Cardamom : इलायची क्या है? जानिए कैसे छोटी सी इलायची है बड़ी गुणकारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट दिसम्बर 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

जानिए मूल बातें

इलायची (Cardamom) का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

अपनी बेमिसाल खुशबू और स्वाद की वजह से इलायची (Cardamom) को मसालों की रानी कहा जाता है। मसालों के रूप में इसका उपयोग प्राचीन काल से ही किया जा रहा है। एशिया के अलावा भारतीय उपमहाद्वीप में भी यह बहुत लोकप्रिय है। अच्छी सुगंध, कामोत्तेजक गुण होने के साथ-साथ यह पेट-दर्द को कम करने में भी उपयोगी है।

यह दो प्रकार की होती है- हरी या छोटी इलायची और बड़ी इलायची।

बड़ी इलायची (Cardamom) का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

आमतौर पर बड़ी इलायची का इस्तेमाल व्यंजनों को लजीज बनाने के लिए एक मसाले के रूप में की जाती है।

छोटी या हरी इलायची का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

छोटी या हरी इलायची (Cardamom) का इस्तेमासृल मिठाइयों की खुशबूदार और लजीज बनाने के लिए किया जाता है। संस्कृत में इसे एला कहा जाता है। वहीं, लैटिन में एलेटेरिआ कार्डामोमम कहा जाता है।

इसके अलावा भी इलायची के दोनों की प्रकारों का इस्तेमाल विभिन्न तरह की दवाओं में किया जाता है। भारत में इसका उपयोग सांसों की बदबू दूर करने के साथ-साथ पकवानों को सुगंधित बनाने के लिए किया जाता है। ये पाचनवर्धक भी होते हैं। आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल शरीर को मन को शांत रखने, पित्ती या वात की समस्या, श्वास से जुड़ी समस्याओं, खांसी, बवासीर, क्षय रोग (टीबी), पथरी, खुजली और हृदय रोगों के उपचार के लिए किया जाता रहा है। बता दें कि, इसके बीजों में एक प्रकार का उड़नशील तेल (एसेंशियल ऑएल) होता है।

और पढ़ें :  चिंता VS डिप्रेशन : इन तरीकों से इसके बीच के अंतर को समझें

इलायची (Cardamom) का इस्तेमाल इन बीमारियों के इलाज में किया जाता है :

गले की खराश दूर करने के लिए

अगर आवाज बैठी हुई है या गले में खराश की समस्या है, तो सुबह उठते के बाद और रात को सोते समय छोटी इलायची चबा-चबाकर खाने के बाद गुनगुना पानी पीने से लाभ मिलता है।

सूजन दूर करने के लिए

अगर गले में सूजन है, तो मूली के पानी में छोटी इलायची पीसकर पीने से लाभ मिलता है।

सर्दी-खांसी के उपचार के लिए

सर्दी-खांसी और छींक होने पर एक छोटी इलायची, एक टुकड़ा अदरक, लौंग और तुलसी के पत्तों को एक साथ मिलाकर पान के साथ खाने से लाभ मिलता है।

उल्टी रोकने के लिए

उल्टी होने पर या उल्टी जैसा महसूस करने पर बड़ी इलायची के दानों को चबाना चाहिए।

मुंह के छाले ठीक करने के लिए

मुंह में छाले हो जाने पर बड़ी इलायची को महीन पीसकर उसमें पिसी हुई मिश्री मिलाकर उसका सेवन करने से छाले जल्दी ही ठीक हो जाते हैं।

बदहजमी की समस्या होने पर

बदहजमी होने या पेट फूलने पर बड़ी इलायची के दाने चबाने चाहिए।

सांस संबंधी परेशानी

अगर आपको अस्थमा, फेफड़े या सांस से संबंधित कोई और परेशानी है, तो इलायची का सेवन कर आप अपनी तकलीफ को धीरे-धीरे दूर कर सकते हैं।

ब्लड प्रेशर होता है नॉर्मल

अगर आपका ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ रहता है, तो इलायची का सेवन आपके लिए बेहद लाभकारी साबित हो सकता है। दरअसल इलायची में पौटैशियम और मैग्नीशियम की मौजूदगी ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में सहायक होता है।

हिचकी की परेशानी होती है दूर

हिचकी (Hiccups) की परेशानी कभी भी और किसी को भी हो सकती है। एक रिसर्च के अनुसार अगर आपको बार-बार हिचकी की परेशानी महसूस होती है, तो इलायची मुंह में डाल लें और इसे जबाते रहें। कुछ ही देर में हिचकी खुद बंद हो जाएगी।

भूख नहीं लगना

अगर आपको भूख नहीं लगती है, तो छोटी सी इलायची आपकी भूख बढ़ाने में सहायक है। इलायची के सेवन से बॉडी का मेटाबोलिज्म ठीक होता है, जिससे खाने की इच्छा भी अच्छी होती है।
 इन शारीरिक परेशानियों के साथ-साथ निम्नलिखित परेशानी को भी इलायची के सेवन से दूर किया जा सकता है। जैसे:

बड़ी इलायची के फायदे भी कई हैं। नीचे पढ़ें बड़ी इलायची सेहत के लिए कैसे लाभकारी है?

बड़ी इलायची (Cardamom) के फायदे:

हार्ट के लिए हेल्दी है बड़ी इलायची 

काली इलायची के सेवन से हार्ट रेट कंट्रोल रहता है, जिससे ब्लड प्रेशर भी बैलेंस रहता है। बड़ी इलायची ब्लड क्लॉट न हो इसमें भी सहायक है और इन्हीं वजहों से दिल से संबंधित बीमारियों का खतरा कम हो सकता है।

टल सकता है माउथ इंफेक्शन

अगर आपको माउथ इंफेक्शन (मुंह का संक्रमण) या दांतों में दर्द की समस्या बनी रहती है, तो बड़ी इलायची आपकी इस परेशानी को भी दूर करने में भी सहायक है। मुंह को स्वस्थ्य रखने का राज इलायची में छुपा है।

और पढ़ें : Agave : रामबांस क्या है ? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

इलायची (Cardamom) कैसे काम करती है?

यह शरीर के अंदर क्या प्रभाव डालती है, इससे संबंधित बहुत कम शोध मौजूद हैं इसलिए, अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या डॉक्टर से संपर्क करें। हालांकि, कुछ शोधों में यह पता चलता है कि हरी इसमें एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-माइक्रोबियल गुण होने के साथ-साथ यह पाचन संबंधी समस्याओं को ठीक करने में भी मदद करती है।

इसमें एंटी-माइक्रोबियल गुण होने की वजह से यह कुछ खास किस्म के बैक्टीरिया और फंगस को मारने का काम करती है। ऐसा संभव है कि इसके सेवन से फूड पॉयजनिंग (Food Poisoning) से बचा जा सकता है, लेकिन इस बारे में अभी ज्यादा शोध मौजूद नहीं हैं।

और पढ़ें : Valerian : वेलेरियन क्या है?

इलायची (Cardamom) से जुडी सावधानियां और चेतावनी

इसके इस्तेमाल से पहले मुझे क्या जानकारी होनी चाहिए? फूड और इंग्रेडिएंट (Ingredient) के रूप में इलायची को यूएस के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (Food and Drug Administration, FDA) द्वारा नियमित किया गया है। हालांकि डाइटरी सप्लीमेंट (Dietary Supplement) के रूप में इसे विनियमित नहीं किया गया है, जिसका मतलब है कि यह अन्य चीजों के साथ मिलकर संक्रमित या दूषित हो सकती है।

इसको धूप और नमी से दूर रखना चाहिए। आपको खाने के ठीक पहले इसका सेवन करना चाहिए। हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम एलोपैथिक दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरूरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

इलायची (Cardamom) का सेवन कितना सुरक्षित है?

जब तक इससे जुड़े और शोध उपलब्ध नहीं हो जाते हैं, तब तक बच्चों, गर्भवती महिलाओं या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इलायची के सेवन से परहेज करना चाहिए।

और पढ़ें : Strawberry: स्ट्रॉबेरी क्या है?

इलायची के साइड इफेक्ट्स

इलायची (Cardamom) के सेवन से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इसके सेवन से कई तरह के साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

  • पेट में अचानक तेज दर्द (Gallstone colic)
  • कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस
  • गॉलब्लैडर स्टोन
  • एलर्जी

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट्स हों ऐसा जरूरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं, तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें: Tangerine : कीनू क्या है?

इलायची से पड़ने वाले प्रभाव (Interaction of Cardamom)

इलायची (Cardamom) के सेवन से अन्य किन-किन चीजों पर प्रभाव पड़ सकता है?

इसके सेवन से आपकी बीमारी या आप जो वतर्मान में दवाइयां खा रहे हैं उनके असर पर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सेवन से पहले डॉक्टर से इस विषय पर बात करें।

अगर आप भी करते हैं या करती हैं ऑर्गेनिक ब्यूटी प्रोडट्स का इस्तेमाल, तो पहले नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक करें।

इलायची की खुराक (Doses of Cardamom)

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आमतौर पर इलायची (Cardamom) को कितनी मात्रा में खाना चाहिए?

एक चम्मच इलायची (Cardamom) में लगभग दो ग्राम फाइबर होता है, जो कि मसाले के हिसाब से उपयुक्त मात्रा है। इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित ही हों ऐसा नहीं है। इसलिए आपको इलायची का सेवन कितना करना चाहिए इसकी जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से पूछें।

और पढ़ें : Hibiscus : गुड़हल क्या है ?

इलायची (Cardamom) किन-किन रूपों में उपलब्ध है?

यह हर्बल सप्लीमेंट निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है जैसे-

  • फ्लूइड एक्सट्रेक्ट
  • पाउडर
  • बीज
  • टिंचर

अगर आप इलायची (Cardamom) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

रीठा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Reetha (Indian Soapberry)

Reetha in hindi, फायदे, रीठा का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, reetha के साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal

Phleum Pratense: फ्लेम प्रैटेंस (टिमोथी घास) क्या है?

फ्लेम प्रैटेंस एक लंबा, बारहमासी घास होता है। जिसे टिमोथी घास भी कहा जाता है। टिमोथी घास एक गुच्छेदार घास होता है। इसमें छोटे फूल भी होते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma

Spearmint: स्पीयर मिंट क्या है?

स्पीयर मिंट (पहाड़ी पुदीना) एक औषधि है जो अपने अनोखे स्वाद के लिए जाना जाती है। इसकी चटनी स्वास्थ्यवर्द्धक मानी जाती है। आयुर्वेद में सदियों से इसका जानें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया lipi trivedi

Muira Puama: मुइरा पूमा क्या है?

मुइरा पूमा (Muira Puama) क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां। Muira Puama Benefits, Side Effects, Dosage, and Interactions in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma

Recommended for you

हर्बल्स के फायदे क्या हैं? Herbals benefits

हर्बल्स हैं बड़े काम की चीज, जानना चाहते हैं कैसे, तो पढ़ें ये डिटेल्ड आर्टिकल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr snehal singh
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ जनवरी 8, 2021 . 11 मिनट में पढ़ें
Hexigel हेक्सीजेल

Hexigel : हेक्सीजेल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जुलाई 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
पर्पल नट सेज

पर्पल नट सेज के फायदे एवं नुकसान: Health Benefits of purple nut sedge

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Orange- नारंगी

नारंगी के फायदे व नुकसान : Health Benefit of Orange

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें