home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Muscle strain : मसल्स स्ट्रेन क्या है?

Muscle strain : मसल्स स्ट्रेन क्या है?
परिचय|लक्षण|कारण|जोखिम|निदान और उपचार|जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

परिचय

मसल्स स्ट्रेन (Muscle Strain) क्या है?

मसल्स स्ट्रेन (Muscle Strain) या मांसपेशियों में खिचाव, तब होती है जब आपकी मांसपेशियों को चोट लगती है। इसकी समस्या शरीर के किसी भी मांसपेशी में हो सकती है, लेकिन जांघ के पीछे की मांसपेशियों, जैसे- पीठ के निचले हिस्से,गर्दन, कंधे और हैमस्ट्रिंग में इसकी समस्या होना सबसे आम होता है।

कितना सामान्य है मसल्स स्ट्रेन?

मांसपेशियों में खिंचाव की समस्या होना आम है। यह किसी भी उम्र में किसी भी व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है। इसके खतरे को कम करने के लिए इसके कारकों को प्रबंधित किया जाना चाहिए। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से चर्चा करें।

लक्षण

मसल्स स्ट्रेन के लक्षण क्या हैं?

मसल्स स्ट्रेन के सामान्य लक्षण हैंः

मांसपेशियों में अगर हल्का खिचाव है, तो आपको अपनी मांसपेशी थोड़ी कठोर महसूस हो सकती है। जबकि, इसकी समस्या गंभीर होने पर मांसपेशी फट सकती है जो बहुत ही दर्दनाक होता है।

इसके सभी लक्षण ऊपर नहीं बताएं गए हैं। अगर इससे जुड़े किसी भी संभावित लक्षणों के बारे में आपका कोई सवाल है, तो कृपया अपने डॉक्टर से बात करें।

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर आपकी मांसपेशियों में किसी तरह की चोट लगी है जो घरेलू उपचार होने के बाद 24 घंटों बाद भी ठीक नहीं होती है, तो अपने डॉक्टर को फोन करें।

अगर आपको चोट के साथ अपनी मांशपेशियों से किसी तरह की आवाज सुनाई देती है और चलने में परेशानी महसूस करते हैं या सूजन, दर्द और बुखार जैसे कोई भी लक्षण हैं, तो आपको अस्पताल के आपातकालीन विभाग में जांच करानी चाहिए।

अगर ऊपर बताए गए किसी भी तरह के लक्षण आपमें या आपके किसी करीबी में दिखाई देते हैं या इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें। हर किसी का शरीर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रिया करता है।

यह भी पढ़ेंः आम बुखार और स्वाइन फ्लू में कैसे अंतर करें ?

कारण

मसल्स स्ट्रेन के क्या कारण हैं?

मांसपेशियों में खिंचाव तब होता है जब मांसपेशियों में अचानक और अनचाहे तौर पर उनमें खिचांव हो जाता है। इस तरह के कारणों से मांसपेशी फट भी सकती है, जिसके कई कारण हो सकते हैं:

  • असुरक्षित तौर पर शारीरिक गतिविधि करना
  • शरीर में खराब लचीलापन
  • हेल्थ कंडीशन
  • बहुत ज्यादा थका हुआ महसूस करना

बहुत ज्यादा खिचांव इन स्थितियों के कारण हो सकता है जब आप:

  • फिसल जाते हैं
  • कूदते हैं
  • दौड़ते हैं
  • कुछ फेंकते हैं
  • कोई भारी वजन उठाते हैं
  • अनुचित शारीरिक अवस्था में कोई वजन उठाते हैं

ठंड के मौसम में मांसपेशियों में खिंचाव की समस्या अधिक देखी जा सकती है। क्योंकि, मांसपेशियां कम तापमान में स्थिर रहती हैं। अगर मांसपेशियों में किसी तरह की समस्या है तो हल्के गर्म तापमान में रहें।

क्रोनिक मांसपेशी खिचाव के कई कारण हो सकते हैं:

  • रोइंग, टेनिस, गोल्फ या बेसबॉल जैसे खेल खेलना
  • लंबे समय तक एक अजीब स्थिति में अपनी पीठ या गर्दन को पकड़े रहना, जैसे डेस्क के सामने बैठ कर कंप्यूटर पर काम करना
  • खराब पुजिशन में बैठना

ये भी पढ़े Polymyalgia rheumatica: पोलिमेल्जिया रुमेटिका क्या है?

जोखिम

कैसी स्थितियां मसल्स स्ट्रेन के जोखिम को बढ़ा सकती हैं?

ऐसी कई स्थितियां हैं जो मसल्स स्ट्रेन के जोखिम को बढ़ा सकती हैंः

  • खराब एथलेटिक कंडीशनःएथलेटिक गतिविधियों को करने से पहले पूरे शरीर की जांच कराएं। साथ ही, टखने और घुटनों को मजबूत बनाने के लिए नियमित तौर पर व्यायाम करें। क्योंकि, किसी भी शारीरिक गतिविधि के दौरान टखने के जोड़ और मांसपेशियों में मोच या खिचाव का खतरा बढ़ जाता है।
  • मांसपेशियों और लिगामेंट का थका होनाः जब मांसपेशियों और लिगामेंट किसी शारीरिक गतिविधि के कारण बहुत ज्यादा थक जाते हैं, तो ऐसी स्थिति में आराम करें। उदाहरण के लिए, मैराथन दौड़ने वाले किसी व्यक्ति को दौड़ के अंतिम कुछ मील के दौरान टखने के मोच या खिचाव का अधिक खतरा हो सकता है।
  • किसी भी शारीरिक गतिविधि को करने से पहले तैयारी न करनाः एथलीट जो पहले से ही किसू तरह के खेल में शामिल हैं, उन्हें अगले खेल में शामिल होने से पहले अपनी मांसपेशियों को थोड़ा आराम देना चाहिए। इसके लिए स्ट्रेचिंग कर सकते हैं।
  • बहुत ज्यादा वजन ढोनाः अधिक वजन ढोने से बचें। अधिक वजन लेकर चलना, दौड़ना या कूदना जोड़ों पर अधिक प्रभाव डालता है, जिससे लिगामेंट्स और मांसपेशियों पर प्रभाव पड़ता है।
  • महिलाएं जो 30 की उम्र के बाद एथलीट हैंः कई अध्ययनों से संकेत मिले हैं कि 30 साल से अधिक आयु की महिलाओं के शरीर का द्रव्यमान पुरुषों की तुलना में घट जाता है। जिसके कारण उनके टखने मोच की स्थिति भी बढ़ जाती है।

यह भी पढ़ेंः डिलिवरी के बाद बॉडी को शेप में लाने के लिए महिलाएं करती हैं ये गलतियां

निदान और उपचार

प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

मसल्स स्ट्रेन का निदान कैसे किया जाता है?

मसल्स स्ट्रेन का निदान करने के लिए डॉक्टर सबसे पहले आपकी स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेंगे। उसके बाद, वो आपका फिजिकल एग्जाम लेंगे। इसके दौरान आपकी मासंपेशियों की स्थिति कैसी है, इसका पता लगाया जाता है। जिसके अनुसार आपको किसी तरह के उपचार की जरूरत उसका चुनाव किया जाता है।

इसके लिए एक्स-रे या लैब टेस्ट की आवश्यक नहीं होती है।

मसल्स स्ट्रेन का इलाज कैसे होता है?

दर्द और सूजन को कम करने के लिए दर्द निवारक दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है। साथ ही, मांसपेशियों को मजबूत बानने के लिए फिजिकल थेरेपी भी की जा सकती है।

कुछ गंभीर स्थितियों में, सर्जरी की भी जरूरत हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः क्या हर दिन बॉडी वेट स्क्वेट कर सकते हैं?

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

जीवनशैली में बदलाव या घरेलू उपचार क्या हैं, जो मुझे मसल्स स्ट्रेन को रोकने में मदद कर सकते हैं?

निम्नलिखित जीवनशैली और घरेलू उपचार आपको मसल्स स्ट्रेन से बचने में मदद कर सकती हैं:

अधिकांश मांसपेशियों में होने वाले खिचाव का सफलतापूर्वक घर पर इलाज किया जा सकता है। जिसके लिए आराम करना, बर्फ की सिकाई करना के उपायों से इसका इलाज किया जा सकता है।

आराम करें

कुछ दिनों के लिए उन कामों को न करें जिनके लिए आपको अपनी मांसपेशियों का इस्तेमाल करना पड़ें। हालांकि, बहुत अधिक आराम भी न करें ऐसा करने से मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं। थोड़ी-थोड़ी देर में कोई न कोई शारीरिक गतिविधि करते हैं।

बर्फ की सिकाई करें

चोट लगने वाली जगह पर जल्द से जल्द बर्फ रखें। यह सूजन और दर्द दोनों से राहत दिलाता है। लेकिन ध्यान रखें कि बर्फ को सीधे त्वचा पर न लगाएं। बर्फ को पहले किसी कॉटन के कपड़े में लपेटें फिर उसे अपनी चोट वाली जगह पर लगाएं। इसके बाद बर्फ के टुकड़े को 20 मिनट के लिए चोट वाले स्थान पर लगाए रखें। इस प्रक्रिया को आप 1 से 2 घंटे बाद फिर से दोहरा सकते हैं।

दबाव बनाएं

सूजन कम करने के लिए, प्रभावित क्षेत्र पर इलास्टिक पट्टी लपेटें। जब तक सूजन कम न हो जाए तब तक इसे लपेटें रखें।

ऊपर उठाएं

घायल मांसपेशी वाली त्वचा को अपने दिल के स्तर से ऊपर उठा कर रखें।

अन्य स्वंय देखभाल विधियां भी निम्नलिखित हैं:

अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो उसकी बेहतर समझ के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ेंः इस तरह बिगिनर्स खुद को रख सकते हैं फिट, जानिए वेट ट्रेनिंग के नियम

Reviewed by Medical Reviewer

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Muscle Strain https://www.webmd.com/fitness-exercise/guide/muscle-strain#2 Accessed November 09, 2019.

Ankle Sprain and Strain Risk Factors https://www.sports-health.com/sports-injuries/ankle-and-foot-injuries/ankle-sprain-and-strain-risk-factors Accessed November 09, 2019.

Muscle Strains https://www.healthline.com/health/strains#overview1 Accessed November 09, 2019.

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Ankita mishra द्वारा लिखित
अपडेटेड 19/11/2019
x