भारत के वो शहर जहां सबसे ज्यादा है डेंगू का खतरा

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

डेंगू मच्छरों से फैलने वाला एक संक्रमण है जिसके चार प्रकार (DENV-1, DENV-2, DENV-3, DENV-4) हैं। यह वायरस संक्रमित एडीज एजिप्टी और एडीज एल्बोपिक्टस मादा मच्छरों के काटने से फैलता है, जो दिन के दौरान (सुबह से शाम तक) ही काटता है। डेंगू पानी के टैंक, कंटेनर और पुराने टायर में जमे हुए पानी की वजह से फैलता है। साफ-सफाई के अभाव में भी डेंगू का खतरा बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें: दुनियाभर में फिर तेजी से फैल रही ये बीमारी, WHO को सता रही इस बात की चिंता

इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर मेडिकल असिस्टेंस टू ट्रैवेलर्स (IAMAT) के अनुसार भारत में निम्नलिखित जगहों पर डेंगू का बुरा असर देखा गया है।

भारत के इन शहरों में शामिल है:

  • आंध्र प्रदेश
  • असम
  • बिहार
  • छत्तीसगढ़
  • दिल्ली
  • हरियाणा
  • हिमाचल प्रदेश
  • कर्नाटक
  • केरल
  • मध्य प्रदेश
  • महाराष्ट्र
  • झारखण्ड
  • नागालैंड
  • ओडिशा
  • पंजाब
  • राजस्थान
  • तेलंगाना
  • उत्तराखंड
  • वेस्ट बंगाल

साल 2018 और 2019 के एक आंकड़ों पर गौर करें तो देखा जा सकता है:

  • तमिलनाडु में जून 2018 में 98 डेंगू के मरीज थे, वहीं जून 2019 में 1100 डेंगू के पेशेंट देखे गए।
  • पॉन्डिचेरी में जून 2018 में 2 डेंगू के मरीज थे, वहीं जून 2019 में 295 डेंगू के पेशेंट देखे गए।
  • तेलंगाना में जून 2018 में 33 डेंगू के मरीज थे, वहीं जून 2019 में 953 डेंगू के पेशेंट देखे गए।
  • कर्नाटक में जून 2018 में 415 डेंगू के मरीज थे, वहीं जून 2019 में 1933 डेंगू के पेशेंट देखे गए।
  • महाराष्ट्र में जून 2018 में 550 डेंगू के मरीज थे, वहीं जून 2019 में 969 डेंगू के पेशेंट देखे गए।

अगर सिर्फ इन दो सालों के आंकड़ों को देखें तो भारत के इन 5 राज्यों में डेंगू के मरीज कम नहीं हुए हैं बल्कि डेंगू के पेशेंट बढ़े ही हैं। इस लिए डेंगू के लक्षणों को समझना बेहद जरूरी हैं। इन लक्षणों में शामिल हैं:

  • अचानक से तेज बुखार होना।
  • अत्यधिक सिरदर्द होना।
  • आंखों में तेज दर्द होना।
  • मांसपेशियों और जोड़ों में तेज दर्द होना।
  • थका हुआ महसूस होना।
  • बार-बार उल्टी जैसा महसूस होना या उल्टी आना।
  • त्वचा पर लाल निशान होना (2 से 5 दिनों तक ऐसे निशान रहते हैं)।
  • नाक या मसूड़ों से हल्का खून आना।
  • प्लेटलेट्स कम होता है।
  • डेंगू किसी भी उम्र में हो सकता है।

किन कारणों से होता है डेंगू?

  • एडीज मच्छर काटने और साफ-सफाई नहीं रखने के कारण डेंगू का बुखार होता है।
  • डाइग्नोस्टिक टेस्ट- NS1 एंटीजीन टेस्ट, डेंगू IgG, डेंगू IgM एंटीजेन टेस्ट ।

रिसर्च के अनुसार अगर आप यात्रा ज्यादा करते हैं, तो आपको निम्लिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • ऐसे बॉडी क्रीम का इस्तेमाल करें जिनमें 20%-30% डाइएथिलमाइड (diethyltoluamide/DEET) या 20% पिकार्डियन की मात्रा हो। इस क्रीम को वैसे ही लगाएं जैसे सलाह दी गई हो।
  • अगर आप सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो एंटी डेंगू क्रीम लगाने के 20 मिनट बाद सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें।
  • हल्के रंग के और शरीर को पूरी तरह से ढ़कने वाले कपड़े पहनें।
  • जहां आप रहने वालें हो वहां यह जरूर देखें की खिड़कियां ठीक से बंद होती हैं या नहीं, आसपास कहीं पानी न जमा हो और साफ-सफाई है या नहीं।
  • ट्रॉपिकल और सबट्रॉपिकल एरिया में डेंगू का खतरा ज्यादा होता है। इन इलाकों में यात्रा करने वाले भी डेंगू को एक जगह से दूसरी जगह ला सकते हैं।

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख सितम्बर 12, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 12, 2019

सूत्र
सर्वश्रेष्ठ जीवन जीना चाहते हैं?
स्वास्थ्य सुझाव, सेहत से जुड़ी नई जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य न्यूज लेटर प्राप्त करें
शायद आपको यह भी अच्छा लगे