backup og meta

Lidocaine+Prilocaine: लिडोकेन+प्रिलोकेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. हेमाक्षी जत्तानी · डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Sunil Kumar द्वारा लिखित · अपडेटेड 21/07/2020

Lidocaine+Prilocaine: लिडोकेन+प्रिलोकेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

उपयोग

लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) का इस्तेमाल किस लिए होता है?

लिडोकेन+प्रिलोकेन का प्रयोग त्वचा और गुप्तांगों में किया जाता है जिससे किसी भी मेडिकल प्रोसीजर से पहले शरीर का वो हिस्सा सुन्न हो जाएगा। इस दवा में 2-एमाइड टाइप लोकल एनेस्थेटिक्स, लिडोकेन और प्रिलोकेन होते हैं। सामान्य तौर पर इसका इस्तेमाल बिना टूटी हुई त्वचा या जेनिटल्स (genital) के बाहरी हिस्से पर कुछ विशेष प्रकार की प्रक्रियों को पूरा करने से पहले किया जाता है । यह अस्थाई रूप से त्वचा के प्रभावित हिस्से को सुन्न कर देता है और इस दवाई के प्रयोग से इंजेक्शन के दर्द से भी बचा जा सकता है। हालांकि इस दवा का इस्तेमाल कान में नहीं करना चाहिए।

लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) का मुझे कैसे इस्तेमाल करना चाहिए?

  • लिडोकेन+प्रिलोकेन का प्रयोग खुले घाव, कटी-फटी या जलन वाली जगह पर न करें। इसके प्रयोग के बाद हाथों को धो लें।

अगर आपको इस दवा में मौजूद किसी तत्व या अन्य किसी भी दवाई से एलर्जी है तो डॉक्टर को अवश्य बताएं। यही नहीं अगर आपको किसी खाने की चीज, डाई, प्रिजर्वेटिव या जानवर से एलर्जी है तब भी डॉक्टर की सलाह के बिना इस दवाई को न लें।

  • कितने समय तक लिडोकेन+प्रिलोकेन को लगाना है यह आपकी समस्या और इलाज पर निर्भर करता है। इसलिए डॉक्टर के बताए अनुसार ही इस दवाई को लगाएं।

    बच्चों के लिए लिडोकेन+प्रिलोकेन का प्रयोग बहुत सावधानी से करना चाहिए। अगर बच्चे का इस पर कोई बुरा प्रभाव पड़ रहा हो तो इसका प्रयोग करना बंद कर दें और डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

  • वृद्ध लोगों पर इसे कैसे प्रयोग करना चाहिए इस बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है, लेकिन जिन लोगों को लिवर, किडनी और हार्ट संबंधी समस्याएं हैं। उन पर इस दवाई का प्रयोग बहुत सावधानी से करना चाहिए।
  • लिडोकेन+प्रिलोकेन को निर्देशानुसार ही अपने शरीर पर लगाएं और इसके बाद बैंडेड या एयर टाइट कपड़ों से इसे कवर करें। उपचार से पहले क्रीम को साफ करके उस हिस्से की अच्छे से ड्रेसिंग कर लें या डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें।
  • यदि आप बच्चे की त्वचा पर लिडोकेन+प्रिलोकेन को लगा रहे हैं तो इस बात का ध्यान रखें की यह दवा अपनी जगह पर बनी रहे। बच्चा दवा या ड्रेसिंग/बैंडेड को मुंह में न डालें। इस स्थिति से बचने के लिए आपको किसी दूसरे कपड़े या सेकेंड कवरिंग से इसे ढकना पड़ेगा, जिससे बच्चा क्रीम का छू न पाए।
  • इलाज के बाद कई घंटों तक आपको सुन्नता का अहसास हो सकता है। ऐसे में उस हिस्से को चोट लगने से बचाएं। ऐसे में प्रभावित हिस्से को गर्माहट, सर्दी के संपर्क में ना आने दें और उसे खुजलाएं नहीं।
  • लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) को मुझे कैसे स्टोर करना चाहिए?

    लिडोकेन+प्रिलोकेन को स्टोर करने का सबसे बेहतर तरीका है इसे कमरे के तापमान पर रखना। इसे सूर्य की सीधी किरणों और नमी से दूर रखें। दवा को खराब होने से बचाने के लिए आपको लिडोकेन+प्रिलोकेन को बाथरूम या फ्रीजर में नहीं रखना है। लिडोकेन+प्रिलोकेन के अलग-अलग ब्रांड्स को अलग तरीकों से स्टोर किया जाता है। इसे रखने से पहले सबसे बेहतर होगा कि आप दवा के पैकेज पर छपे निर्देशों को पढ़ लें या फार्मासिस्ट से पूछें। सुरक्षा की दृष्टि से सभी दवाइयों को अपने बच्चों और पेट्स से दूर रखें। जब तक कहा न जाए तब तक सुरक्षा की दृष्टि से आपको लिडोकेन+प्रिलोकेन को टॉयलेट या नाली में नहीं बहाना है। आवश्यकता न रहने या एक्सपायरी की स्थिति में दवा का समुचित तरीके से निस्तारण जरूरी है। सुरक्षित तरीके से इसका निस्तारण करने के लिए अपने फार्मासिस्ट से सलाह लें।

    सावधानियां और चेतावनी

    लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

    निम्नलिखित स्थितियों में लिडोकेन+प्रिलोकेन का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें:

    • यदि आपको लिडोकेन या प्रिलोकेन के किसी पदार्थ या अन्य एनेस्थेटिक दवा (बुपिवेकेन (bupivacaine) या अन्य किसी दवा से एलर्जी है।
    • इस प्रोडक्ट में कुछ इनएक्टिव इनग्रीडिएंट्स हो सकते हैं, जो एलर्जिक रिएक्शन या अन्य समस्याओं का कारण बन सकते हैं। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।
    • कुछ विशेष समस्याओं में लिडोकेन+प्रिलोकेन का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। यदि आपको ब्लड से जुड़ी (मेथोमोग्लोबिनेमिया) (methemoglobinemia) समस्याएं हैं तो इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।
    • यदि आपको विगत समय में ब्लड डिसऑर्डर (विशेषकर बच्चों में G6PD की कमी), हार्ट की बीमारी (असामान्य हार्टबीट), किडनी की बीमारी और लिवर की बीमारी रही है तो इस दवा का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लें।
    • बुजुर्गों में सावधानीपूर्वक इस दवा का इस्तेमाल करना चाहिए। चूंकि उन्हें इस दवा से चक्कर आ सकते हैं, जिसकी वजह से उनकी बॉडी इस कॉम्बिनेशन के प्रति काफी संवेदनशील हो सकती है।
    • बच्चों में इसका इस्तेमाल करते वक्त एहतियात बरतने चाहिए, विशेषकर तीन माह या इससे कम उम्र के बच्चों के लिए। इस उम्र के बच्चे ब्लड से संबंधित कई दुर्लभ समस्याओं से ज्यादा खतरा हो सकता है।
    • यदि आपके बच्चे की दिल की धड़कन तेज या मुंह या होंठ के आसपास की त्वचा पीली या नीली पड़ जाए तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। एक ही बार में बच्चे की त्वचा के बड़े हिस्से पर इस दवा को लगाने से घातक साइड इफेक्ट्स का खतरा बढ़ जाता है।
    • प्रेग्नेंसी के दौरान सिर्फ आवश्यकता पड़ने पर ही इस दवा का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। इसकी नुकसान और फायदों की अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।
    • लिडोकेन मां के दूध के जरिए शिशु की बॉडी में प्रवेश कर सकती है। हालांकि प्रिलोकेन मां के दूध के जरिए शिशु की बॉडी में प्रवेश करती है या नहीं, इस संबंध में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है। यदि आप इसका इस्तेमाल कर रही हैं तो ब्रेस्टफीडिंग कराने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

    और पढ़ें: क्या डायबिटीज से हो सकती है दिल की बीमारी ?

    क्या लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) का प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान सेवन करना सुरक्षित है?

    प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान लिडोकेन+प्रिलोकेन का सेवन सुरक्षित है या नहीं, इस संबंध में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से इस कॉम्बिनेशन के संभावित फायदों की तुलना इसके खतरों से अवश्य करें। लिडोकेन+प्रिलोकेन को अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी – B में रखा है।

    FDA की प्रेग्नेंसी रिस्क कैटेगरी निम्नलिखित है:

    • A=कोई खतरा नहीं
    • B= कुछ अध्ययनों में कोई खतरा नहीं,
    • C= खतरे हो सकते हैं,
    • D= खतरे के सकारात्मक सुबूत,
    • X= आमराय नहीं,
    • N= कोई पता नहीं

    साइड इफेक्ट्स

    लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

    त्वचा का लाल पड़ना, सूजन, कंपकंपाहट/ जलन या त्वचा का हल्का होना। यदि इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट्स लगातार बना रहता है या गंभीर हो जाता है तो तुरंत अपने डॉक्टर को इसकी सूचना दें।

    इस बात का ध्यान रखें कि आपके डॉक्टर ने लिडोकेन+प्रिलोकेन के सेवन की सलाह इसके खतरों से ज्यादा आपको होने वाले फायदों का आंकलन करने के बाद दी है। इसे इस्तेमाल करने वाले कई लोगों को कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होता है।

    जिस त्वचा पर आपने लिडोकेन+प्रिलोकेन को लगाया है, यदि उस हिस्से पर फफोले पड़ते हैं तो तुरंत इसकी सूचना अपने डॉक्टर को दें।

    हालांकि, हर व्यक्ति को यह साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं। उपरोक्त दुष्प्रभाव के अलावा भी लिडोकेन+प्रिलोकेन के कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप इसके साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह लें।

    रिएक्शन

    लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) के साथ कौन सी दवाइयां रिएक्शन कर सकती हैं?

    लिडोकेन+प्रिलोकेन का इस्तेमाल करने से पहले उन सभी दवाइयों की सूची बनाएं, जिनका सेवन मौजूदा समय में किया जा रहा है। इसमें डॉक्टर की सलाह पर इस्तेमाल की जा रही दवाइयां और बिना प्रिस्क्रिप्शन के मार्केट में खरीद के लिए उपलब्ध हर्बल सप्लिमेंट्स शामिल हैं। इस लिस्ट को अपने डॉक्टर के साथ साझा करें। बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवा का सेवन शुरू या बंद न करें। निर्देशित अवधि से कम या अधिक समय तक इस दवा का सेवन ना करें।

    विशेषकर वह दवाइयां, जो दुर्लभ मामलों में ब्लड डिसऑर्डर (मेथोमोग्लोबिनेमिया) (एसेटामोफेन (acetaminophen), बेंजोकेन (benzocaine),फेनोबारबिटल (phenobarbital), एंटीमलेरियल जैसे क्लोरोक्वीन/प्रिमाक्वीन, नाइट्रेट्स जैसे नाइट्रोग्लिसरी (chloroquine/primaquine/quinine, nitrates, nitroglycerin), कुछ एंटी बायटोकि जैसे सुलफोनामाइड्स/ नाइट्रोफुरानटोइन/ डाप्सोन (sulfonamides/nitrofurantoin/dapsone), हार्ट रिदम की दवाइयां जैसे एमिओडारोन, ब्रेटालियम, मेक्सिलेटाइन, फेनयाटिओन, सोटालोल (e.g., amiodarone, bretylium, mexiletine, phenytoin, sotalol) आदि।

    क्या लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) के साथ भोजन या एल्कोहॉल रिएक्शन कर सकता है?

    लिडोकेन+प्रिलोकेन आपके भोजन या एल्कोहॉल के साथ रिएक्शन कर सकता है, जिससे दवा का कार्य करने का तरीका परिवर्तित हो सकता है या गंभीर साइड इफेक्ट्स की संभावना बढ़ जाती है। भोजन या एल्कोहॉल के साथ इसके संभावित फायदों और नुकसान की अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से अधिक जानकारी के लिए सलाह लें।

    और पढ़ें: नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर डिजीज क्या है, जानें

    लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) से हेल्थ पर क्या असर पड़ता है?

    लिडोकेन+प्रिलोकेन आपकी मौजूदा हेल्थ कंडिशन के साथ रिएक्शन कर सकती है। यह रिएक्शन आपकी हालत को और गंभीर कर सकता है या दवा के कार्य करने का तरीका बदल सकता है। ऐसे में यह बेहद ही महत्वपूर्ण है कि आप अपनी मौजूदा हेल्थ की विस्तृत जानकारी अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट के साथ साझा करें।

    डोसेज

    उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं हो सकती। सोडियम पिकोसल्फेट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

    और पढ़ें: रीसस क्या है? और एंटी डी इंजेक्शन इससे कैसे बचाता है?

    लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) का अडल्ट्स के लिए सामान्य डोज क्या है?

    अडल्ट्स के लिए एनेस्थीसिया का सामान्य डोज:

    वेनिपंक्चर और इंट्रावेनस केन्यूलेशन: 2.5 g (5 g ट्यूब का आधा) 20 से 25 cm2, करीब एक घंटे के लिए।

    त्वचा की सतह से 20 से 25 cm2 ऊपर कम से कम एक घंटे तक।

    डर्मोटोलॉडी से जुड़े दर्दनाक प्रोसीजर जो त्वचा के बड़े हिस्से पर किया जाता है जैसे त्वचा का प्रत्यारोपण: 2 ग्राम प्रति 10 cm2 त्वचा की सतह पर कम से कम दो घंटों तक रहने दें।

    पुरुषों के जेनिटल्स पर: एनेस्थेटिक को लगाने से पहले 1 ग्राम प्रति 10 cm2 त्वचा की सतह पर 15 मिनट तक लगाएं। क्रीम को हटाने के तुरंत बाद एनेस्थेटिक दवा या इंजेक्शन को तुरंत लगाएं। वहीं डर्मल एनलगेसिया कपड़ों की कवरिंग में तीन घंटों तक रह सकता है और क्रीम हटाने के बाद इसका असर 1-2 घंटे तक रह सकता है।

    महिला के जेनिटल्स (म्यूकस मेम्बरेन्स): 5-10 ग्राम 10 मिनट तक लगाएं। हालांकि इसे सोखने के लिए ओक्लूजन जरूरी नहीं है। क्रीम को हटाने के तुरंत बाद एनेस्थेटिक या इंजेक्शन का प्रयोग किया जाना चाहिए।

    लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) का बच्चों के लिए सामान्य डोज क्या है?

    एनेस्थीसिया के लिए बच्चों का सामान्य डोज

    • गर्भधारण की उम्र: 37 हफ्तों से पहले, 0.5 ग्राम प्रति डोज ज्यादातर मामलों में इस्तेमाल किया गया है। एक शोध में तीस प्रीटर्म शिशु (बड़े या तीस हफ्तों के बराबर) में एक घंटे की राहत मिली, नतीजतन उनके मेथोमोग्लोबिन लेवल में कोई परिवर्तन नहीं आया। अन्य बच्चों में भी समान नतीजे मिले।

    बड़े या 37 हफ्तों के बराबर:

    दर्द वाले प्रोसीजर (इंट्रामस्क्युलर इंजेक्शन): 1 ग्राम क्रीम को 60 मिनट तक लगाएं।

    सरकमसन (Circumcision): 1 से 2 g लगाएं और प्रक्रिया से पहले 60 से 90 मिनट तक रहने दें।

    मैन्युफैक्चर्र मैक्सिमम डोज की सलाह देते हैं और एप्लिकेशन एरिया (त्वचा के आधार पर ): पांच किलो से कम वजन वाले बच्चे।

    • मैक्सिमम डोज एक ग्राम
    • मैक्सिम एप्लिकेशन एरिया: 10cm2
    • मैक्सिमम लगाए रखने का समय: 1 घंटा
    • उम्र, वजन, एप्लिकेशन एरिया और लगाए रखने की अवधि के आधार पर मैक्सिमम डोज की सलाह दी गई है।
    • तीन महीने से छोटे या इससे बराबर (या पांच किलो से कम less than 5 kg): 1 g, 10 cm2, 1 घंटा
    • तीन महीने से बड़े या 12 महीने के बराबर : (और पांच किलो वजन से अधिक वाले ): 2 g, 20 cm2, 4 घंटे
    • 1 से 6 साल (10 किलो वजन से अधिक): 10 g, 100 cm2, 4 घंटे
    • 7 से 12 साल ( 20 किलो से अधिक वजन): 20 g, 200 cm2, 4 घंटे

    और पढ़ें: मां और शिशु दोनों के लिए बेहद जरूरी है प्री-प्रेग्नेंसी चेकअप

    डोज अडजस्टमेंट्स

    तीन महीने से अधिक उम्र के बच्चे, जो न्यूनतम वजन की आवश्यकता को पूरा नहीं कर रहे हैं, उनमें मैक्सिम टोटल डोज प्रतिबंधित है, जो उनकी बॉडी के वजन के बराबर होगा।

    सावधानी

    • लिडोकेन+प्रिलोकेन टॉपिकल क्रीम का इस्तेमाल 37 हफ्तों से कम अवधि के बच्चों में नहीं किया जाना चाहिए और ना ही 12 महीने से छोटे बच्चों में, जिनका मेथोमोग्लोबिन का इलाज चल रहा हो।
    • बड़े हिस्से पर इस दवा का इस्तेमाल करते वक्त सावधानी बरतनी जरूरी है या दो घंटे से अधिक समय तक इसे लगाए रखने में एहतियात रखना चाहिए। प्रभावित त्वचा पर अधिक समय तक इसे लगाए रखने से गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।
    • लिडोकेन+प्रिलोकेन का उन लोगों में इस्तेमाल नहीं होना चाहिए, जिन्हें एमाड-टाइप लोकल एनेस्थेटिक से सेंसिविटी है।
    • जन्मजात मेथोमोग्लोबिनेमिया वाले मरीजों में इस दवा के टॉपिक फॉर्म का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। साथ ही जिन लोगों में ग्लूकोज-6-फॉस्फेट डीहाइड्रोजेन की कमी है और जो मेथोमोग्लोबिनेमिया की दवाइयों का सेवन कर रहे हैं उनमें गंभीर मेथेमोग्लोबिनेमिया विकसित होने का खतरा है।
    • तीन माह तक के बच्चों में इस दवा का इस्तेमाल से पहले, दौरान और बाद में मेथोमेग्लोबिनेमिया के लेवल को मॉनीटर करना चाहिए।
    • लिडोकेन+प्रिलोकेन का इस्तेमाल ऐसी किसी भी स्थिति में नहीं करना चाहिए, जब यह टायपेनिक मेम्बरेन से कान के मध्य हिस्से में जाने की संभावना हो। जानवरों पर हुए शोध में इसका इसका इस्तेमामल कान के मध्य हिस्से में करने पर ओटोटोक्सिक (Ototoxic) प्रभाव का पता चला है। वहीं, कान के बाहरी हिस्से में जानवरों के संपर्क में आने पर कोई असामान्यता नजर नहीं आई है।
    • इसे आंखों के संपर्क में न आने दें। जानवरों पर हुए शोध में इससे आंखों में जलन का पता चला है। इसके अलावा, सुरक्षात्मक सजगता को नुकसान पहुंचने से कार्निया में जलन और खुजली हो सकती है। यदि यह आंख के संपर्क में आता है तो तुरंत ही आंखों को पानी या सालाइन से साफ कर लें और जबतक आंख की सेंसेशन वापस नहीं लौट आती तब तक आंखों को सुरक्षा प्रदान करें।
    • जिन लोगों को लिवर से संबंधित समस्याए हैं उनमें इस दवा के विषैले प्लाज्मा का खतरा बना रहता है।
    • मरीजों को इलाज किए गए हिस्से को ब्लॉक करने की सलाह दी जाती है, इससे उपचारित हिस्से पर होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है।
    • जो लोग एंटीआरहायथेमिक दवाइयों से उपचार ले रहे हैं, उनमें इस कॉम्बिनेशन का इस्तेमाल सावधानी पूर्वक होना चाहिए, क्योंकि संभावित रूप से विषकता हो सकती है। इसका इस्तेमाल सिर्फ त्वचा पर किया जाना चाहिए।

    लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) किन रूपों में उपलब्ध है?

    यह दवा निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

    • टॉपिकल क्रीम
    • टॉपिकल किट
    • टॉपिकल फिल्म

    ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

    ओवरडोज की स्थिति में आपको गंभीर डायरिया, मांसपेशियों की कमजोरी, मूड में बदलाव, धीमा या असामान्य हार्टबीट और हल्का या यूरिन ना आना जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। आपात या ओवरडोज की स्थिति में तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर या आपातकालीन सेवा से संपर्क करें।

    लिडोकेन+प्रिलोकेन (Lidocaine+Prilocaine) का डोज मिस हो जाए तो क्या करूं?

    लिडोकेन+प्रिलोकेन का डोज मिस हो जाता है तो जल्द से जल्द इसे लें। हालांकि, यदि आपका अगली खुराक का समय नजदीक आ गया है तो भूले हुए डोज को ना खाएं। पहले से तय नियमित डोज को लें। एक बार में दो खुराक न खाएं।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

    डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


    Sunil Kumar द्वारा लिखित · अपडेटेड 21/07/2020

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement