home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या एसी चलाने से भी फैलता है कोरोना वायरस, क्या कहती है स्टडी?

क्या एसी चलाने से भी फैलता है कोरोना वायरस, क्या कहती है स्टडी?

कोरोना वायरस से होने वाली बीमारी कोविड-19 को लेकर दुनियाभर में तरह-तरह की स्टडी हो रही है। गर्मी की शुरुआत हो चुकी है और ऐसे में आप और आपका परिवार एसी चलाने का सोच रहे होंगे। लेकिन कोरोना वायरस की मौजूदा स्थिति को देखते हुए सोशल मीडिया पर एसी के जरिए कोरोना संक्रमण फैलने से संबंधित कई पोस्ट वायरल हो रहे हैं, जिसमें कहा जा रहा है कि कोरोना का संक्रमण एसी की वजह से तेजी से फैलाता है। इन मैसेज को देख लोगों के मन में भय है कि क्या वाकई एसी चलाने से कोरोना वायरस फैलता है। लोगों ने एसी से दूरी बना ली है। ऐसे में सवाल यह है कि क्या वाकई इस वक्त एसी इस्तेमाल करना खतरनाक है। आइए जानते हैं इस पोस्ट की सच्चाई के बारे में…

ये भी पढ़ेंः कोरोना के पेशेंट को क्यों पड़ती है वेंटिलेटर की जरूरत, जानते हैं तो खेलें क्विज

क्या वाकई एसी चलाने से कोरोना वायरस फैलता है?

हाल ही में एक शोध किया गया है जिसमें यह सामने आया है कि हो सकता है कि एसी चलाने से कोरोना वायरस फैलता है। यह शोध सेंटर ऑफ डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की वेबसाइट पर पब्लिश हुआ है। इस शोध के डेटा के अनुसार, यह खतरनाक वायरस तीन परिवार के 10 लोगों में पाया गया है। इन तीनों परिवार में जो बात कॉमन है वो यह कि ये तीनो परिवार चीन में गुआंगझोऊ के एक रेस्टोरेंट में भोजन करने गया था। जिस वक्त यह तीनों परिवार वहा खाना खा रहे थे उस समय वहां एक और परिवार मौजूद था जो वुहान से आया था और अनजाने में ये लोग इस वायरस से संक्रमित थे। कुछ दिनों के बाद रेस्टोरेंट में मौजूद अन्य 9 लोगों में भी कोरोना वायरस के लक्षण दिखने शुरू हो गए।

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में भारत कितना है दूर? बाकी देशों का क्या है हाल, जानें यहां

रेस्टोरेंट के एयर कंडीशनर डक्ट के जरिए यह वायरस फैला और उसने एक दूसरे के पास बैठे तीन परिवारों को संक्रमित किया, जो कभी दूसरे के साथ नहीं जुड़े। हालांकि, उस समय रेस्टोरेंट में 73 अन्य लोग मौजूद थे और कर्मचारी भी थे, जिनमें से कोई भी संक्रमित नहीं हुआ था। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, चीन के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के एक शोध पत्र में विशेषज्ञों द्वारा चीनी रेस्टोरेंट के मामले का हवाला दिया गया है। इस स्टडी में यह आशंका जाहिर की गई है कि एसी चलाने से कोरोना वायरस का फैलाव होता है। साथ ही इस रिपोर्ट में घरों में लगने वाले विंडो या स्प्लिट एसी को सुरक्षित माना गया है।

एसी से कोरोना वायरस फैलता है, इसे लेकर चीनी शोधकर्ताओं ने कही ये बात

चीनी शोधकर्ताओं ने इस शोध के बाद निष्कर्ष निकाला है कि कोरोना वायरस को ले जाने वाली बूंदों को रेस्टोरेंट में एयर कंडीशनिंग यूनिट के माध्यम से प्रसारित किया गया था। इसमें एयरफ्लो की दिशा ने अहम योगदान दिया था। इसलिए एसी की हवा के बहाव की दिशा में बैठना एवॉइड करें।

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस फैक्ट चेक: कोरोना वायरस की इन खबरों पर भूलकर भी यकीन न करना, जानें हकीकत

एसी चलाने से कोरोना वायरस फैलने को लेकर प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) ने किया पोस्ट

एसी चलाने से कोरोना वायरस फैलने को लेकर प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) ने पोस्ट कर लिखा है कि इस बात में पूरी तरह सच्चाई नहीं है कि एसी चलाने से कोरोना वायरस फैलता है। पीआईबी ने एक वीडियो को ट्वीट किया है। इस वीडियो में बताया गया है कि विंडोज एसी का इस्तेमाल करने में कोई खतरा नहीं है, लेकिन सेंट्रल एसी के साथ परेशानी हो सकती है।

एसी के द्वारा कोरोना वायरस के फैलने को लेकर एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने दिया ये बयान

एसी चलाने से कोरोना वायरस के फैलने को लेकर एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए बताया कि एसी चलाने से इतनी परेशानी नहीं है, जितनी क्रॉस वेंटिलेशन से है। क्रॉस वेंटिलेशन होना बेहद जरूरी है। डॉ गुलेरिया के मुताबिक, अगर आपके घर में विंडो एसी लगा है, तो आपके कमरे की हवा आपके ही कमरे में रहेगी, बाहर या दूसरे कमरों में नहीं जाएगी। इसलिए घर में विंडो एसी या गाड़ी में लगा एसी चलाने में कोई दिक्कत नहीं है। लेकिन एक बात का खास ख्याल रखें वो यह कि कमरे में लगे विंडो एसी का इग्जॉस्ट अच्छी तरह से बाहर हो। ऐसा न हो कि वो किसी ऐसी जगह जा रहा हो जहां लोग बैठे हों। इसके अलावा दफ्तर या सार्वजनिक जगहों पर सेंट्रल एसी लगा होता है। सेंट्रल एसी की हवा सारे में सर्कुलेट होती है। ऐसी स्थिति में अगर दूसरे कमरे में कोई खांस रहा है और उसे इंफेक्शन है तो एसी के डक्ट से एक कमरे से दूसरे कमरे तक उसके फैलने का खतरा है।

ये भी पढ़ेंः कोरोना लॉकडाउन : खेलें क्विज और जानिए कि आप हैं कितने जिम्मेदार नागरिक ?

इससे पहले सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे पोस्ट वायरल हो रहे थे जिसमें यह दावा किया जा रहा था कि गर्मी के बढ़ते ही कोरोना वायरस खत्म हो जाएगा। जबकि सच्चाई यह है कि अभी तक ऐसा कोई शोध सामने नहीं आया है जो इस बात की पुष्टि करता है कि गर्मी से कोरोना वायरस का खात्मा होता है। दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोना वायरस के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटाने के लिए शोध कर रहे हैं। अभी तक कोई शोध इस बात की पुष्टी नहीं करता है कि गर्मी से कोरोना खत्म होता है या नहीं होता है। इसी तरह से यह भी नहीं कहा जा सकता है कि सभी तरह के एसी से कोरोना वायरस फैलता है या नहीं। बेहतर होगा कि आप जितनी सावधानी बरत सकते हैं बरतें। इस समय में कोरोना वायरस से बचाव करने के लिए बेहतर है कि अपने-अपने घर पर रहें और सोशल मीडिया पर चल रही अफवाहों पर ध्यान ना दें। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए इम्यूनिटी का मजबूत रहना बेहद जरूरी है। अपनी डायट में इम्यूनिटी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों को शामिल करें। इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अच्छी नींद लेना भी बहुत जरूरी है।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में एसी चलाने से कोरोना वायरस फैलता है या नहीं, इससे जुड़ी जानकारी देने की कोशिश की गई है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी चाहते हैं तो आप अपना सवाल कमेंट सेक्शन में कर सकते हैं। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट कर बता सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है। अगर आपको दांतों में किसी भी प्रकार की समस्या हो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ेंः

कोरोना वायरस की ग्लोसरी: आपने पहली बार सुने होंगे ऐसे-ऐसे शब्द

कोरोना वायरस के लक्षण तेजी से बदल रहे हैं, जानिए कोरोना के अब तक विभिन्न लक्षणों के बारे में

फार्मा कंपनी ने डोनेट की 34 लाख हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन टैबलेट्स, ऐसे होगा इस्तेमाल

कोरोना से होने वाली फेफड़ों की समस्या डॉक्टर्स के लिए बन रही है पहेली

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x