Obsessive Compulsive Disorder : ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर या ओसीडी रोग क्या है?

द्वारा

अपडेट डेट August 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

जरूरी बातें जानिए

ओसीडी रोग (Obsessive Compulsive Disorder) एक मानसिक रोग है, जो मरीज की सोच और बर्ताव पर असर डालता है। इस बीमारी में  मरीजों को कई तरह के गलत विचार आते हैं। उदाहरण के तौर पर, मरीज को ऐसा लगता है कि दरवाजा बंद करने के बाद भी दरवाजा बंद हुआ कि नहीं। वो पता करने के लिए कई बार दरवाजे तक जाता है। मरीज अक्सर उस सोच को खत्म करने की कोशिश करता  है, लेकिन यह सिर्फ उन्हें तनावग्रस्त और परेशान करता है। आखिर में उसे तनाव दूर करने के लिए अपना इलाज करवाना पड़ता है।

ओसीडी रोग (Obsessive Compulsive Disorder) कितना आम है?

ओसीडी रोग अक्सर 20 वर्ष से कम उम्र में होता है। खासकर उन लोगों में, जो काफी तनाव में रहे हों। ऐसे लक्षण कभी-कभी कुछ हद तक ठीक हो जाते हैं लेकिन, यह कभी पूरी तरह खत्म नहीं होते। ऐसे में आपको ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

और पढ़ें : Anorexia : एनोरेक्सिया क्या है? इसके लक्षण और इलाज

ओसीडी रोग (Obsessive Compulsive Disorder) के लक्षण

किसी चीज के लिए जुनून सवार होना इस बीमारी का लक्षण हो सकता है। यह बीमारी किसी दवा या अन्य चीजों के कारण नहीं होती। ये बीमारी आपको तनावग्रस्त कर आपकी दिनचर्या को भी प्रभावित कर सकती है। नीचे हम आपको इसके कुछ लक्षण बता रहे हैं :

  • हिंसक तस्वीरों को देखकर गलत विचार आना।
  • गलत चीजों के लिए खुद को जिम्मेदार महसूस करना।
  • जरूरत से ज्यादा शरीर को साफ रखना।
  • प्रदूषण को लेकर कुछ ज्यादा ही चिंतित हो जाना।
  • रात में कई बार जागना और कन्फर्म करना कि दरवाजे और खिड़कियां बंद हैं कि नही।
  • एक ही क्रम में या एक ही दिशा में कपड़े, जूते या बर्तन को रखना।
  • इंफेक्शन के डर से बार-बार हाथ धोते रहना

मरीज अक्सर इस तरह की हरकत नहीं करना चाहते हैं, लेकिन वो इसे कंट्रोल नहीं कर पाते। ओसीडी रोग के मरीज दिन के समय ऐसा बर्ताव करते हैं और काम को और मुश्किल बनाते हैं।

इस बीमारी के अन्य कई लक्षण भी हो सकते हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण नजर आए, तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

मुझे अपने डॉक्टर से कब बात करनी चाहिए?

अगर आपको नीचे बताए गई चीजें महसूस हों, तो डॉक्टर से बात करनी चाहिए, जैसे :

और पढ़ें : Bipolar Disorder :बाईपोलर डिसऑर्डर क्या है?जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

ओसीडी रोग (Obsessive Compulsive Disorder) के कारण

अभी तक वैज्ञानिकों को ओसीडी रोग (ओसीडी) का सटीक कारण नहीं मिल पाया है लेकिन, इसके पीछे नीचे बताए गए कारण हो सकते हैं, जैसे:

और पढ़ें : न्यू ईयर टार्गेट्स को पूरा करने की राह में स्ट्रेस मैनेजमेंट ऐसे करें

ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (Obsessive Compulsive Disorder) के जोखिम कारण

नीचे बताए गए कारण ओसीडी रोग के जोखिम को बढ़ा सकते हैं, जैसे :

  • परिवार में किसी को ये बीमारी होना : अगर आपके माता-पिता या घर में किसी अन्य को ये बीमारी है, तो आपको ये बीमारी होने का जोखिम बढ़ सकता है।
  • अगर आप बहुत ज्यादा तनाव में रहे हों या आपको ज्यादा तनाव रहता है, तो भी इसका जोखिम बढ़ सकता है।

और पढ़ें : बच्चों की इन बातों को न करें नजरअंदाज, उन्हें भी हो सकता है डिप्रेशन

ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (Obsessive Compulsive Disorder) का निदान और उपचार

दी गई जानकारी किसी भी मेडिकल सलाह का विकल्प नहीं है। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

डॉक्टर अक्सर आपके बताए गए लक्षणों के मुताबिक ओसीडी रोग का निदान करते हैं। डॉक्टर इसके लिए कुछ क्लीनिकल जांच भी कर सकते हैं। इसके अलावा, आपकी मानसिक स्थिति जांचने के लिए साइकोलॉजिकल इवैल्युएशन भी कर सकते हैं। साइकोलॉजिकल इवैल्यूएशन से मानसिक मरीजों का स्टेट्स जैसे कि मूड, मानसिकता आदि जैसी चीजों का टेस्ट करते हैं।

और पढ़ें : Cerebral Palsy:सेरेब्रल पाल्सी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

ओसीडी रोग का इलाज कैसे किया जाता है?

