (हल्डोल), इमीप्रामीन (टॉफ़्रेनिल), मैक्सिलम, मैक्सिकन ), पेंटाजोसिन (टैल्विन), प्रोप्रानोलोल (इंडेरल), टैक्राइन (कॉग्नेक्स), थियोफिलाइन, ज़ाइलुटोन (ज़ायलो), ज़ोलमिट्रिप्टन (ज़ोमिग) शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः बेबी ब्लूज और पोस्टपार्टम डिप्रेशन का कारण और इलाज

जायफल किस रूप में आता है?

जायफल निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध हो सकता है:

  • जायफल का पाउडर

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें:-

Fenugreek : मेथी क्या है?

Iron Test : आयरन टेस्ट क्या है?

Liver Biopsy: लिवर बायोप्सी क्या है?

Ibugesic Plus : इबूगेसिक प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Constipation (Adult) : कब्ज (कॉन्स्टिपेशन) क्या है?

    जानिए कब्ज क्या है in hindi, कब्ज के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Constipation को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Anoop Singh

    Cassie absolute: कैसी एब्सोल्युट क्या है?

    जानिए कैसी एब्सोल्युट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, कैसी एब्सोल्युट उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Cassie absolute डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Anu Sharma

    Tormentil: टॉरमेंटिल क्या है?

    जानिए टॉरमेंटिल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, टॉरमेंटिल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Tormentil डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang

    Bisacodyl: बिसाकोडिल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    बिसाकोडिल की जानकारी in hindi. बिसाकोडिल का इस्तेमाल, उपयोग, इसके सेवन की मात्रा, खुराक, साइड इफेक्ट्स, सावधानियां, bisacodyl के उपयोग का तरीका, कब लें कितना लें।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anoop Singh