Garlic : लहसुन क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj

लहसुन का परिचय

लहसुन का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है ?

लहसुन का इस्तेमाल हृदय (दिल) और रक्त प्रणाली से संबंधित कई बीमारियों से निजात पाने के लिए किया जा जाता है। विशेषज्ञों की मानें तो यह इन बीमारियों को जड़ से खत्म करने में काफी कारगर है।

  • हाई ब्लड प्रेशर
  • लो ब्लड प्रेशर
  • हाई कोलेस्ट्रॉल
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने
  • हृदय – धमनी रोग
  • दिल का दौरा (हार्ट अटैक)
  • संकुचित धमनियों के कारण रक्त का प्रवाह कम हो जाने
  • धमनियों का सख्त होना (एथेरोस्क्लेरोसिस)
  • शोध के अनुसार इसके सेवन से निम्न प्रकार के कैंसर से बचाव होता है :
  • पेट का कैंसर
  • मलाशय का कैंसर
  • आमाशय का कैंसर
  • स्तन कैंसर (ब्रेस्ट कैंसर)
  • प्रोस्टेट कैंसर
  • एकाधिक मायलोमा
  • फेफड़ों का कैंसर (लंग कैंसर)
  • प्रोस्टेट कैंसर
  • ब्लैडर कैंसर

लहसुन कैसे काम करता है?

इसमें एलिसिन नामक एक रसायन होता है। विशेषज्ञों की मानें तो इसकी गंध भी एलिसिन नाम के रसायन के कारण ही होती है। लहसुन के फायदे सिर्फ आयुर्वद ही नहीं बल्कि एलोपैथिक विशेषज्ञ और वैज्ञानिक भी मानते हैं। आजकल के टाइम में कुछ कैमिकल प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करके लहसुन की गंध को खत्म किया जाता है, ताकि लोग ज्यादा से ज्यादा की मात्रा में इसका इस्तेमाल कर सके, लेकिन इस बात का ध्यान रखिए की लहसुन की अगर गंध नहीं होगी तो यह किसी उपयोग में भी नहीं आ सकता है. विशेषज्ञों की मानें तो जिन चीजों के जरिए इसकी गंध को खत्म किया जा रहा, वह आंत में घुलकर शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से बातचीत करें।

सावधानियां एवं चेतावनी

लहसुन से जुड़ी सावधानियां एवं चेतावनी

लहसुन के सेवन से पहले मुझे इसके बारे में क्या-क्या जानकारी होनी चाहिए?

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की ज़रुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना ज़रुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

लहसुन कितना सुरक्षित है?

गर्भावस्था और स्तनपान: अगर आप गर्भवती हैं या फिर छोटे शिशु को स्तनपान करवा रही हैं तो इसका इस्तेमाल करने से पहले एक बार इसके नकारात्मक प्रभाव (साइड इफेक्ट) के बारे में जरूर जान लें।

बच्चे: इसका सेवन जितना बड़ों के फायदेमंद होता है, उतना ही बच्चों के लिए फायदेमंद होता है। जन्म के 6 महीने बाद बच्चों को इसका सेवन करवाया जा सकता है। हालांकि इस बात का ध्यान रखिए इसका इस्तेमाल स्किन पर गलती से भी नहीं करना चाहिए वरना यह बच्चे की स्किन को जला सकती है।

सर्जरी: यह रक्तस्राव को लम्बा खींच सकता है। विशेषज्ञों की मानें तो लहसुन का इस्तेमाल करने से ब्लड प्रेशर पर असर पड़ता है। इसलिए इसका इस्तेमाल करने से पहल डॉक्टर की सलाह जरूर लें। अगर शरीर में किसी तरह की सर्जरी हुई है तो इसका सेवन कुछ दिनों के लिए बंद कर दें।

लहसुन के साइड इफेक्ट

लहसुन से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

लहसुन खाने से होने वाले कुछ सामान्य साइड इफ़ेक्ट ये हैं :

  • सांसों की बदबू
  • शरीर की गंध
  • दस्त
  • मुंह की जलन
  • घेघा
  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • पसीना आना
  • दमा
  • एलर्जी
  • त्वचा को नुकसान
  • त्वचा में जलन

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट हों ऐसा ज़रुरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

लहसुन से जुड़े परस्पर प्रभाव / लहसुन से पड़ने वाले प्रभाव

लहसुन के सेवन से अन्य किन-किन चीजों पर प्रभाव पड़ सकता है?

अगर आप वर्तमान में किसी दवाई का सेवन कर रहे हैं तो एक बार इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से विचार कर लीजिए। शोधकर्ताओं के मुताबिक, यह आपके शरीर को गर्मी प्रदान करता है और शरीर को गर्म बनाए रखने में मदद करता है, ऐसे में अगर आप दवाइयों के साथ इसका सेवन करेंगे तो यह नुकसानदायक साबित हो सकती है।

आइसोनियाज़िड (Nydrazid, INH) में इसका इस्तेमाल करने से इसका स्तर घट सकता है, इसमें पाए जाने वाले अवशोषण के कारण आइसोनियाजिड में अच्छी तरह से काम करता है और इसके स्तर पर कम करने में मदद करता है।

HIV / AIDS के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं (नॉन-न्यूक्लोसाइड रिवर्स ट्रांस्क्रिप्टेज़ इनहिबिटर (NNRTIs)

एचआईवी / एड्स के लिए उपयोग की जाने वाली कुछ दवाओं के साथ लहसुन लेने से इसका प्रभाव कम हो सकता है। HIV / AIDS के लिए उपयोग की जाने वाली इन दवाओं में से कुछ में नेविरपीन (विरैम्यून), डेलैविरडाइन (रिसेप्टर), और एफेविरेंज़ (सुस्टिवा) शामिल हैं।

Saquinavir (Fortovase, Invirase) सैक्विनवीर के साथ लहसुन लेने से सैक्विनवीर में कमी आती है। सैक्विनवीर में इसका इस्तेमाल करने से यह बीमारी जड़ से खत्म हो सकती है।

गर्भनिरोधक गोलियां (गर्भनिरोधक दवाएं) : अगर आप गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन कर रही हैं तो लहसुन का सेवन करने से परहेज करें। विशेषज्ञों का कहना है कि गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल करने से एस्ट्रोजन के टूटने का खतरा बढ़ सकता है, इतना ही नहीं इसका इस्तेमाल गर्भनिरोधक गोलियों के प्रभाव को कम कर सकता है। अगर आप इसके साथ गर्भनिरोधक गोली का इस्तेमाल कर रहे हैं तो पार्टनर के साथ संबंध बनाते वक्त थोड़ी सी सावधानी बरतें।

साइक्लोस्पोरिन (Neoral, Sandimmune) इस दवा का प्रयोग करने पर आपको अतिसार, उनींदापन , उल्टी, पेट दर्द, सिर दर्द, चक्कर आना , त्वचा पर दाने के लिए किया जाता है। अगर आप इस दवा का सेवन कर रहे हैं तो इसका इस्तेमाल न करें, यह इसकी प्रभावशीलता को कम कर देता है।

लीवर (Cytochrome P450 2E1 (CYP2E1) सबस्ट्रेट्स) : कई बार लीवर के लिए लोग लहसुन या फिर इसका तेल इस्तेमाल करते हैं, अगर आप भी कुछ ऐसा ही कर रहे हैं तो एक बार डॉक्टर से सलाह ले लीजिए। लीवर की बीमारियों में एसिटामिनोफेन, क्लोरोज़ॉक्साज़ोन (पैराफॉन फोर्टे), इथेनॉल, थियोफ़िलाइन, और सर्जरी के दौरान एनेस्थीसिया के लिए इस्तेमाल किया जाता है। लीवर की बीमारी के दौरान कुछ दवाइयां जैसे एनफ्लुरेन (एथ्रान), हैलथेन (फ्लुओथेन), आइसोफ्लुरेन (फोरेन), और मेथॉक्सीफ्लुरेन (पेंट्रान) ली जा सकती है। कई बार लहसुन का इस्तेमाल करने से इन दवाओं का असर कम या फिर नकारात्मक हो सकता है।

ब्लीडिंग होना: ताजा लहसुन रक्तस्राव के जोखिम को बढ़ा सकता है।

पेट या पाचन संबंधी समस्याएं: लहसुन जठरांत्र (जीआई) पथ को परेशान कर सकता है। लहसुन एक गर्म पदार्थ होता है, इसलिए आपको पाचन संबंधी कोई समस्या है तो ध्यान से इसका इस्तेमाल करें।

लो बल्डप्रेशरः इसका इस्तेमाल उन लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है जो लो ब्लडप्रेशर की समस्या से जूझ रहे हैं।

लहसुन की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह ज़रुर लें।

धमनियों को सख्त करने के लिए: शोध के मुताबिक, 300 मिलीग्राम लहसुन पाउडर की गोली बनाकर आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

पेट के कैंसर और मलाशय के कैंसर: शोध के मुताबिक, रोजाना इसका अर्क लेने से पेंट के कैंसर और मलाशय के कैंसर में राहत मिलती है। आप चाहे तो इसके स्थान पर बाजार में मिलने वाले लहसुन की कैप्सूल का इस्तेमाल कर सकते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि 12 महीने तक रोजाना इसकी एक सीमित मात्रा लेने से पेट का कैंसर खत्म हो सकता है।

हाई ब्लडप्रेशर : रोजाना इसे खाने से हाई ब्लडप्रेशर की बीमारी से निजात मिलती है। नए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि 24 सप्ताह तक रोजाना 300 मिलीग्राम से 1500 मिलीग्राम लहसुन का प्रयोग करने से बीपी की परेशानी से छुटकारा पाया जा सकता है।

प्रोस्टेट कैंसर के लिए: 1 मिलीग्राम / किग्रा पानी में घुलनशील लहसुन का अर्क एक महीने तक लगतार लेने से प्रोस्टेट कैंसर से राहत मिल सकती है।

कीड़ा काटने पर (Tick bites) : 8 सप्ताह तक रोजाना 1200 मिलीग्राम लहसुन युक्त कैप्सूल का उपयोग करने से टिक काटने से राहत मिल सकती है।

कवक त्वचा संक्रमण (दाद, जॉक खुजली, एथलीट फुट) के लिए: लहसुन घटक एक 0।4% क्रीम, 0।6% जेल, और 1% जेल के रूप में एक सप्ताह में दो बार रोजाना उपयोग करने से इससे छुटकारा मिल सकता है।

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

लहसुन किन-किन रूपों में उपलब्ध है?

  • लहसुन की गोलियां
  • लहसुन चूर्ण
  • लहसुन का कैप्सूल
  • लहसुन का अर्क
  • लहसुन जेल
  • गार्लिक क्रीम
सूत्र

रिव्यू की तारीख जुलाई 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 20, 2019