home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

कुटज के फायदे एवं नुकसान - Health Benefits of Kutaj (Holarrhena Pubescens)

परिचय|सावधानियां और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स|डोसेज|उपलब्ध
कुटज के फायदे एवं नुकसान - Health Benefits of Kutaj (Holarrhena Pubescens)

परिचय

कुटज (Kutaj) क्या है?

कुटज को आयुर्वेद में करची, कुरची, कोनेस्स ट्री, कुटजा, दूधी, इंद्र जौ और वतसाक के नाम से भी जाना जाता है। यह पौधा एशिया और अफ्रीका के के ट्रॉपिकल औऱ सबट्रॉपिकल क्षेत्रों में पाया जाता है। भारत में यह विशेषकर हिमालय पर्वतमाला में होता है। भारत में पौराणिक समय से इसका इस्तेमाल कई रोगों के इलाज के तौर पर किया जाता है।

इसका वानस्पातिक नाम हौलोरेना ऐन्टिडिसेन्ट्रिका (Holarrhena antidysentrica) है। कफ और पित्त दोष के लिए इसे बेहद फायदेमंद माना जाता है। इसका इस्तेमाल डायरिया, इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS) के इलाज के लिए किया जाता है। कुटज के पौधे की छाल, बीज और फलों का इस्तेमाल दवा बनाने के लिए किया जाता है। कई शोध के अनुसार कुटज का फल स्वाद में कड़वा होता है, लेकिन ये त्वचा रोगों, बुखार, हर्पीस, एब्डोमिनल कोलिक पेन, पाइल्स और थकान को दूर करने में मदद करता है। वहीं इसके तने का प्रयोग ब्लीडिंग डिसऑर्डर, इंडायजेशन, स्किन प्रॉब्लम्स, हृदय रोग और गाउट के लिए किया जाता है।

और पढ़ें : Arthritis : संधिशोथ (गठिया) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कुटज (Kutaj) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

डायबिटीज में फायदेमंद: कई शोध के अनुसार इसमें एंटीडायबिटिक प्रॉपर्टीज होती हैं। कुटज पाउडर रक्त शर्करा, कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड, यूरिया, क्रिएटिनिन और यूरिक एसिड के स्तर को कम करने के लिए महत्वपूर्ण कार्य करता है। इसमें क्वर्कर्टिन नामक पदार्थ होता है, जो कार्बोहाइड्रेट को अवशोषित होने से रोकता है। कुटज शरीर में ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन को कम करता है, जिससे यह टाइप 2 मधुमेह के पेशेंट्स के लिए फायदेमंद साबित होता है।

स्किन के लिए लाभदायक: इसमें कई ऐसे रसायन होते हैं जो त्वचा के लिए वरदान समान होते हैं। इसलिए इसका प्रयोग कई स्किन क्रीम और फाउंडेशन में भी किया जाता है। कुटज हर्ब में हीलिंग प्रॉपर्टीज होती हैं, जिस कारण जख्मों पर इस हर्ब के पेस्ट को लगाया जाता है। कई हीलिंग ओइंटमेंट में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।

जोड़ों के दर्द में राहत: कुटज जोड़ों की सूजन को दूर कर दर्द में राहत प्रदान करता है। यही कारण है कि इसे जोड़ों के इलाज के लिए बेहद उपयोगी माना जाता है।

इंफेक्शन के इलाज में लाभदायक: कुटज शरीर के तापनान को कम कर बुखार में मदद करता है। इसमें एंटी-डेंगू, एंटी-मलेरियल गुण होते हैं। ये कोल्ड, सिरदर्द, जी मिचलाना, उल्टी, कब्ज, पेट फूलना, घबराहट, चक्कर, अनिद्रा और शरीर की कमजोरी को दूर करता है।

कुपोषण को दूर करता है: कुपोषित और कम वजन वाले लोगों के लिए भी इसे बेहद फायदेमंद माना जाता है। यह भूख बढ़ाने और वजन बढ़ाने में मदद करती है।

डायजेशन को दुरुस्त रखता है: कुटज के फूल में कई ऐसे गुण होते हैं जो डायजेशन में सुधार करने के साथ डायरिया का इलाज में कारगर है। यह पेट के कीड़ों से भी निजात दिलाता है। इसके फूल स्वाद में कड़वे होते हैं और खून को साफ करने का काम करते हैं।

डिलीवरी के बाद महिलाओं को दिया जाता है: प्रसव के बाद महिलाओं की प्रजनन प्रणाली को मजबूत करने और मांसपेशियों को मजबूत करने में यह जड़ी बूटी बेहद लाभदायक मानी जाती है।

दांत दर्द से राहत पाने के लिए

कुटज का इस्तेमाल दांत दर्द से राहत पाने के लिए भी किया जा सकता है। इसके लिए कुटज के छाल का काढ़ा बनाकर उससे कुल्‍ला करने से लाभ मिल सकता है।

खूनी बवासीर के उपचार के लिए

खूनी बवासीर में कुटज के सेवन से फायदा मिल सकता है। इसके लिए 10 ग्राम कुटज की छाल के चूर्ण में दो चम्मच शहद या मिश्री मिलाकर उसका सेवन करना चाहिए।

पथरी के उपचार में

पथरी से राहत पाने के लिए करें कुटज का इस्तेमाल किया जा सकता है। पांच ग्राम कुटज के जड़ की छाल को दही में मिलकर पीने से फायदा मिल सकता है।

कुटज का इस्तेमाल सालों से बीमारियों के इलाज के लिए किया जा रहा है। लेकिन इसे लेकर पर्याप्त वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। आयुर्वेद में इसके गुणों का वर्णन है। फिलहाल इसे लेकर अधिक शोध करने की जरूरत है।

कैसे काम करता है कुटज (Kutaj) ?

कुटज में एंटीडिसेंट्री, एंटीडायरियल और एंटी-एमोबिक प्रॉपर्टीज होती हैं। यह जड़ी बूटी हायपोटेंसिव, एंटीप्रोटोजोल, हायपोग्लायसेमिक, एंटीस्पास्मोडिक, एंटीफंगल और एंटीकैंसर गुणों से भरपूर होती है। आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

और पढ़ें : हरितकी (हरड़) के फायदे; Health Benefits of Haritaki (Harad)

सावधानियां और चेतावनी

कुटज (Kutaj) का उपयोग करना कितना सुरक्षित है?

कुटज का सीमित मात्रा में सेवन ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित है। निम्नलिखित स्थितियों में कुटज का इस्तेमाल करने से परहेज करना चाहिए:

  • प्रेग्नेंट और ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं का इसका सेवन एवॉइड करना चाहिए। क्योंकि ये दोनों ही स्थिति बहुत नाजुक होती हैं। डॉक्टर की सलाह के बिना किसी भी हर्ब का सेवन मां और बच्चे के लिए जानलेवा साबित हो सकता है।
  • यदि आप किसी दवा का सेवन करते हैं तो इसका सेवन न करें। कुटज का सेवन दवा के साथ इंटरैक्ट कर सकता है। जिससे आपको फायदे की जगह साइड इफेक्ट हो सकता है।
  • यदि आपको कोई मेडिकल कंडिशन है तो भी इसका सेवन करने से परहेज करना बेहतर होगा।

दवाओं की तुलना में हर्ब्स को लेकर रेग्युलेटरी नियम अधिक सख्त नही हैं। इनकी सुरक्षा का आंकलन करने के लिए अतिरिक्त रिसर्च की आवश्यकता है। कुटज से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ें : शतावरी के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Asparagus (Shatavari Powder)

साइड इफेक्ट्स

कुटज (Kutaj) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

कुटज का सेवन करने से निम्न साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं:

  • कुछ लोगों में इसका सेवन करने से कब्ज की परेशानी हो सकती है।
  • कुछ लोगों में साइड इफेक्ट्स में वर्टिगो की समस्या हो सकती है।
  • अनिद्रा की परेशानी हो सकती है।
  • इसको अधिक मात्रा में लेने से एंग्जायटी की दिक्कत हो सकती है।

जरूरी नहीं कुटज का सेवन करने वाले लोगों में उपरोक्त बताए साइड इफेक्ट्स ही हो। हो सकता है आपको इससे अलग कोई दुष्परिणाम हो। यदि आपको किसी भी तरह का साइड इफेक्ट नजर आता है तो इसका सेवन बंद कर दें। इसे लेकर तुरंत अपने चिकित्सक से कंसल्ट करें।

डोसेज

कुटज (Kutaj) को लेने की सही खुराक क्या है?

  • आमतौर पर कुटज पाउडर की प्रतिदिन 2 से 6 ग्राम की खुराक रिकमेंड की जाती है।
  • डायरिया/ डिसेंटरी: कुटज की छाल के जूस को लेने की सलाह दी जाती है। इसके लिए छाल से पहले पेस्ट तैयार करना होता है। 10 ग्राम पेस्ट में शहद मिलाकर लिया जाता है।
  • इसके बीजों के 5 से 10 ग्राम पाउडर को किसी कीडे के काटने पर एंटीडोट के तौर पर दिया जाता है।

कुटज की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। यह आपकी मेडिकल कंडिशन, उम्र व अन्य कई कारकों पर निर्भर करता है। कभी भी इसका सेवन खुद से न करें। आपकी ये छोटी सी गलती स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी साबित हो सकती है। बेहतर होगा कि डॉक्टर ही इसकी खुराक आपके लिए निर्धारित करें।

और पढ़ें : अमलतास के फायदे एवं नुकसान; Health Benefits of Golden Shower Tree (Amaltas)

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है कुटज (Kutaj) ?

कुटज निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • काढ़ा (Decoction)
  • पाउडर (Powder)
  • हर्बल वाइन (Herbal Wine)
  • टिंचर (Tincture)

अगर आपका इससे जुड़ा किसी तरह का कोई सवाल है, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Review of Holarrhena antidysenterica- Pharmacognostic, Pharmacological, and Toxicological Perspective: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5628520/ Accessed June 16, 2020

Kutaj Dosage: http://nif.org.in/HOLARRHENA-ANTIDYSENTERICA Accessed June 16, 2020

Indrajao: http://www.flowersofindia.net/catalog/slides/Indrajao.html Accessed June 16, 2020

Kutaj Dosage And Side Effects: https://books.google.co.in/books?id=fOK33vv_29UC&pg=PA152&lpg=PA152&dq=Kutaj+Dosage&source=bl&ots=lTJ56fEGyw&sig=ACfU3U0V-FZLV1Vz1eI6B4ctydlmC8VsTg&hl=en&sa=X&ved=2ahUKEwiU0q3c7IXqAhX563MBHWz4Ap84ChDoATAAegQICRAB#v=onepage&q=Kutaj%20Dosage&f=false Accessed June 16, 2020

Kutaj For Intestinal Motility: https://ijrap.net/admin/php/uploads/1402_pdf.pdf Accessed June 16, 2020

Effect of Kutaj in Acute Diarrhea: https://ijapr.in/index.php/ijapr/article/view/315 Accessed June 16, 2020

Antibacterial Activity of Kutaj: http://www.thepharmajournal.com/vol4Issue4/4-4-21.1.html Accessed June 16, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 19/10/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड