home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को लेकर ग्लोबल इमरजेंसी घोषित, इंडियन आर्मी ने कर ली तैयारी

कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को लेकर ग्लोबल इमरजेंसी घोषित, इंडियन आर्मी ने कर ली तैयारी

चीन में फैल रहे कोरोना वायरस ( 2019-nCoV)को लेकर जहां एक ओर दुनिया भर में लोग डरे हुए हैं, वहीं इसका असर अब भारत में भी दिखने लगा है। WHO ने कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को ग्लोबल इमरजेंसी करार दिया है। डब्लूएचओ चीफ ने कहा कि कोरोना वायरस कमजोर हेल्थ सिस्टम में तेजी से वार करता है और हम सभी लोग इसको लेकर बहुत चिंतित हैं। गुरुवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन से फैलने वाले कोरोना वायरस ( 2019-nCoV)को इंटरनेशनल इमरजेंसी के रूप में घोषित किया। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अंतरराष्ट्रीय आपातकाल घोषित किया है। ऐसे शब्द का प्रयोग विश्व स्तर पर जल्दी नहीं किया जाता है। सभी देशों के प्रमुख इस भयंकर वायरस से निपटने के लिए रणनीति बना रहे हैं।

आपको बताते चले कि केरल में एक स्टूडेंट का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है। रोगी केरल के वुहान यूनिवर्सिटी का छात्र है। अभी पेशेंट स्टेबल है और फिल्हाल डॉक्टरों की निगरानी में है। कोरोना वायरस के कारण अब तक 213 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 9,800 से ज्यादा इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। चीन में कई भारतीय फंसे हुए हैं।

चीन से भारतीयों को एयरलिफ्ट करने के लिए एयर इंडिया का विमान वुहान रवाना हो चुका है। भारत के कई राज्यों से कोरोना वायरस के संदिग्ध मामलें सामने आ रहे हैं, जिनकी तुरंत जांच की जा रही है।

इंडियन आर्मी ने तैयार किया सुविधा केंद्र

डब्लूएचओ (WHO) के आपातकाल घोषित करने के बाद इंडियन आर्मी ने मानसर के पास सुविधा केंद्र बनाया है, जिसमे वुहान से आ रहे लगभग 300 भारतीय छात्रों को रखा जाएगा। कोरोना वायरस( 2019-nCoV) की जांच के लिए छात्रों की निगरानी के लिए एक टीम भी रखी जाएगी ताकि संक्रमण के बारे में पता लगाया जा सके। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) ने चीन (वुहान) से आने वाले लगभग 600 भारतीय परिवारों के लिए ITBP छावला कैंप, नई दिल्ली के पास एक सुविधा केंद्र बनाया है। एयरपोर्ट से परिवार और बच्चों को इसी सुविधा केंद्र में लाया जाएगा। कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को फैलने से रोकने के लिए बचाव बहुत जरूरी है।

और पढ़ें- बुजुर्गों को कोरोना का खतरा अधिक, जानें कैसे करें बचाव

कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) के बारे में जानते हैं आप ?

कोरोना वायरस इंसानों समेत सभी मैमल्स (Mammals) में रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं को पैदा कर सकता है। इस वायरस का नाम कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) इस वजह से पड़ा, क्योंकि इलेक्ट्रोन माइक्रोस्कॉप से देखने पर ये विषाणु क्राउन शेप में दिखता है। अधिकतर कोरोना वायरस हानिकारक नहीं होते हैं। लेकिन, कोरोना वायरस के सार्स (SARS) और मार्स (MERS) प्रकार इंसानों के लिए खतरनाक हो सकते हैं। जानवरों में पहला कोरोना वायरस पहली बार 1937 में पक्षियों में संक्रमित ब्रोंकाइटिस वायरस के रूप में मिला था और इसके बाद पहला ह्यूमन कोरोना वायरस 1960 में सामान्य जुकाम से ग्रसित मरीजों की नाक में पाया गया। कोरोना वायरस को कोरोना बियर से जोड़कर भी देखा गया था। कोरोना बियर को कोरोना वायरस फैली की वजह बताया जा रहा था, जो कि गलत है। इस वायरस को इसलिए भी खतरनाक माना जा रहा है क्योंकि इसके लक्षण की जानकारी आसानी से नहीं हो पाती है।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें : सांप (Snake) से कोरोना वायरस (Coronavirus) फैलने की है आशंका, सामने आई ये बातें

कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) के इन लक्षणों से रहे सतर्क

सर्दी-जुकाम होना सामान्य बात होती है लेकिन अभी दुनियाभर में कोरोना वायरस का आतंक फैला हुआ है। ऐसे में कुछ लक्षणों का ध्यान जरूर रखना चाहिए।

  • सिरदर्द की समस्या
  • खांसी की समस्या
  • गले में दर्द और खराश
  • शरीर का ताप बढ़ जाना
  • अस्वस्थ्य होने का सामान्य एहसास
  • अस्थमा
  • नाक बहना

कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को लेकर सावधानियां

  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) से बचाव के लिए भारत के लिए जानकारी उपलब्ध कराई है।
  • अगर किसी भी व्यक्ति को जुकाम के लक्षण दिख रहे है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दिए गए नंबर पर भी संपर्क किया जा सकता है।
  • जब भी घर से बाहर निकलें तो मुंह पर मास्क का प्रयोग करके निकलें।बिना मास्क के घर के बाहर न जाए।
  • मास्क को साफ रखना भी बहुत जरूरी है। डिस्पोजल मास्क का दोबारा प्रयोग न करें।
  • अगर देश के बाहर की यात्रा करके आएं हैं तो तुरंत अपनी जांच कराएं और घबराएं नहीं।

और पढ़ें : कोरोना वायरस से बचाव संबंधित सवाल और उनपर डॉक्टर्स के जवाब

  • अगर आप किसी भी देश से भारत वापस आए है तो इस जानकारी न छुपाएं। ऐसा करना गैर इरादतन अपराध की श्रेणी में आएगा।
  • अब जबकि ग्लोबल इमरजेंसी लागू कर दी गई है, कुछ समय के लिए चीन की यात्रा करने से बचें।
  • घर से बाहर जाने पर अपने साथ ताजा खाना रखें और बाहर का खाना न खाएं।
  • किसी से भी हाथ मिलाने से बचें और यदि जरूरी भी है तो हाथ मिलाने के बाद हाथों को साबुन से धोएं।
  • छींक या खांसी आने पर मुंह को ढक लें।
  • खांसी और छींक से परेशान मरीज से थोड़ी एहतियात के साथ मिलें या जिसकी तबियत ठीक न हो उससे दूरी बनाकर रखें।
  • कोशिश करें कि जानवरों का मांस न खाएं। जो भी खाएं, उसे अच्छी तरह से साफ कर लें
  • किसी भी तरह के जानवरों के फार्म, पशुओं के बाजार और बूचड़खाने में जाने से बचें।
  • अगर कोई व्यक्ति विदेश से आया है और उसे जुकाम के लक्षण दिख रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ऐसे व्यक्ति से दूरी बनाएं। कोरोना वायरस ( 2019-nCoV) को लेकर सतर्क रहे।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार मुहैया नहीं कराता।

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड