home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

UV LED लाइट सतहों को कर सकती है साफ, कोरोना हो सकता है खत्म

UV LED लाइट सतहों को कर सकती है साफ, कोरोना हो सकता है खत्म

यूवी एलईडी लाइट से भगाएं कोरोना : संक्रमित लोगों और जगहों के संपर्क में आने पर कोरोना फैलता है। कोरोना वायरस की बीमारी कोविड- 19 में मरीज को प्रमुख रूप से सूखी खांसी, बुखार, सांस संबंधी समस्याएं आती हैं। लेकिन, इस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सावधानी बरतना काफी जरूरी है, जिसमें हाथों को साबुन और पानी से धोना और अपने घर, हैंडल, चीजों, सतहों की साफ-सफाई करना शामिल है। लेकिन, अब यूवी एलईडी लाइट से SARS-CoV-2 को रोकने में मदद मिलने की संभावना जताई जा रही है, क्योंकि कहा जा रहा है कि इस अल्ट्रावायलेट (पराबैंगनी किरणे) रेज वाली लाइट की मदद से फर्श, चीजें, प्रोडक्ट आदि से कोरोना वायरस को खत्म किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: कोविड-19: दिन रात इलाज में लगे एक तिहाई मेडिकल स्टाफ को हुई इंसोम्निया की बीमारी

यूवी एलईडी लाइट कोरोना से बचने में मददगार क्यों?

यूवी (अल्ट्रावायलेट) एलईडी लाइट को चीजों, उत्पादों या सतहों से खतरनाक बैक्टीरिया और वायरस को मिटाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। स्टडी के सहलेखक क्रिश्चियन जोलनर ने कहा कि, ‘यूवी एलईडी लाइट से पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट, सतह, फर्श आदि को डिसइंफेक्ट करके कोरोना वायरस को मिटा सकती है।‘ जोलनर अल्ट्रावायलेट एलईडी लाइट तकनीक की मदद से सैनिटाइजेशन और प्यूरिफिकेशन प्रक्रिया को आसान और प्रभावशाली बनाने पर कार्य व शोध कर रहे हैं। पराबैंगनी किरणों के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि, ’यूवी-ए और यूवी-बी सूर्य की रोशनी के साथ पृथ्वी को मिल जाती है, जो कि काफी महत्वपूर्ण होती है। लेकिन, वहीं यूवी-सी लाइट लैब में विकसित की जाती है, जो कि खतरनाक कीटाणुओं को मिटाकर हवा, पानी और सतहों को प्यूरिफाई करने के काम आती है। आमतौर पर, 260-285 नैनोमीटर वेवलेंथ रेंज वाली यूवी-सी लाइट को डिसइंफेक्शन के लिए इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन यह मनुष्य के लिए काफी खतरनाक होती है। इसलिए इसे किसी भी मनुष्य की अनुपस्थिति में ही इस्तेमाल किया जाता है।’

यह भी पढ़ें: चेहरे के जरिए हो सकता है इंफेक्शन, कोरोना से बचने के लिए चेहरा न छूना

क्या कोरोना वायरस को मिटाने में प्रभावी होगी यूवी एलईडी लाइट (UV LED)

जोलनर का कहना है कि, ‘अल्ट्रावायलेट एलईडी से खतरनाक बैक्टीरिया और वायरस को मारने में काफी मदद मिलती है। हालांकि, यह वर्तमान संकट नोवेल कोरोना वायरस पर कितनी प्रभावशाली साबित होगी या नहीं, यह अभी प्रामाणित रूप से नहीं कहा जा सकता। लेकिन, इस बात की बिल्कुल उम्मीद जताई जा सकती है कि इसे एडवांस बनाकर जरूर बेहतर परिणाम मिलेंगे। वहीं, पराबैंगनी किरणों वाली एलईडी लाइट को बनाने की तकनीक को थोड़ी कम खर्चिली बनाने की आवश्यकता है, ताकि बड़े स्तर पर यह आसानी से उपलब्ध हो सके। इस तकनीक से सड़कों, पानी, सीढ़ियों, रेलिंग आदि को डिसइंफेक्ट किया जा सकता है, लेकिन उस दौरान यह सुनिश्चित करना बहुत जरूरी है कि वहां किसी भी मनुष्य की उपस्थिति न हो।’

यह भी पढ़ें: Lockdown 2.0- भारत में 3 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, 20 अप्रैल के बाद सशर्त मिल सकती है छूट

यूवी एलईडी लाइट: पहले अल्ट्रावायलेट रेज से संबंधित यह खबर फैल रही थी

कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर एक पोस्ट काफी वायरल हो रही थी। जिसमें बताया जा रहा थी कि, सूर्य की रोशनी में मौजूद पराबैंगनी किरणें (Ultraviolet rays) कोरोना वायरस को खत्म कर देती हैं। इसलिए हम सभी को सूर्य की रोशनी में ज्यादा से ज्यादा देर रहना चाहिए। पोस्ट के वायरल होते ही कोरोना वायरस फैक्ट चेक करने के लिए किसी ने सीधा डब्ल्यूएचओ से यह सवाल कर दिया। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बताया कि, यह सिर्फ एक मिथ है। क्योंकि, सूर्य की रोशनी में मौजूद पराबैंगनी किरणों द्वारा कोरोना वायरस खत्म करने का कोई सबूत नहीं है। इसके अलावा, सूर्य की रोशनी सेहत के लिए बेहतर होती है, लेकिन किसी और तरीके से पराबैंगनी किरणों द्वारा हाथों और त्वचा को वायरस से मुक्त करना खतरनाक हो सकता है। क्योंकि, इससे त्वचा गंभीर रूप से जल जाती है। इसलिए बेहतर होगा कि, आप सूर्य की रोशनी लें, लेकिन यह न मानें कि इससे कोरोना वायरस का खात्मा किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: सोशल डिस्टेंसिंग को नजरअंदाज करने से भुगतना पड़ेगा खतरनाक अंजाम

इन चीजों से भी डिसइंफेक्ट करके कोविड- 19 से दूर रह सकते हैं

आप सतहों या घर में मौजूद चीजों को निम्नलिखित चीजों से डिसइंफेक्ट कर सकते हैं। जैसे-

  • साबुन और पानी
  • ब्लीच सॉल्यूशन
  • हाइड्रोजन पैरॉक्साइड
  • 70% आइसोप्रोपाइल एल्कोहॉल वाइप्स
  • एल्कोहॉल सॉल्यूशन आदि

लेकिन इन बातों का भी रखें ध्यान

  • आप घर में मौजूद उपर्युक्त चीजों का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन कोरोना वायरस के लिए डिसइंफेक्ट करते हुए आपको यह ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि, आप जिस चीज को डिसइंफेक्ट करने के लिए जिस तरीके का इस्तेमाल कर रहे हैं, उससे कोई दुष्प्रभाव न हो। क्योंकि, कोई भी चीज हर किसी वस्तु के लिए सुरक्षित नहीं होती।
  • किसी भी चीज को साफ करने के लिए आपको जल्दबाजी से बचना होगा। क्योंकि, सिर्फ एक बार कपड़ा या वाइप करने के बाद कीटाणु नहीं जाते हैं। बल्कि आपको सतहों या वस्तुओं को कुछ देर तक साफ करना पड़ता है।
  • इसके अलावा, माइक्रोवेव, ओवन आदि इलेक्ट्रॉनिक सामानों को साफ करते हुए ध्यान रखें कि, उससे वह चीज खराब न हो जाए।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

SARS-CoV-2 से बचने के लिए अन्य सावधानी

कोरोना वायरस इंफेक्शन से बचने के लिए भारत सरकार ने लोगों के लिए कुछ सलाह दी है। सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के साथ इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं।

  1. कोरोना से बचाव के लिए साफ सफाई का ध्यान रखें। हाथों को चेहरे पर टच करने के जरिए यह वायरस शरीर में प्रवेश कर सकता है इसलिए हाथों की साफ सफाई का खास ख्याल रखें।
  2. घर से बाहर कदम रखने से बचें। कहीं भी जाकर भीड़ न लगाएं।
  3. जह भी छींक या खांसी आए तो किसी टिश्यू पेपर का इस्तेमाल करें। आपके पास कुछ नहीं है तो कोहनी को मोड़कर मुंह को ढकें।
  4. यदि आपको कोरोना वायरस के लक्षण हैं, तो घर से बाहर जाने की बजाय मेडिकल टीम को कॉल कर संपर्क करें।
  5. यूवी एलईडी लाइट या किसी अन्य चीज का इस्तेमाल करने से पहले अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर की हर सलाह मानें और पूरी जानकारी प्राप्त करते रहें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Coronavirus – https://www.who.int/health-topics/coronavirus – Accessed on 17/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/index.html – Accessed on 17/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.nhs.uk/conditions/coronavirus-covid-19/ – Accessed on 17/4/2020

Coronavirus disease 2019 (COVID-19) – Situation Report – 87 – https://www.who.int/docs/default-source/coronaviruse/situation-reports/20200416-sitrep-87-covid-19.pdf?sfvrsn=9523115a_2 – Accessed on 17/4/2020

Novel Corona Virus – https://www.mohfw.gov.in/ – Accessed on 17/4/2020

लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x