ओसीडी रोग का इलाज डॉक्टर और कॉग्निटिव बिहेवियर थेरिपी का उपयोग करके किया जा सकता है।

दवा: डॉक्टर ओसीडी रोग बिहेवियर को काबू में करने लिए दवाएं लिख सकते हैं। आमतौर पर, एंटी-डिप्रेसेंट का उपयोग पहले किया जाएगा और नीचे बताई दवाएं इसमें शामिल कर सकते हैं:

  • क्लोमीप्रैमाइन (एनाफ्रानिल)
  • फ्लुवोक्सामाइन (लवॉक्स सीआर)
  • फ्लुओक्सेटीन (प्रोजैक)
  • पैरोसेटिन (पैक्सिल, पेक्शेवा)
  • सरट्रालिन (जोलॉफ्ट)

कॉग्निटिव बिहेवियर थेरिपी: यह सोचना कि आप झूठे और नेगेटिव हैं या लंबे समय में मानसिक रूप से बीमार हैं। कॉग्निटिव इलाज आपको गलत आदत को ढूंढने में मदद करती है, जो नर्वस का कारण बनती है।  बाद में, बिहेवियर इलाज और ट्रीटमेंट आपकी और भी आदतों के लिए गाइड करता है। जब आप पहले की तरह नहीं सोचते हैं, तो इसका मतलब है कि समस्या ठीक हो रही है।

और पढ़ें : छुट्टियों पर भी हो सकते हैं डिप्रेशन का शिकार, जानें हॉलिडे डिप्रेशन के बारे में

लाइफस्टाइल में बदलाव और घरेलू उपचार

नीचे दिए गए लाइफस्टाइल और घरेलू उपचार आपको ओसीडी रोग से निपटने में मदद कर सकते हैं :

  • डॉक्टर को बताएं कि इलाज के बाद इसके लक्षण और ज्यादा सामने आ रहे हैं या नहीं।
  • अगर आपको दवा लेने के बाद ठीक महसूस नहीं होता, तो इस बारे में डॉक्टर को बताएं।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • अगर आप पहले से ही बेहतर महसूस करते हैं, तो भी अपने डॉक्टर के सलाह के अनुसार दवाएं लें। दवा छोड़ने से ओसीडी रोग फिर से हो सकता है।
  • दवा या अन्य खाने की चीज लेने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  • यदि आप ओसीडी रोग से खुद को मुक्त करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको अपने दिमाग और मन दोनों को यह विश्वास दिलाना होगा कि यह कोई कलंकित बीमारी नहीं है। यह एक आम बीमारी है, जिसके बारे में बात करने से आपकी निंदा नहीं होगी। तभी आप इसके बारे में खुल के बात कर पाएंगे।

इस आर्टिकल में हमने आपको ओसीडी रोग से संबंधित जरूरी बातों को बताने की कोशिश की है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस बीमारी से जुड़े किसी अन्य सवाल का जवाब जानना है, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे। अपना ध्यान रखिए और स्वस्थ रहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

‘नथिंग मैटर्स, आई वॉन्ट टू डाय’ जैसे स्टेटमेंट्स टीनएजर्स में खुदकुशी की ओर करते हैं इशारा, हो जाए अलर्ट

टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार के कारण क्या हैं? 15 से 24 साल की उम्र के टीनएजर्स में मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण खुदकुशी है। टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार..

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन September 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

टीचर्स डे: ऑनलाइन क्लासेज से टीचर्स की बढ़ती टेंशन को दूर करेंगे ये आसान टिप्स

लॉकडाउन में टीचर्स का मानसिक स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ रहा है? ऑनलाइन क्लासेज के लिए मोबाइल और कंप्यूटर का अत्यधिक उपयोग करने से कई तरह की शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं....covid-19 lockdoen and teachers' mental health in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्ट्रेस मैनेजमेंट September 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Pedophilia : पीडोफिलिया है एक गंभीर मानसिक बीमारी, कहीं आप भी तो नहीं है इसके शिकार

पीडोफिलिया क्या है, पीडोफीलिक डिसऑर्डर का कारण क्या है, पीडोफीलिक डिसऑर्डर के लक्षण, इलाज, बच्चे के प्रति यौन आकर्षण, बाल यौन शोषण, pedophilia, paedophilia

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन August 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस क्या हैं और कैसे उबरा जाए इन समस्याओं से?

एलजीबीटी कम्युनिटी चैलेंजेस के दौरान समुदाय के लोगों को न केवर घर में बल्कि घर के बाहर भी भेदभाव का सामना करना पड़ता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए समुदाय के चैलेंज के बारे में। lgbt community challenges

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन August 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

महिलाओं में होने वाली बीमारी (Women illnesses)

Women illnesses: इन 10 बीमारियों को इग्नोर ना करें महिलाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
ऑनलाइन स्कूलिंग के फायदे, Online Schooling benifits

ऑनलाइन स्कूलिंग से बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ता है पॉजिटिव इफेक्ट, जानिए कैसे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ November 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ November 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
रिटायरमेंट के बाद मेंटल हेल्थ

रिटायरमेंट के बाद बिगड़ सकती है मेंटल हेल्थ, ऐसे रखें बुजुर्गों का ख्याल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ September 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें