Rosemary : रोजमेरी क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 3, 2020
Share now

परिचय

रोजमेरी के पौधे में काफी औषधीय गुण मौजूद होते हैं। यह एक सदाबहार पौधा है, जो कि पैनी पत्तियों वाला एक सुगंधित पौधा है। रोजमेरी की पत्तियों से निकाले गए तेल का इस्तेमाल दवाइयां बनाने के लिए किया जाता है।

रोजमेरी बोटेनिकल नाम साल्विया रोसमारिनस (Salvia rosmarinus) है, जो कि लेमियासी (Lamiaceae) फैमिली का है। इसका इस्तेमाल खाने में फ्लेवर डालने के लिए भी किया जाता है। इसके साथ ही यह आयरन, कैल्शियम और विटामिन बी-6 का एक अच्छा स्त्रोत है। काफी समय से रोजमेरी का इस्तेमाल इलाज के लिए किया जाता रहा है। इसके उपयोग से मांसपेशियों के दर्द में आराम, याद्दाश्त में सुधार, रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी आदि जैसे फायदे मिलते हैं।

यह भी पढ़ेंः Pansy: पैन्सी क्या है?

उपयोग

रोजमेरी का उपयोग किस लिए किया जाता है? 

रोजमेरी का उपयोग निम्नलिखित उपचार में किया जाता है:

  • पेट फूलना,
  • लिवर और गॉलब्लेडर की शिकायत
  • भूख न लगना
  • गठिया
  • खांसी
  • सिरदर्द
  • उच्च रक्त चाप
  • बढ़ती उम्र के साथ याददाश्त कमजोर होना

कुछ महिलाएं मासिक धर्म के प्रवाह को बढ़ाने और गर्भपात के लिए रोजमेरी का उपयोग करती हैं।

रोजमेरी का उपयोग त्वचा के उपचार लिए भी किया जाता है, अन्य:

  • गंजेपन को रोकना और उपचार करना
  • ब्लड सर्कुलेशन की समस्याओं
  • दांत दर्द,
  • एक्जिमा
  • जोड़ों का दर्द या मांसपेशियों में दर्द जैसे कि माइलियागिया, कटिस्नायुशूल और इंटरकोस्टल न्यूराल्जिया

खाद्य पदार्थों में, रोजमेरी का उपयोग मसाले के रूप में किया जाता है। पत्ती और तेल का उपयोग खाद्य पदार्थों में किया जाता है और तेल का उपयोग पेय पदार्थों में किया जाता है।

मैनुफैक्चरिंग में, रोजमेरी तेल का उपयोग साबुन और इत्र में मौजूद खुशबूदार घटक के रूप में किया जाता है।

यह भी पढ़ें : Kalonji : कलौंजी क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

यह कैसे काम करता है?

रोजमेरी कैसे काम करती है, इस बारे में पर्याप्त अध्ययन नहीं किए गए हैं। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें। हालांकि, यह ज्ञात है कि इसे सिर की स्किन पर लगाने से त्वचा में जलन कम होती है और रक्त संचार बढ़ता है।

रोजमेरी का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अपने चिकित्सक, फार्मसिस्ट या हर्बलिस्ट से परामर्श करें, यदि:

  • आप प्रेगनेंट हैं या उसके बारे में सोच रही हैं या फिर बच्चे को दूध पिला रही हैं, तो इस दौरान आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए क्योंकि इस अवस्था में आपको डॉक्टर की बताई दवाओं का ही सेवन करना चाहिए।
  • आपको सभी दवाओं के बारे में बताना चाहिए जो आप डॉक्टरी सलाह या बिना किसी सलाह के सेवन कर रही है।
  • आपको रोजमेरी या उसके किसी सबटेंस, दवा या किसी अन्य जुड़ी बूटी से कोई एलर्जी तो नहीं
  • आपको किसी दूसरी चीजों से एलर्जी तो नहीं जैसे, खाने में इस्तेमाल होने वाला रंग, खाने को सुरक्षित रखने वाले पदार्थ या जानवरों से।

किसी भी हर्बल सप्लीमेंट के सेवन करने के नियम उतने ही सख्त होते हैं, जितने कि अंग्रेजी दवा के। सुरक्षा के लिहाज से अभी इसमें और अध्ययन की जरूरत है। हर्बल सप्लीमेंट के सेवन से होने वाले फायदे से पहले आपको इसके खतरों को समझ लेना चाहिए। ज्यादा जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट से बात कीजिये।

यह भी पढ़ें : Marjoram: मरजोरम क्या है?

रोजमेरी कितनी सुरक्षित है?

खाद्य पदार्थ के रूप में रोजमेरी के सुरक्षित होने की संभावना है। रोजमेरी का इस्तेमाल यदि दवा के रूप में, त्वचा पर लगाने में या अरोमा थेरेपी के रूप में सांस द्वारा इसे लिया जाता है, तो रोजमेरी संभवतः ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित है।

हालांकि, रोजमेरी का तेल जिसे किसी दूसरी चीज में मिलाकर पतला ना किया गया हो उसका सेवन करना असुरक्षित है।

विशेष सावधानियां और चेतावनी

गर्भावस्था और स्तनपान: मेडिसिनल मात्रा में इसका सेवन करना सुरक्षित है। इसके अलावा यह मासिक धर्म को बढ़ाने, उसमें तेजी लाने या गर्भाशय को प्रभावित कर सकती है, जिससे गर्भपात होने का खतरा भी हो सकता है। इस बारे में कुछ भी कहा नहीं जा सकता कि गर्भावस्था के दौरान त्वचा पर इसे लगाना कितना सुरक्षित है। यदि आप गर्भवती हैं, तो भोजन में इसका ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल न करें।

यदि आप स्तनपान करा रही हैं, तो औषधीय मात्रा में भी रोजमेरी के इस्तेमाल से साफ इनकार करें। नर्सिंग शिशु पर इसके क्या प्रभाव पड़ सकते हैं, अभी इसके बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है।

एस्पिरिन एलर्जी- रोजमेरी में पाए जाने वाले रसायन एस्पिरिन के समान होते हैं। यह रसायन, जिसे सैलिसिलेट के रूप में जाना जाता है, एस्पिरिन से एलर्जी वाले लोगों में रिएक्शन का कारण बन सकता है।

ब्लीडिंग डिसऑर्डर : रोजमेरी रक्तस्राव विकारों वाले लोगों में ब्लीडिंग और चोट लगने के खतरे को बढ़ा सकती है। 

जब्ती डिसऑर्डर: रोजमेरी जब्ती विकारों को बदतर बना सकती है। इसका उपयोग न करें।

यह भी पढ़ें : Oregano: ओरिगैनो क्या है?

साइड इफेक्ट

रोजमेरी से मुझे किस तरह के साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

बड़ी मात्रा में रोजमेरी लेने से उल्टी, गर्भाशय रक्तस्राव, गुर्दे की जलन, सूरज से सेंसिटिविटी, त्वचा की लालिमा और एलर्जी हो सकती है।

जरूरी नहीं कि हर कोई इन साइड इफेक्ट का अनुभव करें। आपको उन साइड इफेक्ट्स का सामना भी करना पड़ सकता है, जो यहां नहीं बताए गए हैं। यदि आपको साइड इफेक्ट को लेकर कोई चिंता या संशय है, तो कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें।

रोजमेरी के साथ मेरे क्या इंटरैक्शन हो सकते हैं?

रोजमेरी आपकी वर्तमान दवाओं या चिकित्सा स्थितियों पर बुरा प्रभाव डाल सकती है। उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या चिकित्सक से परामर्श करें।

यह भी पढ़ें : Onion: प्याज क्या है?

मात्रा/ डोसेज

दी गई जानकारी को चिकित्सा सलाह के रूप न देखें। हमेशा इस दवा का उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या चिकित्सक से परामर्श करें।

रोजमेरी के लिए सामान्य खुराक क्या है?

वैज्ञानिक अनुसंधान में निम्नलिखित खुराक का अध्ययन किया गया है:

त्वचा के लिए लागू:

गंजेपन (एलोपेसिया एरीटा) के उपचार के लिए: आवश्यक तेलों का एक संयोजन जिसमें 3 बूंदें या 114 मिलीग्राम रोजमेरी, 2 बूंद या 88 मिलीग्राम थाइम, 3 बूंद या 108 मिलीग्राम लैवेंडर और 2 बूंद या 94 मिलीग्राम देवदार शामिल हैं। सभी को 3 एमएल जोजोबा तेल और 20 एमएल अंगूर के तेल के साथ मिश्रित किया जाता है। प्रत्येक रात, मिश्रण को 2 मिनट के लिए सिर की त्वचा पर मालिश किया जाता है और उसे जल्दी सोखने के लिए सिर के चारों ओर गर्म तौलिया रखा जाता है।

हर मरीज के लिए रोजमेरी की खुराक अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल हमेशा सुरक्षित नहीं होते है। कृपया अपनी उचित खुराक के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से बात करें।

उपलब्धता

रोजमेरी किस रूप में उपलब्ध है?

  • रोजमेरी कैप्सूल अर्क
  • रोजमेरी लिकविड एक्सट्रेक्ट
  • रोजमेरी की चाय
  • रोजमेरी तेल

हेलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें :

Potato: आलू क्या है ?

Lime : हरा नींबू क्या है?

Khat: खट क्या है?

maca root: माका रूट क्या है?

संबंधित लेख:

    सूत्र

    Rosemary http://www.webmd.com/vitamins-supplements/ingredientmono-154-rosemary.aspx?activeingredientid=154& Accessed August 11, 2017

    Rosemary: Health benefits, precautions, and drug interactions http://www.medicalnewstoday.com/articles/266370.php Accessed August 11, 2017

    Pharmacology of rosemary (Rosmarinus officinalis Linn.) and its therapeutic potentials - https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/10641130 - Accessed November 6, 2019

    The Therapeutic Potential of Rosemary (Rosmarinus officinalis) Diterpenes for Alzheimer's Disease - https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4749867/ - Accessed November 6, 2019

    14 Benefits and Uses of Rosemary Essential Oil - https://www.healthline.com/nutrition/rosemary-oil-benefits - Accessed November 6, 2019

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Rooibos tea: रूइबोस चाय क्या है?

    जानिए रूइबोस चाय (Rooibos tea) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, रूइबोस चाय उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Rooibos tea डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    Grains of paradise : स्वर्ग का अनाज क्या है?

    जानिए स्वर्ग का अनाज के फायदे। स्वर्ग का अनाज उपयोग, ग्रेन ऑफ पैराडाइस का इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    Quebracho: क्वेब्राचो क्या है?

    जानिए क्वेब्राचो की जानकारी, फायदे, क्वेब्राचो उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    Turtle head : टर्टल हेड क्या है?

    जानिए टर्टल हेड की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, टर्टल हेड उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Turtle head डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Anu Sharma