home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Androstenedione : एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट क्या है?

परिभाषा|एहतियात/चेतावनी|प्रक्रिया|परिणामों को समझें
Androstenedione : एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट क्या है?

परिभाषा

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट (Androstenedione Test) क्या है?

एंड्रोस्टेनडायोन टेस्ट का उपयोग यह डायग्नोस करने के लिए किया जाता है कि एड्रिनल ग्लैंड, अंडाशय या वृषण ठीक तरह से अपना-अपना कार्य कर रहे हैं या नहीं। साथ ही यह जांचने के लिए भी एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट किया जा सकता है कि क्या पुरुष हार्मोन पूरी तरह उत्पादित हो रहे हैं या नहीं। यह एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट महिलाओं में अक्सर अतिरिक्त पुरुष हार्मोन के लक्षणों का कारण निर्धारित करने के लिए किया जा सकता है।

और पढ़ें: Cystoscopy : सिस्टोस्कोपी टेस्ट क्या है?

एंड्रॉस्टेडियन (AD, DHEA और सल्फ्यूरिक के एस्टर, DHEAS) टेस्टोस्टेरोन और एस्ट्रोन के प्रीकर्सर है, जो गोनैड्स और एड्रिनल ग्रंथियों में बनाया जाता है। 11-डीओक्सीकोर्टिसोल, 17-हाइड्रॉक्सीप्रोजेस्टेरोन, 17-हाइड्रॉक्सीप्रोजेनेनोलोन कोर्टिसोल प्रीगेनोलोन का प्रीकर्सर है। ACTH इन पदार्थों के पिट्यूटरी स्राव को उत्तेजित करता है। हाइपरथायरायडिज्म एड्रिनल हाइपरप्लासिया (CAH) वाले बच्चों में जेनेटिक म्यूटेशन होता है, जिससे कोर्टिसोल, टेस्टोस्टेरोन, एल्डोस्टेरोन और एस्ट्रोन के संश्लेषण में कमी वाले एंजाइम होते हैं। जब एंजाइम की कमी हार्मोन के संश्लेषण के साथ होती है, तो ऊपर बताए गए पदार्थ एसीटीएच उत्तेजना के कारण तीव्र गति से बढ़ सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, CAH एक छिपा हुआ ओटोसोम होता है।

इस डिसऑर्डर के लक्षण स्टेरॉयड के अधिक या कम होने के प्रकार पर निर्भर कर सकते हैं। जिसके नतीजतन, सीएएच कई प्रकार के लक्षण पैदा कर सकता है, जैसे कि युवा लड़कियों में मैस्क्युलिनाइजेशन की समस्या, महिलाओं और पुरुषों में अतिरिक्त एंड्रोजन का संकेत, अल्टोस्टेरोन की कमी और कोर्टिसोल के कारण सेकेंडरी सॉल्ट लॉस या हार्मोनल मिनरोसॉर्टिकॉइड बढ़ने के कारण हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होना। एक मामूली और अधिक सामान्य प्रकार के CAH में असामयिक यौवन, मुंहासों की समस्या, शरीर के कई हिस्सों में अत्यधिक बाल विकास होना, अनियमित मासिक धर्म चक्र होना या बांझपन की भी समस्या हो सकती है।

और पढ़ें : Parathyroid Hormone Blood Test : पैराथाइराइड हार्मोन ब्लड टेस्ट क्या है?

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट क्यों किया जाता है?

एंड्रोस्टेनडायोन टेस्ट अन्य हार्मोन टेस्ट के साथ करने के लिए भी निर्देशित किया जा सकता है। यदि डॉक्टर को संदेह होता है कि आपके शरीर में अतिरिक्त एंड्रोजन हार्मोन उत्पादित हो रहा है या डॉक्टर एड्रिनस, अंडाशय और वृषण के कार्यों की जांच करना चाहते हैं, तो अन्य टेस्ट के साथ भी एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट की सलाह दे सकते हैं। यह परीक्षण नवजात बच्ची के जननांग का बाहर से पता लगाने के लिए भी किया जा सकता है, लेकिन यह लिंग का निर्धारण नहीं कर सकता है। या युवा लड़की में खास मैस्क्युलिनाइजेशन विकसित होता है तो यह CAH या एंड्रोजन की अधिक मात्रा से संबंधित बीमारी की वजह से हो सकता है।

[mc4wp_form id=”183492″]

यह परीक्षण उन लड़कों में भी किया जा सकता है जिनमें जल्दी प्यूबर्टी के संकेत दिखाई देते हैं, जैसे पेनिस का साइज बड़ा या छोटा होना, मांसपेशियों या बालों का विकास बहुत जल्दी होना। इसके अलावा ऐसे लड़के जिसकी प्यूबर्टी देरी से होती है, उनकी समस्या की जांच करने के लिए भी एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट का निर्देश आपके डॉक्टर दे सकते हैं।

और पढ़ें : HCG Blood Test: जानें क्या है एचसीजी ब्लड टेस्ट?

एहतियात/चेतावनी

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट आपको पता होना चाहिए कि क्लोमीफीन, लेवोनोर्गेस्ट्रेल, कॉर्टिकोट्रोपिन और मेट्रिपोन जैसे दवाएं एंड्रोस्टेनियोन की एकाग्रता में बढ़ा सकते हैं, जबकि कॉर्टिकॉस्टिरॉइड्स जैसे डेक्सामेथासोन दवाओं का उल्टा प्रभाव पड़ सकता है। यदि आप रेडियोइम्यूनोसे विधि के लिए कहा गया है, तो परीक्षण से एक सप्ताह किए गए रेडिएशन इमेजिंग परीक्षण परिणामों को प्रभावित कर सकता है।

प्रक्रिया

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट के लिए कैसे तैयारी करनी चाहिए?

यदि आपको पीरियड्स आए हैं, तो पीरियड्स आने के 1 हफ्ते पहले का ब्लड सैंपल लेना चाहिए।

छोटी बांह के कपड़े पहनें ताकि नर्स को आपकी बांह से रक्त लेने में आसानी हो।

और पढ़ें : Allergy Blood Test : एलर्जी ब्लड टेस्ट क्या है?

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट के दौरान क्या होता है?

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट करने के लिए डॉक्टर:

  • बांह के ऊपर रक्त प्रवाह रोकने के लिए एलास्टिक बैंड बांधेगा
  • सुई लगाने वाली जगह को दवा से साफ करेगा
  • नस में सुई लगाकर ब्लड निकाला जाएगा, एक से अधिक बार सुई डाली जा सकती है।
  • सुई के साथ ट्यूब अटैच होती है जिसमें रक्त का नमूना इकट्ठा होता है।
  • पर्याप्त रक्त लेने के बाद बैंडेज निकाल दिया जाता है और वहां रूई या बैंडेज लगाया जाता है।
  • उस जगह पर थोड़ा दवाब डाल जाता है।

एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट के बाद क्या होता है?

ब्लड सैंपल लेने के बाद उस जगह पर आपको थोड़ा दवाब डालने को कहा जाएगा और बैंडज लगा दिया जाता है। टेस्ट के बाद आप अपनी सामान्य दिनचर्या शुरू कर सकते हैं।

यदि आपके मन में एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट से जुड़ा कोई सवाल है, तो कृपया अधिक जानकारी और निर्देशों को बेहतर तरीके से समझने के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ेंः Fetal Ultrasound: फेटल अल्ट्रासाउंड क्या है?

परिणामों को समझें

मेरे परिणामों का क्या मतलब है?

सामान्य परिणाम

पुरुष महिला AD 0.6 – 2.7 ng/mL 0.5 – 2.7 ng/mL DHEA 1.0 – 9.5 ng/mL 0.4 – 3.7 ng/mL DHEA S 280 – 640 mcg/dL 65 – 280 mcg/dL

असामान्य परिणाम

बढ़ा हुआ:

  • एड्रिनल ग्लैंड ट्यूमर (Adrenal gland tumor)
  • कंजेनिटल एड्रिनल ग्लैंड में वृद्धि (Increased Congenital Adrenal Gland)
  • एक्टोपिक एसीटीएच का उत्पादन करने वाले ट्यूमर (Tumors producing ectopic ACTH)
  • कुशिंग के सिंड्रोम (कुछ मामलों में) (Cushing’s syndrome (in some cases))
  • सिंड्रोम स्टीन – लेवेंथल (Syndrome stein – leventhal)
  • ओवेरियन कंडक्टर ट्यूमर (Ovarian conductor tumor)

कम इंडेक्स:

  • गोनाडल फेलियर
  • प्राइमरी और सेकंडरी के साथ बिगड़ा हुआ एड्रिनल फंक्शन

यदि एंड्रोस्टीनिडायोन स्तर, एंड्रोजन स्तर, एड्रिनल टेस्ट सामान्य हैं, तो इसका मतलब है कि आपकी एड्रिनल ग्रंथियां सामान्य रूप से काम कर रही हैं। हालांकि, जब एड्रेनल ट्यूमर या कैंसर मौजूद होता है, तो एंड्रोस्टीनिडायोन स्तर सामान्य या अधिक हो सकता है, यह स्रावित होने वाले हार्मोन पर निर्भर करता है।

यदि एंड्रोस्टीनिडायोन स्तर बढ़ जाता है, तो इसका मतलब है कि एड्रिनल ग्लैंड, वृषण और अंडाशय में उत्पादन भी बढ़ जाता है। इससे एड्रिनल ग्लैंड में ट्यूमर या कैंसर, जन्मजात एड्रिनल हाइपरप्लासिया हो सकता है। यदि इससे डॉक्टरों को आपकी स्थिति डायग्नोस करने में मदद नहीं मिलती है तो आपको आगे दूसरे टेस्ट करवाने की ज़रूरत पड़ेगी।

एंड्रोस्टीनिडायोन का कम स्तर एड्रिनल ग्लैंड की बीमारी, अपर्याप्त एड्रिनल या टेस्टिकुलर या ओवेरियन फेलियर के कारण हो सकता है।

सभी लैब और अस्पताल के आधार पर एंड्रोस्टीनिडायोन टेस्ट की सामान्य सीमा अलग-अलग हो सकती है। परीक्षण परिणाम से जुड़े किसी भी सवाल के लिए कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। यदि इस लेख से जुड़ा आपका कोई प्रश्न है तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं। हम अपने एक्सपर्ट्स द्वारा आपके सवालों के उत्तर दिलाने का पूरा प्रयास करेंगे। इससे जुड़ी अधिक जानकारी के लिए बेहतर होगा आप किसी डॉक्टर से परामर्श करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Fred. Ferri’s Netter Patient Advisor. Philadelphia, PA: Saunders / Elsevier, 2012. Print edition. Page 71.

“Angioedema: MedlinePlus Medical Encyclopedia.” National Library of Medicine – National Institutes of Health. http://www.nlm.nih.gov/medlineplus/ency/article/000846.htm. Accessed on 17 May, 2020.

Androstenedione. https://www.yourhormones.info/hormones/androstenedione/. Accessed on 17 May, 2020.

Androstenedione. https://labtestsonline.org/tests/androstenedione. Accessed on 17 May, 2020.

Androstenedione. https://pubchem.ncbi.nlm.nih.gov/compound/Androstenedione. Accessed on 17 May, 2020.

Effects of androstenedione-herbal supplementation on serum sex hormone concentrations in 30- to 59-year-old men. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/11725694. Accessed on 17 May, 2020.

Androstenedione. https://webbook.nist.gov/cgi/cbook.cgi?ID=63-05-8. Accessed on 17 May, 2020.

लेखक की तस्वीर badge
Kanchan Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/09/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड