home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डबल और ट्रिपल म्यूटेंट्स क्या हैं, क्या आरटी पीसीआर (RT-PCR) टेस्ट नहीं कर पा रहा इनकी पहचान?

डबल और ट्रिपल म्यूटेंट्स क्या हैं, क्या आरटी पीसीआर (RT-PCR) टेस्ट नहीं कर पा रहा इनकी पहचान?

कोरोना की शुरुआत जब भारत में हुई थी, तो लोगों को लगा था कि कुछ महीनों या फिर साल भर बाद तक ये बीमारी खत्म हो जाएगी। अगर खत्म न भी हुई तो कुछ दवाइयों या वैक्सीन से ये बीमारी पूरी तरह से कंट्रोल हो जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। देश-दुनिया में चारों और हाहाकार मचा हुआ है। वैक्सीन भी आ गई है और भारत में करोड़ों लोगों को ये लग भी चुकी है, लेकिन कोरोना वायरस का नया म्यूटेंट्स (Corona virus mutants) लोगों की परेशानी का कारण बन चुका है। हम जानते हैं कि आपके मन में भी कोरोना वायरस म्यूटेंट्स (Corona virus mutants) को लेकर बहुत जिज्ञासा होगी। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको कोरोना वायरस म्यूटेंट्स (Corona virus mutants) यानी डबल और ट्रिपल म्यूटेंट्स के बारे में जानकारी देंगे। जानिए कोरोना वायरस म्यूटेंट्स (Corona virus mutants) के बारे में।

और पढ़ें: कोरोना वायरस के बाद नए इंफेक्शन का खतरा, जानिए क्या है म्युकोरमाइकोसिस (Mucormycosis)

कोरोना वायरस म्यूटेंट्स (Corona virus mutants) क्या मतलब है?

वायरस का जीनोम आरएनए में कोड होता है। म्यूटेशन से मतलब कोड में अचानक से आए परिवर्तन से हैं। कोड में परिवर्तन म्यूटेशन के कारण होता है और ये नई सीक्वेंसिंग तैयार कर लेते हैं। म्यूटेशन के कारण वायरस खतरनाक हो जाए, ये जरूरी नहीं होता है, लेकिन कुछ मामलों में वायरस अधिक खतरनाक साबित हो सकता है।कोरोना के नए वेरिएंट्स तेजी से फैल रहे हैं और लोगों को बीमार कर रहे हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोमेडिकल जीनोमिक्स (National Institute of Biomedical Genomics) के डायरेक्टर सौमित्र दास के मुताबिक कोरोना के डबल और ट्रिपल म्यूटेंट्स सेम वैरिएंट यानी B.1.617 कोरोना वायरस के प्रकार ही हैं। कोरोना के डबल और ट्रिपल म्यूटेंट्स समान नहीं है और ये ओवरलैपिंग टर्म्स हैं। कोरोना वायरस की जीनोम सीक्वेंसिंग में परिवर्तन नए म्यूटेंट्स का कारण बनता है। डबल म्यूटेंट्स में तीन नए स्पाइक प्रोटीन म्यूटेशन (three new spike protein mutations) हैं। दो म्यूटेशन यानी E484Q और L452R, एंटीबॉडी-आधारित न्यूट्रलाइजेशन के लिए महत्वपूर्ण हैं।

इसका मतलब ये है कि देश में अभी कोरोना के लिए जो भी वैक्सिनेशन दी जा रही है, वो डबल म्यूटेंट्स से बचाव करने में सक्षम है, लेकिन इस म्यूटेंट्स या वैरिएंट का एक और म्यूटेशन है, जिसे P681R कहते हैं। ट्रिपल म्यूटेंट्स तेजी से फैल रहा है और लोगों को अधिक बीमार कर रहा है। कोविडशील्ड B.1.617 वेरिएंट्स से हमे सुरक्षा प्रदान कर रही है। फिलहाल कोरोना के लक्षण दिखने पर आपको तुरंत टेस्ट कराना चाहिए। अगर आरटी पीसीआर निगेटिव है और मरीज की हालत ज्यादा खराब हो रही है, तो डॉक्टर की सलाह पर आप सीटी स्कैन भी करा सकते हैं। आपको सबसे पहले आइसोलेशन के साथ ही शुरुआती ट्रीटमेंट लेना शुरू कर देना चाहिए।

और पढ़ें: COVID-19 वैक्सीन : क्या सच में रूस ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन बना ली है?

कोरोना वायरस म्यूटेंट्स (Corona virus mutants) क्या बदल रहा है बीमारी के लक्षण?

जब वायरस तेजी से अधिक आबादी में फैलता है, तो ये अपनी संख्या भी तेजी से बढ़ाता जाता है। इस कारण से वायरस में उत्परिवर्तन यानी म्यूटेशन होता है। तेजी से फैलने के कारण ये खुद को तेजी से रेप्लीकेट भी करता है और इसमें परिवर्तन भी होता है। वायरस के जेनिटिक मैटीरियल में परिवर्तन जरूरी कई बार खतरनाक भी साबित हो सकता है। कुछ वेरिएंट्स के लिए कोरोना की वैक्सीन कम प्रभावकारी भी हो सकती है। कोरोना वायरस म्यूटेंट्स (Corona virus mutants) में आए बदलाव के कारण बीमारी के लक्षणों में बदलाव आ रहा है। लोगों को डायरिया के साथ ही स्किन रैशेज, उंगुली या पैरों की उंगुली के रंग में बदलाव (discolouration of fingers or toes) की समस्या, छाती में दर्द या प्रेशर, आंख आना (conjunctivitis) आदि लक्षण भी दिख रहे हैं।

क्या आरटी पीसीआर (RT-PCR) नहीं पकड़ पा रहा है नए म्यूटेंट्स को?

coronavirus covid- 19 variants ,

कोरोना के लक्षण दिखने पर लोग तुरंत रैपिड एंटीजन टेस्ट (Rapid antigen test ) करवाते हैं और जब संतुष्ट न होने पर आरटी पीसीआर (RT-PCR) भी करवाते हैं। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि ऐसे कई पेशेंट हैं, जिनको कोरोना के लक्षण दिखने पर भी आरटी पीसीआर (RT-PCR) रिपोर्ट निगेटिव आ रही है। ऐसे में डॉक्टर सीटी स्कैन की सलाह दे रहे हैं। सेकेंड कोरोना वायरस वेव (Second Corona Wave) के दौरान डॉक्टर पेशेंट्स को सलाह दे रहे हैं कि भले ही आपकी रिपोर्ट निगेटिव आई हो और आपको कोविड-19 के लक्षण महसूस हो रहे हो, आपको खुद को आइसोलेट कर लेना चाहिए। डॉक्टरों के मुताबिक कोरोना वायरस के न्यू म्यूटेंट्स को स्टैंडर्ड RT-PCR डिटेक्ट नहीं कर पा रही है। जब शरीर में संक्रमण की मात्रा बहुत कम होती है, तो भी आरटी पीसीआर रिपोर्ट निगेटिव आती है। अगर स्वैब स्टिक (swab stick) का इस्तेमाल ठीक तरह से नहीं किया गया है, तो भी RT-PCR रिपोर्ट निगेटिव आ सकती है।

और पढ़ें: कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड : आईएमए ने बताया भारत में कोरोना का सामुदायिक संक्रमण है भयावह

कोरोना वायरस म्यूटेंट्स बदलाव के बावजूद कराएं वैक्सिनेशन (vaccinate even if there are new variants of the virus)

भले ही कोरोना वायरस म्यूटेंट्स में बदलाव आया हो, लेकिन हम सभी को वैक्सीनेशन की प्रक्रिया में जरूर शामिल होना चाहिए। वैक्सिनेशन ऐसा टूल है, जो शरीर को वायरस से बचाने में मदद करता है। अगर आप वैक्सीन लेने के बाद भी संक्रमित हो जाते हैं, तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि वायरस आपके शरीर को अधिक नुकसान नहीं पहुंचा पाएगा। फिलहाल हमारे पास वैक्सीन ही एकमात्र विकल्प है, जो कि असरदार भी है। ये संक्रमण के असर को काफी हद तक कम करने में मदद करता है। आपको इससे घबराने की जरूरत नहीं है। वैक्सीन आपको भले ही सौ फीसदी सुरक्षा न प्रदान करें लेकिन ये शरीर को वायरस से लड़ने की क्षमता जरूर प्रदान करेगी। आपको इस संबंध में डॉक्टर से भी पूछना चाहिए।

और पढ़ें: कोरोना वायरस से लड़ाई में भारत मजबूत, पूरी दुनिया में सबसे कम ‘डेथ रेट’

फिलहाल लोग कोरोना के टेस्ट और वैक्सीन को लेकर आशंकित नजर आ रहे है, लेकिन इस स्थिति में आपको धैर्य की आवश्यकता है। आपको बीमारी के लक्षण दिखने पर तुरंत होम आइसोलेशन शुरू कर देना चाहिए और साथ ही टेस्ट भी कराना चाहिए। आपके डॉक्टर आपको इस बारे में अधिक जानकारी भी देंगे। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा और उपचार प्रदान नहीं करता है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 2 weeks ago
x