पीलिया (Jaundice) में भूल कर भी न खाएं ये 6 चीजें

Medically reviewed by | By

Update Date जून 1, 2020
Share now

रक्त में बिलरुबिन (bilirubin) के बढ़ जाने से त्वचा, नाखून और आंखों का सफेद भाग पीला नजर आने लगता है, इस स्थिति को पीलिया या जॉन्डिस (Jaundice) कहते हैं। बिलरुबिन पीले रंग का पदार्थ होता है। ये रक्त कोशिकाओं में पाया जाता है। जब ये कोशिकाएं मृत हो जाती हैं तो लिवर इनको रक्त से फिल्टर कर देता है। लेकिन लिवर में कुछ दिक्कत होने के चलते लिवर ये प्रक्रिया ठीक से नहीं कर पाता है और बिलरुबिन बढ़ने लगता है। नवजात बच्चों में जब लिवर का विकास ठीक से नहीं होता तब भी बिलरूबिन तेजी से बढ़ने लगता है जितनी रफ्तार से लिवर उसे बाहर नहीं निकाल पाता। लिवर की बीमारी से ग्रस्त लोगों को भी इस समस्या से गुजरना पड़ता है। ऐसे में समझ नहीं आता है कि पीलिया में क्या खाएं।

दुनिया भर में पीलिया की वजह से लाखों लोग अपनी जान गंवा देते हैं। ऐसे में इस बीमारी से बचने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए। इस बीमारी से बचने के लिए खानपान पर विशेष ध्यान दिया जाता है। हर किसी के दिमाग में यह सवाल रहता है कि पीलिया में क्या खाएं और किन चीजों से परहेज करें। खानपान में निम्नलिखित बदलाव कर पीलिया को ठीक कर सकते हैं

नोट: पीलिया में क्या खाएं से जुड़ी यहां दी गई जानकारी किसी भी स्वास्थ्य परामर्श का विकल्प नहीं है। हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

यह भी पढ़ें : Poison Ivy: पॉइजन आईवी क्या है?

पीलिया में क्या खाएं?

1- ज्वार का सेवन

यदि आप भी खुद को या किसी करीबी को जॉनडिस होने पर सोच रहे हैं कि पीलिया में क्या खाएं तो आपको बता दें कि ज्वार एक अच्छा विकल्प हो सकता है। ज्वार (barley) में ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो अतिरिक्त बिलरुबिन के पिग्मेंट को हमारे शरीर से निकाल देते हैं। इसलिए, ज्वार भी पीलिया के रोगियों के लिई बहुत अच्छा साबित हुआ है।

2- नारियल पानी

नारियल पानी (Coconut water) पीने से पीलिया के रोगियों को बहुत फायदा हो सकता है। यह इसलिए क्योंकि नारियल पानी पीने से हमारे शरीर से विषैले तत्व यूरिन से निकल जाते हैं और शरीर के तापमान में भी गिरावट आती है।

3- गन्ने का रस

ये भी पीलिया के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हुआ है। गन्ने में वे सारे तत्व हैं जो हमारे लिवर को स्वस्थ बनाता है। इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट्स और ग्लूकोज हमें दिन भर की चुस्ती देता है, और रोग से लड़ने की ताकत देते हैं।

4- तरबूज के बीज

तरबूज के बीज (watermelon seeds) को पानी में मिलाकर खाना भी पीलिया के मरीज़ के लिए अच्छा होता है। ये बीज लिवर और किडनी को साफ करने के साथ-साथ बिलरूबिन का स्तर भी घटाते हैं।

5- खाएं ताजी सब्जियां

पीलिया के समय, आलू, गाजर, शकर कंद, और चुकंदर जैसे सब्जियों को उबालकर खाना, मरीजों के लिए फायदेमंद साबित हुआ है। ऐसा इसलिए क्योंकि ये सब्जियां आसानी से डाइजेस्ट होकर ग्लूकोज में बदल जाती हैं और साथ शरीर को ताकत देती हैं। इसके अलावा इन सब्जियों में फैट नहीं पाया जाता, जो हमारे लिवर को नुकसान से बचाता है।

6- नींबू का रस

नींबू पानी (lemon juice) भी पीलिया का एक अच्छा इलाज है। नींबू में मौजूद हमारे शरीर की कई तरह से मदद करता है। इससे हमारा खून भी साफ हो जाता है, और इसलिए ये पीलिया के लिए एक अच्छा इलाज साबित हुआ है।

7- पीलिया में खाने योग्य फल

फल खाने से, पीलिया का बहुत अच्छा इलाज हो सकता है। फलों के रस के तत्वों से, हमारे शरीर को बहुत ही अच्छा पोषण मिलता है। ये तत्व हमारे शरीर को साफ रखते हैं, जिसके कारण हमारा लिवर को तेजी से खुद को सुधारने का वक्त मिल सकता है। विटामिन-सी से भरपूर फल जैसे नींबूसंतरा आदि का रस पीने से बहुत फायदा होता है। रोजाना नींबू पानी पीने से आप पीलिया से छुटकारा पा सकते हैं।

8-पीलिया में चने

चने खाने से शरीर में ऊर्जा आती है। पीलिया में चने खाना फायदेमंद बताया गया है। इससे आयरन और कई विटामिन मिलते हैं। लेकिन यह ध्यान रहे कि आप चनों को फ्राई करके ना खाएं।

पीलिया में क्या खाएं इसे लेकर तो आपका कंफ्यूजन दूर हो गया होगा। अब जानते हैं की पीलिया में किन चीजों को एवॉइड करना चाहिए…

यह भी पढ़ें : Pomegranate: अनार क्या है?

पीलिया में क्या खाएं और क्या न खाएं…

पीलिया के मरीजों को ध्यान में रखते हुए, इन चीजों को नहीं खाना या पीना चाहिए:

1- रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स 

किसी भी प्रकार का सोडा, सफेद ब्रैड, पास्ता आदि  चीजों में बहुत चीनी पाया जाता है। बहुत ज्यादा चीनी भी हमारे लिवर के लिए अच्छी नहीं होती।

2- शराब 

शराब हमारे लिवर को बहुत नुकसान पहुंचाती है। इसका सेवन भी बिलरूबिन का स्तर बढ़ाता है। इसलिए, शराब हमें नहीं पीना चाहिए, खासकर की तब, जब हम पीलिया से लड़ रहे हों।

3- पैक खाना 

पैकेज्ड खाने में बहुत सी प्रिसर्वेटिव्स होते हैं, जो डाइजेशन में तक्लीफ लाती है, और हमारे लिवर पर ज़ोर पड़ जाती है। इसके कारण, ये खाने से भी पीलिया क इलाज नहीं हो पाता है।

4- मांस 

पीलिया में नॉनवेज खाना वर्जित है। ऐसा इसलिए क्योंकि नॉन वेज में अत्यधिक मात्रा में फैट पाया जाता है जो कमजोरी लिवर के लिए घातक है और नॉनवेज गरिष्ठ भोजन की श्रेणी में भी आता है।

5- दूध से बनी चीजें

आप सोच रही हैं कि पीलिया में क्या खाएं तो आप दूध से बनी चीजें जैसे घी, मक्खन, पनीर आदि को भी हाई फैट कंटेन्ट होने की वजह से नहीं खाना चाहिए।

6- तेल, मिर्ची-मसाले

पीलिया के दौरान हमें तले और मिर्च मसाले वाले भोजन से भी बचना चाहिए। ये भोजन हमारे पाचन तंत्र, खासकर लिवर को नुकसान पहुंचाता है।

अन्य सावधानियां

  • खाना बनाने, परोसने, खाने के पहले, बाद में और टॉयलेट जाने के बाद हाथ साबुन से अच्छी तरह धोना चाहिए।
  • खाना रखने वाली जगह पर खाना ढंककर रखना चाहिए, ताकि मक्खियों व धूल से बचाया जा सके।
  • ताजा व शुद्ध गर्म भोजन करें। दूध व पानी उबालकर पियें।
  • गंदे, सड़े, गले व कटे हुए फल नहीं खाएं। धूल में पड़ी या खुले हुए बाजार के पदार्थ न खाएं।  स्वच्छ टॉयलेट्स का प्रयोग करें।

निष्कर्ष- यदि हम खानपान और अन्य सावधानियों का सही ध्यान रखें, और हमारी सेहत के हिसाब से उचित चीजों को ही खाएं, तो पीलिया के समय भी हमारे शरीर को राहत मिलेगी, और उसका इलाज भी आसानी से हो पाएगा। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में पीलिया में क्या खाएं और क्या न खाएं इससे जुड़ी सभी जानकारी दी गई है। यदि आप पीलिया में क्या खाएं से जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो आप अपना सवाल कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं। 

और पढ़ें :-

Poppy Seed : खसखस के बीज क्या है?

पीलिया (Jaundice) में क्या खाएं क्या नहीं खाएं?

Jaundice : क्या होता है पीलिया? जानें इसके कारण लक्षण और

बाधक पीलिया (Obstructive jaundice) क्या है?

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Black eye: काली आंख क्या है?

जानिए काली आंख क्या है in hindi, काली आंख के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, black eye को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Sunil Kumar

आंख से कीचड़ आना हो सकता है इन बीमारियों का संकेत, जान लें इनके बारे में

आंख से कीचड़ आना क्या है, आंख से कीचड़ आना in Hindi, आंख से कीचड़ आने का घरेलू इलाज, आई इंफेक्शन का इलाज कैसे करें, Eye Discharge.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha

18 साल के बाद हर महिला को करवानी चाहिए ये 8 शारीरिक जांच

जानिए महिलाओं को कौन-कौन सी शारीरिक जांच कब-कब करवानी चाहिए. 10 से 39 साल की उम्र में शारीरिक जांच से क्या लाभ हैं? शारीरिक जांच कराने के फायदे क्या हैं?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

कोविड-19 से बचने के लिए बार-बार हाथ धोना है तो किन बातों को रखना है ध्यान? कोरोना से बचाव के लिए हाथ साफ करते वक्त इन बातों का रखें ध्यान। Handwashing and Coronavirus in hindi

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha