Broken Shoulder Blade: ब्रोकन शोल्डर ब्लेड क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Broken Shoulder Blade: ब्रोकन शोल्डर ब्लेड क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    परिचय

    ब्रोकन शोल्डर ब्लेड क्या है?

    स्केपुला फ्रेक्चर एक असामान्य चोट है। स्केपुला, या शोल्डर ब्लेड, एक चौड़ी, समतल हड्डी है जो रिब केज के पीछे होती है। स्केपुला क्लाविक्ल (कॉलर बोन) से जुडी होती है जो छाती के ऊपर होती है और बाजु वाली हड्डी की तरफ होती है। स्केपुला का हिस्सा कार्टिलेज (ग्लेनोइड) से जुड़ा होता है और बॉल के सॉकेट और सॉकेट शोल्डर जॉइंट का रूप बनाता है। स्केपुलर फ्रेक्चर बहुत ही कम होता है और ये फ्रेक्चर आमतौर पर किसी ख़ास चीज से होता है, जैसे अत्यधिक ऊर्जा के साथ चोट लगने से जैसे बाइक से गिरना या ऊंचाई से गिरना। जब स्केपुलर फ्रेक्चर होता है तो, डॉक्टर को अन्य छाती की चोट को लेकर ध्यान देने की बेहद जरूरत है। स्केपुलर फ्रेक्चर होने के लिए बेहद ऊर्जा की जरूरत है, तो ऐसे में अन्य प्रकार की छाती की चोट आम है जैसे पल्मनरी कन्ट्यूशन, रिब फ्रेक्चर।

    और पढ़ें : Arthritis : संधिशोथ (गठिया) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    ब्रोकन शोल्डर ब्लेड तीन प्रकार का होता हैः

    स्केप्युलर बॉडी फ्रेक्चर

    स्केप्युलर बॉडी फ्रेक्चर, स्केप्युलर फ्रेक्चर का बेहद आम प्रकार है। ये चोटों में सिम्पल आर्म स्लिंग के मुकाबले किसी ख़ास इलाज की जरूरत पड़ती है। महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि स्कैपुलर बॉडी फ्रैक्चर आमतौर पर (80-90%) अन्य चोटों जैसे फेफड़ों और छाती की चोटों से जुड़ा होता है।

    स्केप्युलर नैक फ्रेक्चर

    स्केप्युलर नैक फ्रेक्चर सिर्फ ग्लेनॉइड से ब्रोकन होते हैं – कंधे का हिस्सा। ज्यादातर इन फ्रैक्चर का इलाज बिना सर्जरी के भी किया जा सकता है तब तक जब तक टूटी हड्डी का कोई हिस्सा पता न चल जाए। इन मामलों में, यदि हड्डियों को फिर से जोड़ने के लिए सर्जरी नहीं की जाती है तो कंधे के जोड़ प्रभावित हो सकते हैं

    ग्लेनॉइड फ्रैक्चर

    ग्लेनॉइड फ्रैक्चर में कंधे के जोड़ की कार्टिलेज की सतह शामिल होती है। इन फ्रैक्चर के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है जब शोल्डर जॉइंट अस्थिर हो जाता है या अगर फ्रेगमेंट रेखा से बाहर हो जाते हैं। ग्लेनॉइड फ्रैक्चर वाले मरीजों को कंधे का गठिया होने का खतरा हो सकता है।

    स्कैपुलर फ्रैक्चर के सामान्य संकेतों में कंधे के पीछे और ऊपरी पीठ पर कोमलता आ सकती है, कंधे को हिलाने में कठिनाई हो सकती है और गहरी सांस लेते समय दर्द हो सकता है। कंधे के ब्लेड के क्षेत्र में सूजन हो सकती है, और समय के साथ इस क्षेत्र में चोट लगने की भी संभावना हो सकती है।

    और पढ़ें : क्या कंधे में रहती है जकड़न? कहीं आप पॉलिमायाल्जिया रूमैटिका के शिकार तो नहीं

    लक्षण

    ब्रोकन शोल्डर ब्लेड के क्या लक्षण है?

    दर्द, सूजन, और चोट लगने से कंधे के ब्लेड में ऊपरी पीठ पर या कंधे के ऊपर कोरैकॉइड और एक्रोमियन की प्रक्रिया तेज हो सकती हैं।

    ब्रोकन शोल्डर ब्लेड के अन्य लक्षण जैसे ;

    • बाजू घुमाने से दर्द बढ़ सकता है।
    • हाथ उठाने में असमर्थता हो सकती है
    • प्रत्येक बार सांस लेने से छाती की वाल हिलती है जिसकी वजह से दर्द हो सकता है, ये मूवमेंट शोल्डर ब्लेड को मूव कर सकते हैं
    • दर्द का कारण बन सकता है
    • कंधे अपनी जगह से हिल सकते हैं

    मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

    अगर आपको कोई भी स्थिति दिखाई देती है तो अपने डॉक्टर को सम्पर्क करें ;

    • कंधों के साथ मूवमेंट होने पर दर्द
    • कंधो पर सूजन
    • कन्धों के आसपास लालिमा
    • अगर कंधों में कोई अकड़न या किसी तरह का दर्द होता है और वह तीन से पांच दिन में ठीक नहीं होता है तो

    कंधों, छाती के वॉल में, कमर, या गर्दन में खास प्रकार के ट्रामा के कारण गंभीर रूप से चोट लग सकती है और ऐसे में चिकित्सा जांच लेनी चाहिए।

    अगर आपको चोट के साथ किसी भी निम्न प्रकार के लक्षण दिखते हैं डॉक्टर के पास तुरंत जाएं, आपातकालीन चिकित्सा जरूर करवाएं ;

    चिकित्सा आपात्कालीन विकल्प पर जाएं अगर आप निम्नलिखित चीजें महसूस करते हैं ;

    • गंभीर रूप से दर्द या कंधे अपनी जगह से हिलना
    • कंधे या बाजू का हिलाने में मुश्किल होना
    • कमजोर, सूजन या प्रभावित बाजू में लगातार झनझनाहट।

    और पढ़ें : Frozen shoulder: कंधे की अकड़न क्या है?

    [mc4wp_form id=”183492″]

    कारण

    ब्रोकन शोल्डर ब्लेड होने के कारण क्या है?

    स्केपुलर फ्रेक्चर सीधे ट्रामा के कारण होता है। छाती की वाल, फेफड़ों और कंधों पर 80% के लोगों के साथ ब्रोकन शोल्डर ब्लेड की समस्या होती है। ब्रोकन शोल्डर ब्लेड्स के आम कारण जैसे ;

    • गाड़ी का एक्सीडेंट हो जाना
    • ट्रामा के साथ कंधे के बल गिर जाना
    • गिरने पर बाजू का खींच जाना
    • सीधे रूप से चोट लगना जैसे बेसबाल बैट या हथोड़े से
    • किसी तरह के खेल में चोटिल होना, जैसे- क्रिकेट, बास्केटवॉल, वॉलीबॉल या इसी तरह के अन्य खेल जिसमें मुख्य रूप से हाथ और कंधे का इस्तेमाल किया जाता है।

    और पढ़ें : कंधे का दर्द (Shoulder Pain) दूर करने के लिए करें ये व्यायाम

    घरेलू उपचार

    जीवनशैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे ब्रोकन शोल्डर ब्लेड को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

    चूंकि शोल्डर ब्लेड फ्रेक्चर अक्सर गंभीर चोट से जुडी होती है जिसकी वजह से जान ले सकती है, तो ऐसे में आपको आपातकालीन चिकित्सीय जांच लेनी चाहिए।

    • बाजू को जल्दी से स्थिर करें। हिलाये नहीं। आपकी गर्दन और कोहनी जहां से मोड़ते हैं वहां स्लिंग लगाया जाता है।
    • जो प्रभावित बाजू को पकड़कर रखता है
    • सूजन और असहजता को कम करने के लिए प्रभावित क्षेत्र पर बर्फ लगाएं
    • 20 मिनट तक बर्फ लगाकर रखें और ध्यान रहे बर्फ सीधे रूप से न लगाएं किसी आईस पेड या कपड़े पर लगाकर इस्तेमाल करें।

    इन बातों का भी रखें ख्याल

    सामान्य तौर पर शोल्डर की अकड़न या सूजन सामान्य होने पर कुछ ही दिनों में बिना किसी मेडिकली ट्रीटमेंट के ठीक हो सकती है। हालांकि, अगर इस समस्या से बचाव के लिए आप कोई सर्जरी कराते हैं, तो सर्जरी से पहले और बाद में आपको किस तरह की जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए, इसके बारे में आपके डॉक्टर और सर्जन आपको उचित सलाह दे सकते हैं। जिसमें शामिल हो सकता हैः

    • अगर प्लास्टर का इस्तेमाल किया गया है, तो उसके उतरने तक आपको अपने हाथों का इस्तेमाल नहीं करना होगा। प्लास्टर हटने के कुछ समय बाद भी आपको भारी वस्तुओं को उठाने और खेल खेलने से बचना होगा।
    • इस दौरान आपको शारीरिक तौर पर खेलने वाले किसी भी तरह के खेल में हिस्सा लेने से बचना होगा।
    • कुछ स्थितियों में आपके डॉक्टर आपको शारीरिक संबंध बनाने से भी परहेज करने की सिफारिश कर सकते हैं।

    इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड

    डॉ. पूजा दाफळ

    · Hello Swasthya


    Anoop Singh द्वारा लिखित · अपडेटेड 14/10/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement