backup og meta

Ace Proxyvon: एस प्रोक्सीवोन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Satish singh द्वारा लिखित · अपडेटेड 14/08/2020

Ace Proxyvon: एस प्रोक्सीवोन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) क्या है?

दवा का नाम और केटेगरी

एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) एक नॉन-स्टेरॉयडल एंटी-इंफ्लैमटॉरी ड्रग (non-steroidal anti-inflammatory drug) है।

ओटीसी (OTC) या प्रिस्क्रिप्शन ड्रग

एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) एक प्रिस्क्रिप्शन ड्रग है यानी इसका इस्तेमाल डॉक्टर द्वारा पर्चे पर लिखे जाने के बाद ही किया जा सकता है।

एक्टिव इंग्रिडेंट

इस टैबलेट में सक्रिय तत्व के रूप में  एसिक्लोफिनेक, पैरासिटामोल और रेबिप्राजोल (Aceclofenac, Paracetamol and Rabeprazole) मौजूद होता है।

विशिष्ट उपयोग

एस प्रोक्सीवोन का मुख्य इस्तेमाल दर्द निवारण के लिए किया जाता है।

और पढ़ें : Rebamipide: रेबामिपाइड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स, डोज और सावधानियां

दवा का उपयोग 

एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

डॉक्टर के सुझाए अनुसार ही दवा का सेवन करना चाहिए। लंबे समय तक दवा का सेवन करने और ज्यादा मात्रा में दवा का सेवन करने से साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि डॉक्टरी सलाह ली जाए। इस दवा को चाहे तो खाना खाने के तुरंत बाद सेवन कर सकते हैं। ऐसा करने से पेट में इरीटेशन संबंधी परेशानियों से बच सकते हैं। वहीं दवा को चबाना नहीं है। किसी प्रकार का दुष्परिणाम दिखे तो डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए। वहीं बिना डॉक्टरी सलाह के दवा शुरू करना और बंद करना आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है।

और पढ़ें : Onabet: ओनाबेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फंक्शन

एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) कैसे काम करता है?

एस प्रोक्सीवोन कई तत्वों को मिलाकर तैयार किया जाता है। इसमें एसिक्लोफिनेक + पैरासिटामोल/ एसिटेमिनोफेन + रेबिप्राजोल जैसे जत्व पाए जाते हैं। इसमें एसिक्लोफिनेक, पैरासिटामोल और एसीटेमिनोफेन एक प्रकार से पेन किलर का काम करते हैं। वहीं रेबेप्राजोल प्रोटीन पंप इनहिबिटर के तौर पर काम करता है और शरीर से एसिड सिक्रेशन को कम करने में मदद करता है।

 इसका इस्तेमाल पेट की मांसपेशियों से जुड़ी ऐंठन को कम करने के लिए किया जाता है। इसे बच्चों और किशोरों को नहीं देने की सलाह दी जाती है। इस दवा का इस्तेमाल दर्द भरी रयूमेटिक कंडिशन जैसे एंकोलोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस, ऑस्टिओअर्थराइटिस, रयूमेटाइड अर्थराइटिस का इलाज करने के लिए किया जाता है।

  • ऐंठन के साथ मस्कुलर पेन :  यह मस्कुलर पेन को कम करने के लिए व्यस्कों को दी जाने वाली दवा है। यह मसल्स की ऐंठन को भी कम करती है।
  • इन बीमारियों का होता है इलाज : सिर दर्द, कोल्ड, दांत में दर्द, ज्वाइंट में दर्द, गैस्ट्रिक एसिडिटी, बुखार, लुंबागो, , स्टमक अल्सर, फ्लू, मासिक धर्म के दौरान दर्द सहित अन्य बीमारियों का इलाज करने के लिए डॉक्टर मरीज को एस प्रोक्सीवोन दवा का सेवन करने की सलाह देते हैं।
  • इस्तेमाल के लिए निर्देश

    • एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) को डॉक्टर के निर्देशानुसार लें।
    • इस दवा को लेते समय लेबल पर लिखे सभी निर्देशों का पालन करें। यह सुनिश्चित करें कि दवा की सही मात्रा निर्धारित अवधि के लिए ही ली जाए।
    • इसका सेवन आपको भोजन के साथ या बिना भोजन के किया जा सकता है या नहीं इसकी जानकारी अपने डॉक्टर से जरूर लें।
    • इस दवा का उपयोग बिना डॉक्टरी सलाह के अचानक बंद नहीं किया जाना चाहिए।

    और पढ़ें: Strocit Plus Tablet : स्ट्रोसिट प्लस टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    सावधानी और चेतावनी

    एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या जानना चाहिए?

    • एलर्जी : मरीज जिन्हें एसक्लोफेनेक (aceclofenac) सहित अन्य एनएसएआईडी दवाओं से एलर्जी या इनमें पाए जाने वाले तत्वों से एलर्जी है उनको इसका सेवन कतई नहीं करना चाहिए।
    • अन्य दवाएं : यह दवा अन्य दवाओं के साथ भी रिएक्शन कर सकती है, वहीं नकारात्मक असर भी देखने को मिल सकता है। इसलिए जरूरी है कि दवा का सेवन करने से पहले डॉक्टर को हर्ब और सप्लिमेंट की जानकारी देना जरूरी हो जाता है।
    • बच्चों के इस्तेमाल के लिए : इस दवा का सेवन करने की सलाह बच्चों को नहीं दी जाती ऐसा इसलिए है क्योंकि उनकी स्थिति कहीं और गंभीर न हो जाए।

    प्रेग्नेंसी और स्तनपान में दवा का उपयोग 

    क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) को लेना सुरक्षित है?

    जब तब जरूरी न हो जाए तब तक शिशु को दूध पिलाने वाली महिलाओं और गर्भवती महिलाओं को इस दवा का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है। जरूरी है कि दवा का सेवन करने के पूर्व डॉक्टर के इसके रिस्क और बेनिफिट्स के बारे में विचार-विमर्श कर लिया जाए।

    और पढ़ें : fucibet: फुसीबेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    साइड इफेक्ट्स

    एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

    इस दवा का सेवन करने से कुछ मेजर तो कुछ माइनर साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जैसे:

    और पढ़ें : Folitrax: फोलिट्रैक्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    रिएक्शन

    कौन-सी दवाइयां एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) के साथ रिएक्शन कर सकती हैं?

    यह दवा अलग-अलग लोगों पर अलग-अलग तरीके से रिएक्शन करती है। ऐसे में डॉक्टरी सलाह लेने के बाद ही दवा का उपयोग करना चाहिए।

    इन दवाओं के साथ हैं रिएक्शन की संभावनाएं

    • लिथियम (Lithium)
    • डिजोक्सीन (Digoxin)
    • कोरटीकोस्टीरॉइड्स (Corticosteroids)
    • एंटीहाइपरटेंसिव्स (Antihypertensives)
    • एट्रोपीन (Atropine)
    • लीवोडोपा (Levodopa)
    • डिआदीपैम (Diazepam)

    क्या एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) भोजन या एल्कोहॉल के साथ रिएक्शन करती है?

    इस दवा का सेवन करने के साथ शराब का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि कुछ साइड इफेक्ट्स हो। गंभीर गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग, सिर चकराना, थकान, कमजोरी, रैशेज, जी मचलाना, ज्वाइंट पेन, बुखार इसके कुछ लक्षण हैं जो दिखाई दे सकते हैं। शरीर में यदि ऐसे परिवर्तन हो तो डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए।

    क्या एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) हेल्थ कंडिशन के साथ रिएक्शन कर सकती है?

    निम्न बीमारियों व हेल्थ कंडिशन के साथ एस प्रोक्सीवोन रिएक्शन कर सकती है। अगर आपकी कोई हेल्थ कंडिशन है तो दवा का सेवन करने से पहले विशेष ध्यान दें।

    • गंभीर लिवर इम्पेयरमेंट :  मरीज जो लिवर डिजीज से ग्रसित होते हैं उन्हें इस दवा के सेवन की सलाह नहीं दी जाती है, क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि इस दवा का सेवन करने से उनकी स्थिती और गंभीर हो सकती है। इसलिए बीमारी से ग्रसित लोग डॉक्टरी सलाह जरूर लें, तभी एस प्रोक्सीवोन का सेवन करें।
    • हार्ट पर असर (हार्ट फेलियर) : दिल की बीमारी से ग्रसित मरीजों को  खासतौर पर हार्ट फेलियर की स्थिति में इस दवा का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है। क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि ऐसे मरीजों की स्थिति और गंभीर न हो जाए।
    • अस्थमा : मरीज जो अस्थमा की बीमारी से ग्रसित हैं या फिर जिनमें एनएसएआईडी सेंसिटिव अस्थमा के लक्षण दिखते हैं उनको इस दवा के सेवन की सलाह नहीं दी जाती है। ऐसे में इस दवा को न देकर विकल्पों की तलाश डॉक्टर करते हैं और समय-समय पर निगरानी रखते हैं।
    • ब्लीडिंग डिसऑर्डर : मरीज जो ब्लीडिंग डिसऑर्डर से ग्रसित हैं उनको इस दवा का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। संभावनाएं रहती हैं कि कहीं उनकी स्थिति और गंभीर न हो जाए।
    • गंभीर किडनी की बीमारी : एस प्रोक्सीवोन का इस्तेमाल किडनी की बीमारी से ग्रसित मरीजों पर नहीं किया जाता है। संभावनाएं रहती हैं कि इससे किडनी सामान्य रूप से काम न कर पाए। यदि दवा दी जाए तो किडनी फंक्शन की समय-समय पर जांच जरूरी हो जाती है। इन मामलों में डोज एडजस्टमेंट के साथ किसी दवा को बदला जा सकता है। 
    • हाइपोटेंशन (Hypotension) : इस दवा का सेवन करने से ब्लड प्रेशर में गिरावट आ सकती है। मरीज जिनको कार्डियोवेस्कुलर डिजीज है या पूर्व में रही हो उनमें यह समस्या ज्यादा देखने को मिलती है। इसलिए जरूरी है कि ऐसे मरीजों के ब्लड प्रेशर की समय-समय पर जांच की जानी चाहिए।
    • गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग :  ऐसे मामलों में सावधानी के साथ इस दवा को दिया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग के मरीजों में नकारात्मक असर दिख सकता है। ऐसा तब होता है जब दवा का लंबे समय तक इस्तेमाल किया जाता है। मरीज जिन्हें गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल की बीमारी होती है या जो बुजुर्ग होते हैं उनको दवा का सेवन करते वक्त काफी सावधानी बरतनी चाहिए। ऐसे मरीजों में दवा का सेवन करने के बाद कुछ लक्षण दिखते हैं जैसे मल से खून का आना, उल्टी होना। ऐसे लक्षण दिखने पर जल्द से जल्द डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए। इन मामलों में डोज एडजस्टमेंट के साथ किसी अन्य दवा को बदलने के साथ समय-समय पर डॉक्टरी जांच जरूरी हो जाती है।
    • सीएबीजी : ऐसे मरीज जो सीएबीजी (कोरोनरी आर्टरी बाइपास ग्राफ्ट) से गुजरे होते हैं उनको एस प्रोक्सीवोन दवा का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा निम्न हेल्थ कंडिशन में भी दवा का इस्तेमाल सावधानी से करना चाहिए।
    • प्रोफिरिया (Porphyria)
    • लो कार्डियक आउटपुट (Low cardiac output)
    • गेस्ट्रो इंटेस्टाइनल टॉक्सिटी (Gastro-Intestinal toxicity)
    • इम्पेयर्ड किडनी फंक्शन (Impaired kidney function)

    डोसेज

    एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon)  का सामान्य डोज क्या है?

    एस प्रोक्सीवोन दवा वैसे तो उम्र, हाइट, वजन और मानसिक संतुलन के साथ शारीरिक क्षमता को ध्यान में रखकर दी जाती है। व्यस्कों को और बुजुर्गों को 20 एमजी दवा दी जाती है। इसके अलावा बच्चों की बात करें तो उन्हें 10 एमजी दवा खिला सकते हैं। माना जाता है कि इस दवा का असर एक घंटे में दिखना शुरू हो जाता है। खुराक 24 घंटों तक काम करती है। इसलिए जरूरी है कि खुराक संबंधी निर्णय डॉक्टरी सलाह के आधार पर करें।

    ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

    सुझाए गई खुराक से यदि कोई ज्यादा डोज ले लेता है तो उस स्थिति में डॉक्टरी सलाह जरूरी है। कई मामलों में मेडिकल इमरजेंसी तक की जरूरत पड़ सकती है।

    एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) की खुराक मिस हो जाए तो क्या करूं?

    यदि कोई व्यक्ति इस दवा का सेवन करना भूल जाता है तो जरूरी है कि जितना जल्दी संभव हो दवा का सेवन कर लें। यदि अगली खुराक का समय हो गया है तो पहले से निर्धारित समय पर दवा का सेवन करें। डबल डोज का सेवन न करें।

    [mc4wp_form id=’183492″]

    और पढ़ें : Etoshine: एटोशाइन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    स्टोरेज और डिस्पोजेबल तरीके

    एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) को कैसे करूं स्टोर?

    दवा को घर में सामान्य रूम टेम्प्रेचर पर ही रखें। इसे सूर्य कि किरणों से बचाकर रखें। 25 डिग्री तापमान दवा के लिए बेस्ट है, लेकिन फ्रिज में रखने की गलती न करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो यह दवा सामान्य रूप से काम नहीं कर पाएगी। इसके अलावा इसे बच्चों की पहुंच से दूर रखना चाहिए। दवा को खोलने के चार सप्ताह में इसका इस्तेमाल कर लेना ही उचित होगा। यदि रखी हुए दवा का इस्तेमाल करते हैं तो उसके लिए डॉक्टरी सलाह लें। दवा को डिस्पोज करने के बारे में डॉक्टर या कैमिस्ट से सलाह लें।

    एस प्रोक्सीवोन (Ace Proxyvon) किस रूप में उपलब्ध है?

    • टैबलेट
    • जेल

    इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए डाॅक्टरी सलाह लें। ।

    उपलब्ध खुराक

    यह दवा किस रूप में उपलब्ध है?

    यह दवा टैबलेट के रूप में 200 एमजी, 500 एमजी एवं 20 एमजी मिलीग्राम की स्ट्रेंथ में मार्केट में अवेलेबल है।

    दवा की उपलब्धता की स्थिति : यह टैबलेट भारत में प्रतिबंधित नहीं है।

    उम्मीद है कि ये आर्टिकल आपके लिए बहुत मददगार होगा। इस आर्टिकल में बताए गए सभी दिशा-निर्देशों के बाद भी अपने डॉक्टर के द्वारा सलाह दिए जाने पर ही इस टैबलेट का सेवन करें।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Satish singh द्वारा लिखित · अपडेटेड 14/08/2020

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement